Gulzar Two Line Shayari in Hindi - गुलज़ार की शायरी | Gulzar Best Shayari, Gulzar Ki Shayari, Gulzar Shayri | अध्याय 3



gulzar, shayari, gulzar best shayari, gulzar shayari, gulzar ki shayari, gulzar shayri, gulzar shayari in urdu, best shayri, sad shayri, best shayri by gulzar, best shayari of gulzar, shayari in hindi, shayri, gulzar best poetry, gulzar sher shayari, gulzar top 10 shayari, gulzar sher o shayari, love shayari, gulzar shayari in hind, gulzar shayari on love, gulzar shayari in hindi, gulzar shayari hindi me
Bahut Mushkil Se Karata Hun Teri Yaadon Ka Karobar,
Munafa Kam Hain,Par Guzara Ho Jata Hain..

बहुत मुश्किल से करता हूँ,तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम है,पर गुज़ारा हो ही जाता है


वो उम्र कम कर रहा था मेरी
मैं साल अपने बढ़ा रहा था

Vo Umr Kam Kar Raha Tha Meree
Main Saal Apane Badha Raha Tha



यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता
कोई एहसास तो दरिया की अना का होता

Yoon Bhee Ik Baar To Hota Ki Samundar Bahata
Koee Ehasaas To Dariya Kee Ana Ka Hota



काँच के पीछे चाँद भी था और काँच के ऊपर काई भी
तीनों थे हम वो भी थे और मैं भी था तन्हाई भी

Kaanch Ke Peechhe Chaand Bhee Tha Aur Kaanch Ke Oopar Koi Bhi
Teeno The Ham Vo Bhee The Aur Main Bhee Tha Tanhaee Bhi



आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Aaina Dekh Kar Tasallee Huee
Ham Ko Is Ghar Mein Jaanata Hai Koi



कोई अटका हुआ है पल शायद
वक़्त में पड़ गया है बल शायद

Koee Ataka Hua Hai Pal Shaayad
Vaqt Mein Pad Gaya Hai Bal Shaayad



शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है

Shaam Se Aankh Mein Namee See Hai
Aaj Phir Aap Kee Kamee See Hai



आँखों से आँसुओं के मरासिम पुराने हैं
मेहमाँ ये घर में आएँ तो चुभता नहीं धुआँ

Aankhon Se Aansuon Ke Maraasim Puraane Hain
Mehamaan Ye Ghar Mein Aaen To Chubhata Nahin Dhuaan



आ रही है जो चाप क़दमों की
खिल रहे हैं कहीं कँवल शायद

Aa Rahee Hai Jo Chaap Qadamon Kee
Khil Rahe Hain Kaheen Kanval Shaayad


कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की

Kitanee Lambee Khaamoshee Se Guzara Hoon
Un Se Kitana Kuchh Kahane Kee Koshish Kee


काई सी जम गई है आँखों पर
सारा मंज़र हरा सा रहता है

Kaee See Jam Gaee Hai Aankhon Par
Saara Manzar Hara Sa Rahata Hai


उठाए फिरते थे एहसान जिस्म का जाँ पर
चले जहाँ से तो ये पैरहन उतार चले

Uthae Phirate The Ehasaan Jism Ka Jaan Par
Chale Jahaan Se To Ye Pairahan Utaar Chale


Suno.. Jara Rasta To Batana.
Mohabbat Ke Safar Se Wapasi Hain Meri.

सुनो….ज़रा रास्ता तो बताना.
मोहब्बत के सफ़र से, वापसी है मेरी..


कोई न कोई रहबर रस्ता काट गया
जब भी अपनी रह चलने की कोशिश की

Koee Na Koee Rahabar Rasta Kaat Gaya
Jab Bhee Apanee Rah Chalane Kee Koshish Kee


दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

Din Kuchh Aise Guzaarata Hai Koee
Jaise Ehasaan Utaarata Hai Koee


तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं

Tumhaaree Khushk See Aankhen Bhalee Nahin Lagateen
Vo Saaree Cheezen Jo Tum Ko Rulaen, Bhejee Hain


खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं
हवा चले न चले दिन पलटते रहते है

Khulee Kitaab Ke Safhe Ulatate Rahate Hain
Hava Chale Na Chale Din Palatate Rahate Hai


कल का हर वाक़िआ तुम्हारा था
आज की दास्ताँ हमारी है

Kal Ka Har Vaaqia Tumhaara Tha
Aaj Kee Daastaan Hamaaree Hai


सहर न आई कई बार नींद से जागे
थी रात रात की ये ज़िंदगी गुज़ार चले

Sahar Na Aaee Kaee Baar Neend Se Jaage
Thee Raat Raat Kee Ye Zindagee Guzaar Chale


ज़मीं सा दूसरा कोई सख़ी कहाँ होगा
ज़रा सा बीज उठा ले तो पेड़ देती है

Zameen Sa Doosara Koee Sakhee Kahaan Hoga
Zara Sa Beej Utha Le To Ped Detee Hai


आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है

Aap Ke Baad Har Ghadee Ham Ne
Aap Ke Saath Hee Guzaaree Hai


हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते

Haath Chhooten Bhee To Rishte Nahin Chhoda Karate
Vaqt Kee Shaakh Se Lamhe Nahin Toda Karate


TAG:
gulzar, shayari, gulzar best shayari, gulzar shayari, gulzar ki shayari, gulzar shayri, gulzar shayari in urdu, best shayri, sad shayri, best shayri by gulzar, best shayari of gulzar, shayari in hindi, shayri, gulzar best poetry, gulzar sher shayari, gulzar top 10 shayari, gulzar sher o shayari, love shayari, gulzar shayari in hind, gulzar shayari on love, gulzar shayari in hindi, gulzar shayari hindi me