Nidhi Narwal Poetry in Hindi Written in English | Nidhi Narwal Quotes


मौत ज़िन्दगी की तरफ नहीं आ रही
ज़िन्दगी मौत की तरफ जा रही है

Maut Zindagee Kee Taraph Nahin Aa Rahee
Zindagee Maut Kee Taraph Ja Rahee Hai


कितना कीचड़ जमा हुआ
था उसके फटे जूतों पैर ,

सफ़र कायम कर रहा था
वो मुसाफ़िर हँस-हँसकर ।

Kitana Keechad Jama Hua
Tha Usake Phate Jooton Pair ,

Safar Kaayam Kar Raha Tha
Vo Musaafir Hans-Hansakar .


किस हद तक जाना होगा अब हदों को भुलाने के
लिए
किस तरह का ज़ख्म दू उस बेवफ़ा को रुलाने के
लिए

Kis Had Tak Jaana Hoga Ab Hadon Ko Bhulaane Ke
Lie
Kis Tarah Ka Zakhm Doo Us Bevafa Ko Rulaane Ke
Lie


भाग रही है ज़िन्दगी
छूटकर वक़्त के पहरों से
मंज़िलें है किस तरफ़
ये पूछ रही है बहरों से
माथे पर हथेली लगाए
है लड़ रही दो पहरों से
बह रही है ज़िन्दगी
तेज़ समंदर की लहरों से

Bhaag Rahee Hai Zindagee
Chhootakar Vaqt Ke Paharon Se
Manzilen Hai Kis Taraf
Ye Poochh Rahee Hai Baharon Se
Maathe Par Hathelee Lagae
Hai Lad Rahee Do Paharon Se
Bah Rahee Hai Zindagee
Tez Samandar Kee Laharon Se,


सांस भूल चूका था सुखकर एक गुलाब
मैंने उसे फिर से खिला दिया मेरी एक नज़र में

Saans Bhool Chooka Tha Sukhakar Ek Gulaab
Mainne Use Phir Se Khila Diya Meree Ek Nazar Mein


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status