Showing posts with label Nidhi Narwal Shayari. Show all posts

Nidhi Narwal Shayari Lyrics in Hindi | Nidhi Narwal Poetry Lyrics | Nidhi Narwal Poetry in Hindi

August 05, 2022

Nidhi Narwal Shayari Lyrics in Hindi


चाहे राहों में टूटना ही लिखा हो
मेरा हर टुकड़ा मंजिल तक पहुंचेगा ज़रूर ।

Chaahe Raahon Mein Tootana Hee Likha Ho
Mera Har Tukada Manjil Tak Pahunchega Zaroor .


दिन ढल गया अब,
रात कैसे कटेगी
सवेरा फिर आएगा पर,
रात कैसे कटेगी

Din Dhal Gaya Ab,
Raat Kaise Kategee
Savera Phir Aaega Par,
Raat Kaise Kategee


हर रंग चढ़ा देखा मैंने तेरे रुख़सार पर
सिवाए मेरी मोहब्बत के

Har Rang Chadha Dekha Mainne Tere Rukhasaar Par
Sivae Meree Mohabbat Ke


कितना खुला आसमान कितना ढका हुआ है बादलों से
फिर कितना खुला आसमान है
दो बादल भिड़कर कभी भी बरस सकते है
बस इतना खुला आसमान है

Kitana Khula Aasamaan Kitana Dhaka Hua Hai Baadalon Se
Phir Kitana Khula Aasamaan Hai
Do Baadal Bhidakar Kabhee Bhee Baras Sakate Hai
Bas Itana Khula Aasamaan Hai


कितना वक़्त था उसके पास ज़िन्दगी जीने का
उसने मौत को ढूंढ़ने में सब ज़ाया कर दिया

Kitana Vaqt Tha Usake Paas Zindagee Jeene Ka
Usane Maut Ko Dhoondhane Mein Sab Zaaya Kar Diya


कहीं नाम मेरा सुनो
तो मुस्कुरा लेना तुम
कोई मुझे अपना कहे
तो हक़ जता लेना तुम
दिल ,
धड़कन और चैन
मेरा सब चुरा लेना तुम
नखरे जो ज्यादा करुँ
तो मुझे सता लेना तुम

Kaheen Naam Mera Suno
To Muskura Lena Tum
Koee Mujhe Apana Kahe
To Haq Jata Lena Tum
Dil,Dhadakan Aur Chain
Mera Sab Chura Lena Tum
Nakhare Jo Jyaada Karun
To Mujhe Sata Lena Tum,


फुर्सत से बैठ कर सोच लेना तुम
एक वजह भी मिले अग़र
वापस दिल लगाने की
किसी किताब के पन्नों में
वजह दबोच लेना तुम

Phursat Se Baith Kar Soch Lena Tum
Ek Vajah Bhee Mile Agar
Vaapas Dil Lagaane Kee
Kisee Kitaab Ke Pannon Mein
Vajah Daboch Lena Tum


पूरा का पूरा दिल लो तुम्हे अदा कर दिया
तोड़ेंगे नहीं ये वादा करो
लो रखो ये खुशमिज़ाज ख़्वाब मेरे
और देदो मुझे कुछ ग़म अपने
उन्हें आधा करो

Poora Ka Poora Dil Lo Tumhe Ada Kar Diya
Todenge Nahin Ye Vaada Karo
Lo Rakho Ye Khushamizaaj Khvaab Mere
Aur Dedo Mujhe Kuchh Gam Apane
Unhen Aadha Karo


एक बार को तो वक़्त मुझे तोड़ना ज़रूर तू
मै ज़िन्दगी के मुँह से अपनी कीमत सुनना चाहती हूँ

Ek Baar Ko To Vaqt Mujhe Todana Zaroor Too
Mai Zindagee Ke Munh Se Apanee Keemat Sunana Chaahatee Hoon


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status

Read More

Nidhi Narwal Poetry Lyrics | Nidhi Narwal Poetry in Hindi | Nidhi Narwal Quotes

August 05, 2022

Nidhi Narwal Quotes in Hindi


राख हूँ बेकार नहीं मै लपटों से जूझ कर आई हूँ
मै अपनी कीमत बुझते अंगारो से पूछ कर आई हूँ

Raakh Hoon Bekaar Nahin Mai Lapaton Se Joojh Kar Aaee Hoon
Mai Apanee Keemat Bujhate Angaaro Se Poochh Kar Aaee Hoon


खुले कमरे में कैद हूँ
आफ़त तो बस यही है

Khule Kamare Mein Kaid Hoon
Aafat To Bas Yahee Hai


जो जहन के अंदर से वार करता है उसका क्या करुँ
इंसान तो फिर भी खंजर दिखा के डराता पहले है

Jo Jahan Ke Andar Se Vaar Karata Hai Usaka Kya Karun
Insaan To Phir Bhee Khanjar Dikha Ke Daraata Pahale Hai


मेरी हदों के दायरे मेरी नज़र से भी आगे है
मेरी मंज़िलें इस सफ़र से भी आगे है

Meree Hadon Ke Daayare Meree Nazar Se Bhee Aage Hai
Meree Manzilen Is Safar Se Bhee Aage Hai


तू तख़ल्लुस हटा
कर शेर लिखता है
मै मायनों मे नाम
तेरा फिर भी पढ़
लेती हूँ

Too Takhallus Hata
Kar Sher Likhata Hai
Mai Maayanon Me Naam
Tera Phir Bhee Padh
Letee Hoon


छोड़ ज़िन्दगी अब और क्या पैगाम दू
तुझे
तेरी ही अदालत में कितने बयान दू
तुझे

Chhod Zindagee Ab Aur Kya Paigaam Doo
Tujhe
Teree Hee Adaalat Mein Kitane Bayaan Doo
Tujhe


एक तुझे देखना और सुनना ही जीनत है मेरी,

मै काजल और झुमके का क्या करू बता

Ek Tujhe Dekhana Aur Sunana Hee Jeenat Hai Meree,

Mai Kaajal Aur Jhumake Ka Kya Karoo Bata


तुम क्या कमज़ोरी ढूंढ रहे हो मेरी शिकंज में
मेरे हौंसले इस फ़िकर से भी आगे है

Tum Kya Kamazoree Dhoondh Rahe Ho Meree Shikanj Mein
Mere Haunsale Is Fikar Se Bhee Aage Hai


उलझने हज़ार है
तदबीर तो हो कोई
इलज़ाम लगाने को
तक़दीर तो हो कोई
कितनी आफत है
गंभीर तो हो कोई
जकड़ा जाए दिल
जंजीर तो हो कोई

Ulajhane Hazaar Hai
Tadabeer To Ho Koee
Ilazaam Lagaane Ko
Taqadeer To Ho Koee
Kitanee Aaphat Hai
Gambheer To Ho Koee
Jakada Jae Dil
Janjeer To Ho Koee


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status

Read More

Nidhi Narwal Poetry in Hindi Written in English | Nidhi Narwal Quotes

August 05, 2022

Nidhi Narwal Poetry in Hindi Written in English


मौत ज़िन्दगी की तरफ नहीं आ रही
ज़िन्दगी मौत की तरफ जा रही है

Maut Zindagee Kee Taraph Nahin Aa Rahee
Zindagee Maut Kee Taraph Ja Rahee Hai


कितना कीचड़ जमा हुआ
था उसके फटे जूतों पैर ,

सफ़र कायम कर रहा था
वो मुसाफ़िर हँस-हँसकर ।

Kitana Keechad Jama Hua
Tha Usake Phate Jooton Pair ,

Safar Kaayam Kar Raha Tha
Vo Musaafir Hans-Hansakar .


किस हद तक जाना होगा अब हदों को भुलाने के
लिए
किस तरह का ज़ख्म दू उस बेवफ़ा को रुलाने के
लिए

Kis Had Tak Jaana Hoga Ab Hadon Ko Bhulaane Ke
Lie
Kis Tarah Ka Zakhm Doo Us Bevafa Ko Rulaane Ke
Lie


भाग रही है ज़िन्दगी
छूटकर वक़्त के पहरों से
मंज़िलें है किस तरफ़
ये पूछ रही है बहरों से
माथे पर हथेली लगाए
है लड़ रही दो पहरों से
बह रही है ज़िन्दगी
तेज़ समंदर की लहरों से

Bhaag Rahee Hai Zindagee
Chhootakar Vaqt Ke Paharon Se
Manzilen Hai Kis Taraf
Ye Poochh Rahee Hai Baharon Se
Maathe Par Hathelee Lagae
Hai Lad Rahee Do Paharon Se
Bah Rahee Hai Zindagee
Tez Samandar Kee Laharon Se,


सांस भूल चूका था सुखकर एक गुलाब
मैंने उसे फिर से खिला दिया मेरी एक नज़र में

Saans Bhool Chooka Tha Sukhakar Ek Gulaab
Mainne Use Phir Se Khila Diya Meree Ek Nazar Mein


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status

Read More

USEY PASAND HAI - उसे पसंद है | Nidhi Narwal Poetry Lyrics in Hindi | LOVE POETRY | निधि नरवाल

August 05, 2022

Nidhi Narwal Poetry, Nidhi Narwal Shayari, Nidhi Narwal Status, Love Poetry, Nidhi Narwal,

बाते बेहिसाब बताना ,
कुछ कहते कहते चुप हो जाना,
उसे जताना, उसे सुनाना,
वो कहता है उसे पसंद है,

ये निगाहें खुला महखाना है,
वो कहता है, दरबान बिठा लो,
हल्का सा वो कहता है, तुम काजल लगा लो,
वेसे ये मेरा शौक नही, पर हाँ, उसे पसंद है,

दुपट्टा एक तरफ ही डाला है,
उसने कहा था की सूट सादा ही पहन लो,
बेशक़ तुम्हारी तो सूरत से उजाला है,
तुम्हारे होठों के पास जो तिल काला है,
बताया था उसने, उसे पसंद है,

वो मिलता है, तो हस देती हूं,
चलते चलते हाथ थाम कर उससे बेपरवाह सब कहती हूं,
और सोहबत मैं उसकी जब चलती है हवाएं,
मैं हवाओं सी मद्धम बहती हूं,

मन्नत पढ़ कर नदी मैं पत्थर फेंकना,
मेरा जाते जाते यू मुड़ कर देखना ,
ओर वो गुज़रे जब इन गलियों से ,
मेरा खिड़की से छत से छूप कर देखना,
हां उसे पसंद है,

झुल्फों को खुला ही रख लेती हूं,
उसके कुल्हड़ से चाय चख लेती हूं,
मैं मंदिर मे सर जब ढक लेती हूं,
वो कहता है उसे पसंद है,

ये झुमका उसकी पसंद का है,
और ये मुस्कुराहट उसे पसंद है,
लोग पूछते है सबब मेरी अदाओ का ,
मैं कहती हूं उसे पसंद है,



Baate Behisaab Bataana ,
Kuchh Kahate Kahate Chup Ho Jaana,
Use Jataana Use Sunaana,
Vo Kahata Hai Use Pasand Hai,

Ye Nigahen Khula Maikhana Hai,
Vo Kahta Hai , Darban Bitha Lo,
Halka Sa Vo Kahta Hai Tum Kajal Laga Lo,
Vese Ye Mera Shauk Nahi , Par Haan Use Pasand Hai,

Dupatta Ek Taraf Hi Daala Hai,
Usne Kaha Tha Kee Suit Saada Hi Pahan Lo,
Beshaq Tumhaaree to Soorat Se Ujaala Hai, 
Tumhaare Hothon Ke Paas Jo Til Kaala Hai,
Bataaya Tha Usane, Use Pasand Hai,

Vo Milata Hai ,to Has Detee Hoon,
Chalte Chalte Haath Thaam Kar Usse Beparwah Sab Kahatee Hoon,
Aur Sohabat Main Usakee Jab Chalti Hai Hawayein,
Main Havaon See Maddham Bahatee Hu,

Mannat Padh Kar Nadi Main Patthar Phenkana, 
Mera Jaate Jaate Yoo Mud Kar Dekhna,
Or Vo Guzare Jab in Galiyon Se,
Mera Khidki Se Chhat Se Chhup Kar Dekhna,
Haan Use Pasand Hai,

Zulfon Ko Khula Hi Rakh Leti Hoon,
Usake Kulhad Se Chaay Chakh Letee Hoon,
Main Mandir Me Sar Jab Dhak Leti Hoon,
Vo Kahata Hai Use Pasand Hai,

Ye Jhumka Uski Pasand Ka Hai,
Aur Ye Muskurahat Use Pasand Hai,
Log Poochhate Hai Sabab Meree Adao Ka ,
Main Kahti Hoon Use Pasand Hai,


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status

Read More

Nidhi Narwal Poetry Photos | Nidhi Narwal Quotes Photos | Nidhi Narwal Shayari Photos | Nidhi Narwal Status Photos

August 05, 2022


ज़िंदगी से कुछ ज़्यादा नहीं चाहिए
-क़ल्ब पूरा-पूरा अदा करो
सब-आधा-आधा नहीं चाहिए

Zindagee Se Kuchh Zyaada Nahin Chaahie
-Qalb Poora-Poora Ada Karo
Sab-Aadha-Aadha Nahin Chaahie


मेरा गांव एक समुंदर है
ये शहर समुंदर के किनारे किसी चट्टान के जैसा लगता है
और मैं समुंदर की एक लहर
जो मदहोश और नादान थी,
नासमझ भी
दूसरे छोर से दरिया पार करके इस छोर तक आयी
मदमस्त होकर समुंदर को छोड़ने चली थी
चट्टान को भागते हुए आकर गले से लगाया
मगर उसने रोका नहीं मुझे,
बस मैं ही उसे पकड़े हुए थी..

वापस जाना ही था
देर से समझ में आता है,
देर से समझ में आया
कि समुंदर सदा दे रहा था 'वापस आजा
उसे अपनी हर तरंग हर लहर से इश्क़ है
क्योंकि उसकी हर लहर को पता है कि वो कितना गहरा है
मगर किसी और को ये बात लहरें पता लगने नहीं देती
मेरा घर,
मेरी पहचान समुंदर है।

Mera Gaanv Ek Samundar Hai
Ye Shahar Samundar Ke Kinaare Kisee Chattaan Ke Jaisa Lagata Hai
Aur Main Samundar Kee Ek Lahar
Jo Madahosh Aur Naadaan Thee,Naasamajh Bhee
Doosare Chhor Se Dariya Paar Karake Is Chhor Tak Aayee
Madamast Hokar Samundar Ko Chhodane Chalee Thee
Chattaan Ko Bhaagate Hue Aakar Gale Se Lagaaya
Magar Usane Roka Nahin Mujhe,Bas Main Hee Use Pakade Hue Thee..

Vaapas Jaana Hee Tha
Der Se Samajh Mein Aata Hai,Der Se Samajh Mein Aaya
Ki Samundar Sada De Raha Tha Vaapas Aaja
Use Apanee Har Tarang Har Lahar Se Ishq Hai
Kyonki Usakee Har Lahar Ko Pata Hai Ki Vo Kitana Gahara Hai
Magar Kisee Aur Ko Ye Baat Laharen Pata Lagane Nahin Detee
Mera Ghar,Meree Pahachaan Samundar Hai.




इतनी गुमशुदा हो गयी हूँ खुदसे मैं
के शीशे में भी अब कोई मुझसा नज़र नहीं आता!

Itanee Gumashuda Ho Gayee Hoon Khudase Main
Ke Sheeshe Mein Bhee Ab Koee Mujhasa Nazar Nahin Aata!


छोड़ ज़िंदगी!
अब और क्या पैगाम दू

तुझे,
तेरी ही अदालत में कितने बयान दू
तुझे?
Chhod Zindagee!
Ab Aur Kya Paigaam Doo

Tujhe,
Teree Hee Adaalat Mein Kitane Bayaan Doo
Tujhe?


तेरा इश्क़ जैसे खंजर हो सीने में
निलाकर जिसे फेंक देना भी ज़ख्म देगा
और सीने में रख लेना तो दर्द है ही!

Tera Ishq Jaise Khanjar Ho Seene Mein
Nilaakar Jise Phenk Dena Bhee Zakhm Dega
Aur Seene Mein Rakh Lena To Dard Hai Hee!




भाग रही है ज़िंदगी
दर द. दर:
मजिले किस तरफ़ ..
ये.पूछ रही है पा के

Bhaag Rahee Hai Zindagee
Dar Da. Dar:
Majile Kis Taraf ..
Ye.Poochh Rahee Hai Pa Ke


गहरा सा ज़ख्म मिलता है ठीक क़ल्ब के बीच कहीं
जायज़ है मोहब्बत है!
कोई दो दिन का इश्क़ नहीं

Gahara Sa Zakhm Milata Hai Theek Qalb Ke Beech Kaheen
Jaayaz Hai Mohabbat Hai!
Koee Do Din Ka Ishq Nahin



बावरे ख़ुदा,
तुम्हारा कोई मनसूबा सफ़ल नहीं होगा

जो तुम सोचे बैठे हो कभी वो "कल" नहीं होगा
जिस पल मिट ही जाएंगे बैर बंदे के बंदे से
मुंतज़िर ही रगेगा,
मुमकिन वो पल नहीं होगा

Baavare Khuda,Tumhaara Koee Manasooba Safal Nahin Hoga

Jo Tum Soche Baithe Ho Kabhee Vo "Kal" Nahin Hoga
Jis Pal Mit Hee Jaenge Bair Bande Ke Bande Se
Muntazir Hee Ragega,Mumakin Vo Pal Nahin Hoga

Read More

Nidhi Narwal Poetry Images | Nidhi Narwal Quotes Images | Nidhi Narwal Shayari Status Images for WhatsApp

August 05, 2022


कितनी शिद्दत है तेरी यादों में मुझसे लिपटे रहने की
मैं लिहाज़ भूलकर बदनाम करती हूँ रोज़ इन्हें
ये फ़कत हँस देती हैं रुखसत नहीं होती
मैं दायरे लांघकर हैरान करती हूँ हर रोज़ इन्हें
ये फ़कत हँस देती हैं रुखसत नहीं होती!
Kitanee Shiddat Hai Teree Yaadon Mein Mujhase Lipate Rahane Kee
Main Lihaaz Bhoolakar Badanaam Karatee Hoon Roz Inhen
Ye Fakat Hans Detee Hain Rukhasat Nahin Hotee
Main Daayare Laanghakar Hairaan Karatee Hoon Har Roz Inhen
Ye Fakat Hans Detee Hain Rukhasat Nahin Hotee!

मौत ज़िंदगी की तरफ़ नहीं आ रही
ज़िंदगी मौत की तरफ़ जा रही है।
Maut Zindagee Kee Taraf Nahin Aa Rahee
Zindagee Maut Kee Taraf Ja Rahee Hai.

महज़
खून के थक्के
से पता नहीं लगता
के चोट कितनी
गहरी है।

Mahaz
Khoon Ke Thakke
Se Pata Nahin Lagata
Ke Chot Kitanee
Gaharee Hai.

उलझनें हज़ार हैं
तदबीर तो हो कोई

इल्ज़ाम लगाने को
तकदीर तो हो कोई

कितनी आफ़त है
गंभीर तो हो कोई

जकड़ा कक 7 दिल
जंजीर तो हो कोई

Ulajhanen Hazaar Hain
Tadabeer To Ho Koee

Ilzaam Lagaane Ko
Takadeer To Ho Koee

Kitanee Aafat Hai
Gambheer To Ho Koee

Jakada Kak 7 Dil
Janjeer To Ho Koee


हे हूँ बेकार नहीं मैं लपटों से जूझ कर आई हूँ
दा न कीमत बुझते अंगारों से पूछ कर आई हूँ
He Hoon Bekaar Nahin Main Lapaton Se Joojh Kar Aaee Hoon
Da Na Keemat Bujhate Angaaron Se Poochh Kar Aaee Hoon

खुले कमरे में कैद हूँ,

आफ़त तो बस यही है!

Khule Kamare Mein Kaid Hoon,
Aafat To Bas Yahee Hai!





दिल मेरे ओ दिल मेरे,
धड़कन ही है
या सिसक रहा है?
Dil Mere O Dil Mere,
Dhadakan Hee Hai
Ya Sisak Raha Hai?




गिर रहा हूँ,
गिर चुका हूँ
दर्द क्यों होता नहीं?

ऐ ख़ुदा,
बता ख़ुदा,
कोई
मर्ज़ क्यों होता नहीं?

हंस रहा हूँ,
इस हंसी का
कर्ज़ क्यों होता नहीं?

किताब तेरी,
गुनाह मेरा,
गुनाह
दर्ज क्यों होता नहीं?

दो कदम चल लिया,
दो कदम हूँ चल रहा -
फ़ासले में फिर भला कुछ
फ़र्क़ क्यों होता नहीं?

अश्क बक्श दे रो रहा हूँ
नींद बक्‍्श दे सो रहा हूँ

पा रहा हूँ,
खो रहा हूँ

ग़म दे रहा हूँ,
ढ़ो रहा हूँ

बेसब्र मैं हूँ सब्र में
लाश ज़िंदा है मेरी द्ाबाधधददििस्‍: दाह
क्यों खाल की इस कब्र में?

Gir Raha Hoon,Gir Chuka Hoon
Dard Kyon Hota Nahin?

Ai Khuda,Bata Khuda,Koee
Marz Kyon Hota Nahin?

Hans Raha Hoon,Is Hansee Ka
Karz Kyon Hota Nahin?

Kitaab Teree,Gunaah Mera,Gunaah
Darj Kyon Hota Nahin?

Do Kadam Chal Liya,Do Kadam Hoon Chal Raha -
Faasale Mein Phir Bhala Kuchh
Farq Kyon Hota Nahin?

Ashk Baksh De Ro Raha Hoon
Neend Bak‍Sh De So Raha Hoon

Pa Raha Hoon,Kho Raha Hoon
Gam De Raha Hoon,Dho Raha Hoon

Besabr Main Hoon Sabr Mein
Laash Zinda Hai Meree Daabaadhadhadadiis‍: Daah
Kyon Khaal Kee Is Kabr Mein?,


माँ,
इस थाल में चावल की जगह यादें रखी होती
यूं फ़रेंकि ये जा सकती तो कितना अच्छा होता
अब सयानी हो गयी तो जा रही है बिटिया देखो
ये बच्ची ही रह जाती तो कितना अच्छा होता
Maa,
Is Thaal Mein Chaaval Kee Jagah Yaaden Rakhee Hotee
Yoon Farenki Ye Ja Sakatee To Kitana Achchha Hota
Ab Sayaanee Ho Gayee To Ja Rahee Hai Bitiya Dekho
Ye Bachchee Hee Rah Jaatee To Kitana Achchha Hota

Read More

Nidhi Narwal Status Images | Nidhi Narwal Shayari Images | Nidhi Narwal Quotes Images | Nidhi Narwal Poetry Images

August 05, 2022



जो चल रही है वो ज़िंदगी
जो रुकी सी लगे है वो ज़िंदगी

जो पीछे कहीं छूटी सी लगे
साथ जो चल रही है वो ज़िंदगी

प्यारी,
ख़ूबसूरत,
सुकून सी लगे
सीने में जो खल रही है वो ज़िंदगी

ठीक-ठाक नज़र को दिखे
गिरकर संभल रही है वो ज़िंदगी
Jo Chal Rahee Hai Vo Zindagee
Jo Rukee See Lage Hai Vo Zindagee

Jo Peechhe Kaheen Chhootee See Lage
Saath Jo Chal Rahee Hai Vo Zindagee

Pyaaree,Khoobasoorat,Sukoon See Lage
Seene Mein Jo Khal Rahee Hai Vo Zindagee

Theek-Thaak Nazar Ko Dikhe
Girakar Sambhal Rahee Hai Vo Zindagee

रु या,
भरे कोई तो मलाल मुझे देदो!

रु या,

भरे कोई तो मलाल मुझे देदो!

दिल में तू. दी तू भ भरा हुआ था
दिल तो टूटकर बिखर गया मगर तू नहीं बिखरा।

Dil Mein Too. Dee Too Bh Bhara Hua Tha
Dil To Tootakar Bikhar Gaya Magar Too Nahin Bikhara.



तेरे कान में मसर्रत्‌ से चमक
उंगली से कान के पीछे मत कर
परवाना झुमके को देखकर जल रहा है

Tere Kaan Mein Masarrat‌ Se Chamak
Ungalee Se Kaan Ke Peechhe Mat Kar
Paravaana Jhumake Ko Dekhakar Jal Raha Hai

दिल से उसको निकालूं कैसे?
जब दिल ही उसके पास है

कदम कहाँ तक संभालूं ऐसे?
मंज़िल ही उसके पास है
Dil Se Usako Nikaaloon Kaise?
Jab Dil Hee Usake Paas Hai

Kadam Kahaan Tak Sambhaaloon Aise?
Manzil Hee Usake Paas Hai

मैं रोती रही लफ़्ज़ों से
<« "वाह!
" होती रही
ही.

Main Rotee Rahee Lafzon Se
<« "Vaah!
" Hotee Rahee
Hee.

सब्र कर ज़िंदगी,
आ जाऊँगी तुझे रास एक दिन!

Sabr Kar Zindagee,
Aa Jaoongee Tujhe Raas Ek Din!

Read More

Nidhi Narwal Shayari Images | Nidhi Narwal Quotes Images | Nidhi Narwal Poetry Images | Nidhi Narwal Status Images

August 05, 2022



है आँखों से ..
..
हर वक़्त उस हक़ीक़त को वो पढ़ता है ,
और दुआ करता है कि वो झूठ हो ।
Hai Aankhon Se ..
..
Har Vaqt Us Haqeeqat Ko Vo Padhata Hai ,
Aur Dua Karata Hai Ki Vo Jhooth Ho .

नज़र चढ़ती है खूब
नज़र को शराब लिखना चाहती हूँ
Nazar Chadhatee Hai Khoob
Nazar Ko Sharaab Likhana Chaahatee Hoon

मेरी हट के दायरे मेरी नज़र से भी आगे हैं
तुम क्या
ढ्ट्रहे दर भी आगे हैं
Meree Hat Ke Daayare Meree Nazar Se Bhee Aage Hain
Tum Kya
[ Dhtrahe Dar Bhee Aage Hain





ज़मीन पर अश्कों का दरिया है
दरिया में बुझी सिगरेट का जज़ीरा उसने बना दिया
शराफ़त को अपनी पहले मारा जान से
शव को उसने फिर चीरा और जला दिया!
Zameen Par Ashkon Ka Dariya Hai
Dariya Mein Bujhee Sigaret Ka Jazeera Usane Bana Diya
Sharaafat Ko Apanee Pahale Maara Jaan Se
Shav Ko Usane Phir Cheera Aur Jala Diya!




कितना खुला आसमान कितना ढ़का हुआ है बादलों से
फिर कितना खुला आसमान है?

दो बादल भिड़कर कभी भी बरस सकते हैं
बस इतना खुला आसमान है

Kitana Khula Aasamaan Kitana Dhaka Hua Hai Baadalon Se
Phir Kitana Khula Aasamaan Hai?

Do Baadal Bhidakar Kabhee Bhee Baras Sakate Hain
Bas Itana Khula Aasamaan Hai

Read More

Nidhi Narwal Quotes Images | Nidhi Narwal Poetry Images | Nidhi Narwal Shayari Images | Nidhi Narwal Status Images

August 05, 2022


अश्कों के सूख जाने के बाद एक खारी सी
जकड़न महसूस होती रुख़सार पर,
तुम अश्क नहीं वो जकड़न हो!
Ashkon Ke Sookh Jaane Ke Baad Ek Khaaree See
Jakadan Mahasoos Hotee Rukhasaar Par,
Tum Ashk Nahin Vo Jakadan Ho!

तुम्हें क्या लगता है
मैं अपने आंसुओं को तुम्हारा नाम देकर
यूं ही ये बयान कर दूंगी क्या कि
कितना आसान है

तुम्हारा मुझसे अलग हो जाना.
आंसुओं की तरह.
Tumhen Kya Lagata Hai
Main Apane Aansuon Ko Tumhaara Naam Dekar
Yoon Hee Ye Bayaan Kar Doongee Kya Ki
Kitana Aasaan Hai

Tumhaara Mujhase Alag Ho Jaana..
Aansuon Kee Tarah..

एक परिंदे को भेजा था
कि तुझसे पैगाम ही कोई मिल जाता
मग़र परिंदे को भी शायद तेरी हवा लग गयी
Ek Parinde Ko Bheja Tha
Ki Tujhase Paigaam Hee Koee Mil Jaata
Magar Parinde Ko Bhee Shaayad Teree Hava Lag Gayee

दम निकाला ज़िंदगी ने कुछ इस तरह
आंख खुली रह गयी और जिस्म मर गया

अर बट लि
फांसी पे टंगी लाश देखी है कभी तुमने?

बेहिस बदन,
बेसाज़ चहरा,
वो खुली आंखें #
जो देखकर के सब मशर कुछ देख न सकें जद
थ दम निकाला ज़िंदगी ने कुछ इस तरह
Dam Nikaala Zindagee Ne Kuchh Is Tarah
Aankh Khulee Rah Gayee Aur Jism Mar Gaya

Ar Bat Li
Phaansee Pe Tangee Laash Dekhee Hai Kabhee Tumane?
_
Behis Badan,Besaaz Chahara,Vo Khulee Aankhen #
Jo Dekhakar Ke Sab Mashar Kuchh Dekh Na Saken Jad
Th Dam Nikaala Zindagee Ne Kuchh Is Tarah


उससे कहो जाकर के वो लौटकर तो आए ज़रा
मैं बर्बाद नहीं हुआ हूँ अभी

उससे कहो मुझे एक निगाह भर देखकर वो मुस्कुराए ज़रा
मैं गिरा नहीं हूँ खड़ा हूँ अभी ः
उससे कहो मुझे धक्का मारकर गिराए ज़रा

के उसे भी तो पता चले
अब मैं उसका परवाना नहीं रहा!

Usase Kaho Jaakar Ke Vo Lautakar To Aae Zara
Main Barbaad Nahin Hua Hoon Abhee

Usase Kaho Mujhe Ek Nigaah Bhar Dekhakar Vo Muskurae Zara
Main Gira Nahin Hoon Khada Hoon Abhee H
Usase Kaho Mujhe Dhakka Maarakar Girae Zara

Ke Use Bhee To Pata Chale
Ab Main Usaka Paravaana Nahin Raha!

बुम्हारीराहें किसी और की मुंज़िल हैंद |
थे
_ तुम्हारी मंज़िल है किसी और की राहें!

Bumhaareeraahen Kisee Aur Kee Munzil Haind |
The
_ Tumhaaree Manzil Hai Kisee Aur Kee Raahen!


हसरतें तो हज़ार हैं
नहीं मालूम बस इतना कि चाहती क्या हूँ
घर का पता पता है मुझे

नहीं मालूम मग़र कि रहती कहाँ हूँ

Hasaraten To Hazaar Hain
Nahin Maaloom Bas Itana Ki Chaahatee Kya Hoon
Ghar Ka Pata Pata Hai Mujhe

Nahin Maaloom Magar Ki Rahatee Kahaan Hoon




Read More