Nidhi Narwal Poetry Lyrics | Nidhi Narwal Poetry in Hindi | Nidhi Narwal Quotes


राख हूँ बेकार नहीं मै लपटों से जूझ कर आई हूँ
मै अपनी कीमत बुझते अंगारो से पूछ कर आई हूँ

Raakh Hoon Bekaar Nahin Mai Lapaton Se Joojh Kar Aaee Hoon
Mai Apanee Keemat Bujhate Angaaro Se Poochh Kar Aaee Hoon


खुले कमरे में कैद हूँ
आफ़त तो बस यही है

Khule Kamare Mein Kaid Hoon
Aafat To Bas Yahee Hai


जो जहन के अंदर से वार करता है उसका क्या करुँ
इंसान तो फिर भी खंजर दिखा के डराता पहले है

Jo Jahan Ke Andar Se Vaar Karata Hai Usaka Kya Karun
Insaan To Phir Bhee Khanjar Dikha Ke Daraata Pahale Hai


मेरी हदों के दायरे मेरी नज़र से भी आगे है
मेरी मंज़िलें इस सफ़र से भी आगे है

Meree Hadon Ke Daayare Meree Nazar Se Bhee Aage Hai
Meree Manzilen Is Safar Se Bhee Aage Hai


तू तख़ल्लुस हटा
कर शेर लिखता है
मै मायनों मे नाम
तेरा फिर भी पढ़
लेती हूँ

Too Takhallus Hata
Kar Sher Likhata Hai
Mai Maayanon Me Naam
Tera Phir Bhee Padh
Letee Hoon


छोड़ ज़िन्दगी अब और क्या पैगाम दू
तुझे
तेरी ही अदालत में कितने बयान दू
तुझे

Chhod Zindagee Ab Aur Kya Paigaam Doo
Tujhe
Teree Hee Adaalat Mein Kitane Bayaan Doo
Tujhe


एक तुझे देखना और सुनना ही जीनत है मेरी,

मै काजल और झुमके का क्या करू बता

Ek Tujhe Dekhana Aur Sunana Hee Jeenat Hai Meree,

Mai Kaajal Aur Jhumake Ka Kya Karoo Bata


तुम क्या कमज़ोरी ढूंढ रहे हो मेरी शिकंज में
मेरे हौंसले इस फ़िकर से भी आगे है

Tum Kya Kamazoree Dhoondh Rahe Ho Meree Shikanj Mein
Mere Haunsale Is Fikar Se Bhee Aage Hai


उलझने हज़ार है
तदबीर तो हो कोई
इलज़ाम लगाने को
तक़दीर तो हो कोई
कितनी आफत है
गंभीर तो हो कोई
जकड़ा जाए दिल
जंजीर तो हो कोई

Ulajhane Hazaar Hai
Tadabeer To Ho Koee
Ilazaam Lagaane Ko
Taqadeer To Ho Koee
Kitanee Aaphat Hai
Gambheer To Ho Koee
Jakada Jae Dil
Janjeer To Ho Koee


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status