Shayar लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

कोई उम्मीद बर नहीं आती - Koi Ummeed Bar Nahi Aati | Mirza Ghalib Shayari

दिसंबर 12, 2019


कोई उम्मीद बर नहीं आती
कोई सूरत नज़र नहीं आती

मौत का एक दिन मु'अय्यन है
नींद क्यों रात भर नहीं आती

आगे आती थी हाल-ए-दिल पे हँसी
अब किसी बात पर नहीं आती

(बर नहीं आती = पूरी नहीं होती), 
(सूरत = उपाय)
(मु'अय्यन = तय, निश्चित)

Koi Ummeed Bar Nahi Aati
Koi Soorat Nazar Nahi Aati

Maut Ka Ek Din Muayyan Hai
Neend Kyon Raat Bhar Nahi Aati

Aage Aati Thi Haal-e-dil Pe Hasi
Ab Kisi Baat Par Nahi Aati

(Bar Nahin Aati = Pooree Nahi Hoti), 
(Soorat = Upaay)
(Muayyan = Tay, Nishchit)

इन्हे भी पढ़े: गुलज़ार शायरी ( Gulzar Shayari )

TAG:

mirza ghalib, mirza ghalib shayari, mirza ghalib shayari in hindi, mirza ghalib shayari in urdu, mirza ghalib urdu shayari, mirza ghalib quotes, mirza ghalib poems, mirza ghalib poetry, mirza ghalib ghazal, mirza ghalib sher, mirza ghalib ki shayari, mirza ghalib college gaya

Read More

Gulzar Two Line Shayari in Hindi - गुलज़ार की शायरी | Gulzar Best Shayari, Gulzar Ki Shayari, Gulzar Shayri | अध्याय 3

नवंबर 27, 2019



gulzar, shayari, gulzar best shayari, gulzar shayari, gulzar ki shayari, gulzar shayri, gulzar shayari in urdu, best shayri, sad shayri, best shayri by gulzar, best shayari of gulzar, shayari in hindi, shayri, gulzar best poetry, gulzar sher shayari, gulzar top 10 shayari, gulzar sher o shayari, love shayari, gulzar shayari in hind, gulzar shayari on love, gulzar shayari in hindi, gulzar shayari hindi me
Bahut Mushkil Se Karata Hun Teri Yaadon Ka Karobar,
Munafa Kam Hain,Par Guzara Ho Jata Hain..

बहुत मुश्किल से करता हूँ,तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम है,पर गुज़ारा हो ही जाता है


वो उम्र कम कर रहा था मेरी
मैं साल अपने बढ़ा रहा था

Vo Umr Kam Kar Raha Tha Meree
Main Saal Apane Badha Raha Tha



यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता
कोई एहसास तो दरिया की अना का होता

Yoon Bhee Ik Baar To Hota Ki Samundar Bahata
Koee Ehasaas To Dariya Kee Ana Ka Hota



काँच के पीछे चाँद भी था और काँच के ऊपर काई भी
तीनों थे हम वो भी थे और मैं भी था तन्हाई भी

Kaanch Ke Peechhe Chaand Bhee Tha Aur Kaanch Ke Oopar Koi Bhi
Teeno The Ham Vo Bhee The Aur Main Bhee Tha Tanhaee Bhi



आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Aaina Dekh Kar Tasallee Huee
Ham Ko Is Ghar Mein Jaanata Hai Koi



कोई अटका हुआ है पल शायद
वक़्त में पड़ गया है बल शायद

Koee Ataka Hua Hai Pal Shaayad
Vaqt Mein Pad Gaya Hai Bal Shaayad



शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है

Shaam Se Aankh Mein Namee See Hai
Aaj Phir Aap Kee Kamee See Hai



आँखों से आँसुओं के मरासिम पुराने हैं
मेहमाँ ये घर में आएँ तो चुभता नहीं धुआँ

Aankhon Se Aansuon Ke Maraasim Puraane Hain
Mehamaan Ye Ghar Mein Aaen To Chubhata Nahin Dhuaan



आ रही है जो चाप क़दमों की
खिल रहे हैं कहीं कँवल शायद

Aa Rahee Hai Jo Chaap Qadamon Kee
Khil Rahe Hain Kaheen Kanval Shaayad


कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की

Kitanee Lambee Khaamoshee Se Guzara Hoon
Un Se Kitana Kuchh Kahane Kee Koshish Kee


काई सी जम गई है आँखों पर
सारा मंज़र हरा सा रहता है

Kaee See Jam Gaee Hai Aankhon Par
Saara Manzar Hara Sa Rahata Hai


उठाए फिरते थे एहसान जिस्म का जाँ पर
चले जहाँ से तो ये पैरहन उतार चले

Uthae Phirate The Ehasaan Jism Ka Jaan Par
Chale Jahaan Se To Ye Pairahan Utaar Chale


Suno.. Jara Rasta To Batana.
Mohabbat Ke Safar Se Wapasi Hain Meri.

सुनो….ज़रा रास्ता तो बताना.
मोहब्बत के सफ़र से, वापसी है मेरी..


कोई न कोई रहबर रस्ता काट गया
जब भी अपनी रह चलने की कोशिश की

Koee Na Koee Rahabar Rasta Kaat Gaya
Jab Bhee Apanee Rah Chalane Kee Koshish Kee


दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

Din Kuchh Aise Guzaarata Hai Koee
Jaise Ehasaan Utaarata Hai Koee


तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं

Tumhaaree Khushk See Aankhen Bhalee Nahin Lagateen
Vo Saaree Cheezen Jo Tum Ko Rulaen, Bhejee Hain


खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं
हवा चले न चले दिन पलटते रहते है

Khulee Kitaab Ke Safhe Ulatate Rahate Hain
Hava Chale Na Chale Din Palatate Rahate Hai


कल का हर वाक़िआ तुम्हारा था
आज की दास्ताँ हमारी है

Kal Ka Har Vaaqia Tumhaara Tha
Aaj Kee Daastaan Hamaaree Hai


सहर न आई कई बार नींद से जागे
थी रात रात की ये ज़िंदगी गुज़ार चले

Sahar Na Aaee Kaee Baar Neend Se Jaage
Thee Raat Raat Kee Ye Zindagee Guzaar Chale


ज़मीं सा दूसरा कोई सख़ी कहाँ होगा
ज़रा सा बीज उठा ले तो पेड़ देती है

Zameen Sa Doosara Koee Sakhee Kahaan Hoga
Zara Sa Beej Utha Le To Ped Detee Hai


आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है

Aap Ke Baad Har Ghadee Ham Ne
Aap Ke Saath Hee Guzaaree Hai


हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते

Haath Chhooten Bhee To Rishte Nahin Chhoda Karate
Vaqt Kee Shaakh Se Lamhe Nahin Toda Karate


TAG:
gulzar, shayari, gulzar best shayari, gulzar shayari, gulzar ki shayari, gulzar shayri, gulzar shayari in urdu, best shayri, sad shayri, best shayri by gulzar, best shayari of gulzar, shayari in hindi, shayri, gulzar best poetry, gulzar sher shayari, gulzar top 10 shayari, gulzar sher o shayari, love shayari, gulzar shayari in hind, gulzar shayari on love, gulzar shayari in hindi, gulzar shayari hindi me

Read More

Faiz Ahmad Faiz Shayari in Hindi - Two Line Shayari | अध्याय 2

नवंबर 20, 2019


faiz ahmed faiz poetry mujhse pehli si mohabbat, faiz ahmed faiz poetry mujh se pehli si mohabbat, faiz ahmad faiz poetry in urdu, faiz ahmed faiz urdu poetry english translation, faiz ahmed faiz poetry english translation, faiz ahmad faiz poetry in english, faiz ahmed faiz top poetry, faiz ahmad faiz famous poetry
हम शैख़ न लीडर न मुसाहिब न सहाफ़ी
जो ख़ुद नहीं करते वो हिदायत न करेंगे

Ham Shaikh Na Leedar Na Musaahib Na Sahaafee
Jo Khud Nahin Karate Vo Hidaayat Na Karenge


“ न जाने किस लिए उम्मीद-वार बैठा हूँ
इक ऐसी राह पे जो तेरी रहगुज़र भी नहीं ”

“ Na Jaane Kis Lie Ummeed-Vaar Baitha Hoon
Ik Aisee Raah Pe Jo Teree Rahaguzar Bhee Nahin ”


“ इक तिरी दीद छिन गई मुझ से
वर्ना दुनिया में क्या नहीं बाक़ी ”

“ Ik Tiree Deed Chhin Gaee Mujh Se
Varna Duniya Mein Kya Nahin Baaqee ”


“ अब अपना इख़्तियार है चाहे जहाँ चलें
रहबर से अपनी राह जुदा कर चुके हैं हम ”

“ Ab Apana Ikhtiyaar Hai Chaahe Jahaan Chalen
Rahabar Se Apanee Raah Juda Kar Chuke Hain Ham ”


“ ग़म-ए-जहाँ हो रुख़-ए-यार हो कि दस्त-ए-अदू
सुलूक जिस से किया हम ने आशिक़ाना किया ”

“ Gam-E-Jahaan Ho Rukh-E-Yaar Ho Ki Dast-E-Adoo
Sulook Jis Se Kiya Ham Ne Aashiqaana Kiya ”


“ हर सदा पर लगे हैं कान यहाँ
दिल सँभाले रहो ज़बाँ की तरह ”

“ Har Sada Par Lage Hain Kaan Yahaan
Dil Sanbhaale Raho Zabaan Kee Tarah ”


faiz ahmad faiz shayari in urdu, faiz ahmed faiz famous poetry, faiz ahmed faiz love poetry, faiz ahmad faiz poetry hindi, faiz ahmad faiz shayari on love, faiz ahmed faiz poetry mujhse pehli si mohabbat, faiz ahmed faiz poetry mujh se pehli si mohabbat, faiz ahmad faiz poetry in urdu, faiz ahmed faiz urdu poetry english translation, faiz ahmed faiz poetry english translation, faiz ahmad faiz poetry in english, faiz ahmed faiz top poetry, faiz ahmad faiz famous poetry

“ज़ब्त का अहद भी है शौक़ का पैमान भी है
अहद-ओ-पैमाँ से गुज़र जाने को जी चाहता है

“Zabt Ka Ahad Bhee Hai Shauq Ka Paimaan Bhee Hai
Ahad-O-Paimaan Se Guzar Jaane Ko Jee Chaahata Hai


ज़िंदगी क्या किसी मुफ़लिस की क़बा है जिस में
हर घड़ी दर्द के पैवंद लगे जाते हैं

Zindagee Kya Kisee Mufalis Kee Qaba Hai Jis Mein
Har Ghadee Dard Ke Paivand Lage Jaate Hain


“मेरी क़िस्मत से खेलने वाले
मुझ को क़िस्मत से बे-ख़बर कर दे ”

“Meree Qismat Se Khelane Vaale
Mujh Ko Qismat Se Be-Khabar Kar De ”


जो कुछ भी बन न पड़ा 'फ़ैज़' लुट के यारों से
तो रहज़नों से दुआ-ओ-सलाम होती रही ”

Jo Kuchh Bhee Ban Na Pada Faiz Lut Ke Yaaron Se
To Rahazanon Se Dua-O-Salaam Hotee Rahee ”


faiz ahmad faiz shayari in urdu, faiz ahmed faiz famous poetry, faiz ahmed faiz love poetry, faiz ahmad faiz poetry hindi, faiz ahmad faiz shayari on love, faiz ahmed faiz poetry mujhse pehli si mohabbat, faiz ahmed faiz poetry mujh se pehli si mohabbat, faiz ahmad faiz poetry in urdu, faiz ahmed faiz urdu poetry english translation, faiz ahmed faiz poetry english translation, faiz ahmad faiz poetry in english, faiz ahmed faiz top poetry, faiz ahmad faiz famous poetry

हर अजनबी हमें महरम दिखाई देता है
जो अब भी तेरी गली से गुज़रने लगते हैं”

Har Ajanabee Hamen Maharam Dikhaee Deta Hai
Jo Ab Bhee Teree Galee Se Guzarane Lagate Hain”

TAG:
faiz ahmad faiz shayari, faiz ahmed faiz poetry english, faiz ahmad faiz shayari in hindi, faiz ahmed faiz poetry in urdu, faiz ahmed faiz poetry urdu, faiz ahmed faiz shayari hindi, faiz ahmed faiz poetry hindi, faiz ahmed faiz shayari urdu, faiz ahmad faiz shayari hindi, faiz ahmad faiz shayari in urdu, faiz ahmed faiz famous poetry, faiz ahmed faiz love poetry, faiz ahmad faiz poetry hindi, faiz ahmad faiz shayari on love, faiz ahmed faiz poetry mujhse pehli si mohabbat, faiz ahmed faiz poetry mujh se pehli si mohabbat, faiz ahmad faiz poetry in urdu, faiz ahmed faiz urdu poetry english translation, faiz ahmed faiz poetry english translation, faiz ahmad faiz poetry in english, faiz ahmed faiz top poetry, faiz ahmad faiz famous poetry

Read More

Gulzar Sher in Hindi | गुलज़ार की शायरी | Gulzar Best Shayari | Gulzar Ki Shayari | अध्याय 2

नवंबर 20, 2019


gulzar, shayari, gulzar best shayari, gulzar shayari, gulzar ki shayari, gulzar shayri, gulzar shayari in urdu, best shayri, sad shayri, best shayri by gulzar, best shayari of gulzar, shayari in hindi, shayri, gulzar best poetry, gulzar sher shayari, gulzar top 10 shayari, gulzar sher o shayari, love shayari, gulzar shayari in hind, gulzar shayari on love, gulzar shayari in hindi, gulzar shayari hindi me
सहमा सहमा डरा सा रहता है
जाने क्यूं जी भरा सा रहता है

Sehma Sehma Dara Sa Rehta Hai
Jaane Kyun Jee Bhara Sa Rehta Hai


हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में
रुक कर अपना ही इंतिज़ार किया

Ham Ne Aksar Tumhaaree Raahon Mein
Ruk Kar Apna Hi Intezaar Kiya


जब भी ये दिल उदास होता है
जाने कौन आस-पास होता है

Jab Bhi Ye Dil Udas Hota Hai
Jaane Kaun Aas-Paas Hota Hai


मैं चुप कराता हूं हर शब उमड़ती बारिश को
मगर ये रोज़ गई बात छेड़ देती है


Main Chup Karaata Hoon Har Shab Umadatee Barish Ko
Magar Ye Roz Gaee Baat Chhed Detee Hai


हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक्त की शाख से लम्हे नहीं तोड़ा करते


Haath Chhooten Bhi To Rishtey Nahi Chhoda Karte
Vakt Kee Shaakh Se Lamhe Nahin Toda Karate


ख़ुशबू जैसे लोग मिले अफ़्साने में
एक पुराना ख़त खोला अनजाने में


Khushaboo Jaise Log Mile Afsane Mein
Ek Puraana Khat Khola Anajaane Mein


कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ़
किसी की आंख में हम को भी इंतिज़ार दिखे


Kabhee To Chaunk Ke Dekhe Koee Hamaaree Taraf
Kisee Kee Aankh Mein Ham Ko Bhee Intizaar Dikhe


आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है


Aap Ke Baad Har Ghadee Ham Ne
Aap Ke Saath Hee Guzaaree Hai


फिर वहीं लौट के जाना होगा
यार ने कैसी रिहाई दी है


Phir Vaheen Laut Ke Jaana Hoga
Yaar Ne Kaisee Rihaee Dee Hai


जिस की आंखों में कटी थीं सदियां
उस ने सदियों की जुदाई दी है

Jis Kee Aankhon Mein Katee Theen Sadiyaan
Us Ne Sadiyon Kee Judaee Dee Hai


TAG:
gulzar, shayari, gulzar best shayari, gulzar shayari, gulzar ki shayari, gulzar shayri, gulzar shayari in urdu, best shayri, sad shayri, best shayri by gulzar, best shayari of gulzar, shayari in hindi, shayri, gulzar best poetry, gulzar sher shayari, gulzar top 10 shayari, gulzar sher o shayari, love shayari, gulzar shayari in hind, gulzar shayari on love, gulzar shayari in hindi, gulzar shayari hindi me

Read More

Gulzar Shayari in Hindi | Gulzar Sher - Gulzar Shayaris on Love | अध्याय 1

नवंबर 12, 2019


gulzar, shayari, gulzar best shayari, gulzar shayari, gulzar ki shayari, gulzar shayri, gulzar shayari in urdu, best shayri, sad shayri, best shayri by gulzar, best shayari of gulzar, shayari in hindi, shayri, gulzar best poetry, gulzar sher shayari, gulzar top 10 shayari, gulzar sher o shayari, love shayari, gulzar shayari in hind, gulzar shayari on love, gulzar shayari in hindi, gulzar shayari hindi me
Aap Ne Auron Se Kaha Sab Kuchh,
Hum Se Bhi Kuchh Kabhi Kahin Kehte.


आप ने औरों से कहा सब कुछ,

हम से भी कुछ कभी कहीं कहते.


Phir Wahi Laut Ke Jaana Hoga,
Yaar Ne Kaisi Rihai Di Hai.

फिर वहीं लौट के जाना होगा,
यार ने कैसी रिहाई दी है.


Der Se Gunjte Hain Sannatey,
Jaise Humko Pukarta Hai Koi.
Kal Ka Har Waqia 
Tha  Tumhara,

Aaj Ki Dastan Hai  Hamari.

देर से गूंजते हैं सन्नाटे,
जैसे हमको पुकारता है कोई.
कल का हर वाक़िया 
था  तुम्हारा,

आज की दास्ताँ है हमारी .


Koi Khamosh Zakhm Lagti Hai,
Zindagi Ek Nazm Lati Hai.


कोई खामोश ज़ख्म लगती है,
ज़िन्दगी एक नज़्म लती है.


Aadatan Tumne Kar Diye Vaade,
Aadatan Humne Aitbaar Kiya.


आदतन तुमने कर दिए वादे,

आदतन हमने ऐतबार किया.


Jis Ki Ankhon Mein Kati Thi Sadiyan,
Usne Sadiyon Ki Judai Di Hai.


जिस की आँखों में काटी थी सदियाँ,
उसने सदियों की जुदाई दी है.


Hum Ne Aksar Tumhari Rahon Mein,
Ruk Kar Apna Hi Intezaar Kiya.

हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में,
रुक कर अपना ही इंतज़ार किया.


Apne Saaye Se Chaunk Jaate Hain,
Umar Guzri Hai Is Qadar Tanha.


अपने साये से चौंक जाते हैं,
उम्र गुजरी है इस क़दर तनहा.


Raakh Ko Bhi Kured Kar Dekho,
Abhi Jalta Ho Koi Pal Shayad.

राख को भी कुरेद कर देखो,
अभी जलता हो कोई पल शायद.


Ek Hi Khwab Ne Saari Raat Jagaya Hai,
Maine Har Karvat Sone Ki Koshish Ki.


एक ही ख्वाब ने सारी रात जगाया है,
मैंने हर करवट सोने की कोशिश की.


TAG:
gulzar, shayari, gulzar best shayari, gulzar shayari, gulzar ki shayari, gulzar shayri, gulzar shayari in urdu, best shayri, sad shayri, best shayri by gulzar, best shayari of gulzar, shayari in hindi, shayri, gulzar best poetry, gulzar sher shayari, gulzar top 10 shayari, gulzar sher o shayari, love shayari, gulzar shayari in hind, gulzar shayari on love, gulzar shayari in hindi, gulzar shayari hindi me

Read More

Faiz Ahmed Faiz Poems in English - Faiz Ahmad Faiz Shayari, Poetry and SMS | अध्याय 1

नवंबर 12, 2019

faiz ahmad faiz shayari hindi, faiz ahmad faiz shayari in urdu, faiz ahmed faiz famous poetry, faiz ahmed faiz love poetry, faiz ahmad faiz poetry hindi, faiz ahmad faiz shayari on love, faiz ahmed faiz poetry mujhse pehli si mohabbat, faiz ahmed faiz poetry mujh se pehli si mohabbat, faiz ahmad faiz poetry in urdu, faiz ahmed faiz urdu poetry english translation, faiz ahmed faiz poetry english translation, faiz ahmad faiz poetry in english,

O Player Who Plays With My Luck,
Make Me Ignorant of Luck.


Life is What?
Is It Dress of a Poor Man,
Every Moment Patches of Pain Get Added There.


The sorrow of the World or Face of the Friend or Hand of the Enemy,
I Behaved in Romantic Way to Everyone.


I Have Lost Your Sight,
Otherwise What This World is Lacking.


There Was Nothing Remaining After Getting Looted by Friends,
Then I Started Doing Prayers With Robbers.


Now,
It's Under My Control Where to Go,
I Have Differentiated My Path From the Guide.


There Are Ears Seeking for Every Voice,
Control Your Heart Like Your Tongue.


Neither I Am Preacher Nor Leader,
Neither Comrade Nor Journalist,
I Won’t Advice Things Those I Don’t Do.


Don’t Know Why I Hope for You,
On the Path Which Will Never Be Followed by You.


Every Stranger Seems Like Intimate Friend,
When I Cross Your Street.


I Have Promised Self-control and Agreed Zeal,
I Want to Break All Those Promises and Agreements.


Chapters ( अध्याय ):

TAG:
faiz ahmad faiz shayari, faiz ahmed faiz poetry english, faiz ahmad faiz shayari in hindi, faiz ahmed faiz poetry in urdu, faiz ahmed faiz poetry urdu, faiz ahmed faiz shayari hindi, faiz ahmed faiz poetry hindi, faiz ahmed faiz shayari urdu, faiz ahmad faiz shayari hindi, faiz ahmad faiz shayari in urdu, faiz ahmed faiz famous poetry, faiz ahmed faiz love poetry, faiz ahmad faiz poetry hindi, faiz ahmad faiz shayari on love, faiz ahmed faiz poetry mujhse pehli si mohabbat, faiz ahmed faiz poetry mujh se pehli si mohabbat, faiz ahmad faiz poetry in urdu, faiz ahmed faiz urdu poetry english translation, faiz ahmed faiz poetry english translation, faiz ahmad faiz poetry in english, 

Read More

20 Most Popular Classical Sher of Mirza Ghalib in Hindi

नवंबर 12, 2019


Aaye Hai Be-Kasi-E-Ishq Pe Rona ‘Ghalib’ - mirza ghalib, mirza ghalib shayari, mirza ghalib shayari in hindi, mirza ghalib shayari in urdu, mirza ghalib urdu shayari, mirza ghalib quotes, mirza ghalib poems, mirza ghalib poetry, mirza ghalib ghazal, mirza ghalib sher, mirza ghalib ki shayari, mirza ghalib college gaya, mirza ghalib books, mirza ghalib hindi, mirza ghalib in hindi
Aaye Hai Be-Kasi-E-Ishq Pe Rona ‘Ghalib’
Kis Ke Ghar Jaayega Sailaab-E-Balaa Mere Baad

आये है बे-कासी-इ-इश्क़ पे रोना ‘ग़ालिब’
किस के घर जाएगा सैलाब-इ-बला मेरे बाद


Image result for 20 Most Popular Classical Sher of Mirza Ghalib in Hindi

Unke Dekhe Se Jo Aa Jaati Hai Munh Pe Raunak
Wo Samajhte Hain Ki Beemar Ka Haal Acha Hai


उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पे रौनक
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है


कर्ज की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि 
हा रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन

Karz Ki Peete The May Lekin Samajhte The Ki 
Ha Rang Laavegi Hamaari Faaka-Masti Ek Din


Ishq Ne ‘Ghalib’ Nikamma Kar Diya
Varna Hum Bhi Aadmi The Kaam Ke

इश्क़ ने ‘ग़ालिब’ निकम्मा कर दिया
वर्ना हम भी आदमी थे काम के


Apni Gali Men Mujhko Na Kar Dafn Baad-E-Qatl
Mere Pate Se Khalq Ko Kyun Tera Ghar Mile


अपनी गली में मुझको न कर दफ़्न बाद-इ-क़त्ल
मेरे पते से ख़ल्क़ को क्यूँ तेरा घर मिले


कहाँ मैखाने का दरवाज़ा ‘ग़ालिब’ और कहाँ वैज,
पर इतना जानते हैं कल वो जाता था की हम निकले

Kahaan Maikhane Ka Darwaza ‘Ghalib’ Aur Kahaan Waiz,
Par Itna Jaante Hain Kal Vo Jaata Tha Ki Ham Nikle


Aage Aati Thi Haal-E-Dil Pe Hansi
Ab Kisi Baat Par Nahi Aati

आगे आती थी हाल-इ-दिल पे हंसी
अब किसी बात पर नहीं आती


आशिक़ हूँ पे माशूक़-फरेबी है मेरा काम
मजनू को बुरा कहती है लैला मेरे आगे

Aashiq Hoon Pe Mashooq-Farebi Hai Mera Kaam
Majnu Ko Bura Kahti Hai Laila Mere Aage


Is Nazaaqat Ka Bura Ho Vo Bhale Hain To Kya
Haath Aave To Unhe Haath Lagaye Na Bane

इस नज़ाक़त का बुरा हो वो भले हैं तो क्या
हाथ आवे तो उन्हें हाथ लगाए न बने


Qasid Ke Aate-Aate Khat Ek Aur Likh Rakhoon
Main Jaanta Hoon Jo Vo Likhenge Jawab Mein


क़ासिद के आते-आते ख़त इक और लिख रखूँ
मै जानता हूँ जो वो लिखेंगे जवाब में


Is Saadgi Pe Kaun Na Mar Jaye Aye Khuda
Ladte Hain Aur Haath Mein Talwar Bhi Nahi


इस सादगी पे कौन न मर जाये ए खुदा
लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं


Kaaba Kis Munh Se Jaaoge ‘Ghalib’
Sharm Tum Ko Magar Nahi Aati

काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’
शर्म तुम को मगर नहीं आती


Etibar-E-Ishq Kee Khana-Kharaabi Dekhna
Gair Ne Kee Aah Lekin Vo Khafaa Mujh Par Huye

एतिबार-इ-इश्क़ की खाना-खराबी देखना
गैर ने की आह लेकिन वो खफा मुझ पर हुये


Aaina Dekh Apna Sa Munh Le Ke Rah Gaye
Saahab Ko Dil Na Dene Pe Kitna Guroor Tha


आइना देख अपना सा मुंह ले के रह गए
साहब को दिल न देने पे कितना गुरुर था


Qata Keejiye Na Taalluk Ham Se
Kuchh Nahi Hai To Adaavat Hi Sahi


काटा कीजिये न तअल्लुक़ हम से
कुछ नहीं है तो अदावत ही सही


कितने शीरीं है तेरे लब की रक़ीब
गालियाँ खा के बे-मज़ा न हुआ

Kitne Shireen Hai Tere Lab Ki Raqeeb
Galiyan Kha Ke Be-Mazaa Na हुआ


की मेरे क़त्ल के बाद उसने जफ़ा से तौबा
हाय उस जोड़-पशिमान का पशिमान होना

Ki Mere Qatl Ke Baad Usne Jafa Se Tauba
Haye Us Zood-Pashiman Ka Pashiman hona


Udhar Vo Bad-Gumani Hai Idhar Ye Naa-Tavaani Hai
Na Poochha Jaaye Hai Us Se Na Bola Jaaye Hai Mujh Se

उधर वो बद-गुमानी है इधर ये ना-तवानी है
न पूछा जाए है उस से न बोलै जाये है मुझ से


Aata Hai Daagh-E-Hasrat-E-Dil Ka Shumaar Yaad
Mujh Se Mire Gunah Ka Hisaab Ai Khuda Na Maang

आता है दाग़-इ-हसरत-इ-दिल का शुमार याद
मुझ से मिरे गुनाह का हिसाब ऐ खुदा न मांग


Ishq Par Zor Nahi Hai Ye Vo Aatash ‘Ghalib’
Ki Lagaaye Na Lage Aur Bujhaaye Na Bane

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने



TAG:
mirza ghalib, mirza ghalib shayari, mirza ghalib shayari in hindi, mirza ghalib shayari in urdu, mirza ghalib urdu shayari, mirza ghalib quotes, mirza ghalib poems, mirza ghalib poetry, mirza ghalib ghazal, mirza ghalib sher, mirza ghalib ki shayari, mirza ghalib college gaya, mirza ghalib books, mirza ghalib hindi, mirza ghalib in hindi, mirza ghalib movie, mirza ghalib love shayari, mirza ghalib birthday, mirza ghalib biography in urdu, mirza ghalib hindi poetry, mirza ghalib poetry in hindi, mirza ghalib ki haveli, mirza ghalib songs, mirza ghalib film, mirza ghalib ki ghazal, mirza ghalib poetry in urdu, mirza ghalib urdu poetry, mirza ghalib urdu, mirza ghalib quotes in hindi, mirza ghalib in urdu, mirza ghalib serial

Read More

What does Shayar Mean?

नवंबर 10, 2019



English:

A Shayar is a poet who composes Sher in Urdu, Hindi or Persian. Commonly, a Shayar is someone who writes Ghazals, Nazms using the Urdu language.

History
Amir Khusro (1253–1325) is considered one of the world's leading Shayars. He wrote in Persian. Mirza Ghalib is considered the highest authority in Urdu poetry. He lived in Delhi [1] and died in 1869.


Hindi:

एक शायर उर्दू, हिंदी या फ़ारसी में शेर की रचना करने वाला कवि है। आमतौर पर, एक शायर वह है जो उर्दू भाषा का उपयोग करके गज़ल, नज़्म लिखता है।

इतिहास
अमीर खुसरो (1253–1325) को दुनिया के अग्रणी शायरों में से एक माना जाता है; उन्होंने फ़ारसी में लिखा। मिर्ज़ा ग़ालिब को उर्दू शायरी पर अंतिम अधिकार माना जाता है। वह दिल्ली में रहते थे और 1869 में उनकी मृत्यु हो गई।



Read More

मिर्ज़ा ग़ालिब की अनमोल शायरी | Most Popular Classical Sher of Mirza Ghalib (in Hindi and English)

जनवरी 06, 2019

मिर्ज़ा ग़ालिब का पूरा नाम मिर्ज़ा असदुल्लाह बेग ख़ान था। वह मुगल साम्राज्य के अंतिम वर्षों के दौरान एक प्रमुख उर्दू और फ़ारसी भाषा के कवि थे। वह अब तक के सर्वश्रेष्ठ कवियों में से एक हैं।

मिर्ज़ा ग़ालिब की अनमोल शायरी | Most Popular Classical Sher of Mirza Ghalib (in Hindi and English)

उन्होंने खुद को एएसएडी नाम दिया, जो उनके मूल नाम असदुल्लाह से लिया गया था। और ज्यादातर इस्तेमाल किया जाने वाला पेन का नाम ग़ालिब था। यह कविता लोगों के दिन-प्रतिदिन के जीवन में इस्तेमाल की जाती है। कई लोग अपनी शायरी और कविताएँ सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर पोस्ट करते थे। तो नीचे दिए गए मिर्ज़ा ग़ालिब के कुछ बेहतरीन शायरी हैं।


गैर ले महफ़िल में बोसे जाम के 
हम रहें यूँ तश्ना-ऐ-लब पैगाम के

खत लिखेंगे गरचे मतलब कुछ न हो 
हम तो आशिक़ हैं तुम्हारे नाम के 

इश्क़ ने “ग़ालिब” निकम्मा कर दिया 
वरना हम भी आदमी थे काम के


2. कोई दिन गर ज़िंदगानी और है
कोई दिन गर ज़िंदगानी और है 
अपने जी में हमने ठानी और है 

आतिश-ऐ-दोज़ख में ये गर्मी कहाँ 
सोज़-ऐ-गम है निहानी और है

बारह देखीं हैं उन की रंजिशें, 
पर कुछ अब के सरगिरानी और है 

देके खत मुँह देखता है नामाबर,
कुछ तो पैगाम-ऐ-ज़बानी और है 

हो चुकीं ‘ग़ालिब’ बलायें सब तमाम,
एक मर्ग-ऐ-नागहानी और है.


3. इश्क़
आया है मुझे बेकशी इश्क़ पे रोना ग़ालिब 
किस का घर जलाएगा सैलाब भला मेरे बाद


4. बाद मरने के मेरे
चंद तस्वीर-ऐ-बुताँ, चंद हसीनों के खतूत .
बाद मरने के मेरे घर से यह सामान निकला


5. दिया है दिल अगर
दिया है दिल अगर उस को , बशर है क्या कहिये 
हुआ रक़ीब तो वो , नामाबर है , क्या कहिये

यह ज़िद की आज न आये और आये बिन न रहे 
काजा से शिकवा हमें किस क़दर है , क्या कहिये

ज़ाहे -करिश्मा के यूँ दे रखा है हमको फरेब 
की बिन कहे ही उन्हें सब खबर है, क्या कहिये

समझ के करते हैं बाजार में वो पुर्सिश -ऐ -हाल 
की यह कहे की सर-ऐ-रहगुज़र है, क्या कहिये

तुम्हें नहीं है सर-ऐ-रिश्ता-ऐ-वफ़ा का ख्याल 
हमारे हाथ में कुछ है, मगर है क्या कहिये

कहा है किस ने की “ग़ालिब ” बुरा नहीं लेकिन 
सिवाय इसके की आशुफ़्तासार है क्या कहिये


6. कोई दिन और
मैं उन्हें छेड़ूँ और कुछ न कहें 
चल निकलते जो में पिए होते 

क़हर हो या भला हो, जो कुछ हो 
काश के तुम मेरे लिए होते 

मेरी किस्मत में ग़म गर इतना था 
दिल भी या रब कई दिए होते 

आ ही जाता वो राह पर ‘ग़ालिब ’
कोई दिन और भी जिए होते


7. दिल-ऐ -ग़म गुस्ताख़
फिर तेरे कूचे को जाता है ख्याल 
दिल-ऐ-ग़म गुस्ताख़ मगर याद आया
कोई वीरानी सी वीरानी है .
दश्त को देख के घर याद आया


8. हसरत दिल में है
सादगी पर उस के मर जाने की हसरत दिल में है 
बस नहीं चलता की फिर खंजर काफ-ऐ-क़ातिल में है
देखना तक़रीर के लज़्ज़त की जो उसने कहा 
मैंने यह जाना की गोया यह भी मेरे दिल में है


9. बज़्म-ऐ-ग़ैर
मेह वो क्यों बहुत पीते बज़्म-ऐ-ग़ैर में या रब 
आज ही हुआ मंज़ूर उन को इम्तिहान अपना 

मँज़र इक बुलंदी पर और हम बना सकते “ग़ालिब”
अर्श से इधर होता काश के माकन अपना


मैं नादान था जो वफ़ा को तलाश करता रहा ग़ालिब 
यह न सोचा के एक दिन अपनी साँस भी बेवफा हो जाएगी


11. सारी उम्र
तोड़ा कुछ इस अदा से तालुक़ उस ने ग़ालिब 
के सारी उम्र अपना क़सूर ढूँढ़ते रहे


12. इश्क़ में
बे-वजह नहीं रोता इश्क़ में कोई ग़ालिब 
जिसे खुद से बढ़ कर चाहो वो रूलाता ज़रूर है


13. जवाब
क़ासिद के आते-आते खत एक और लिख रखूँ 
मैं जानता हूँ जो वो लिखेंगे जवाब में



14. जन्नत की हकीकत
हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन 
दिल के खुश रखने को “ग़ालिब” यह ख्याल अच्छा है


15. बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब
फिर उसी बेवफा पे मरते हैं 
फिर वही ज़िन्दगी हमारी है 

बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब’
कुछ तो है जिस की पर्दादारी है


16. शब-ओ-रोज़ तमाशा
बाजीचा-ऐ-अतफाल है दुनिया मेरे आगे 
होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मेरे आगे


17. कागज़ का लिबास
सबने पहना था बड़े शौक से कागज़ का लिबास 
जिस कदर लोग थे बारिश में नहाने वाले 

अदल के तुम न हमे आस दिलाओ 
क़त्ल हो जाते हैं, ज़ंज़ीर हिलाने वाले


18. वो निकले तो दिल निकले
ज़रा कर जोर सीने पर 
की तीर-ऐ-पुरसितम् निकले 

जो वो निकले तो दिल निकले, 
जो दिल निकले तो दम निकले


19. खुदा के वास्ते
खुदा के वास्ते पर्दा न रुख्सार से उठा ज़ालिम 
कहीं ऐसा न हो जहाँ भी वही काफिर सनम निकले


20. तेरी दुआओं में असर
तेरी दुआओं में असर हो तो मस्जिद को हिला के दिखा 
नहीं तो दो घूँट पी और मस्जिद को हिलता देख


21. जिस काफिर पे दम निकले
मोहब्बत मैं नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का 
उसी को देख कर जीते है जिस काफिर पे दम निकले


22. लफ़्ज़ों की तरतीब
लफ़्ज़ों की तरतीब मुझे बांधनी नहीं आती “ग़ालिब”
हम तुम को याद करते हैं सीधी सी बात है


23. तमाशा
थी खबर गर्म के ग़ालिब के उड़ेंगे पुर्ज़े,
देखने हम भी गए थे पर तमाशा न हुआ


24. काफिर
दिल दिया जान के क्यों उसको वफादार, असद 
ग़लती की के जो काफिर को मुस्लमान समझा


25. नज़ाकत
इस नज़ाकत का बुरा हो, वो भले हैं तो क्या 
हाथ आएँ तो उन्हें हाथ लगाए न बने 

कह सके कौन के यह जलवागरी किस की है 
पर्दा छोड़ा है वो उस ने के उठाये न बने


26. तनहा
लाज़िम था के देखे मेरा रास्ता कोई दिन और
तनहा गए क्यों, अब रहो तनहा कोई दिन और

इन्हे भी पढ़े: 20 Most Popular Classical Sher of Mirza Ghalib in Hindi


27. रक़ीब
कितने शिरीन हैं तेरे लब के रक़ीब 
गालियां खा के बेमज़ा न हुआ 

कुछ तो पढ़िए की लोग कहते हैं 
आज ‘ग़ालिब‘ गजलसारा न हुआ


28. मेरी वेहशत
इश्क़ मुझको नहीं वेहशत ही सही 
मेरी वेहशत तेरी शोहरत ही सही 

कटा कीजिए न तालुक हम से 
कुछ नहीं है तो अदावत ही सही


29. ग़ालिब
दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई 
दोनों को एक अदा में रजामंद कर गई

मारा ज़माने ने ‘ग़ालिब’ तुम को 
वो वलवले कहाँ, वो जवानी किधर गई


30. तो धोखा खायें क्या
लाग् हो तो उसको हम समझे लगाव 
जब न हो कुछ भी, तो धोखा खायें क्या


31. अपने खत को
हो लिए क्यों नामाबर के साथ-साथ या रब! 
अपने खत को हम पहुँचायें क्या


32. उल्फ़त ही क्यों न हो
उल्फ़त पैदा हुई है, कहते हैं, हर दर्द की दवा 
यूं हो हो तो चेहरा -ऐ -गम उल्फ़त ही क्यों न हो .


33. ऐसा भी कोई
ग़ालिब बुरा न मान जो वैज बुरा कहे 
ऐसा भी कोई है के सब अच्छा कहे जिसे


34. तमन्ना कोई दिन और
नादान हो जो कहते हो क्यों जीते हैं ग़ालिब
किस्मत मैं है मरने की तमन्ना कोई दिन और


35. आशिक़ का गरेबां
हैफ़ उस चार गिरह कपड़े की किस्मत ग़ालिब 
जिस की किस्मत में हो आशिक़ का गरेबां होना


36. शमा 
गम-ऐ-हस्ती का असद किस से हो जूझ मर्ज इलाज 
शमा हर रंग मैं जलती है सहर होने तक ..


37. जोश -ऐ -अश्क
ग़ालिब हमें न छेड़ की फिर जोश-ऐ-अश्क से 
बैठे हैं हम तहय्या-ऐ-तूफ़ान किये हुए



Read More: Mirza Ghalib ke 10 Behtreen Sher


TAG:
mirza ghalib, mirza ghalib shayari, mirza ghalib shayari in hindi, mirza ghalib shayari in urdu, mirza ghalib urdu shayari, mirza ghalib quotes, mirza ghalib poems, mirza ghalib poetry, mirza ghalib ghazal, mirza ghalib sher, mirza ghalib ki shayari, mirza ghalib college gaya, mirza ghalib books, mirza ghalib hindi, mirza ghalib in hindi, mirza ghalib movie, mirza ghalib love shayari, mirza ghalib birthday, mirza ghalib biography in urdu, mirza ghalib hindi poetry, mirza ghalib poetry in hindi, mirza ghalib ki haveli, mirza ghalib songs, mirza ghalib film, mirza ghalib ki ghazal, mirza ghalib poetry in urdu, mirza ghalib urdu poetry, mirza ghalib urdu, mirza ghalib quotes in hindi, mirza ghalib in urdu, mirza ghalib serial

Read More