Nidhi Narwal अध्याय लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मैं ऐसी नहीं हूँ | Nidhi Narwal Poetry Main Aisi Nahi Thi | Nidhi Narwal Poetry Lyrics | Main Aisi Nahi Thi Poetry by Nidhi Narwal

जनवरी 31, 2020


Nidhi Narwal Poetry Main Aisi Nahi Thi | मैं ऐसी नहीं हूँ | Nidhi Narwal Poetry Lyrics | Main Aisi Nahi Thi Poetry by Nidhi Narwal

जिस रास्ते पे मैं चल रही थी
मुझे मालूम तक नहीं की जाना कहा है
फिर भी चल रही हूँ
और जिस रस्ते से होकर मैंने यहाँ
तक का सफर तय किया है
उस रास्ते पर यूही 
यू मेरे कदमो के निशान मुझे दिखाई देते है
मगर फिर भी मैं मुड़कर 
उस ओर वापस नहीं जा सकती

मन करता है काश कोई एक तो नामुमकिन
ख्वाइश मांगने का हक़ तो दिया होता खुदा ने
तो वापस वहां तक जाती जहा से सब शुरू हुआ था
मोहब्बत के लिए नहीं,  सपनो के लिए नहीं
 हसरतो के लिए आगाज़ तक जाती
क्योंकि मुझे मिलना है खुद से, और मिलना है उन लोगो से
जो कि तब मेरे साथ थे
जबकि दिन और हम कुछ और ही थे
आज वो हूँ और अनजान हूँ उन लोगो से 
जो मेरे बगल में ,
मेरे सामने फ़क़त बैठे है या खड़े है

हां मगर इन चेहरों से तो वाक़िफ़ हूँ
मेहबूब से बिछड़ जाना बहुत दर्दनाक होता है
मेहबूब से बिछड़ जाना दिल में खलल कर देता है
       
पर यकीन मानो खुद से बिछड़ जाना बदतर है,
 क्योकि
तुम फोटो हाथ में लेकर लोग दर लोग 
पूछ नहीं सकते कि  इसे देखा क्या? 

तुम अखबार में इश्तिहार नहीं छपवा सकते
कि लापता?
तुम छुप छुप कर देख नहीं सकते 
मालूम नहीं करवा सकते
की वो इंसान जो खो गया है अब वो खैरियत से है भी या नहीं?

तुम अपनी इस हालत का जिम्मेदार भी 
भला किसको ठहराओगे कि 
कौन छोड़ गया तुम्हें?
क्योंकि वो इंसान तो तुम खुद हो!!

तुम अगर रूककर एक जगह खड़े होकर, 
शांति से
याद करने की भी कोशिश करोगे ना 
कि तुम कैसे हुआ करते थे?
तो यकीन मानो यादों की जगह बस हार मिलेगी।
ये जीती जागती मौत के जैसा है तुम जिंदा हो..
तुम जिंदा हो!!

मगर तुम्हारा जनाजा बिना चार कंधों के ही उठ चुका 
ऐसे में तुम बस बैठ कर अफ़सोस कर सकते हो 
और वो करके भी तुम्हे बस अफ़सोस ही मिलेगा 

मगर मुझे एक बार रूबरू होना है खुद से
मुझे देखना है, 
मुझे जानना है कि 
आज के दिन आखिर मैं कितनी बर्बाद हूं या 
कितनी और मोहलत बची है मेरे पास 
जिन्दगी तक वापस आने की।

मैं महज़ हाल का लिबास जिसमें 
ख्वाब, 
मोहब्बत, 
दर्द, 
जुस्तजू कुछ भी नहीं है.. 
मैं ये नहीं हूँ

मैं मेरी रूह को कहीं पीछे छोड़ आई हूँ
मुझे वापस जाना है 
मैं अंजाम बन कर बहुत दूर तक आ चुकी 
मुझे एक बार आगाज तक ले चलो
यकीन मानो 
मैं ऐसी नहीं हूँ।


Jis Raaste Pe Main Chal Rahee Thee
Mujhe Maaloom Tak Nahin Kee Jaana Kaha Hai
Phir Bhee Chal Rahee Hoon
Aur Jis Raste Se Hokar Mainne Yahaan
Tak Ka Saphar Tay Kiya Hai
Us Raaste Par Yoohee 
Yoo Mere Kadamo Ke Nishaan Mujhe Dikhaee Dete Hai
Magar Phir Bhee Main Mudakar 
Us or Vaapas Nahin Ja Sakatee

Man Karata Hai Kaash Koee Ek to Naamumakin
Khvaish Maangane Ka Haq to Diya Hota Khuda Ne
To Vaapas Vahaan Tak Jaatee Jaha Se Sab Shuroo Hua Tha
Mohabbat Ke Lie Nahin,  Sapano Ke Lie Nahin
 Hasarato Ke Lie Aagaaz Tak Jaatee
Kyonki Mujhe Milana Hai Khud Se, Aur Milana Hai Un Logo Se
Jo Ki Tab Mere Saath the
Jabaki Din Aur Ham Kuchh Aur Hee the
Aaj Vo Hoon Aur Anajaan Hoon Un Logo Se 
Jo Mere Bagal Mein ,
Mere Saamane Faqat Baithe Hai Ya Khade Hai

Haan Magar in Cheharon Se to Vaaqif Hoon
Mehaboob Se Bichhad Jaana Bahut Dardanaak Hota Hai
Mehaboob Se Bichhad Jaana Dil Mein Khalal Kar Deta Hai
       
Par Yakeen Maano Khud Se Bichhad Jaana Badatar Hai,
 Kyoki
Tum Photo Haath Mein Lekar Log Dar Log 
Poochh Nahin Sakate Ki  Ise Dekha Kya? 

Tum Akhabaar Mein Ishtihaar Nahin Chhapava Sakate
Ki Laapata?
Tum Chhup Chhup Kar Dekh Nahin Sakate 
Maaloom Nahin Karava Sakate
Kee Vo Insaan Jo Kho Gaya Hai Ab Vo Khairiyat Se Hai Bhee Ya Nahin?

Tum Apanee is Haalat Ka Jimmedaar Bhee 
Bhala Kisako Thaharaoge Ki 
Kaun Chhod Gaya Tumhen?
Kyonki Vo Insaan to Tum Khud Ho!!

Tum Agar Rookakar Ek Jagah Khade Hokar, 
Shaanti Se
Yaad Karane Kee Bhee Koshish Karoge Na 
Ki Tum Kaise Hua Karate the?
To Yakeen Maano Yaadon Kee Jagah Bas Haar Milegee.
Ye Jeetee Jaagatee Maut Ke Jaisa Hai Tum Jinda Ho..
Tum Jinda Ho!!

Magar Tumhaara Janaaja Bina Chaar Kandhon Ke Hee Uth Chuka 
Aise Mein Tum Bas Baith Kar Afasos Kar Sakate Ho 
Aur Vo Karake Bhee Tumhe Bas Afasos Hee Milega 

Magar Mujhe Ek Baar Roobaroo Hona Hai Khud Se
Mujhe Dekhana Hai, 
Mujhe Jaanana Hai Ki 
Aaj Ke Din Aakhir Main Kitanee Barbaad Hoon Ya 
Kitanee Aur Mohalat Bachee Hai Mere Paas 
Jindagee Tak Vaapas Aane Kee.

Main Mahaz Haal Ka Libaas Jisamen 
Khvaab, 
Mohabbat, 
Dard, 
Justajoo Kuchh Bhee Nahin Hai.. 
Main Ye Nahin Hoon

Main Meree Rooh Ko Kaheen Peechhe Chhod Aaee Hoon
Mujhe Vaapas Jaana Hai 
Main Anjaam Ban Kar Bahut Door Tak Aa Chukee 
Mujhe Ek Baar Aagaaj Tak Le Chalo
Yakeen Maano 
Main Aisee Nahin Hoon.


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status

Read More

Nidhi Narwal Poetry in Hindi Written in English | Nidhi Narwal Quotes

जनवरी 29, 2020


मौत ज़िन्दगी की तरफ नहीं आ रही
ज़िन्दगी मौत की तरफ जा रही है

Maut Zindagee Kee Taraph Nahin Aa Rahee
Zindagee Maut Kee Taraph Ja Rahee Hai


कितना कीचड़ जमा हुआ
था उसके फटे जूतों पैर ,

सफ़र कायम कर रहा था
वो मुसाफ़िर हँस-हँसकर ।

Kitana Keechad Jama Hua
Tha Usake Phate Jooton Pair ,

Safar Kaayam Kar Raha Tha
Vo Musaafir Hans-Hansakar .


किस हद तक जाना होगा अब हदों को भुलाने के
लिए
किस तरह का ज़ख्म दू उस बेवफ़ा को रुलाने के
लिए

Kis Had Tak Jaana Hoga Ab Hadon Ko Bhulaane Ke
Lie
Kis Tarah Ka Zakhm Doo Us Bevafa Ko Rulaane Ke
Lie


भाग रही है ज़िन्दगी
छूटकर वक़्त के पहरों से
मंज़िलें है किस तरफ़
ये पूछ रही है बहरों से
माथे पर हथेली लगाए
है लड़ रही दो पहरों से
बह रही है ज़िन्दगी
तेज़ समंदर की लहरों से

Bhaag Rahee Hai Zindagee
Chhootakar Vaqt Ke Paharon Se
Manzilen Hai Kis Taraf
Ye Poochh Rahee Hai Baharon Se
Maathe Par Hathelee Lagae
Hai Lad Rahee Do Paharon Se
Bah Rahee Hai Zindagee
Tez Samandar Kee Laharon Se,


सांस भूल चूका था सुखकर एक गुलाब
मैंने उसे फिर से खिला दिया मेरी एक नज़र में

Saans Bhool Chooka Tha Sukhakar Ek Gulaab
Mainne Use Phir Se Khila Diya Meree Ek Nazar Mein


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status

Read More

Nidhi Narwal Shayari Status | Nidhi Narwal Poetry Lyrics in English | Nidhi Narwal Poetry Status

जनवरी 28, 2020


उड़ान उंची नहीं लंबी हो
मै दूर तलक नहीं देर तलक उंडू
हवाओं से न डर हो कोई
मै प्रलय से मिलकर भी न मुंडू
मुझे ऐसे उड़ना है

Udaan Unchee Nahi Lambi Ho
Mai Door Talak Nahin Der Talak Undoo
Havaon Se Na Dar Ho Koee
Mai Pralay Se Milakar Bhee Na Mundoo
Mujhe Aise Udana Hai


आसान तो नहीं था
वक़्त से उल्टा चलना
पर तेरी यादों ने एक पल
को ये भी मुमकिन किया

Aasaan To Nahin Tha
Vaqt Se Ulta Chalana
Par Teree Yaadon Ne Ek Pal
Ko Ye Bhee Mumakin Kiya


किस नज़्म में बयान करू
तुझे किस शेर में पढू में
ग़ज़ल हूँ खुद तू बहर मेरी
तुझे और कहाँ पर लिखू में

Kis Nazm Mein Bayaan Karoo
Tujhe Kis Sher Mein Padhoo Mein
Gazal Hoon Khud Too Bahar Meree
Tujhe Aur Kahaan Par Likhoo Mein


कई बार ख़ाली करा खुद को
हर बार सिरे तक वो भर गया मुझमें
ज़िंदगी से मिलाकर मुझको कम्बख्त
फांसी से लटककर वो मर गया मुझमें
एक ख्वाब मेरा

Kaee Baar Khaalee Kara Khud Ko
Har Baar Sire Tak Vo Bhar Gaya Mujhamen
Zindagee Se Milaakar Mujhako Kambakht
Phaansee Se Latakakar Vo Mar Gaya Mujhamen
Ek Khvaab Mera


दिल में तू ही तू भरा हुआ था
कमल है
दिल तो टूटकर बिखर गया मग़र तू नहीं बिखरा

Dil Mein Too Hee Too Bhara Hua Tha
Kamal Hai
Dil To Tootakar Bikhar Gaya Magar Too Nahin Bikhara


मुलाकातें अधूरी ही सही
एक गुफ्तगू मजबूरी की सही
चलो नफ़रतें तो दिल से अदा कर रहे हो न
फिर मोहब्बत मै नामंजूरी ही सही

Mulaakaaten Adhooree Hee Sahee
Ek Guphtagoo Majabooree Kee Sahee
Chalo Nafaraten To Dil Se Ada Kar Rahe Ho Na
Phir Mohabbat Mai Naamanjooree Hee Sahee


वो शायरी है उसे शायरी ही रहने दो
ऐसे ज़बरदस्ती ग़ज़ल नहीं बना करती

Vo Shaayaree Hai Use Shaayaree Hee Rahane Do
Aise Zabaradastee Gazal Nahin Bana Karatee


रख ऐतबार तू सब संभल जाएगा
है आज जो वक़्त सक्त वो कल बदल जाएगा
तू आफ़ताब सा उबल रहा मै रात बन जाऊंगी
तू देखते ही देखते फिर मुझमें ढल जाएगा

Rakh Aitabaar Too Sab Sambhal Jaega
Hai Aaj Jo Vaqt Sakt Vo Kal Badal Jaega
Too Aafataab Sa Ubal Raha Mai Raat Ban Jaoongee
Too Dekhate Hee Dekhate Phir Mujhamen Dhal Jaega


जादू हाथ की सफ़ाई है सुना था
जो नहीं होता वो देता दिखाई है सुना था
वफ़ा का जादू सच बताओ
तुम पर कैसे चलाया उसने

Jaadoo Haath Kee Safaee Hai Suna Tha
Jo Nahin Hota Vo Deta Dikhaee Hai Suna Tha
Vafa Ka Jaadoo Sach Batao
Tum Par Kaise Chalaaya Usane


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status

Read More

Nidhi Narwal Poetry Lyrics | Nidhi Narwal Poetry in Hindi | Nidhi Narwal Quotes

जनवरी 26, 2020


राख हूँ बेकार नहीं मै लपटों से जूझ कर आई हूँ
मै अपनी कीमत बुझते अंगारो से पूछ कर आई हूँ

Raakh Hoon Bekaar Nahin Mai Lapaton Se Joojh Kar Aaee Hoon
Mai Apanee Keemat Bujhate Angaaro Se Poochh Kar Aaee Hoon


खुले कमरे में कैद हूँ
आफ़त तो बस यही है

Khule Kamare Mein Kaid Hoon
Aafat To Bas Yahee Hai


जो जहन के अंदर से वार करता है उसका क्या करुँ
इंसान तो फिर भी खंजर दिखा के डराता पहले है

Jo Jahan Ke Andar Se Vaar Karata Hai Usaka Kya Karun
Insaan To Phir Bhee Khanjar Dikha Ke Daraata Pahale Hai


मेरी हदों के दायरे मेरी नज़र से भी आगे है
मेरी मंज़िलें इस सफ़र से भी आगे है

Meree Hadon Ke Daayare Meree Nazar Se Bhee Aage Hai
Meree Manzilen Is Safar Se Bhee Aage Hai


तू तख़ल्लुस हटा
कर शेर लिखता है
मै मायनों मे नाम
तेरा फिर भी पढ़
लेती हूँ

Too Takhallus Hata
Kar Sher Likhata Hai
Mai Maayanon Me Naam
Tera Phir Bhee Padh
Letee Hoon


छोड़ ज़िन्दगी अब और क्या पैगाम दू
तुझे
तेरी ही अदालत में कितने बयान दू
तुझे

Chhod Zindagee Ab Aur Kya Paigaam Doo
Tujhe
Teree Hee Adaalat Mein Kitane Bayaan Doo
Tujhe


एक तुझे देखना और सुनना ही जीनत है मेरी,

मै काजल और झुमके का क्या करू बता

Ek Tujhe Dekhana Aur Sunana Hee Jeenat Hai Meree,

Mai Kaajal Aur Jhumake Ka Kya Karoo Bata


तुम क्या कमज़ोरी ढूंढ रहे हो मेरी शिकंज में
मेरे हौंसले इस फ़िकर से भी आगे है

Tum Kya Kamazoree Dhoondh Rahe Ho Meree Shikanj Mein
Mere Haunsale Is Fikar Se Bhee Aage Hai


उलझने हज़ार है
तदबीर तो हो कोई
इलज़ाम लगाने को
तक़दीर तो हो कोई
कितनी आफत है
गंभीर तो हो कोई
जकड़ा जाए दिल
जंजीर तो हो कोई

Ulajhane Hazaar Hai
Tadabeer To Ho Koee
Ilazaam Lagaane Ko
Taqadeer To Ho Koee
Kitanee Aaphat Hai
Gambheer To Ho Koee
Jakada Jae Dil
Janjeer To Ho Koee


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status

Read More

Nidhi Narwal Shayari Lyrics in Hindi | Nidhi Narwal Poetry Lyrics | Nidhi Narwal Poetry in Hindi

जनवरी 25, 2020


चाहे राहों में टूटना ही लिखा हो
मेरा हर टुकड़ा मंजिल तक पहुंचेगा ज़रूर ।

Chaahe Raahon Mein Tootana Hee Likha Ho
Mera Har Tukada Manjil Tak Pahunchega Zaroor .


दिन ढल गया अब,
रात कैसे कटेगी
सवेरा फिर आएगा पर,
रात कैसे कटेगी

Din Dhal Gaya Ab,
Raat Kaise Kategee
Savera Phir Aaega Par,
Raat Kaise Kategee


हर रंग चढ़ा देखा मैंने तेरे रुख़सार पर
सिवाए मेरी मोहब्बत के

Har Rang Chadha Dekha Mainne Tere Rukhasaar Par
Sivae Meree Mohabbat Ke


कितना खुला आसमान कितना ढका हुआ है बादलों से
फिर कितना खुला आसमान है
दो बादल भिड़कर कभी भी बरस सकते है
बस इतना खुला आसमान है

Kitana Khula Aasamaan Kitana Dhaka Hua Hai Baadalon Se
Phir Kitana Khula Aasamaan Hai
Do Baadal Bhidakar Kabhee Bhee Baras Sakate Hai
Bas Itana Khula Aasamaan Hai


कितना वक़्त था उसके पास ज़िन्दगी जीने का
उसने मौत को ढूंढ़ने में सब ज़ाया कर दिया

Kitana Vaqt Tha Usake Paas Zindagee Jeene Ka
Usane Maut Ko Dhoondhane Mein Sab Zaaya Kar Diya


कहीं नाम मेरा सुनो
तो मुस्कुरा लेना तुम
कोई मुझे अपना कहे
तो हक़ जता लेना तुम
दिल ,
धड़कन और चैन
मेरा सब चुरा लेना तुम
नखरे जो ज्यादा करुँ
तो मुझे सता लेना तुम

Kaheen Naam Mera Suno
To Muskura Lena Tum
Koee Mujhe Apana Kahe
To Haq Jata Lena Tum
Dil,Dhadakan Aur Chain
Mera Sab Chura Lena Tum
Nakhare Jo Jyaada Karun
To Mujhe Sata Lena Tum,


फुर्सत से बैठ कर सोच लेना तुम
एक वजह भी मिले अग़र
वापस दिल लगाने की
किसी किताब के पन्नों में
वजह दबोच लेना तुम

Phursat Se Baith Kar Soch Lena Tum
Ek Vajah Bhee Mile Agar
Vaapas Dil Lagaane Kee
Kisee Kitaab Ke Pannon Mein
Vajah Daboch Lena Tum


पूरा का पूरा दिल लो तुम्हे अदा कर दिया
तोड़ेंगे नहीं ये वादा करो
लो रखो ये खुशमिज़ाज ख़्वाब मेरे
और देदो मुझे कुछ ग़म अपने
उन्हें आधा करो

Poora Ka Poora Dil Lo Tumhe Ada Kar Diya
Todenge Nahin Ye Vaada Karo
Lo Rakho Ye Khushamizaaj Khvaab Mere
Aur Dedo Mujhe Kuchh Gam Apane
Unhen Aadha Karo


एक बार को तो वक़्त मुझे तोड़ना ज़रूर तू
मै ज़िन्दगी के मुँह से अपनी कीमत सुनना चाहती हूँ

Ek Baar Ko To Vaqt Mujhe Todana Zaroor Too
Mai Zindagee Ke Munh Se Apanee Keemat Sunana Chaahatee Hoon


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status

Read More

Nidhi Narwal Poetry in Hindi | Nidhi Narwal Quotes | Nidhi Narwal Status

जनवरी 23, 2020


अश्कों के सुख जाने के बाद एक खारी सी
जकड़न महसूस होती रुख़सार पर
तुम अश्क नहीं वो जकड़न हो

Ashkon Ke Sukh Jaane Ke Baad Ek Khaaree See
Jakadan Mahasoos Hotee Rukhasaar Par
Tum Ashk Nahin Vo Jakadan Ho


ये नकाब ये चेहरे जा कहीं रख आ तू जाकर
बात क्या है आखिर मुझे आज बता तू आकर

Ye Nakaab Ye Chehare Ja Kaheen Rakh Aa Too Jaakar
Baat Kya Hai Aakhir Mujhe Aaj Bata Too Aakar


पल निकल नहीं रहे
तुम दिन निकालने की बात कर रहे हो
ज़िंदगी संभलती नहीं
तुम दिल संभालने की बात कर रहे हो
घर तो ख़ाली है मेरा
तुम किस को निकालने की बात कर रहे हो
मन तो सुनता नहीं मेरी
तुम कुत्ता पलने की बात कर रहे हो

Pal Nikal Nahin Rahe
Tum Din Nikaalane Kee Baat Kar Rahe Ho
Zindagee Sambhalatee Nahin
Tum Dil Sambhaalane Kee Baat Kar Rahe Ho
Ghar To Khaalee Hai Mera
Tum Kis Ko Nikaalane Kee Baat Kar Rahe Ho
Man To Sunata Nahin Meree
Tum Kutta Palane Kee Baat Kar Rahe Ho,


एक झुमका तेरे में मसर्रत से चमक रहा है
तू जुल्फों को ऊँगली से कान के पीछे मत कर
सामने बैठा परवाना झुमके को देखकर जल रहा है

Ek Jhumaka Tere Mein Masarrat Se Chamak Raha Hai
Too Julphon Ko Oongalee Se Kaan Ke Peechhe Mat Kar
Saamane Baitha Paravaana Jhumake Ko Dekhakar Jal Raha Hai


कहीं न कहीं तो होगी ही
मेरी माशूका मेरी ज़िंदगी
मिलूंगी उससे में भी कभी
जीते-जी या मरकर सही

Kaheen Na Kaheen To Hogee Hee
Meree Maashooka Meree Zindagee
Miloongee Usase Mein Bhee Kabhee
Jeete-Jee Ya Marakar Sahee


अरमान ,

ख्वाब,

हसरत ,

जैसे लफ्ज़ नहीं पसंद मुझे
इनका आधा मकसद
आँखों से बह जाने का होता है

Aramaan ,

Khvaab,

Hasarat ,

Jaise Laphz Nahin Pasand Mujhe
Inaka Aadha Makasad
Aankhon Se Bah Jaane Ka Hota Hai


सब्र कर ज़िन्दगी,
आ जाऊंगी में बाज़ एक दिन
सब्र कर ज़िन्दगी,
आ जाऊंगी तुझे रास एक दिन

Sabr Kar Zindagee,
Aa Jaoongee Mein Baaz Ek Din
Sabr Kar Zindagee,
Aa Jaoongee Tujhe Raas Ek Din


कितना हसीन आग़ाज़ और कितना कम्बख़्त अंज़ाम हुआ
पोशीदा महबूब मेरा मुझसे रुखसत सर-ए-आम हुआ
क़तरा एक ही काफ़ी था उसकी आँखों से मुझे बताने के
इश्क़ था उसे
मत पूछो वो वफ़ा करके कब तलक बदनाम हुआ

Kitana Haseen Aagaaz Aur Kitana Kambakht Anzaam Hua
Posheeda Mahaboob Mera Mujhase Rukhasat Sar-E-Aam Hua
Qatara Ek Hee Kaafee Tha Usakee Aankhon Se Mujhe Bataane Ke
Ishq Tha Use
Mat Poochho Vo Vafa Karake Kab Talak Badanaam Hua,


इतने कम्बख़्त उजाले में हर्फ़ नज़र आते नहीं
मुहे मेरा अँधेरा कमरा ही दे दो
वहां मेरे जख़्म किसी की निग़ाहों तक जाते नहीं

Itane Kambakht Ujaale Mein Harf Nazar Aate Nahin
Muhe Mera Andhera Kamara Hee De Do
Vahaan Mere Jakhm Kisee Kee Nigaahon Tak Jaate Nahin


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status

Read More

Nidhi Narwal Love Poetry in Hindi | Nidhi Narwal Romantic Poetry

जनवरी 21, 2020



झुल्फों को खुला ही रख लेती हूं,
उसके कुल्हड़ से चाय चख लेती हूं,
मैं मंदिर मे सर जब ढक लेती हूं,
वो कहता है उसे पसंद है,

Zulfon Ko Khula Hi Rakh Leti Hoon,
Usake Kulhad Se Chaay Chakh Letee Hoon,
Main Mandir Me Sar Jab Dhak Leti Hoon,
Vo Kahata Hai Use Pasand Hai,


अब उससे बात नहीं करनी
पर अब बात उसी की करनी है
दिन दे दिया ऐ जिंदगी तुझे अपना
मगर रात उसी की करनी है

Ab Usse Baat Nahi Karne
Par Ab Baat Usee Kee Karanee Hai
Din De Diya Ai Jindagee Tujhe Apana
Magar Raat Usee Kee Karanee Hai


ये निगाहें खुला महखाना है,
वो कहता है, दरबान बिठा लो,
हल्का सा वो कहता है, तुम काजल लगा लो,
वेसे ये मेरा शौक नही, पर हाँ, उसे पसंद है,


Ye Nigahen Khula Maikhana Hai,
Vo Kahta Hai , Darban Bitha Lo,
Halka Sa Vo Kahta Hai Tum Kajal Laga Lo,
Vese Ye Mera Shauk Nahi , Par Haan Use Pasand Hai,


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status

Read More

Nidhi Narwal Poetry Lyrics - Usse Pasand Hai | Nidhi Narwal Shayari | निधि नरवाल शायरी | Usse Pasand Hai Lyrics by Nidhi Narwal

जनवरी 20, 2020

Nidhi Narwal Poetry, Nidhi Narwal Shayari, Nidhi Narwal Status, Love Poetry, Nidhi Narwal,

Baate Behisaab Bataana ,
Kuchh Kahate Kahate Chup Ho Jaana,
Use Jataana Use Sunaana,
Vo Kahata Hai Use Pasand Hai,

Ye Nigahen Khula Maikhana Hai,
Vo Kahta Hai , Darban Bitha Lo,
Halka Sa Vo Kahta Hai Tum Kajal Laga Lo,
Vese Ye Mera Shauk Nahi , Par Haan Use Pasand Hai,

Dupatta Ek Taraf Hi Daala Hai,
Usne Kaha Tha Kee Suit Saada Hi Pahan Lo,
Beshaq Tumhaaree to Soorat Se Ujaala Hai, 
Tumhaare Hothon Ke Paas Jo Til Kaala Hai,
Bataaya Tha Usane, Use Pasand Hai,

Vo Milata Hai ,to Has Detee Hoon,
Chalte Chalte Haath Thaam Kar Usse Beparwah Sab Kahatee Hoon,
Aur Sohabat Main Usakee Jab Chalti Hai Hawayein,
Main Havaon See Maddham Bahatee Hu,

Mannat Padh Kar Nadi Main Patthar Phenkana, 
Mera Jaate Jaate Yoo Mud Kar Dekhna,
Or Vo Guzare Jab in Galiyon Se,
Mera Khidki Se Chhat Se Chhup Kar Dekhna,
Haan Use Pasand Hai,

Zulfon Ko Khula Hi Rakh Leti Hoon,
Usake Kulhad Se Chaay Chakh Letee Hoon,
Main Mandir Me Sar Jab Dhak Leti Hoon,
Vo Kahata Hai Use Pasand Hai,

Ye Jhumka Uski Pasand Ka Hai,
Aur Ye Muskurahat Use Pasand Hai,
Log Poochhate Hai Sabab Meree Adao Ka ,
Main Kahti Hoon Use Pasand Hai,


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status

Read More

USEY PASAND HAI - उसे पसंद है | Nidhi Narwal Poetry Lyrics in Hindi | LOVE POETRY | निधि नरवाल

जनवरी 19, 2020

Nidhi Narwal Poetry, Nidhi Narwal Shayari, Nidhi Narwal Status, Love Poetry, Nidhi Narwal,

बाते बेहिसाब बताना ,
कुछ कहते कहते चुप हो जाना,
उसे जताना, उसे सुनाना,
वो कहता है उसे पसंद है,

ये निगाहें खुला महखाना है,
वो कहता है, दरबान बिठा लो,
हल्का सा वो कहता है, तुम काजल लगा लो,
वेसे ये मेरा शौक नही, पर हाँ, उसे पसंद है,

दुपट्टा एक तरफ ही डाला है,
उसने कहा था की सूट सादा ही पहन लो,
बेशक़ तुम्हारी तो सूरत से उजाला है,
तुम्हारे होठों के पास जो तिल काला है,
बताया था उसने, उसे पसंद है,

वो मिलता है, तो हस देती हूं,
चलते चलते हाथ थाम कर उससे बेपरवाह सब कहती हूं,
और सोहबत मैं उसकी जब चलती है हवाएं,
मैं हवाओं सी मद्धम बहती हूं,

मन्नत पढ़ कर नदी मैं पत्थर फेंकना,
मेरा जाते जाते यू मुड़ कर देखना ,
ओर वो गुज़रे जब इन गलियों से ,
मेरा खिड़की से छत से छूप कर देखना,
हां उसे पसंद है,

झुल्फों को खुला ही रख लेती हूं,
उसके कुल्हड़ से चाय चख लेती हूं,
मैं मंदिर मे सर जब ढक लेती हूं,
वो कहता है उसे पसंद है,

ये झुमका उसकी पसंद का है,
और ये मुस्कुराहट उसे पसंद है,
लोग पूछते है सबब मेरी अदाओ का ,
मैं कहती हूं उसे पसंद है,



Baate Behisaab Bataana ,
Kuchh Kahate Kahate Chup Ho Jaana,
Use Jataana Use Sunaana,
Vo Kahata Hai Use Pasand Hai,

Ye Nigahen Khula Maikhana Hai,
Vo Kahta Hai , Darban Bitha Lo,
Halka Sa Vo Kahta Hai Tum Kajal Laga Lo,
Vese Ye Mera Shauk Nahi , Par Haan Use Pasand Hai,

Dupatta Ek Taraf Hi Daala Hai,
Usne Kaha Tha Kee Suit Saada Hi Pahan Lo,
Beshaq Tumhaaree to Soorat Se Ujaala Hai, 
Tumhaare Hothon Ke Paas Jo Til Kaala Hai,
Bataaya Tha Usane, Use Pasand Hai,

Vo Milata Hai ,to Has Detee Hoon,
Chalte Chalte Haath Thaam Kar Usse Beparwah Sab Kahatee Hoon,
Aur Sohabat Main Usakee Jab Chalti Hai Hawayein,
Main Havaon See Maddham Bahatee Hu,

Mannat Padh Kar Nadi Main Patthar Phenkana, 
Mera Jaate Jaate Yoo Mud Kar Dekhna,
Or Vo Guzare Jab in Galiyon Se,
Mera Khidki Se Chhat Se Chhup Kar Dekhna,
Haan Use Pasand Hai,

Zulfon Ko Khula Hi Rakh Leti Hoon,
Usake Kulhad Se Chaay Chakh Letee Hoon,
Main Mandir Me Sar Jab Dhak Leti Hoon,
Vo Kahata Hai Use Pasand Hai,

Ye Jhumka Uski Pasand Ka Hai,
Aur Ye Muskurahat Use Pasand Hai,
Log Poochhate Hai Sabab Meree Adao Ka ,
Main Kahti Hoon Use Pasand Hai,


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status

Read More

Nidhi Narwal Poetry Photos for Facebook | Nidhi Narwal Quotes Photos | Nidhi Narwal Shayari Photos for WhatsApp DP

जनवरी 19, 2020


टूटी,
बिखरी बैठी रहती हूँ
खूद से हर पल ये कहती रहती हूँ -
हूँ किसी काम की नहीं मैं
जीतकर भी कई दफ़ा हार ही गयी मैं
कहाँ हार को अपनी मैं लेकर जाऊं
हया के छाले किस कपड़े में छुपाऊं
कितनी बेकाम हूँ!
और
आईने के सामने खड़ी होकर
मेरी कूर्ती में,
मेरे झुमके में
छोटी बहन कहती रहती है
के दीदी जैसी बनूं मैं!
Tootee,Bikharee Baithee Rahatee Hoon
Khood Se Har Pal Ye Kahatee Rahatee Hoon -
Hoon Kisee Kaam Kee Nahin Main
Jeetakar Bhee Kaee Dafa Haar Hee Gayee Main
Kahaan Haar Ko Apanee Main Lekar Jaoon
Haya Ke Chhaale Kis Kapade Mein Chhupaoon
Kitanee Bekaam Hoon!

Aur
Aaeene Ke Saamane Khadee Hokar
Meree Koortee Mein,Mere Jhumake Mein
Chhotee Bahan Kahatee Rahatee Hai
Ke Deedee Jaisee Banoon Main!


मोहब्बत से भरी हुई हूँ
आज़माई नहीं गई
मुददत से मर हि हाँ

Mohabbat Se Bhari Huyi Hoon
Aazamaee Nahin Gaee
Mudadat Se Mar Hi Haan




Read More

Nidhi Narwal Poetry Photos | Nidhi Narwal Quotes Photos | Nidhi Narwal Shayari Photos for WhatsApp DP

जनवरी 16, 2020


एक खयाल हो
एक मलाल हो
एक मलाल का खयाल हो
एक खयाल का मलाल हो
लिखने को!


मलाल हो तो पत्नें याद आएं,
कुछ लिखा जाए

मसर्रत में भला कब किसी
को याद करते हैं हम

Malaal Ho To Patnen Yaad Aaen,
Kuchh Likha Jae

Masarrat Mein Bhala Kab Kisee
Ko Yaad Karate Hain Ham


कि आसान तो नहीं था
. वक़्त से उलटा चलना

ज पर तेरी यादों ने एक पल
को ये भी मुमकिन किया!

Ki Aasaan To Nahin Tha
. Vaqt Se Ulata Chalana

Ja Par Teree Yaadon Ne Ek Pal
Ko Ye Bhee Mumakin Kiya!


फ़र्क़ बस इतना सा रहा के
वो बोला "देर हो गयी है,
तो अब चली जाओ तुम"
मैं बोली "देर हो ही गयी है तो यहीं रुक जाओ न?"
Farq Bas Itana Sa Raha Ke
Vo Bola "Der Ho Gayee Hai,
To Ab Chalee Jao Tum"
Main Bolee "Der Ho Hee Gayee Hai To Yaheen Ruk Jao Na?"


उलझ कर देखा था उससे
के अब,

उसमें ही उलझी रहती हूँ!

Ulajh Kar Dekha Tha Usase
Ke Ab,

Usamen Hee Ulajhee Rahatee Hoon!


एक शहर में क्या कहूँ कितनी ही दफ़ा मर रही थी मैं
कितनी आज़ाद थी सांसें मेरी जब अपने घर रही थी मैं

Ek Shahar Mein Kya Kahoon Kitanee Hee Dafa Mar Rahee Thee Main
Kitanee Aazaad Thee Saansen Meree Jab Apane Ghar Rahee Thee Main


कितनी गवार है जनता इस शहर की
मस्तिष्क से बीमार है जनता इस शहर की

मर रहा शहर यहाँ और मर रहे सभी
धुंए के समुंदर में हैं तर रहे सभी

आंख हैं इन्हें भला फिर दिखता क्यों नहीं?
मुर्दा हैं ये,
इनपर कफ़न कोई ढ़कता क्यों नहीं?

Kitanee Gavaar Hai Janata Is Shahar Kee
Mastishk Se Beemaar Hai Janata Is Shahar Kee

Mar Raha Shahar Yahaan Aur Mar Rahe Sabhee
Dhune Ke Samundar Mein Hain Tar Rahe Sabhee

Aankh Hain Inhen Bhala Phir Dikhata Kyon Nahin?
Murda Hain Ye,Inapar Kafan Koee Dhakata Kyon Nahin?


तुझे पूरा लिखूं,
अधूरा लिखूं
मैं रातों में बैठकर,
तुझे "सवेरा" लिखूं
मैं जब भी लिखूं बस इतना लिखें
तू सुने मुझे,
तुझे "मेरा" लिखुूं
Tujhe Poora Likhoon,Adhoora Likhoon
Main Raaton Mein Baithakar,Tujhe "Savera" Likhoon
Main Jab Bhee Likhoon Bas Itana Likhen
Too Sune Mujhe,Tujhe "Mera" Likhuoon


तू तख़ल्लुस हटा
कर शेर लिखता है
मैं मायनों में नाम
तेरा फिर भी पढ़
लेती हूँ

Too Takhallus Hata
Kar Sher Likhata Hai
Main Maayanon Mein Naam
Tera Phir Bhee Padh
Letee Hoon

सफ़र में खुदसे बस ये पूछा करो कि "क्यों?
" न कि "कैसे?"
चलते रहने की वजह मिलने मिलने के बाद रास्तों की
परवाह नहीं रहती।
Safar Mein Khudase Bas Ye Poochha Karo Ki "Kyon?
" Na Ki "Kaise?"
Chalate Rahane Kee Vajah Milane Milane Ke Baad Raaston Kee
Paravaah Nahin Rahatee.


Read More

Nidhi Narwal Poetry Photos | Nidhi Narwal Quotes Photos | Nidhi Narwal Shayari Photos | Nidhi Narwal Status Photos

जनवरी 14, 2020


ज़िंदगी से कुछ ज़्यादा नहीं चाहिए
-क़ल्ब पूरा-पूरा अदा करो
सब-आधा-आधा नहीं चाहिए

Zindagee Se Kuchh Zyaada Nahin Chaahie
-Qalb Poora-Poora Ada Karo
Sab-Aadha-Aadha Nahin Chaahie


मेरा गांव एक समुंदर है
ये शहर समुंदर के किनारे किसी चट्टान के जैसा लगता है
और मैं समुंदर की एक लहर
जो मदहोश और नादान थी,
नासमझ भी
दूसरे छोर से दरिया पार करके इस छोर तक आयी
मदमस्त होकर समुंदर को छोड़ने चली थी
चट्टान को भागते हुए आकर गले से लगाया
मगर उसने रोका नहीं मुझे,
बस मैं ही उसे पकड़े हुए थी..

वापस जाना ही था
देर से समझ में आता है,
देर से समझ में आया
कि समुंदर सदा दे रहा था 'वापस आजा
उसे अपनी हर तरंग हर लहर से इश्क़ है
क्योंकि उसकी हर लहर को पता है कि वो कितना गहरा है
मगर किसी और को ये बात लहरें पता लगने नहीं देती
मेरा घर,
मेरी पहचान समुंदर है।

Mera Gaanv Ek Samundar Hai
Ye Shahar Samundar Ke Kinaare Kisee Chattaan Ke Jaisa Lagata Hai
Aur Main Samundar Kee Ek Lahar
Jo Madahosh Aur Naadaan Thee,Naasamajh Bhee
Doosare Chhor Se Dariya Paar Karake Is Chhor Tak Aayee
Madamast Hokar Samundar Ko Chhodane Chalee Thee
Chattaan Ko Bhaagate Hue Aakar Gale Se Lagaaya
Magar Usane Roka Nahin Mujhe,Bas Main Hee Use Pakade Hue Thee..

Vaapas Jaana Hee Tha
Der Se Samajh Mein Aata Hai,Der Se Samajh Mein Aaya
Ki Samundar Sada De Raha Tha Vaapas Aaja
Use Apanee Har Tarang Har Lahar Se Ishq Hai
Kyonki Usakee Har Lahar Ko Pata Hai Ki Vo Kitana Gahara Hai
Magar Kisee Aur Ko Ye Baat Laharen Pata Lagane Nahin Detee
Mera Ghar,Meree Pahachaan Samundar Hai.




इतनी गुमशुदा हो गयी हूँ खुदसे मैं
के शीशे में भी अब कोई मुझसा नज़र नहीं आता!

Itanee Gumashuda Ho Gayee Hoon Khudase Main
Ke Sheeshe Mein Bhee Ab Koee Mujhasa Nazar Nahin Aata!


छोड़ ज़िंदगी!
अब और क्या पैगाम दू

तुझे,
तेरी ही अदालत में कितने बयान दू
तुझे?
Chhod Zindagee!
Ab Aur Kya Paigaam Doo

Tujhe,
Teree Hee Adaalat Mein Kitane Bayaan Doo
Tujhe?


तेरा इश्क़ जैसे खंजर हो सीने में
निलाकर जिसे फेंक देना भी ज़ख्म देगा
और सीने में रख लेना तो दर्द है ही!

Tera Ishq Jaise Khanjar Ho Seene Mein
Nilaakar Jise Phenk Dena Bhee Zakhm Dega
Aur Seene Mein Rakh Lena To Dard Hai Hee!




भाग रही है ज़िंदगी
दर द. दर:
मजिले किस तरफ़ ..
ये.पूछ रही है पा के

Bhaag Rahee Hai Zindagee
Dar Da. Dar:
Majile Kis Taraf ..
Ye.Poochh Rahee Hai Pa Ke


गहरा सा ज़ख्म मिलता है ठीक क़ल्ब के बीच कहीं
जायज़ है मोहब्बत है!
कोई दो दिन का इश्क़ नहीं

Gahara Sa Zakhm Milata Hai Theek Qalb Ke Beech Kaheen
Jaayaz Hai Mohabbat Hai!
Koee Do Din Ka Ishq Nahin



बावरे ख़ुदा,
तुम्हारा कोई मनसूबा सफ़ल नहीं होगा

जो तुम सोचे बैठे हो कभी वो "कल" नहीं होगा
जिस पल मिट ही जाएंगे बैर बंदे के बंदे से
मुंतज़िर ही रगेगा,
मुमकिन वो पल नहीं होगा

Baavare Khuda,Tumhaara Koee Manasooba Safal Nahin Hoga

Jo Tum Soche Baithe Ho Kabhee Vo "Kal" Nahin Hoga
Jis Pal Mit Hee Jaenge Bair Bande Ke Bande Se
Muntazir Hee Ragega,Mumakin Vo Pal Nahin Hoga

Read More