Sharab Shayari अध्याय लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

Best Sharab Shayari - शराब पर शायरी | अध्याय 4

दिसंबर 20, 2019


Related imageख़ुद अपनी मस्ती है जिस ने मचाई है हलचल
नशा शराब में होता तो नाचती बोतल.

Khud Apani Masti Hai Jis Ne Machayi Hai Halachal
Nasha Sharab Me Hota To Nachati Botal..


मदहोश हम हरदम रहा करते हैं,और इल्ज़ाम शराब को दिया करते हैं,
कसूर शराब का नहीं उनका है यारों,
जिनका चेहरा हम हर जाम में
तलाश किया करते हैं..

Madahosh Ham Hardam Raha Karate Hai,
Aur Ilzaam Sharab Ko Diya Karate Hai.
Kasur Sharab Ka Nahi Unaka Hai Yaaro,
Jinaka Chehara Ham Har Jaam Me
Talash Kiya Karate Hai..


Naajar Se Najar Milee To
Poora Mayakhaana Mil Gaya Hamako,
Ab To Teree Yaadon Ka Ek Jaam
Ham Har Shaam Piya Karate Hain.

नाजर से नजर मिली तो
पूरा मयखाना मिल गया हमको,
अब तो तेरी यादों का एक जाम
हम हर शाम पिया करते हैं।


Pyaas Jajbaaton Kee
Mayakhaane Mein Kahaan Bujhatee Hai
E Saakee
Ham To Is Bharee Mahafil Mein
Tanhaeeyaan Baantane Chale Aate Hain.

प्यास जज्बातों की
मयखाने में कहाँ बुझती है
ए साकी
हम तो इस भरी महफ़िल में
तन्हाईयाँ बाँटने चले आते हैं।


इश्क़-ऐ-बेवफ़ाई ने डाल दी है आदत बुरी,
मैं भी शरीफ हुआ करता था इस ज़माने में,
पहले दिन शुरू करता था मस्जिद में नमाज़ से,
अब ढलती है शाम शराब के साथ मैखाने में..

Ishk-E-Bewafayi Ne Daal Di Hai Aadat Buri,
Main Bhi Sharif Hua Karata Tha,
Is Zamane Me.
Pahale Din Shuru Karata Tha Masjid Me Namaz Se,
Ab Dhalati Hai Sham Sharab Ke Sath Maikhane Me..


Toote Hue Paimaane Bekaar Sahee Lekin,
May-Khaane Se Ai Saaqee Baahar To Na Phenka Kar !

टूटे हुए पैमाने बेकार सही लेकिन,
मय-ख़ाने से ऐ साक़ी बाहर तो न फेंका कर !


Pahale Saagar Se To Chhalake May-E-Gulaphaam Ka Rang,
Subah Ke Rang Mein Dhal Jaega Khud Shaam Ka Rang !

पहले सागर से तो छलके मय-ए-गुलफाम का रंग,
सुबह के रंग में ढल जाएगा खुद शाम का रंग !


एसी शराब पी है कि इक दिन मेरा निशां
मस्जिद में खानकाह में ढूँढा करेंगे लोग.

Esi Sharab Pee Hai Ki Ek Din Mera Nishan,
Masjid Me Khankaah Me Dhundha Karenge Log.


Peete The Sharab Hum
Usne Chhudayi Apni Kasam Dekar,
Mehfil Me Aaye To Yaaron Ne
Pila Di Usi Ki Kasam Dekar.

पीते थे शराब हम
उसने छुड़ाई अपनी कसम देकर,
महफ़िल में आये तो यारों ने
पिला दी उसकी कसम देकर।


यूँ तौहीन न किजिये शराब को कड़वा कह कर,
जनाब ये ज़िन्दगी के तजुर्बे
शराब से भी कड़वे होते हैं.

Yun Tauhin Naa Kijiye
Sharab Ko Kadawa Kah Kar,
Janaab Ye Zindagi Ke Tajurbe,
Sharab Se Bhi Kaduye Hote Hai..


तुम्हें जो सोचें तो होता है कैफ़-सा तारी,
तुम्हारा ज़िक्र भी जामे-शराब जैसा है.

Tumhe Jo Soche To Hota Hai Kaif-Sa Taari,
Tumhaara Zikr Bhi Jaame-Sharab Jaisa Hai.


Ek Ghoont Jo Sharaab Kee
Mainne Labon Se Lagaayee,
To Samajh Aaya Ki
Isase Kadavee Hai Teree Sachchaee.

एक घूँट जो शराब की
मैंने लबों से लगायी,
तो समझ आया कि
इससे कडवी है तेरी सच्चाई।


तेरी निगाह थी साक़ी कि मैकदा था कोई
मैं किस फ़िराक में शर्मिंदा-ए-शराब हुआ.

Teri Nigah Thi Saki Ki Maikada Tha Koi,
Mai Kisi Firaaq Me Sharminda-E-Sharab Hua.


Ik Nau-Bahar-E-Naaz Ko Taake Hai Phir Nigaah,
Chehara Phurog-E-May Se Gulistaan Kiye Hue !

इक नौ-बहार-ए-नाज़ को ताके है फिर निगाह,
चेहरा फुरोग-ए-मय से गुलिस्तां किये हुए !


हम तो समझे थे के बरसात में बरसेगी शराब
आई बरसात तो बरसात ने दिल तोड़ दिया.

Ham To Samjhate The Ke Barasaat Me Baresegi Sharab,
Ayi Barsaat To Barsat Ne Dil Tod Diya.


Sharaab Peene Se Kaafir Hua Main Kyoon,
Kya Dedh Chulloo Paanee Mein Eemaan Bah Gaya !

शराब पीने से काफ़िर हुआ मैं क्यूं,
क्या डेढ़ चुल्लू पानी में ईमान बह गया !


शराब के भी अनेक रंग हैं साक़ी,
कोई पीता है आबाद होकर,
तो कोई पीता है बर्बाद होकर

Sharab Ke Bhi Anek Rang Hai Saki
Koi Peeta Hai Aabad Hokar
To Koi Peeta Hai Barbaad Hokar.


गिरी मिली एक बोतल शराब की,
तो ऐसा लगा मुझे,
जैसे बिखरा पड़ा हो सुकून,
किसी के एक रात का.

Giri Mili Ek Botal Sharab Ki,
To Esa Laga Mujhe
Jaise Bikhara Pada Ho Sukun,
Kisi Ke Ek Raat Ka.


May Mein Vah Baat Kahaan Jo Tere Deedaar Mein Hai,
Jo Gira Phir Na Use Kabhee Sambhalate Dekha .

~Meer_Takee_Meer

मय में वह बात कहां जो तेरे दीदार में है,
जो गिरा फिर न उसे कभी संभलते देखा ।

~मीर_तकी_मीर


Aaye Kuchh Abr Kuchh Sharaab Aaye,
Usake Baad Aaye To Azaab Aaye,
Baam-I-Minha Se Mahataab Utare,
Dast-E-Saaqee Mein Aafataab Aaye.

आये कुछ अब्र कुछ शराब आये,
उसके बाद आये तो अज़ाब आये,
बाम-इ-मिन्हा से महताब उतरे,
दस्त-ए-साक़ी में आफ़ताब आये।


तबसरा कर रहे हैं दुनिया पर
चदं बच्चे शराब खाने में

Tabsara Kar Rahe Duniya Par,
Chand Bachche Sharab Khane Me
.


Peena Kaam Aa Gaya...
Ladakhadaaye Kadam To Gire Unakee Baanhon Me,
Aaj Hamaara Peena Hee Hamaare Kaam Aa Gaya.

पीना काम आ गया...
लड़खड़ाये कदम तो गिरे उनकी बाँहों मे,
आज हमारा पीना ही हमारे काम आ गया।


बस एक इतनी वजह है मेरे न पीने की
शराब है वही साक़ी मगर गिलास नहीं.

Bas Ek Itani Wazah Hai Mere Na Peene Ki,
Sharab Hai Wahi Saki Magar Gilas Nahi.


Tum Saaqee Bane To...
Tum Aaj Saaqee Bane Ho To Shahar Pyaasa Hai
Hamaare Daur Mein Khaalee Koee Gilaas Na Tha.

तुम साक़ी बने तो...
तुम आज साक़ी बने हो तो शहर प्यासा है
हमारे दौर में ख़ाली कोई गिलास न था।


Teree Qismat Hee Mein Zaahid May Nahin
Shukr To Majabooriyon Ka Naam Hai !

तेरी क़िस्मत ही में ज़ाहिद मय नहीं
शुक्र तो मजबूरियों का नाम है !


Teree Nigaah Thee Saaqee Ki Maikada Tha Koee
Main Kis Firaak Mein Sharminda-E-Sharaab Hua!

तेरी निगाह थी साक़ी कि मैकदा था कोई
मैं किस फ़िराक में शर्मिंदा-ए-शराब हुआ!


Aamaal Mujhe Apane Us Vaqt Nazar Aae
Jis Vaqt Mera Beta Ghar Pee Ke Sharaab Aaya.!

आमाल मुझे अपने उस वक़्त नज़र आए
जिस वक़्त मेरा बेटा घर पी के शराब आया.!


Mere Ittaqa Ka Bais, 
Tu Hai Meree Naatavaanee
Jo Mein Tauba Tod Sakata,
To Sharaab Khaar Hota

~Ameer Meenaee
मेरे इत्तक़ा का बाइस,
तु है मेरी नातवानी
जो में तौबा तोड़ सकता,
तो शराब ख़ार होता

~अमीर मीनाई


Kaun Hai Jisane May Nahee Chakkhee
Kaun Jhoothee Qasam Uthaata Hai,

Mayakade Se Jo Bach Nikalata Hai
Teree Aankhon Mein Doob Jaata Hai !

कौन है जिसने मय नही चक्खी
कौन झूठी क़सम उठाता है,

मयकदे से जो बच निकलता है
तेरी आँखों में डूब जाता है !


Kaun Aata Hai Mayakhaane Mein
Peene Ko Ye Sharaab Saakee,

Ham To Tere Husn Ka
Deedaar Kiya Karate Hain.

कौन आता है मयखाने में
पीने को ये शराब साकी,

हम तो तेरे हुस्न का
दीदार किया करते हैं।


गम इस कदर मिला की घबरा के पी गये,
खुशी थोड़ी सी मिली तो मिला के पी गये,

यूँ तो ना थी जनम से पीने की आदत,
शराब को तन्हा देखा तो तरस खा के पी गये..

Gam Is Kadar Mila Ki Ghabara Ke Pee Gaye,
Khushi Thodi Si Mili To Mila Ke Pee Gaye,

Yun To Na Thi Janam Se Peene Ki Aadat
Sharab Ko Tanha Dekha To Taras Kha Ke Pee Gaye..


Ilzaam Sharaab Ko
Nasha Ham Kiya Karte Hain
Ilzaam Sharab Ko Diya Karte Hain,

Kasoor Sharab Ka Nahin Unka Hai
Jiska Chehra Ham Jaam Mein Talash Kiya Karte Hain.

नशा हम किया करते हैं
इल्ज़ाम शराब को दिया करते हैं,

कसूर शराब का नहीं उनका है
जिसका चेहरा हम जाम में तलाश किया करते हैं।


Us Shakhs Par Sharaab Ka Peena Haraam Hai..
Jo Rahake Maiqade Mein Bhee Insaan Na Ho Saka..!

उस शख्स पर शराब का पीना हराम है।।
जो रहके मैक़दे में भी इन्सां न हो सका..!


Saabit Hua Hai Gardan-E-Meena Pe Khoon-E-Khalq,
Laraze Hai Mauj-E-May Teree Raftaar Dekh Kar !

साबित हुआ है गर्दन-ए-मीना पे ख़ून-ए-ख़ल्क़,
लरज़े है मौज-ए-मय तेरी रफ़्तार देख कर !


Achchhon Ko Bura Saabit Karana
Duniya Kee Puraanee Aadat Hai

Is May Ko Mubaarak Cheez Samajh
Maana Kee Bahut Badanaam Hai Ye
-Saaheer Ludheeyaanavee

अच्छों को बुरा साबित करना
दुनिया की पुरानी आदत है

इस मय को मुबारक चीज़ समझ
माना की बहुत बदनाम है ये
-साहीर लुधीयानवी


May Barasatee Hai Fazaon Pe Nasha Taaree Hai,
Mere Saaqee Ne Kaheen Jaam Uchhaale Honge !

मय बरसती है फ़ज़ाओं पे नशा तारी है,
मेरे साक़ी ने कहीं जाम उछाले होंगे !


गिर गया हूँ लोगों मगर शराब को दोष मत देना,
जो बेहोश हूँ मैं तो भूल कर भी मुझे होश मत देना,

नहीं सुननी हैं मुझे नसीहतें इन दुनियावालों की
जो मैं हो गया हूँ बहरा तो मुझे गोश मत देना।
( गोश – कान,
Ear )


Har Baar Sochata HoonChhod Doonga Main Peena Ab Se,
Magar Teree Aad Aatee Hai
Aur Ham Mayakhaane Ko Chal Padate Hain.

हर बार सोचता हूँ
छोड़ दूंगा मैं पीना अब से,

मगर तेरी आड़ आती है
और हम मयखाने को चल पड़ते हैं।


Ik Sirph Ham Hee May Kon Aankhon Se Pilaate Hai,
Kahane Ko To Duniya Mein Mayakhaane Hajaare Hai..!
(Umaraav-O-Jaan)
-Shaharayaar

इक सिर्फ हम ही मय कों आँखों से पिलाते है,
कहने को तो दुनिया में मयखाने हजारे है..!
(उमराव-ओ-जान)
-शहरयार


एक घूँट शराब की जो मैंने लबों से लगायी,
तो आया समझ कि इससे भी कड़वी है तेरी सच्चाई

Ek Ghut Sharab Ki Jo Maine Labo Se Lgayi,
To Aaya Samajh Ki Isase Bhi Kadvi Hai Teri Sachchyi.


Shikan Na Daal Maathe Par Sharab Dete Huye,
Ye Muskuraati Huyi Cheez Muskura Ke Pila.

शिकन न डाल माथे पर शराब देते हुए,
ये मुस्कुराती हुई चीज़ मुस्कुरा के पिला।


Read More

Best Sharab Shayari - शराब पर शायरी | अध्याय 3

नवंबर 22, 2019


Related image
Ham To Badnam Huye Kuchh Is Kadar Dosto,
Ki Paani Bhi Piyen To Log Sharab Kahate Hain.

हम तो बदनाम हुए कुछ इस कदर दोस्तों,
की पानी भी पियें तो लोग शराब कहते हैं।


Esee Sharab Pee Hai Ki Ik Din Mera Nishaan
Masjid Mein Khaanakaah Mein Dhoondha Karenge Log.

एसी शराब पी है कि इक दिन मेरा निशां
मस्जिद में खानकाह में ढूँढा करेंगे लोग।


मिलावट है तेरे इश्क में
इत्र और शराब की,

कभी हम महक जाते हैं
कभी हम बहक जाते हैं


Milawat Hai Tere Ishq Me
Itr Aur Sharab Ki,


Kabhi Ham Mahak Jate Hai,

Kabhi Ham Bahak Jaate Hai.


तसव्वुर अर्श पर है और सर है पा-ए-साक़ी पर,
गर्ज़ कुछ और धुन में इस घड़ी मय-ख़्वार बैठे हैं

दारु चढ के उतर जाती है
पैसा चढ जाये तो उतरता नही
आप अपने नशे में जीते है
हम जरा सी शराब पीते है..

-गुलज़ार


Tumhen Jo Sochen To Hota Hai Kaif Sa Taaree
Tumhaara Zikr Bhi Jaame-Sharab Jaisa Hai


तुम्हें जो सोचें तो होता है कैफ़ सा तारी
तुम्हारा ज़िक्र भी जामे-शराब जैसा है


गज़लें अब तक शराब पीती थीं
नीम का रस पिला रहे हैं हम.


Ghazal Ab Tak Sharab Peeti Thi,
Neem Ka Ras Pila Rahe Hai Ham.


Ab To Zaahid Bhee Ye Kahata Hai Badee Chook Huee,
Jaam Mein Thee May-E-Kausar Mujhe Maloom Na Tha !


अब तो ज़ाहिद भी ये कहता है बड़ी चूक हुई,
जाम में थी मय-ए-कौसर मुझे मालूम न था !


Va Ho Rahee Hai May-Kada-E-Neem-Shab Kee Aankh
Angadaee Le Raha Hai Jahaan Dekhate Chalen !

-Makhdoom Mohiuddin


वा हो रही है मय-कदा-ए-नीम-शब की आँख
अंगड़ाई ले रहा है जहाँ देखते चलें !

-मख़दूम मुहिउद्दीन


Tumhari Aankhon Ki Tauheen Hai,
Zara Socho
Tumhara Chahne Wala Sharab Peeta Hai


तुम्हारी आँखों की तौहीन है,
ज़रा सोचो
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है


पी है शराब हर गली हर दुकान से,
एक दोस्ती सी हो गई है शराब के जाम से,


गुज़रे हैं हम इश्क़ में कुछ ऐसे मुकाम से,
की नफ़रत सी हो गई है मुहब्बत के नाम से.


Pee Hai Sharab Har Gali Har Dukhan Se,
Ek Dosti Si Ho Gayi Hai Sharab Ke Jaam Se,


Guzare Hai Ham Ishk Me Kuchh Yese Mukaam Se,
Ki Nafrat Si Ho Gayi Hai,
Muhabbat Ke Naam Se..


नजर मिला के पिला..
शिकन न डाल जबीं पर शराब देते हुए,
यह मुस्कराती हुई चीज मुस्करा के पिला,


सरूर चीज के मिकदार में नहीं मौकूफ,
शराब कम है साकी तो नजर मिला के पिला।

~ अब्दुल हमीद अदम


Mayakhaane Aur Sharaab To Yoon Hee Badnam Hain Sakee
Nautankiyaan To Ye Zamane Bhar Ke Log Karate Hain.


मयखाने और शराब तो यूँ ही बदनाम हैं साकी
नौटंकियां तो ये ज़माने भर के लोग करते हैं।


Ghalib Chhutee Sharab Par Ab Bhi Kabhi-Kabhi
Peeta Hoon Roz Abr Shabe-Mahtaab Mein..

ग़ालिब छुटी शराब पर अब भी कभी-कभी
पीता हूँ रोज़ अब्र शबे-महताब में..


Be Pie Hee Sharab Se Nafrat
Ye Jahalat Nahi To Aur Kya Hai..?

-Sahir Ludhianvi


बे पिए ही शराब से नफ़रत
ये जहालत नही तो और क्या है..?

-साहिर लुधियानवी


Kisee Pyaale Se Poochha Hai Suraahee Ne Sabab May Ka,
Jo Khud Behosh Ho Vo Kya Bataye Hosh Kitana Hai !


किसी प्याले से पूछा है सुराही ने सबब मय का,
जो खुद बेहोश हो वो क्या बताये होश कितना है !


प्यार से भी गहरा हैं शराब का नशा
इसे दर्द में पीने पर ही हैं,
असली मज़ा


Pyaar Se Bhi Gahra Hai Sharab Ka Nasha
Ise Dard Me Peene Par Hi Hai
Asali Maza..



Raat Hum Piye Huye The Magar,
Aap Ki Aankhein Bhi Sharabi Thi,


Fir Humare Kharab Hone Mein,
Aap Hi Kahiye Kya Kharabi Thi.


रात हम पिए हुए थे मगर,
आप की आँखें भी शराबी थीं,


फिर हमारे खराब होने में,
आप ही कहिये क्या खराबी थी।


पूरा अब मेरा ये ख़्वाब हो जाये,
लिख दू उनके दिल पे किताब हो जाये


ना मयकदे की जरूरत हो ना मयखाने की,
अगर नज़र से पिला दो शराब हो जाये..


Pura Ab Mera Ye Khwaab Ho Jaaye,
Likh Du Unake Dil Pe Kitaab Ho Jaaye.


Na Maykade Ki Jarurat Ho Na Maikhane Ki,

Agar Nazar Se Peela Do Sharab Ho Jaaye..


May Barasatee Hai Phijaon Pe Nasha Taari Hai
Mere Saaki Ne Kahin Jam Uchhaale Honge!


मय बरसती है फिजा़अों पे नशा तारी है
मेरे साकी ने कहीं जाम उछाले होंगे!


Peene De Sharab Masjid Me Baithkar,
Ya Wo Jagah Bata Jahan Khuda Nahin.


पीने दे शराब मस्जिद में बैठ कर,
या वो जगह बता जहाँ खुदा नहीं।


Zabaan Kahane Se Ruk Jae Vahee Dil Ka Hai Afsana,
Na Poochho May-Kashon Se Kyon Chhalak Jaata Hai Paimana !


ज़बान कहने से रुक जाए वही दिल का है अफ़साना,
ना पूछो मय-कशों से क्यों छलक जाता है पैमाना !



उन्हीं के हिस्से में आती है ये प्यास अक्सर,
जो दूसरों को पिलाकर शराब पीते हैं.

Unhi Ke Hisse Me Aati Hai Ye Pyaas Aksar,
Jo Dusaro Ko Peelakar Sharab Peete Hai.


प्यार और शराब में छोटा सा फर्क हैं
लेकिन ये फर्क बहुत बड़ा हैं
प्यार दर्द देता हैं
शराब दर्द भुला देता हैं.


Pyar Aur Sharab Me Chhota Sa Fark Hai,
Lekin Ye Fark Bahut Bada Hai.
Pyaar Dard Deta Hai,
Sharab Dard Bhula Deta Hai..



Puchhiye Maikashon Se
Puchhiye Maikashon Se Lutf E Sharab,
Ye Mazaa Paakbaaz Kya Jaane.


पूछिये मैकशों से लुत्फ़ ए शराब,
ये मज़ा पाकबाज़ क्या जाने।


Khud Hee Sarashaar-E-May-E-Ulphat Nahin Hona ‘Asar’,
Isase Bhar-Bhar Kar Dilon Ke Jaam Chhalakaana Bhee Hai !

-Asar Lakhnavi


खुद ही सरशार-ए-मय-ए-उल्फत नहीं होना ‘असर’,
इससे भर-भर कर दिलों के जाम छलकाना भी है !

-असर लखनवी


Meer In Neem Baaz Aankhon Mein
Saari Masti Sharab Ki Si Hai.


मीर इन नीम बाज आखों में
सारी मस्ती शराब की सी है।


Kyon May-Kaday Mein Baith Kar Banate Ho Paarasa,
Nazarene Bata Raheen Hen Ke Neeyat Kharab Hai !

-Ameer Minai


क्यों मय-कदय में बैठ कर बनते हो पारसा,
नज़रें बता रहीं हें के नीयत ख़राब है !

-अमीर मिनाई


Rah Gaee Jaam Mein Angadaayaan Leke Sharaab,
Ham Se Maangee Na Gayi Unse Pilai Na Gayi !


रह गई जाम में अंगड़ायाँ लेके शराब,
हम से माँगी न गई उन से पिलाई न गई !


Kabhee Mauqa Lage,
Kadave Do Ghoont Chakh Lena
Zara Tere Liye Sharab Chhod Aaye Hain.!


कभी मौक़ा लगे,
कड़वे दो घूँट चख लेना
ज़रा तेरे लिये शराब छोड़ आए हैं.!


शोखियों में घोला जाये फूलों का शबाब
उस में फिर मिलाई जाये थोड़ी सी शराब
होगा यूँ नशा जो तैयार वो प्यार हैं

नीरज
Shokhiyo Me Ghola Jaye Phoolon Ka Shabab,
Us Me Fir Milayi Jaye Thodi Si Sharab
Hoga Yun Nasha Jo Taiyar Wo Pyaar Hai..



Gazalen Ab Tak Sharab Peetee Thi..
Neem Ka Ras Pila Rahe Hain Ham….?


गज़लें अब तक शराब पीती थीं।।
नीम का रस पिला रहे हैं हम….?


Hokar Kharaab-E-May Tere Gam To Bhula Diye
Lekin Gham-E-Hayaat Ka Darmaa Na Kar Sake

~Saahir

होकर ख़राब-ए-मय तेरे ग़म तो भुला दिये
लेकिन ग़म-ए-हयात का दरमाँ न कर सके

~साहिर


Mujh Tak Kab Unki Bazm Mein Aata Tha Daur-E-Jaam
Saqi Ne Kuchh Mila Na Diya Ho Sharaab Mein.!


मुझ तक कब उनकी बज़्म में आता था दौर-ए-जाम
साक़ी ने कुछ मिला न दिया हो शराब में.!


पियूँ शराब अगर ख़ुम भी देख लूँ दो चार
ये शीशा-ओ-क़दह-ओ-कूज़ा-ओ-सुबू क्या है

ग़ालिब

Piyu Sharab Agar Khum Bhi Dekh Lun Do Char
Ye Shisha-O-Kadah-O-Kuza-O-Subu Kya Hai.


Ik Dhadakta Hua Dil,
Ek Chhalakata Hua Jaam,
Yahee Le Aate Hain Mayanosh Ko Maikhane Mein…


इक धड़कता हुआ दिल,
एक छलकता हुआ जाम,
यही ले आते हैं मयनोश को मयख़ाने में…


आए थे हँसते खेलते मय-ख़ाने में 'फ़िराक़'
जब पी चुके शराब तो संजीदा हो गए


Aaye The Hansate Khelate May-Khane Me "Firak"
Jab Pee Chuke Sharab To Sanjida Ho Gaye.


शराब पीने से काफ़िर हुआ मैं क्यूं,
क्या डेढ़ चुल्लू पानी में ईमान बह गया.


Sharab Peene Se Kafir Hua Mai Kyu,
Kya Dedh Chullu Pani Me Imaan Bah Gaya.


पूरा अब मेरा ये ख़्वाब हो जाये,
लिख दू उनके दिल पे किताब हो जाये,


ना मयकदे की जरूरत हो ना मयखाने की,
अगर नज़र से पिला दो शराब हो जाये..


Pura Ab Mera Ye Khwaab Ho Jaaye,
Likh Du Unake Dil Pe Kitab Ho Jaaye.


Na Maykade Ki Jarurat Ho Naa Maikhane Ki,
Agar Nazar Se Peela Do Sharab Ho Jaaye..


Dena Vo Usaka Saagar Va May Yaad Hai Nijaam
Muh Pher Kar Udhar Ko Idhar Ko Badha Ke Haath.


देना वो उसका सागर व मय याद है निजाम
मुह फेर कर उधर को इधर को बढा के हाथ।


Tamaam Raaten Gujar Gayeen Mayakhaane Mein Peete-Peete
Magar Afasos
Na Botal Khatm Huyee,


Na Kissa Khatm Hua
Aur Na Hee Tere Dard Ka Vo Hissa Khatm Hua.


तमाम रातें गुजर गयीं मयखाने में पीते-पीते
मगर अफ़सोस
न बोतल ख़त्म हुयी,


न किस्सा ख़त्म हुआ
और न ही तेरे दर्द का वो हिस्सा ख़त्म हुआ।


Ghalib Chhuti Sharab Par Ab Bhi Kabhi Kabhi
Peeta Hoon Roz-E-Abr-O-Shab-E-Mahtab Mein

~Ghalib


ग़ालिब छुटी शराब पर अब भी कभी कभी
पीता हूँ रोज़-ए-अब्र-ओ-शब-ए-माहताब में

~ग़ालिब


May-Khana-E-Hasti Mein May-Kash Vahee May-Kash Hai,
Sanbhale To Bahak Jae Bahake To Sanbhal Jae !


मय-ख़ाना-ए-हस्ती में मय-कश वही मय-कश है,
सँभले तो बहक जाए बहके तो सँभल जाए !


Agale Vakton Hain Ye Log Inhen Kuchh Na Kaho
Jo May Vo Nagamen Ko Anadohe Rooba Kahate Hain.

~Ghalib

अगले वक्तों हैं ये लोग इन्हें कुछ न कहो
जो मय वो नगमें को अनदोहे रूबा कहते हैं।

~Ghalib


तेरी आँखों के ये जो प्याले हैं,
मेरी अंधेरी रातों के उजाले हैं,


पीता हूँ जाम पर जाम तेरे नाम का,
हम तो शराबी बे-शराब वाले हैं.


Teri Ankhon Ke Ye Jo Pyaale Hai,
Meri Andheri Raato Ke Ujaale Hai.


Peeta Hun Jaam Par Jaam Tere Naam Ka,
Ham To Sharabi Be-Sharab Wale..


Raaz-E-Takhleeq-E-Ghazal Hum Ko Hai Maloom ‘Naseem’
Jaam Ho May Ho Sanam Ho To Ghazal Hoti Hai

~Naseem Shahjahanpuri

राज़-ए-तख़लीक-ए-ग़ज़ल हम को है मालूम ‘नसीम’
जाम हो मय हो सनम हो तो ग़ज़ल होती है

~नसीम शाहजहाँपुरी


आमाल मुझे अपने उस वक़्त नज़र आए
जिस वक़्त मेरा बेटा घर पी के शराब आया.


Aamaal Mujhe Apne Us Waqt Nazar Aaye
Jis Waqt Mera Beta Ghar Pee Ke Sharab Aaya.


अब क्या बताऊँ तुझको कि,
तेरे जाने के बाद इस दिल पर क्या-क्या बीती है,
अब तो हम शराब को और शराब हमको पीती है


Ab Kya Bataun Tujhko Ki,
Tere Jaane Ke Baad Is Dil Par Kya-Kya Biti,
Ab To Ham Sharab Ko Aur Sharab Hamako Peeti Hai.


हमने पूछा कैसे,
वो चले गए
हाथों मे जाम देकर


हर किसी बात का जवाब नहीं होता
हर जाम इश्क में ख़राब नहीं होता


यूँ तो झूम लेते है नशे में रहने वाले
मगर हर नशे का नाम शराब नहीं होता..


Har Kisi Baat Ka Jawaab Nahi Hota,
Har Jaam Ishq Me Kharab Nahi Hota


Yun To Jhum Lete Hain Nashe Me Rahane Wale
Magar Har Nashe Ka Naam Sharab Nahi Hota..


Thoda Gam Mila To Ghabra Ke Pee Gaye,
Thodi Khushi Mili To Mila Ke Pee Gaye,


Yu To Na Thi Hume Ye Peene Ki Aadat,
Sharab Ko Tanha Dekh Taras Kha Ke Pee Gaye.


थोड़ा गम मिला तो घबरा के पी गए,
थोड़ी खुशी मिली तो मिला के पी गए,


यूँ तो न थी हमें ये पीने की आदत,
शराब को तन्हा देख तरस खा के पी गए।


Read More

Best Sharab Shayari - शराब पर शायरी | अध्याय 1

अक्तूबर 16, 2019


Related image
मेरे इत्तक़ा का बाइस,
तु है मेरी नातवानी
जो में तौबा तोड़ सकता,
तो शराब ख़ार होता

अमीर मीनाई
Mere Ittaka Ka Bayis,
Tu Hai Meri Natwani,
Jo Main Tauba Tod Sakata,
To Sharab Khar Hota


Aaya Tha Divaana...
Chhalak Jaane Do Paimaane
Maikhaane Bhee Kya Yaad Rakhenge,
Aaya Tha Koee Divaana
Apanee Mohabbat Ko Bhulaane.


आया था दिवाना...
छलक जाने दो पैमाने
मैखाने भी क्या याद रखेंगे,
आया था कोई दिवाना
अपनी मोहब्बत को भुलाने।



तुम्हारी नीम निगाही में न जाने क्या था
शराब सामने आयी तो फैंक दी मैंने.


Tumhari Neem Nigahi Me Na Jane Kya Tha,
Sharab Samane Aayi To Faik Di Maine.


आये कुछ अब्र कुछ शराब आये,
उसके बाद आये तो अज़ाब आये,
बाम-इ-मिन्हा से महताब उतरे,
दस्त-ए-साक़ी में आफ़ताब आये..


Aaye Kuchh Abr,
Kuchh Sharab Aaye,
Usake Baad Aaye To Azaab Aaye,
Baam-E-Minha Se Mahataab Utare,
Dast-E-Saki Me Aaftaab Aaye..


मीर इन नीम बाज आखों में
सारी मस्ती शराब की सी है.


Meer In Neem Baaj Ankhon Me,
Sari Masti Sharab Ki Si Hai.


निगाह-ए-साक़ी से पैहम छलक रही है शराब,
पिओ की पीने-पिलाने की रात आई है.


Nigah-E-Saki Se Paiham Chhalak Rahi Hai Sharab,
Peeo Ki Peene-Peelane Ki Raat Aayi Hai.


झूठ कहते हैं लोग कि,
शराब ग़मों को हल्का कर देती है,
मैंने अक्सर देखा है लोगों को
नशे में रोते हुए


Jhuth Kahate Hai Log Ki,
Sharab Gamo Ko Halka Kar Deti Hai
Maine Aksar Dekha Hain Logo Ko
Nashe Me Rote Huye.


तुम्हारी आँखों की तौहीन है,
ज़रा सोचो
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है.


Tumhari Ankhon Ki Tauhin Hai,
Jara Socho,
Tumhaara Chahane Wala Sharaab Peeta Ho.


बे पिए ही शराब से नफ़रत
ये जहालत नही तो और क्या है?
साहिर लुधियानवी


Be Peeye Hi Sharab Se Nafarat
Ye Jahaalat Nahi To Aur Kya Hai?


Unakee Aankhen Yah Kahatee Rahatee Hain
Log Naahak Sharaab Peete Hain!


उनकी आंखें यह कहती रहती हैं
लोग नाहक शराब पीते हैं!


Rindane-Jahan Se Nafrat
Rindane-Jahan Se Ye Nafrat
Ai Hazrat-E-Vaiz Kya Kehna,
Allah Ke Aage Bas Na Chala
Bando Se Bagawat Kar Baithe.


रिन्दाने-जहाँ से ये नफरत
ऐ हज़रत-ए-विज क्या कहना,
अल्लाह के आगे बस न चला,
बन्दों से बगावत कर बैठे।



पीने से कर चुका था मैं तौबा मगर 'जलील'
बादल का रंग देख के नीयत बदल गई


Peene Se Kar Chuka Tha Main Tauba Magar "Zalil"
Baadal Ka Rang Dekh Ke Niyat Badal Gayi.


Tauheen Na Karna Kabhi Kah Kar Kadawa Sharab Ko,
Kisi Gamjada Se Poochhiyega Ismen Kitni Mithas Hai.


तौहीन न करना कभी कह कर कड़वा शराब को
किसी ग़मजदा से पूछियेगा इसमें कितनी मिठास है।


Pila De Ok Se Saaqi Jo Ham Se Nafarat Hai,
Piyaala Gar Nahin Deta Na De Sharab To De.


पिला दे ओक से साक़ी जो हम से नफ़रत है,
पियाला गर नहीं देता न दे शराब तो दे।


May Bhee Hai Meena Bhee Hai Saagar Bhee Hai Saakee Nahee
Jee Me Aata Hai Laga Den Aag Mayakhaane Ko Ha


मय भी है मीना भी है सागर भी है साकी नही
जी मे आता है लगा दें आग मयखाने को ह


Na Gul Khile Hain,
Na Un Se Mile,
Na May Pee Hai,
Ajeeb Rang Mein Abake Bahaar Guzaree Hai.

~Faiz

ना गुल खिले हैं,
ना उन से मिले,
ना मय पी है,
अजीब रंग में अबके बहार गुज़री है।

~Faiz

लोग जिंदगी में आये और चले गए
लेकिन शराब ने कभी धोखा नहीं दिया.


Log Zindagi Me Aaye Aur Chale Gaye,
Lekin Sharab Ne Kabhi Dhokha Nahi Diya.


पहले तुझ से प्यार करते थे
अब शराब से प्यार करते हैं.


Pahale Tujhe Se Pyaar Karate The,
Ab Sharab Se Pyar Karate Hai.


Mayakhane Se Poochha Aaj Itna Sannata Kyu Hai,
Bola,
Saahab Lahoo Ka Daur Hai Sharab Kaun Peeta Hai.


मयखाने से पूछा आज इतना सन्नाटा क्यों है,
बोला,
साहब लहू का दौर है शराब कौन पीता है।


Tumhen Jo Sochen To Hota Hai Kaif Sa Taaree,
Tumhaara Zikr Bhee Jaam-E-Sharaab Jaisa Hai !


तुम्हें जो सोचें तो होता है कैफ़ सा तारी,
तुम्हारा ज़िक्र भी जाम-ए-शराब जैसा है !


ग़ालिब छुटी शराब पर अब भी कभी-कभी
पीता हूँ रोज़ अब्र शबे-महताब में


Galib Chhuti Sharab Par Ab Bhi Kabhi-Kabhi
Peeta Hun Roz Abr-Mahataab Me.


Mile Gam Se Apane Fursat To Sunaoon Vo Fasaana
Ki Tapak Pade Nazar Se May-E-Ishrat-E-Shabaana

~Muin Hasan

मिले ग़म से अपने फ़ुर्सत तो सुनाऊँ वो फ़साना
कि टपक पड़े नज़र से मय-ए-इश्रत-ए-शबाना

~मुइन अहसन

मैं तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती,
मैं जवाब बनता अगर तू सवाल होती,
सब जानते है मैं नशा नही करता,
मगर मैं भी पी लेता अगर तू शराब होती.


Main Tod Leta Agar Tu Gulab Hoti,
Main Jawaab Banata Tu Sawaal Hoti.
Sab Jaanate Hain Main Nasha Nahi Karata,
Magar Main Bhi Pee Leta Agar Tu Sharaab Hoti..


Saagare-Chashm Se Ham Baadaaparast
May-E-Deedaar Piya Karate Hain!


सागरे-चश्म से हम बादापरस्त
मय-ए-दीदार पिया करते हैं!



शायरी वो नही लिखते हैं,
जो शराब से नशा करते हैं
शायरी तो वो लिखते हैं,
जो यादों से नशा करते हैं..


Shayari Wo Nahi Likhate Hai,
Jo Sharab Se Nasha Karate Hai.
Shayari To Wo Likhate Hai,
Jo Yaado Se Nasha Karate Hain..


Kaun Kahata Hai Ki
Gamon Ko Bhula Detee Hai Sharaab,
Ye To Vo Saathee Hai
Jo Dard Ko Baant Letee Hai.


कौन कहता है कि
ग़मों को भुला देती है शराब,
ये तो वो साथी है
जो दर्द को बाँट लेती है।


Kya Bataen Tere Jaane Ke Baad
Is Dil Par Kya-Kya Beetee Hai,
Ab To Ham Sharaab Ko
Aur Sharaab Hamen Peetee Hai.


क्या बताएं तेरे जाने के बाद
इस दिल पर क्या-क्या बीती है,
अब तो हम शराब को
और शराब हमें पीती है।



ज़ाहिद शराब पीने से ,
क़ाफ़िर हुआ मैं क्यों,
क्या डेढ़ चुल्लू पानी में ,
ईमान बह गया?


Zahid Sharab Peene Se,
Kafir Hua Main Kyu?
Kya Dedh Chullu Pani Me,
Imaan Bah Gaya?


Na Zakhm Bhare,
Na Sharab Sahara Huyi,
Na Wo Bapas Laute,
Na Mohabbat Dobara Huyi.


ना ज़ख्म भरे,
ना शराब सहारा हुई,
ना वो वापस लौटे,
ना मोहब्बत दोबारा हुई।


Tumhaaree Aankh Kee Tauheen Hai Jara Socho
Tumhaara Chaahane Vaala Sharaab Peeta Hai!


तुम्हारी आँख की तौहीन है जरा सोचो
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है!



आज इतनी पिला साकी के मैकदा डुब जाए
तैरती फिरे शराब में कश्ती फकीर की.


Aaj Itani Pila Saki Ke Maikada Dub Jaye,
Tairati Fire Sharab Me Kashti Fakir Ki.

Sabake Sur Bigad Gae Hain
Har Laphz Beemaar Hai,
Kisee Par ‘May’ Ka Nasha Chhaaya Hai
To Koee ‘Main’ Ke Nashe Mein Giraphtaar Hai.


सबके सुर बिगड़ गए हैं
हर लफ्ज़ बीमार है,
किसी पर ‘मय’ का नशा छाया है
तो कोई ‘मैं’ के नशे में गिरफ्तार है।



कभी मौक़ा लगे,
कड़वे दो घूँट चख लेना
ज़रा तेरे लिये शराब छोड़ आए हैं.


Kabhi Mauka Lage,
Ladawe Do Ghunt Chakh Lena,
Jara Tere Liye Sharab Chhod Aaye Hai.


Tabasara Kar Rahe Hain Duniya Par
Chadan Bachche Sharaab Khaane Mein।


तबसरा कर रहे हैं दुनिया पर
चदं बच्चे शराब खाने में।


Hum Bhi Piya Karte The
Wo Bhi Din The Jab Hum Bhi Piya Karte The,
Yun Na Karo Humse Peene Pilane Ki Baat,
Jitni Tumhare Jaam Mein Hai Sharab,
Utni Hum Paimane Mein Chod Diya Karte The.


वो भी दिन थे जब हम भी पिया करते थे,
यूँ न करो हमसे पीने पिलाने की बात,
जितनी तुम्हारे जाम में है शराब,
उतनी हम पैमाने में छोड़ दिया करते थे।


Aaj Itanee Pila Saakee Ke Maikada Dub Jae
Tairatee Phire Sharaab Mein Kashtee Phakeer Kee


आज इतनी पिला साकी के मैकदा डुब जाए
तैरती फिरे शराब में कश्ती फकीर की


Giri Mili Ek Botal Sharab Ki To Aisa Laga Mujhe
Jaise Bikhra Pada Tha Ek Raat Ka Sukoon Kisi Ka.


गिरी मिली एक बोतल शराब की तो ऐसा लगा मुझे
जैसे बिखरा पड़ा था एक रात का सुकून किसी का।


Tumhaaree Neem Nigaahee Mein Na Jaane Kya Tha
Sharaab Saamane Aayee To Phaink Dee Mainne


तुम्हारी नीम निगाही में न जाने क्या था
शराब सामने आयी तो फैंक दी मैंने


Hamane Hosh Sambhaala To Sambhaala Tumako
Tumane Hosh Sambhaala To Sambhalane Na Diya


हमने होश संभाला तो संभाला तुमको
तुमने होश संभाला तो संभलने न दिया


Mujhe Aisi Sharab Bata Ai Dost,
Nasha-E-Ishq Utaar Paun Main.


मुझे ऐसी शराब बता ऐ दोस्त,
नशा-ए-इश्क उतार पाऊ मै।


Thodi Si Pee Sharab Thodi Si Uchhal Di,
Kuchh Iss Tarah Se Humne Jawaani Nikaal Di.


थोड़ी सी पी शराब थोड़ी सी उछाल दी,
कुछ इस तरह से हमने जवानी निकाल दी।


Mai Sharaabee Qyoon Hua...
Ye Na Poochh Mai Sharaabee Qyoon Hua,
Bas Yoon Samajh Le..
Gamon Ke Bojh Se,
Nashe Kee Botal Sastee Lagee .


मै शराबी क़्यूं हुआ...
ये ना पूछ मै शराबी क़्यूं हुआ,
बस यूं समझ ले..
गमों के बोझ से,
नशे की बोतल सस्ती लगी ।


Zaahid Sharab Peene De Masjid Me Baith Kar,
Ya Wo Jagah Bata De Jahaan Par Khuda Na Ho.


ज़ाहिद शराब पीने दे मस्जिद में बैठ कर,
या वो जगह बता दे जहाँ पर ख़ुदा न हो।


Mast Karna Hai To Khum Munh Se Laga De Saqi,
Tu Pilayega Kahan Tak Mujhe Paimane Se.


मस्त करना है तो खुम मुँह से लगा दे साकी,
तू पिलाएगा कहाँ तक मुझे पैमाने से।


Log Achchhi Hi Cheejon Ko Yahan Kharab Kahte Hain,
Dava Hai Hazaar Gamo Ki Use Sharab Kahte Hain.


लोग अच्छी ही चीजों को यहाँ ख़राब कहते हैं,
दवा है हज़ार ग़मों की उसे शराब कहते हैं।


टूटे तेरी निगाह से अगर दिल हबाब का
पानी भी फिर पिएं तो मज़ा दे शराब का.


Tute Teri Nigaho Se Agar Dil Habaab Ka
Pani Bhi Fir Peeye To Maza De Sharab Ka.


सोच था कुछ और,
लेकिन हुआ कुछ और
इसीलिए ये भुलाने के लिए चले गए शराब की ओर


Soch Tha Kuchh Aur Lekin Hua Kuchh Aur
Isliye Ye Bhulane Ke Liye Chale Gaye
Sharab Ki Aor.


Zaahid Sharaab Peene Se ,
Qaafir Hua Main Kyon..
Kya Dedh Chulloo Paanee Mein ,
Eemaan Bah Gaya….!


ज़ाहिद शराब पीने से ,
क़ाफ़िर हुआ मैं क्यों।।
क्या डेढ़ चुल्लू पानी में ,
ईमान बह गया….!


Mile To Bichhade Hue May-Kade Ke Dar Pe Mile,
Na Aaj Chaand Hee Doobe Na Aaj Raat Dhale !


मिले तो बिछड़े हुए मय-कदे के दर पे मिले,
न आज चाँद ही डूबे न आज रात ढले !


May Mein Vah Baat Kahaan Jo Tere Deedaar Mein Hai,
Jo Gira Phir Na Use Kabhee Sambhalate Dekha .

-Meer Takee Meer
मय में वह बात कहां जो तेरे दीदार में है,
जो गिरा फिर न उसे कभी संभलते देखा ।

-मीर तकी मीर

Unheen Ke Hisse Mein Aatee Hai Ye Pyaas Aksar,
Jo Doosaron Ko Pilaakar Sharaab Peete Hain !


उन्हीं के हिस्से में आती है ये प्यास अक्सर,
जो दूसरों को पिलाकर शराब पीते हैं !


Read More

Best Sharab Shayari - शराब पर शायरी | अध्याय 2

सितंबर 27, 2019


Related image
Rooh Kis Mast Ki Pyasi Gayee Maikhane Se
May Udi Jaati Hai Saqi Tere Paimane Se

रूह किस मस्त की प्यासी गयी मयखाने से
मय उड़ी जाती है साक़ी तेरे पैमाने से



उस शख्स पर शराब का पीना हराम है,
जो रहके मैक़दे में भी इन्सां न हो सका.

Us Shakhs Par Sharab Ka Peena Haraam Hai
Jo Rahake Maikade Me Insan N Ho Saka.


Too Ne Kasam May-Kashee Kee Khayi Hai ‘Ghalib’
Teri Kasam Ka Kuchh Aitbaar Nahi Hai..
-Mirza Ghalib

तू ने कसम मय-कशी की खाई है ‘ग़ालिब’
तेरी कसम का कुछ एतिबार नही है..

-मिर्ज़ा ग़ालिब


May-Khana-E-Hastee Mein May-Kash Vahee May-Kash Hai,
Sambhale To Bahak Jae, Bahake To Sambhal Jae !


मय-ख़ाना-ए-हस्ती में मय-कश वही मय-कश है,
सँभले तो बहक जाए, बहके तो सँभल जाए !


के आज तो शराब ने भी अपना रंग दिखा दिया,
दो दुश्मनो को गले से लगवा, दोस्त बनवा दिया.

Ke Aaj To Sharab Ne Bhi Apna Rang Dikha Diya
Do Dushmano Ko Gale Se Lagawa,
Dost Bana Diya.


पी के रात को हम उनको भुलाने लगे,
शराब में गम को मिलाने लगे,

दारू भी बेवफा निकली यारों,
नशे में तो वो और भी याद आने लगे..

Pee Ke Raat Ko Hum Unko Bhulane Lage,
Sharab Me Gam Ko Milane Lage.


Daru Bewafa Nikali Yaaro,

Nashe Me To Wo Aur Bhi Yaad Aane Lage..


Na Jaane Us Roj Nashe Mein Kya Kah Diya Hamane,
Ab Ham Mayakhaane Jaate Hain Aur Mahafilen Jaim Jaatee Hain.

न जाने उस रोज नशे में क्या कह दिया हमने,
अब हम मयखाने जाते हैं और महफ़िलें जैम जाती हैं।


Mujhe Yakeen Hai Ki Duniya Me Dard Barh Jayein,
Agar Ye Peene Pilane Ke Ehtemam Na Ho.

मुझे यकीन है की दुनिया में दर्द बढ़ जाएँ,

अगर ये पीने पिलाने के एहतमाम हो।


मत पूछ उसके मैखाने का पता ऐ साकी,
उसके शहर का तो पानी भी नशा देता है.

Mat Punchh Usake Maikhane Ka Pata E Saki,
Usake Shahar Ka Pani Bhi Nasha Deta Hai.


बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये
के वो आज नजरों से अपनी पिलाये,

मजा तो तब ही आये पीने का यारो,
शराब हम पियें और नशा उनको हो जाए..


Baithe Hai Dil Me Ye Arman Jagaye
Ke Wo Aaj Nazaro Se Apani Pilaye.


Maza To Tab Hi Aaye Peene Ka Yaaro,
Sharab Ham Peeye Aur Nasha Unako Ho Jaaye..


रह गई जाम में अंगड़ायाँ लेके शराब,
हम से माँगी न गई उन से पिलाई न गई


हर जाम पी गया मैं, ऐ दर्दे-जिंदगानी,
फिर भी बड़ा तरसा हूं,
कुछ और शराब दे दो.


Har Jaam Pee Gaya Main,
E Darde-Zindagani,
Fir Bhi Tarasa Hun Kuchh Aur Sharab De Do.


Chhalakate Hothon Se Chhu Ke,
Hoton Ko Unhone Pyala Bana Dala,
Paas Aaye Kuch Wo Aise,
Zindagi Ko Unhone Madhushala Bana Dala.


छलकते होठो से छू के,
होठो को उन्होंने प्याला बना डाला,
पास आयी कुछ वो ऐसे,
जिन्दगी को उन्होंने मधुशाला बना डाला।


Meri Tabahi Ka Ilzaam Ab Sharab Par Hai,
Karta Bhi Kya Aur Tum Par Jo Aa Rahi Thi Baat.

मेरी तबाही का इल्ज़ाम अब शराब पर है,
करता भी क्या और तुम पर जो आ रही थी बात।


Nasha-E-May Se Kabhi Pyaas Bujhi Hai Dil Kee,
Tashnagee Aur Badha Lae Kharaabaat Se Ham !


नशा-ए-मय से कभी प्यास बुझी है दिल की,
तश्नगी और बढ़ा लाए खराबात से हम !


Kabhee Dekhenge Ai Jaam Tujhe Hothon Se Laga Kar,
Too Mujh Mein Utarta Hai Ki Main Tujh Mein Utarta Hoon.


कभी देखेंगे ऐ जाम तुझे होठों से लगाकर,
तू मुझमें उतरता है कि मैं तुझमें उतरता हूँ।



Ik Sirf Hameen May Ko Aankhon Se Pilaate Hain
Kehne Ko To Duniya Mein Maikhane Hazaaron Hain!

-Shaharayaar

इक सिर्फ़ हमीं मय को आँखों से पिलाते हैं
कहने को तो दुनिया में मयख़ाने हज़ारों हैं!

-शहरयार


Sharaab Ke Bhee Apane Hee Rang Hain Saakee
Koee Aabaad Hokar Peeta Hai,
To Koee Barbaad Hokar Peeta Hai.


शराब के भी अपने ही रंग हैं साकी
कोई आबाद होकर पीता है,
तो कोई बर्बाद होकर पीता है।


Pada Hai Aks Jo Rukhsar-E-Shola-E-May Ka
To Aaeene Teri Yaadon Ke Jagamagae Hain
~Khursheed Ahmad Zaamee

पड़ा है अक्स जो रूख़्सार-ए-शोला-ए-मय का
तो आईने तेरी यादों के जगमगाए हैं

~ख़ुर्शीद अहमद ज़ामी


Ab To Utani Bhi Baaki Nahin May-Khaane Mein,
Jitni Ham Chhod Diya Karte The Paimaane Mein.

अब तो उतनी भी बाकी नहीं मय-ख़ाने में,
जितनी हम छोड़ दिया करते थे पैमाने में।


Qayamat Ke Aane Mein Rindo Ko Shak Tha
Jo Dekha To Vaij Chale Aa Rahe Hai
Baharon Mein Bhee May Se Parahej Hai Tauba
‘Khumaar Aap Kafir Hue Ja Rahe Hai..

Khumaar Bankavee


कयामतके आने में रिंदो को शक था
जो देखा तो वाइज चले आ रहे है
बहारों में भी मय से परहेज है तौबा
‘ख़ुमार’आप काफ़िर हुए जा रहे है..

ख़ुमार बंकवी


Yoon Hee Badnaam Kar Diya Hai Duniya Walon Ne Mayakhaanon Ko,
Jo Nasha Shabaab Mein Hota Hai Vo Sharaab Mein Kahaan.


यूँ ही बदनाम कर दिया है दुनिया वालों ने मयखानों को,
जो नशा शबाब में होता है वो शराब में कहाँ।


Vo Sahan-E-Baag Mein Aaye Hain May-Kashee Ke Lie
Khuda Kare Ke Har Ik Phool Jaam Ho Jae


वो सहन-ए-बाग़ में आए हैं मय-कशी के लिए
खुदा करे के हर इक फूल जाम हो जाए


Kuchh Bhi Bacha Na Kehne Ko Har Baat Ho Gayi,
Aao Kahin Sharab Peeyen Raat Ho Gayi.


कुछ भी बचा न कहने को हर बात हो गई,
आओ कहीं शराब पिएँ रात हो गई।


उनकी आंखें यह कहती रहती हैं
लोग नाहक शराब पीते हैं.


Unaki Ankhe Yah Lahati Rahati Hai,
Log Nahak Sharab Peete Hai.


साकी तेरा दीदार...
होने को आई शाम,
इन गहराए बादलो में,
तन को लगी शीतल बहार,
तलब हुई मयखानों की।
सोचा मंगा लूँ मदिरा,
करूँ यहीं बैठकर पान,
फिर सोचा चलूँ मयखाने,
करने साकी तेरा दीदार।
किया साकी दीदार तेरा,
चढ़ गई मुझको हाला,
चढ़ी हाला मुझको ऐसी,
नही जग ने सम्भाला।
हुई भोर चढ़ा सूरज,
दिन कब ढल गया,
फिर हुआ वही साकी,
जो पिछली शाम हुआ।
चला मै उसी राह,
जिस राह पर मयखाना था,
पर आज तू नहीं,
यहाँ तो मद्द का प्याला था।
हो आई तलब आज फिर से साकी तेरी,
इस जग से रुसवा हो जाऊँ,
या फिर तु हो जा मेरी।
आज फिर तुमने मुझे बताया कि मै कौन हूँ,
वरना मै तो केवल तुम्हारे भीतर ही समाया था।
हम वो नही साकी,
जो बेकद्र-ऐ-मोहब्बत हो,
हम वो है साकी,
जो शजर-ऐ-मोहब्बत हो।
साकी तेरा दीदार..
.
होने को आई शाम,
इन गहराए बादलो में,
तन को लगी शीतल बहार,
तलब हुई मयखानों की।
सोचा मंगा लूँ मदिरा,
करूँ यहीं बैठकर पान,
फिर सोचा चलूँ मयखाने,
करने साकी तेरा दीदार।
किया साकी दीदार तेरा,
चढ़ गई मुझको हाला,
चढ़ी हाला मुझको ऐसी,
नही जग ने सम्भाला।
हुई भोर चढ़ा सूरज,
दिन कब ढल गया,
फिर हुआ वही साकी,
जो पिछली शाम हुआ।
चला मै उसी राह,
जिस राह पर मयखाना था,
पर आज तू नहीं,
यहाँ तो मद्द का प्याला था।
हो आई तलब आज फिर से साकी तेरी,
इस जग से रुसवा हो जाऊँ,
या फिर तु हो जा मेरी।
आज फिर तुमने मुझे बताया कि मै कौन हूँ,
वरना मै तो केवल तुम्हारे भीतर ही समाया था।
हम वो नही साकी,
जो बेकद्र-ऐ-मोहब्बत हो,
हम वो है साकी,
जो शजर-ऐ-मोहब्बत हो।


Na Zakhm Bhare,
Na Sharab Sahara Hui,
Na Wo Wapas Lauti Na Mohabbat Dobara Hui.


न जख्म भरे,
न शराब सहारा हुई
न वो वापस लौटी न मोहब्बत दोबारा हुई।


दारु चढ के उतर जाती है
पैसा चढ जाये तो उतरता नही
आप अपने नशे में जीते है
हम जरा सी शराब पीते है..

गुलज़ार


Daru Chadh Ke Utar Jaati Hai,
Paisa Chadh Jaye To Utarta Nahi.
Aap Apne Nashe Mein Jeete Hai,
Ham Jara Si Sharab Peete Hai.


Ek Sharab Ki Botal Daboch Rakhi Hai,
Tujhe Bhulane Ki Tarkeeb Soch Rakhi Hai.


एक शराब की बोतल दबोच रखी है,
तुझे भुलाने की तरकीब सोच रखी है।


Parada To Hosh Vaalon Se Kiya Jaata Hai Huzoor,
Tum Benaqaab Chale Aao Ham To Nashe Mein Hain.


परदा तो होश वालों से किया जाता है हुज़ूर,
तुम बेनक़ाब चले आओ हम तो नशे में हैं।


Tum Kya Jano Sharab Kaise Pilayi Jati Hai,
Kholne Se Pehle Botal Hilayi Jati Hai,


Phir Aawaz Lagai Jati Hai Aa Jao Tute Dil Walo,

Yehan Darde-Dil Ki Dawa Pilayi Jati Hai.


तुम क्या जानो शराब कैसे पिलायी जाती है,
खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती है,


फिर अबाज़ लगाई जाती है आ जाओ टूटे दिल वालो,
यहाँ दर्दे-दिल की दबा पिलाई जाती है।


जाम पे जाम पीने से क्या फायदा दोस्तों,
रात को पी हुयी शराब सुबह उतर जाएगी,


अरे पीना है तो दो बूंद बेवफा के पी के देख
सारी उमर नशे में गुज़र जाएगी ..


Jaam Pe Jaam Peene Se Kya Fayda Dosto,
Raat Ko Pee Huyi Sharab Subah Utar Jaayegi,


Are Peena Hai To Do Bund Bewafa Ke Pee Ke Dekh,

Sari Umar Nashe Me Guzar Jayegi..


थोड़ी सी पी शराब थोड़ी उछाल दी,
कुछ इस तरह से हमने जवानी निकाल दी,

Thodi Si Pee Sharab Thodi Uchhal Di,
Kuchh Is Tarah Se Hamane Jawaani Nikal Di..


May-Khaana Salamat Hai To Ham Surkhee-May Se,
Tazeen-E-Dar-O-Baam-E-Haram Karate Rahenge !


मय-ख़ाना सलामत है तो हम सुर्ख़ी-मय से,
तज़ईन-ए-दर-ओ-बाम-ए-हरम करते रहेंगे !


Kahte Hai Peene Wale Mar Jaate Hai Jawani Me,
Hamne To Bujurgon Ko Jabaan Hote Dekha Hai Maikhane Me.


कहते हैं पीने वाले मर जाते हैं जवानी में,
हमने तो बुजुर्गों को जवान होते देखा है मैखाने में।


Shokhiyon Mein Ghola Jaye Phoolon Ka Sharab
Us Mein Phir Milayi Jaye Thodi Si 
Sharab
Hoga Yoon Nasha Jo Taiyyaar Vo Pyaar 
Hai
-Neeraj

शोखियों में घोला जाये फूलों का शबाब
उस में फिर मिलाई जाये थोड़ी सी शराब
होगा यूँ नशा जो तैय्यार वो प्यार हैं

-नीरज

Bahut Ameer Hoti Hai Ye Sharab Ki Botale,
Paisa Chahe Jo Bhi Lag Jaye Sare Gam Khareed Leti Hain.


बहुत अमीर होती है ये शराब की बोतलें,
पैसा चाहे जो भी लग जाए सारे ग़म ख़रीद लेतीं हैं।


Toote Teri Nigah Se Agar Dil Habaab Ka
Pani Bhi Phir Pien To Maza De Sharab Ka


टूटे तेरी निगाह से अगर दिल हबाब का
पानी भी फिर पिएं तो मज़ा दे शराब का


मुझ तक कब उनकी बज़्म में आता था दौर-ए-जाम
साक़ी ने कुछ मिला न दिया हो शराब में.


Mujh Tak Kab Unki Bazm Mein Aata Tha Daur-E-Jaam,
Saki Ne Kuchh Mila Naa Diya Ho Sharab Me.


Nigah-E-Saqi Se Paiham Chhalak Rahi Hai Sharab,
Pio Kee Peene-Pilane Ki Raat Aayi Hai !


निगाह-ए-साक़ी से पैहम छलक रही है शराब,
पिओ की पीने-पिलाने की रात आई है !


Jigar Ki Aag Bujhe Jisse Jald Wo Shay La,
Laga Ke Barf Me Saqi,
Surahi-E-May La.


जिगर की आग बुझे जिससे जल्द वो शय ला,
लगा के बर्फ़ में साक़ी,
सुराही-ए-मय ला।


Ham To Samajhe The Ke Barasaat Mein Barsegi Sharab
Aayi Barsaat To Barsaat Ne Dil Tod Diya !


हम तो समझे थे के बरसात में बरसेगी शराब
आई बरसात तो बरसात ने दिल तोड़ दिया !


Maikade Band Kare Lakh Zamane Wale,
Shahar Me Kam Nahi Aankho Se Pilane Wale.


मैकदे बंद करें लाख जमाने वाले,
शहर में कम नहीं आँखों से पिलाने वाले।


पी रहा हूँ दोस्तों...
मैं खुदा का नाम लेकर पी रहा हूँ दोस्तों,
ज़हर भी इसमें अगर होगा दवा हो जाएगा,

सब उसी के हैं,
हवा,
खुशबू,
ज़मीनो-आसमाँ,
मैं जहाँ भी जाऊँगा उसको पता हो जाएगा।

मय छलक जाए तो कमजर्फ हैं पीने वाले,
जाम खाली हो तो साकी तेरी रूसवाई है।

पी रहा हूँ दोस्तों..
.
मैं खुदा का नाम लेकर पी रहा हूँ दोस्तों,
ज़हर भी इसमें अगर होगा दवा हो जाएगा,

सब उसी के हैं,
हवा,
खुशबू,
ज़मीनो-आसमाँ,
मैं जहाँ भी जाऊँगा उसको पता हो जाएगा।

मय छलक जाए तो कमजर्फ हैं पीने वाले,
जाम खाली हो तो साकी तेरी रूसवाई है।


Piyoon Sharab Agar Khum Bhi Dekh Loon Do Chaar
Ye Sheesha-O-Qadah-O-Kooza-O-Suboo Kya Hai

~Ghalib

पियूँ शराब अगर ख़ुम भी देख लूँ दो चार
ये शीशा-ओ-क़दह-ओ-कूज़ा-ओ-सुबू क्या है

~ग़ालिब


‘Haalee’ Nashaat-E-Nagama-O-May Dhoondhate Ho Ab
Aaye Ho Waqt-E-Subah..
Rahe Raat Bhar Kahaan


‘हाली’ नशात-ए-नग़मा-ओ-मय ढूंढते हो अब
आये हो वक़्त-ए-सुबह..
रहे रात भर कहाँ


Gam-E-Ishq Mein Maza Tha Jo Use Samajh Ke Khaate,
Ye Vo Zehar Hai Ki Aakhir May-E-Khush-Gawar Hota !

– Daag Dehlvi


ग़म-ए-इश्क़ में मज़ा था जो उसे समझ के खाते,
ये वो ज़हर है कि आख़िर मय-ए-ख़ुश-गवार होता !

– दाग़ देहलवी


Tumhen Jo Sochen To Hota Hai Kaif-Sa Taaree,
Tumhaara Zikr Bhee Jaame-Sharaab Jaisa Hai.!


तुम्हें जो सोचें तो होता है कैफ़-सा तारी,
तुम्हारा ज़िक्र भी जामे-शराब जैसा है.!


Bas Ek Itanee Vajah Hai Mere Na Peene Kee
Sharaab Hai Vahee Saaqee Magar Gilaas Nahin


बस एक इतनी वजह है मेरे न पीने की
शराब है वही साक़ी मगर गिलास नहीं


Read More