Barish Shayari अध्याय लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

Best Barish Shayari - बारिश शायरी - Barish Status | अध्याय 4

दिसंबर 07, 2019


barish shayari,barish shayri,sad barish shayari facebook,barish,barish poetry,barish shayari in hindi sad,barish poetry in urdu,barish shayari romantic in hindi,barish ghazal,barish poetry facebook,barish poetry by parveen shakir,2 line barish poetry,barish poetry status,best 2 line barish poetry in urdu,barish status
Yaad Aaye Woh Pehli Baarish
Jab Tujhe Ek Nazar Dekha Tha
- Nasir Kazmi

याद आई वो पहली बारिश
जब तुझे एक नज़र देखा था

- नासिर काज़मी

Barasaat Ka Baadal To Deevaana Hai Kya Jaane
Kis Raah Se Bachana Hai Kis Chhat Ko Bhigona Hai
- Nida Fazli

बरसात का बादल तो दीवाना है क्या जाने
किस राह से बचना है किस छत को भिगोना है

- निदा फ़ाज़ली

Pahale Rim-Jhim Phir Barasaat Aur Achaanak Kadee Dhoop
Mohabbat Or Agast Kee Phitarat Ek See Hai…

पहले रिम-झिम फिर बरसात और अचानक कडी धूप
मोहब्बत ओर अगस्त की फितरत एक सी है…


Mera Shahar To Baarishon Ka Ghar Thehra
Yahan Ki Aankh Ho Ya Dil,
Bahot Barasti Hain


बनके सावन कहीं वो बरसते रहे
इक घटा के लिए हम तरसते रहे

आस्तीनों के साये में पाला जिन्हें,
साँप बनकर वही रोज डसते रहे

Khayalon Mein Wahi,
Sapno Mein Wahi,

Lekin Unki Yaadon Mein Hum The Hi Nahi,
Hum Jaagte Rahe Duniya Soti Rahi,

Ek Baarish Hi Thi,
Jo Humare Sath Roti Rahi.



मज़ा बरसात का चाहो तो 
इन आँखों में ना बैठो

वो बरसो में कभी बरसे,
यह बरसो से बरसती है


अगर भीगने का इतना ही शौक है बारिश में
तो देखो ना मेरी आँखों में

बारिश तो हर एक के लिए होती है

लेकिन ये आँखें सिर्फ तुम्हारे लिए बरसती हैं….

Agar Bhigne Ka Itna Hi Shoq Hai Baarish Me
To Dekho Na Meri Aankhon Me

Baarish To Har Ek Ke Liye Hoti Hai
Lekin Ye Aankhein Sirf Tumhare Liye Barasti Hain….


Us Ko Aana Tha...
Us Ko Aana Tha Ki Vo Mujh Ko Bulata Tha Kahin
Raat Bhar Barish Thee Us Ka Raat Bhar Paigaam Tha
- Zafar Iqbal
उस को आना था...
उस को आना था कि वो मुझ को बुलाता था कहीं
रात भर बारिश थी उस का रात भर पैग़ाम था

- ज़फ़र इक़बाल

मैं तेरे हिज़ार की बरसात में कब तक भीगू!
ऐसे मौसम में तो दीवारे भी गिर जाती है..


Main Ki Kaagaz Kee Ek...
Main Ki Kaagaz Kee Ek Kashtee Hoon
Pahli Barish Hi Aakhir Hai Mujhe

- Tehzeeb Hafi
मैं कि काग़ज़ की एक...
मैं कि काग़ज़ की एक कश्ती हूँ
पहली बारिश ही आख़िरी है मुझे

- तहज़ीब हाफ़ी

Barisho Se Adab-E-Mohabbat Seekho Faraz,
Agar Ye Ruth Bhi Jayen To Barasti Bohot Hian.

बारिशों से अदब-ए-मोहब्बत सीखो फ़राज़,
अगर ये रूठ भी जाएँ,तो बरसती बहुत हैं।


आज बारिश मे तेरे संग नहाना है,
सपना ये मेरा कितना सुहाना है,

बारिश की बूंदे जो गिरे तेरे होठो पे,
उन्हे अपने होठो से उठाना है!


Main Tere Hijar Ki Barsaat Main Kab Tak Bheegon …!
Aise Mosam Main To Deewarain Bhi Gir Jati Hain…!


बारिश में आज भीग जाने दो,
बूंदों को आज बरस जाने दो,
न रोको यूँ खुद को आज,
भीग जाने दो इस दिल को आज।


Dar-O-Deewar Pe Shaklen See Banaane Aaee
Phir Ye Barish Miree Tanhaee Churane Aaee
- Kaif Bhopali

दर-ओ-दीवार पे शक्लें सी बनाने आई
फिर ये बारिश मिरी तंहाई चुराने आई

- कैफ़ भोपाली

Kal Halki Halki Barish Thi,
Kal Sard Hawa Ka Raqs Bhi Tha.

Kal Phool Bhi Nikhre Nikhre The
Kal Un Pe Aap Ka Aks Bhi Tha..

Kal Badal Kaley Gehre The,
Kal Chand Pay Lakhon Pahre The


Kuch Tukray Aap Ki Yaad Ke,
Bari Der Se Dil Me Thehre The..

Kal Yaadein Uljhi Uljhi Thi,
Aur Kal Tak Yeh Na Suljhi Thi..

Kal Yaad Bohat Tum Aye The,
Kal Yaad Bohat Tum Aye The..


Tags
barish shayari, barish shayri, sad barish shayari facebook, barish, barish poetry, barish shayari in hindi sad, barish poetry in urdu, barish shayari romantic in hindi, barish ghazal, barish poetry facebook, barish poetry by parveen shakir, 2 line barish poetry, barish poetry status, best 2 line barish poetry in urdu, barish status

Read More

Best Barish Shayari Hindi - बारिश शायरी - Barish Status | अध्याय 3

नवंबर 19, 2019


barish shayari,barish shayri,sad barish shayari facebook,barish,barish poetry,barish shayari in hindi sad,barish poetry in urdu,barish shayari romantic in hindi,barish ghazal,barish poetry facebook,barish poetry by parveen shakir,2 line barish poetry,barish poetry status,best 2 line barish poetry in urdu,barish status
आज हलकी हलकी बारिश है,
आज सर्द हवा का रक़्स भी है,
आज फूल भी निखरे निखरे हैं,
आज उन मैं तुम्हारा अक्स भी है

Aaj Halki Halki Barish Hay,
Aaj Sard Hawa Ka Raqs Bhi Hay,
Aaj Phool Bhi Nikhray Nikhray Hain,
Aaj Un Main Tumhara Aks Bhi Hay


Dhoop Sa Rang Hai Aur Khud Hai Vo Chhaanvo Jaisa
Usakee Paayal Mein Barasaat Ka Mausam Chhanke
- Qateel Shifai

धूप सा रंग है और खुद है वो छाँवो जैसा
उसकी पायल में बरसात का मौसम छनके

- क़तील शिफ़ाई

कितनी जल्दी यह मुलाकात गुज़र जाती है,
प्यास बुझती भी नहीं बरसात गुज़र जाती है,

अपनी यादों से कहो यु ना आया करे
नींद आती भी नहीं रात गुजर जाती है..


Kis Munh Se Ilzaam Lagaen Baarish Kee Bauchhaaron Par
Hamane Khud Tasveer Banaee Thee Mittee Kee Deevaaron Par…

किस मुँह से इल्ज़ाम लगाएं बारिश की बौछारों पर
हमने ख़ुद तस्वीर बनाई थी मिट्टी की दीवारों पर…


Kuch Nasha To Aapki Baat Ka Hai
Kuch Nasha To Dheemi Barsaat Ka Hai

Humein Aap Yun Hi Sharabi Na Kahiye
Is Dil Par Asar To Aap Se Mulakat Ka Hai.


Itni Shidat Se To Barsaat Be Kam Kam Barsay
Jis Traha Ankh Teri Yaad Main Cham Cham Barsay

Minatien Kon Kary Aik Gharondy Ke Lye
Kah Do Baadal Se Barasta Hai To Jam Jam Barsay


Hairat Se Takta Hai Sahra Barish Ke Najrane Ko,
Kitni Door Se Aai Hai Ye Ret Se Hath Milane Ko.

हैरत से ताकता है सहरा बारिश के नज़राने को,
कितनी दूर से आई है ये रेत से हाथ मिलाने को।


सुना है बहुत बारिश है तुम्हारे शहर में,
ज्यादा भीगना मत..
अगर धूल गई सारी ग़लतफहमियां,
तो फिर बहुत याद आएंगे हम!


Ab Bhee Barasaat Kee Raaton Mein Badan Tootata Hai
Jaag Uthatee Hain Ajab Khvaahishen Angadaee Kee
- Parveen Shaakir

अब भी बरसात की रातों में बदन टूटता है
जाग उठती हैं अजब ख़्वाहिशें अंगड़ाई की

- परवीन शाकिर

Baras Jaye Yahan Bhi Kuch Noor Ki Barishen ,
Ke Emaan Ke Shishon Pe Badi Gard Jami Hai,

Us Tasveer Ko Bhi Kar De Taza,
Jinki Yaad Humare Dil Me Dhudhli Si Padi Hai.


बरस जाये यहाँ भी कुछ नूर की बारिशें,
के ईमान के शीशों पे बड़ी गर्द जमी है,

उस तस्वीर को भी कर दे ताज़ा,
जिनकी याद हमारे दिल में धुंधली सी पड़ी है।


Shaayad Koee Khvaahish...
Shaayad Koee Khvaahish Rotee Rahatee Hai,
Mere Andar Baarish Hotee Rahatee Hai

- Ahamad Faraaz
शायद कोई ख्वाहिश...
शायद कोई ख्वाहिश रोती रहती है,
मेरे अन्दर बारिश होती रहती है

- अहमद फ़राज़

Barish Poetry, Barish Shayari, Barish Shayari in hindi, Barish Shayari अध्याय, Barish Status, बारिश शायरी,
तुम्हें पहली बारिश पसंद है और मुझे तुम
तुम्हें हँसना पसंद है मुझे हँसते हुए तुम,

तुम्हें हमसे बात करना पसंद है,
मुझे बोलते हुए तुम
तुम्हें सब कुछ पसंद हैं और मुझे बस तुम...


बरसात की भीगी रातों में फिर कोई सुहानी याद आयी
कुछ अपना जमाना याद आया कुछ उनकी जवानी याद आयी

हम भूल चुके थे जिसने हमें दुनिया में अकेला छोड़ दिया
जब गौर किया तो एक सूरत जानी पहचानी याद आयी….

Barsat Ki Bheegi Raaton Mein Fir Koi Suhani Yaad Aayi
Kuchh Apna Jamana Yaad Aaya Kuchh Unki Jawani Yaad Aayi


Hum Bhool Chuke The Jisne Hamein Duniya Mein Akela Chhor Diya
Jab Gaur Kiya To Ek Surat Jaani Pehchani Yaad Aayi….


Kahin Barish Baras Jaaye
Kahin Darya Taras Jaaye
Kahin Aa Kar Ghata Theray
Tumhare Or Mere Darmiyaa
Aaa Kar Khuda Therey..
Tou ………!!

Uss Lamhay Mere Jivan Main..
Tum Khuda Ke Baad Aatey Ho..
Mujey Tum Yaad Aatey Ho


Kash Meri Zindegi Mein Aaye Ek Aisi Barsaat
mere Hath Mein Ho Tera Hath
bheegte Rahein Hum Saari Raathanth Rahe Khamosh
bas Aankhon Se Ho Teri Meri Baat


वो तेरा शरमा के मुझसे यूँ लिपट जाना,
कसम से हर महीने में सावन सा अहसास देता है !


इस बारिश के मौसम में अजीब सी कशिश है
ना चाहते हुए भी कोई शिदत से याद आता है..


Rahne Do Ki Ab Tum Bhi Mujhe Parh Na Sakoge,
Barsat Me Kagaj Ki Tarh Bheeg Gaya Hun Main.

रहने दो कि अब तुम भी मुझे पढ़ न सकोगे,
बरसात में काग़ज़ की तरह भीग गया हूँ मैं।


Aaj Mausam Kitana Khush Ganvaar Ho Gaya
Khatm Sabhee Ka Intazaar Ho Gaya

Baarish Kee Boonde Giree Kuchh Is Tarah Se
Laga Jaise Aasamaan Ko Zameen Se Pyaar Ho Gaya….

आज मौसम कितना खुश गंवार हो गया
खत्म सभी का इंतज़ार हो गया


बारिश की बूंदे गिरी कुछ इस तरह से
लगा जैसे आसमान को ज़मीन से प्यार हो गया….


बद-नसीबी का मैं कायल तो नहीं हूँ,
लेकिन मैंने बरसात में जलते हुए घर देखे है..


कभी शोख हैं,
कभी गुम सी है..
ये बारिशे भी तुम सी है..


Aaj Bheegee Hai Palake Kisee Kee Yaad Mein
Aakaash Bhee Simat Gaya Hain Apane Aap Mein

Os Kee Boond Aisee Giree Hai Zameen Par
Maano Chaand Bhee Roya Ho Unakee Yaad Mein.…


आज भीगी है पलके किसी की याद में
आकाश भी सिमट गया हैं अपने आप में


ओस की बूँद ऐसी गिरी है ज़मीन पर
मानो चाँद भी रोया हो उनकी याद में.…


Majbooriyan Odh Ke Nikalta Hun Ghar Se Aajkal,
Barna Shauk To Aaj Bhi Hai Barishon Me Bheegne Ka.

मजबूरियाँ ओढ़ के निकलता हूँ घर से आजकल,
वरना शौक तो आज भी है बारिशो में भीगने का।


Tags:
barish shayari, barish shayri, sad barish shayari facebook, barish, barish poetry, barish shayari in hindi sad, barish poetry in urdu, barish shayari romantic in hindi, barish ghazal, barish poetry facebook, barish poetry by parveen shakir, 2 line barish poetry, barish poetry status, best 2 line barish poetry in urdu, barish status

Read More

Best Barish Shayari बारिश शायरी - 2 Line Barish Poetry, | अध्याय 2

अक्तूबर 03, 2019


barish shayari,barish shayri,sad barish shayari facebook,barish,barish poetry,barish shayari in hindi sad,barish poetry in urdu,barish shayari romantic in hindi,barish ghazal,barish poetry facebook,barish poetry by parveen shakir,2 line barish poetry,barish poetry status,best 2 line barish poetry in urdu,barish status
कभी जी भर के बरसना,
कभी बांड बांड के लिए तरसना,
आय बारिश तेरी आदतें मेरे यार जैसी हैं…!

Kabhi Ji Bhar Ke Barasna,
Kabhi Bond Bond Ke Liye Tarasna,
Ay Barish Teri Aadatein Mere Yaar Jesi Hain…!


Ek To Ye Raat,
Uff Ye Barsaat,

Ek To Sath Nahi Tera,
Uff Ye Dard Behisab


Kitni Ajeeb Si Hai Baat,
Mere Hi Bas Me Nahi Mere Ye Halat.


एक तो ये रात,
उफ़ ये बरसात,

इक तो साथ नही तेरा,
उफ़ ये दर्द बेहिसाब


कितनी अजीब सी है बात,

मेरे ही बस में नही मेरे ये हालात।


Tamaam Raat Nahaya Tha Shahar Baarish Mein
Vo Rang Utar Hee Gae Jo Utarane Vaale The
- Jamal Ehsani

तमाम रात नहाया था शहर बारिश में
वो रंग उतर ही गए जो उतरने वाले थे

- जमाल एहसानी

Badal Jab Garajte Hain,
Dil Ki Dhadkan Badh Jati Hai,

Dil Ki Har Ek Dhadkan Se 

Awaz Tumhari Aati Hai.


Yeh Barishain Bhi Tum Si Hain,
Jo Baras Gayi To Bahar Hain,

Jo Thehar Gayi To Qarar Hain,
Kabhie Aa Gayi Yun Hi Besabab,

Kabhie Chha Gayi Yun Hi Roz O Shab
Kabhie Shor Hain,


Kabhi Chup Si Hai,
Kisi Yaad Mein Kisi Raat Ko,

Yeh Barishain Bhi Tum Si Hain,
Ek Dabi Hui Si Raakh Ko,

Kabhie Yun Huwa Ka Bujha Dia,
Kabhi Khud Se Khud Ko Jala Dia,

Kahin Boond Boond Mein Gum Si Hain.
Yeh Barishain Bhi Tum Si Hain


Kal Uski Yaad Poori Raat Aatee Rahee
Ham Jaage Pooree Duniya Sotee Rahee

Aasamaan Mein Bijalee Pooree Raat Hotee Rahee
Bas Ek Baarish Thee Jo Mere Saath Rotee Rahee….

कल उसकी याद पूरी रात आती रही
हम जागे पूरी दुनिया सोती रही


आसमान में बिजली पूरी रात होती रही
बस एक बारिश थी जो मेरे साथ रोती रही….


ख्यालो में वही,
सपनो में वही
लेकिन उनकी यादो में हम थे ही नहीं
हम जागते रहे दुनिया सोती रही,

एक बारिश ही थी,
जो हमारे साथ रोती रही..


Wo Mere Ru-Ba-Ru Aya Bhi To Barsaat Ke Mousam Mein,
Mere Aansoo Beh Rahe The Wo Barsat Samajh Betha.

वो मेरे रु-बा-रु आया भी तो बरसात के मौसम में,
मेरे आँसू बह रहे थे और वो बरसात समझ बैठा।


पतझड़ दिया था वक़्त ने सौगात में मुझे..
मैने वक़्त की जेब से सावन चुरा लिया…!


Ab Kon Se Mausam Se Koi Aas Lagaye
Barsaat Mein Bhi Yaad Na Jab Un Ko Hum Aye..


Tumhe Barish Pasand Hai Mujhe Barish Me Tum,
Tumhe Hasna Pasand Hai Mujhe Haste Hue Tum,

Tumhe Bolna Pasand Hai Mujhe Bolte Huye Tum,

Tumhe Sab Kuch Pasand Hai Aur Mujhe Bas Tum.


तुम्हें बारिश पसंद है मुझे बारिश में तुम,
तुम्हें हँसना पसंद है मुझे हस्ती हुए तुम,


तुम्हें बोलना पसंद है मुझे बोलते हुए तुम,
तुम्हें सब कुछ पसंद है और मुझे बस तुम।


Toot Padati Theen Ghataen Jin Kee Aankhen Dekh Kar
Vo Bharee Barasaat Mein Tarase Hain Paanee Ke Lie
- Sajjad Baqir Rizvi

टूट पड़ती थीं घटाएँ जिन की आँखें देख कर
वो भरी बरसात में तरसे हैं पानी के लिए

- सज्जाद बाक़र रिज़वी

Baarish Aur Mohabbat Donon Hee Yaadgar Hote He
Baarish Mein Jism Bheegata Hain Aur Mohabbat Mein Aankhe….

बारिश और महोबत दोनों ही यादगार होते हे
बारिश में जिस्म भीगता हैं और मोहब्बत में आँखे….



Kabhi Ji Bhar Ke Barasna,
Kabhi Bond Bond Ke Liye Tarasna,
Ay Barish Teri Aadatein Mere Yaar Jesi Hain…!


Kitanee Jaldee Zindagee Guzar Jaatee Hai
Pyaas Bujhti Nahin Barsaat Chalee Jaatee Hai

Teri Yaad Kuchh Is Tarah Aatee Hai
Neend Aati Nahin Magar Raat Guzar Jaati Hai….

कितनी जल्दी ज़िन्दगी गुज़र जाती है
प्यास भुझ्ती नहीं बरसात चली जाती है


तेरी याद कुछ इस तरह आती है

नींद आती नहीं मगर रात गुज़र जाती है….


Kabhi Ji Bhar Ke Barasna,
Kabhi Bond Bond Ke Liye Tarasna,
Ay Barish Teri Aadatein Mere Yaar Jesi Hain…!


Mausam Hai Barish Ka Aur Yaad Tumhari Aati Hai,
Barish Ke Har Qatre Se Awaz Tumhari Aati Hai.


ए बारिश जरा थम के बरस
जब मेरा यार आ जाये तो जम के बरस
पहले ना बरस की वह आ न सके


Aye Barish Zara Tham Ke Baras
Jab Mera Yaar Aa Jaye To Jam Ke Baras
Pehle Na Baras Ki Woh Aa Na Sake
Phir Itna Baras Ki Woh Ja Na Sake…..


Main Chup Karaata Hoon Har Shab Umadatee Barish Ko
Magar Ye Roz Gaee Baat Chhed Detee Hai
- Gulazaar

मैं चुप कराता हूँ हर शब उमडती बारिश को
मगर ये रोज़ गई बात छेड़ देती है

- गुलज़ार

Lo Aaj Phir Ronay Laga Hai Asmaan,
Ban Ke Barish..
Shayad Aaj Us Ko Phir Ehsas Hua Hai Meri Tanhai Ka!


मुझे मालूम है तूमनें बहुत बरसातें देखी है,
मगर मेरी इन्हीं आँखों से सावन हार जाता है…


ए बारिश जरा थम के बरस,
जब मेरा यार आ जाये तो जम के बरस,

पहले ना बरस की वह आ न सके,

फिर इतना बरस कि वह जा न सके.

Aye Barish Zara Tham Ke Baras,
Jab Mera Yaar Aa Jaye To Jam Ke Baras,

Pehle Na Baras Ki Woh Aa Na Sake,
Phir Itna Baras Ki Woh Ja Na Sake.


Baras Rahee Thee...
Baras Rahee Thee Baarish Baahar
Aur Vo Bheeg Raha Tha Mujh Mein

- Nazeer Qaisar

बरस रही थी...
बरस रही थी बारिश बाहर
और वो भीग रहा था मुझ में

- नज़ीर क़ैसर

आज की इस बारिश मे
साथ तुम नही हो तो,
आँख नम सी कितनी है,
सांस टंग सी कितनी है,
रूह प्यासी कितनी है 
यह उदासी कितनी है,
आज की इस बारिश में.

Aaj Ki Is Barish Me
Sath Tum Nhi Ho To,
Aankh Nam Si Kitni Hai,
Saans Tang Si Kitni Hai,
Rooh Pyasi Kitni Hai 

Yeh Udaasi Kitni Hai,
Aaj Ki Is Barish Me.


Tags:
barish shayari, barish shayri, sad barish shayari facebook, barish, barish poetry, barish shayari in hindi sad, barish poetry in urdu, barish shayari romantic in hindi, barish ghazal, barish poetry facebook, barish poetry by parveen shakir, 2 line barish poetry, barish poetry status, best 2 line barish poetry in urdu, barish status

Read More

Best Barish Shayari बारिश शायरी - Barish Poetry | अध्याय 1

सितंबर 09, 2019


barish shayari,barish shayri,sad barish shayari facebook,barish,barish poetry,barish shayari in hindi sad,barish poetry in urdu,barish shayari romantic in hindi,barish ghazal,barish poetry facebook,barish poetry by parveen shakir,2 line barish poetry,barish poetry status,best 2 line barish poetry in urdu,barish status

Saath Baarish Mein Lie Phirate Ho Us Ko Anjum
Tum Ne Is Shahar Mein Kya Aag Lagani Hai Koee
- Anjum Saleemi

साथ बारिश में लिए फिरते हो उस को 'अंजुम'
तुम ने इस शहर में क्या आग लगानी है कोई

- अंजुम सलीमी


Barishon Mein Chalne Se Ek Baat Yaad Aati Hai,
Fisalne Ke Dar Se Wo Mera Hath Thaam Leta Tha.

बारिश में चलने से एक बात याद आती है,
फिसलने के डर से वो मेरा हाथ थाम लेता था।


Kachche Deewaron Ko...
Kachchee Deevaaron Ko Paanee Kee Lahar Kaat Gaee
Pahalee Baarish Hee Ne Barasaat Kee Dhaaya Hai Mujhe

- Zubair Rizavee

कच्ची दीवारों को...
कच्ची दीवारों को पानी की लहर काट गई
पहली बारिश ही ने बरसात की ढाया है मुझे

- ज़ुबैर रिज़वी


बादलों से कह दो
जरा सोच समझ कर बरसे
अगर मुझे उनकी याद आ गयी


Badalon Se Keh Do
Jara Soch Samjh Kar Barse
Agar Mujhe Unki Yaad Aa Gayi
To Muqabla Barabari Ka Hoga….


Bheegee Mitti Kee Mehek Pyaas Badha Deti Hai
Dard Barsaat Ki Boondon Mein Basa Karata Hai
- Maragoob Alee

भीगी मिट्टी की महक प्यास बढ़ा देती है
दर्द बरसात की बूँदों में बसा करता है

- मरग़ूब अली


Ab Kon Se Mausam Se Koi Aas Lagaye
Barsaat Mein Bhi Yaad Na Jab Un Ko Hum Aye..



मौसम था बेकरार तुम्हें सोचते रहे,
कल रात बार बार तुम्हें सोचते रहे
बारिश हुई तो लग कर घर के दरवाजे से हम
चुप चाप बेकरार तुम्हें सोचते रहे..


Khush Naseeb Hote Hain Baadal
Jo Door Reh Kar Bhi Zameen Par Baraste Hain
Aur Ek Badnaseeb Ham Hain
Jo Ek H Duniya Mein Reh Kar Bhi,
Milne Ko Taraste Hain.

खुश नसीब होते हैं बादल
जो दूर रहकर भी ज़मीन पर बरसते हैं
और एक बदनसीब हम हैं
जो एक ही दुनिया में रहकर भी,
मिलने को तरसते हैं.


Agar Bhigne Ka Itna Hi Shaukh Hai Baarish Me,
To Dekho Meri Aankho Me,
Baarish To Har Ek Ke Liye Barasti Hai,
Lekin Ye Aankhe Sirf Tumhare Liye Barasti Hai..



Ishq Wale Ankhon Ki Baat Samajh Lete Hain,
Sapno Mein Mil Jaye To Mulaqat Samajh Lete Hain.
Rota To Aasman Bhi Hain Apne Bichde Pyar Ke Liye,
Par Log Use Barsat Samajh Lete Hain.


बारिश के पानी को अपने हाथों में समेट लो,
जितना आप समेट पाए उतना आप हमें चाहते है
और जितना ना समेट पाए उतना हम आप को चाहते है...


Vo Ab Kya Khaak Aae...
Vo Ab Kya Khaak Aae Hae Qismat Mein Tarasana Tha
Tujhe Ai Abr-E-Rehmat Aaj Hi Itana Barasana Tha
- Kaifee Hyderabadi

वो अब क्या ख़ाक आए...
वो अब क्या ख़ाक आए हाए क़िस्मत में तरसना था
तुझे ऐ अब्र-ए-रहमत आज ही इतना बरसना था

- कैफ़ी हैदराबादी


Ghata Dekh Kar Khush Hue Ladkiyan
Chhaton Par Khile Phool Barsaat Ke
- Muneer Niazi

घटा देख कर ख़ुश हुईं लड़कियाँ
छतों पर खिले फूल बरसात के

- मुनीर नियाज़ी


Khud Ko Itna Bhi Na Bachaya Kr,
Barisen Hua Kare To Bheeg Jaya Kar.

ख़ुद को इतना भी न बचाया कर,
बारिशें हुआ करे तो भीग जाया कर।


Barsat Ki Bheegi Raaton Mein Phir Koi Suhaani Yaad Aayi,
Kuchh Apna Zamana Yaad Aaya Kuchh Unki Jawaani Yaad Aayi,

Hum Bhool Chuke They Jisne Hamein Duniya Mein Akela Chhor Diya,
Jab Ghaur Kiya To Ek Soorat Jaani Pehchaani Yaad Aayi


Door Tak Chhaye The Baadal...
Door Tak Chhaye The Badal Aur Kahin Saaya Na Tha
Is Tarah Barasaat Ka Mausam Kabhee Aaya Na Tha
- Qateel Shifai

दूर तक छाए थे बादल...
दूर तक छाए थे बादल और कहीं साया न था
इस तरह बरसात का मौसम कभी आया न था

- क़तील शिफ़ाई


Us Ne Barish Mein Bh Khidki Khol Ke Dekha Nahin
Bheegane Vaalon Ko Kal Kya Kya Pareshani Huee
- Jamaal Ehsani

उस ने बारिश में भी खिड़की खोल के देखा नहीं
भीगने वालों को कल क्या क्या परेशानी हुई

- जमाल एहसानी


Aadat Uski Thi Bus Mujhe Jalane Wale
Baat Ki Hans Ke Mgr Dil Ko Dukhane Wali

Ajkal Wo Mujhe Kuch Badla Howa Lgta Hy
Ho Gain Uski Nighein Bhi Zamane Wali


Hum Ne Ikhlas Ka Daman Nhi Chora Ab Tk
Haye Uski Tu Muhabbat Hy Rulane Wali


Main Ne Samjha Tha Guzar Jaye Ga Mausam Lekin
Rut – E – Barsat Bi Nikli Tu Satane Wali


Tumhare Waste Ab Koi Nhi Hy Wasi
Khud Se Batein Na Karo Dil Ko Behlane Wali…


Is Dapha to Baarishein Rukti Hi Nahi,
Hamane Kya Aansoo Pie Kee Mausam Ro Pade!

इस दफा तो बारिशें रुकती ही नहीं,
हमने क्या आँसू पिए की मौसम रो पड़े!


फूल से दोस्ती करोगे तो महक जाओगे;
सावन से दोस्ती करोगे तो भीग जाओगे;
हमसे करोगे तो बिगड़ जाओगे;
और नहीं करोगे तो किधर जाओगे।

Phool Se Dostee Karoge to Mahak Jaoge;
Saavan Se Dosti Karoge to Bheeg Jaoge;
Hamase Karoge to Bigad Jaoge;
Aur Nahin Karoge to Kidhar Jaoge.



यादें जाग जाती हैं,
बारिशों के मौसम में.
हर घरी सताती हैं
बारिशों के मौसम में.
शाम भी किसी सूरत,
चैन से नहीं कटती
सुबहें भी सताती है
बारिशों के मौसम में.
ज़हन के झरोखे में
जब कोई सदा उभरे.
आँखें भीग जाती हैं
बारिशों के मौसम में.

Yaadein Jaag Jati Hain,
Barishon Ke Mausam Mein.
Har Ghadi Satati Hai
Barishon Ke Mausam Mein.
Shaam Bhi Kisi Surat,
Chain Se Nahi Kat-Ti
Subahein Bhi Satati Hai
Barishon Ke Mausam Mein.
Zehen Ke Jharokhe Mein
Jab Koi Sada Ubhre.
Aankhein Bheeg Jati Hain
Barishon Ke Mausam Mein.


एक रात हुई बरसात बहुत
मैं रोया सारी रात बहुत
हर ग़म था ज़माने का लेकिन
मैं तनहा था उस रात बहुत
फिर आँख से एक सावन बरसा
जब सेहर हुई तो ख्याल आया
वह बादल कितना तनहा था
जो बरसा सारी रात बहुत

Ek Raat Hui Barsaat Bahut
Main Roya Saari Raat Bahut
Har Gham Tha Zamaane Ka Lekin
Main Tanha Tha Us Raat Bahut
Phir Aankh Se Ek Saawan Barsa
Jab Sehar Hui To Khyal Aaya
Woh Baadal Kitna Tanha Tha
Jo Barsa Saari Raat Bahut


आज बारिश मैं तेरे संग नहाना है
सपना ये मेरा सदियों पुराना है,
बारिश का क़तरा जो तुझ पर गिरे,
उस क़तरे को अपने हाथों से लगाना है…..

Aaj Barish Main Tere Sang Nahana Hai
Sapna Ye Mera Sadiyon Purana Hai,
Barish Ka Qatra Jo Tujh Par Gire,
Us Qatre Ko Apne Haathon Se Lagana Hai…..


Kahin Fisal Na Jao Jara Sambhal Ke Chalna,
Mausam Barish Ka Bhi Hai Aur Mohabbat Ka Bhi.

कहीं फिसल न जाओ जरा संभल के चलना,
मौसम बारिस का भी है और मोहब्बत का भी।


Jab Bhi Hogi Pahli Barish,
Tumko Samne Payenge,

Wo Boondon Se Bhara Chehra 

Tumhara Hum Dekh To Payenge.

जब भी होगी पहली बारिश,
तुमको सामने पायेंगे,

वो बूंदों से भरा चेहरा 

तुम्हारा हम देख तो पायेंगे।


Poochte The Na Kitna Pyar Hai Tumhe Humse
Lo Ab Gin Lo..
Barish Ki Ye Boonden.


पूछते थे ना कितना प्यार है तुम्हे हमसे,
लो अब गिन लो..
बारिश की ये बूँदें।


Tags:

barish shayari,barish shayri,sad barish shayari facebook,barish,barish poetry,barish shayari in hindi sad,barish poetry in urdu,barish shayari romantic in hindi,barish ghazal,barish poetry facebook,barish poetry by parveen shakir,2 line barish poetry,barish poetry status,best 2 line barish poetry in urdu,barish status

Read More