Gulzar Shayari अध्याय लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

Gulzar Two Line Shayari in Hindi - गुलज़ार की शायरी | Gulzar Best Shayari, Gulzar Ki Shayari, Gulzar Shayri | अध्याय 3

नवंबर 27, 2019



gulzar, shayari, gulzar best shayari, gulzar shayari, gulzar ki shayari, gulzar shayri, gulzar shayari in urdu, best shayri, sad shayri, best shayri by gulzar, best shayari of gulzar, shayari in hindi, shayri, gulzar best poetry, gulzar sher shayari, gulzar top 10 shayari, gulzar sher o shayari, love shayari, gulzar shayari in hind, gulzar shayari on love, gulzar shayari in hindi, gulzar shayari hindi me
Bahut Mushkil Se Karata Hun Teri Yaadon Ka Karobar,
Munafa Kam Hain,Par Guzara Ho Jata Hain..

बहुत मुश्किल से करता हूँ,तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम है,पर गुज़ारा हो ही जाता है


वो उम्र कम कर रहा था मेरी
मैं साल अपने बढ़ा रहा था

Vo Umr Kam Kar Raha Tha Meree
Main Saal Apane Badha Raha Tha



यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता
कोई एहसास तो दरिया की अना का होता

Yoon Bhee Ik Baar To Hota Ki Samundar Bahata
Koee Ehasaas To Dariya Kee Ana Ka Hota



काँच के पीछे चाँद भी था और काँच के ऊपर काई भी
तीनों थे हम वो भी थे और मैं भी था तन्हाई भी

Kaanch Ke Peechhe Chaand Bhee Tha Aur Kaanch Ke Oopar Koi Bhi
Teeno The Ham Vo Bhee The Aur Main Bhee Tha Tanhaee Bhi



आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Aaina Dekh Kar Tasallee Huee
Ham Ko Is Ghar Mein Jaanata Hai Koi



कोई अटका हुआ है पल शायद
वक़्त में पड़ गया है बल शायद

Koee Ataka Hua Hai Pal Shaayad
Vaqt Mein Pad Gaya Hai Bal Shaayad



शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है

Shaam Se Aankh Mein Namee See Hai
Aaj Phir Aap Kee Kamee See Hai



आँखों से आँसुओं के मरासिम पुराने हैं
मेहमाँ ये घर में आएँ तो चुभता नहीं धुआँ

Aankhon Se Aansuon Ke Maraasim Puraane Hain
Mehamaan Ye Ghar Mein Aaen To Chubhata Nahin Dhuaan



आ रही है जो चाप क़दमों की
खिल रहे हैं कहीं कँवल शायद

Aa Rahee Hai Jo Chaap Qadamon Kee
Khil Rahe Hain Kaheen Kanval Shaayad


कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की

Kitanee Lambee Khaamoshee Se Guzara Hoon
Un Se Kitana Kuchh Kahane Kee Koshish Kee


काई सी जम गई है आँखों पर
सारा मंज़र हरा सा रहता है

Kaee See Jam Gaee Hai Aankhon Par
Saara Manzar Hara Sa Rahata Hai


उठाए फिरते थे एहसान जिस्म का जाँ पर
चले जहाँ से तो ये पैरहन उतार चले

Uthae Phirate The Ehasaan Jism Ka Jaan Par
Chale Jahaan Se To Ye Pairahan Utaar Chale


Suno.. Jara Rasta To Batana.
Mohabbat Ke Safar Se Wapasi Hain Meri.

सुनो….ज़रा रास्ता तो बताना.
मोहब्बत के सफ़र से, वापसी है मेरी..


कोई न कोई रहबर रस्ता काट गया
जब भी अपनी रह चलने की कोशिश की

Koee Na Koee Rahabar Rasta Kaat Gaya
Jab Bhee Apanee Rah Chalane Kee Koshish Kee


दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

Din Kuchh Aise Guzaarata Hai Koee
Jaise Ehasaan Utaarata Hai Koee


तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं

Tumhaaree Khushk See Aankhen Bhalee Nahin Lagateen
Vo Saaree Cheezen Jo Tum Ko Rulaen, Bhejee Hain


खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं
हवा चले न चले दिन पलटते रहते है

Khulee Kitaab Ke Safhe Ulatate Rahate Hain
Hava Chale Na Chale Din Palatate Rahate Hai


कल का हर वाक़िआ तुम्हारा था
आज की दास्ताँ हमारी है

Kal Ka Har Vaaqia Tumhaara Tha
Aaj Kee Daastaan Hamaaree Hai


सहर न आई कई बार नींद से जागे
थी रात रात की ये ज़िंदगी गुज़ार चले

Sahar Na Aaee Kaee Baar Neend Se Jaage
Thee Raat Raat Kee Ye Zindagee Guzaar Chale


ज़मीं सा दूसरा कोई सख़ी कहाँ होगा
ज़रा सा बीज उठा ले तो पेड़ देती है

Zameen Sa Doosara Koee Sakhee Kahaan Hoga
Zara Sa Beej Utha Le To Ped Detee Hai


आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है

Aap Ke Baad Har Ghadee Ham Ne
Aap Ke Saath Hee Guzaaree Hai


हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते

Haath Chhooten Bhee To Rishte Nahin Chhoda Karate
Vaqt Kee Shaakh Se Lamhe Nahin Toda Karate


TAG:
gulzar, shayari, gulzar best shayari, gulzar shayari, gulzar ki shayari, gulzar shayri, gulzar shayari in urdu, best shayri, sad shayri, best shayri by gulzar, best shayari of gulzar, shayari in hindi, shayri, gulzar best poetry, gulzar sher shayari, gulzar top 10 shayari, gulzar sher o shayari, love shayari, gulzar shayari in hind, gulzar shayari on love, gulzar shayari in hindi, gulzar shayari hindi me

Read More

Gulzar Sher in Hindi | गुलज़ार की शायरी | Gulzar Best Shayari | Gulzar Ki Shayari | अध्याय 2

नवंबर 20, 2019


gulzar, shayari, gulzar best shayari, gulzar shayari, gulzar ki shayari, gulzar shayri, gulzar shayari in urdu, best shayri, sad shayri, best shayri by gulzar, best shayari of gulzar, shayari in hindi, shayri, gulzar best poetry, gulzar sher shayari, gulzar top 10 shayari, gulzar sher o shayari, love shayari, gulzar shayari in hind, gulzar shayari on love, gulzar shayari in hindi, gulzar shayari hindi me
सहमा सहमा डरा सा रहता है
जाने क्यूं जी भरा सा रहता है

Sehma Sehma Dara Sa Rehta Hai
Jaane Kyun Jee Bhara Sa Rehta Hai


हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में
रुक कर अपना ही इंतिज़ार किया

Ham Ne Aksar Tumhaaree Raahon Mein
Ruk Kar Apna Hi Intezaar Kiya


जब भी ये दिल उदास होता है
जाने कौन आस-पास होता है

Jab Bhi Ye Dil Udas Hota Hai
Jaane Kaun Aas-Paas Hota Hai


मैं चुप कराता हूं हर शब उमड़ती बारिश को
मगर ये रोज़ गई बात छेड़ देती है


Main Chup Karaata Hoon Har Shab Umadatee Barish Ko
Magar Ye Roz Gaee Baat Chhed Detee Hai


हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक्त की शाख से लम्हे नहीं तोड़ा करते


Haath Chhooten Bhi To Rishtey Nahi Chhoda Karte
Vakt Kee Shaakh Se Lamhe Nahin Toda Karate


ख़ुशबू जैसे लोग मिले अफ़्साने में
एक पुराना ख़त खोला अनजाने में


Khushaboo Jaise Log Mile Afsane Mein
Ek Puraana Khat Khola Anajaane Mein


कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ़
किसी की आंख में हम को भी इंतिज़ार दिखे


Kabhee To Chaunk Ke Dekhe Koee Hamaaree Taraf
Kisee Kee Aankh Mein Ham Ko Bhee Intizaar Dikhe


आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है


Aap Ke Baad Har Ghadee Ham Ne
Aap Ke Saath Hee Guzaaree Hai


फिर वहीं लौट के जाना होगा
यार ने कैसी रिहाई दी है


Phir Vaheen Laut Ke Jaana Hoga
Yaar Ne Kaisee Rihaee Dee Hai


जिस की आंखों में कटी थीं सदियां
उस ने सदियों की जुदाई दी है

Jis Kee Aankhon Mein Katee Theen Sadiyaan
Us Ne Sadiyon Kee Judaee Dee Hai


TAG:
gulzar, shayari, gulzar best shayari, gulzar shayari, gulzar ki shayari, gulzar shayri, gulzar shayari in urdu, best shayri, sad shayri, best shayri by gulzar, best shayari of gulzar, shayari in hindi, shayri, gulzar best poetry, gulzar sher shayari, gulzar top 10 shayari, gulzar sher o shayari, love shayari, gulzar shayari in hind, gulzar shayari on love, gulzar shayari in hindi, gulzar shayari hindi me

Read More

Gulzar Shayari in Hindi | Gulzar Sher - Gulzar Shayaris on Love | अध्याय 1

नवंबर 12, 2019


gulzar, shayari, gulzar best shayari, gulzar shayari, gulzar ki shayari, gulzar shayri, gulzar shayari in urdu, best shayri, sad shayri, best shayri by gulzar, best shayari of gulzar, shayari in hindi, shayri, gulzar best poetry, gulzar sher shayari, gulzar top 10 shayari, gulzar sher o shayari, love shayari, gulzar shayari in hind, gulzar shayari on love, gulzar shayari in hindi, gulzar shayari hindi me
Aap Ne Auron Se Kaha Sab Kuchh,
Hum Se Bhi Kuchh Kabhi Kahin Kehte.


आप ने औरों से कहा सब कुछ,

हम से भी कुछ कभी कहीं कहते.


Phir Wahi Laut Ke Jaana Hoga,
Yaar Ne Kaisi Rihai Di Hai.

फिर वहीं लौट के जाना होगा,
यार ने कैसी रिहाई दी है.


Der Se Gunjte Hain Sannatey,
Jaise Humko Pukarta Hai Koi.
Kal Ka Har Waqia 
Tha  Tumhara,

Aaj Ki Dastan Hai  Hamari.

देर से गूंजते हैं सन्नाटे,
जैसे हमको पुकारता है कोई.
कल का हर वाक़िया 
था  तुम्हारा,

आज की दास्ताँ है हमारी .


Koi Khamosh Zakhm Lagti Hai,
Zindagi Ek Nazm Lati Hai.


कोई खामोश ज़ख्म लगती है,
ज़िन्दगी एक नज़्म लती है.


Aadatan Tumne Kar Diye Vaade,
Aadatan Humne Aitbaar Kiya.


आदतन तुमने कर दिए वादे,

आदतन हमने ऐतबार किया.


Jis Ki Ankhon Mein Kati Thi Sadiyan,
Usne Sadiyon Ki Judai Di Hai.


जिस की आँखों में काटी थी सदियाँ,
उसने सदियों की जुदाई दी है.


Hum Ne Aksar Tumhari Rahon Mein,
Ruk Kar Apna Hi Intezaar Kiya.

हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में,
रुक कर अपना ही इंतज़ार किया.


Apne Saaye Se Chaunk Jaate Hain,
Umar Guzri Hai Is Qadar Tanha.


अपने साये से चौंक जाते हैं,
उम्र गुजरी है इस क़दर तनहा.


Raakh Ko Bhi Kured Kar Dekho,
Abhi Jalta Ho Koi Pal Shayad.

राख को भी कुरेद कर देखो,
अभी जलता हो कोई पल शायद.


Ek Hi Khwab Ne Saari Raat Jagaya Hai,
Maine Har Karvat Sone Ki Koshish Ki.


एक ही ख्वाब ने सारी रात जगाया है,
मैंने हर करवट सोने की कोशिश की.


TAG:
gulzar, shayari, gulzar best shayari, gulzar shayari, gulzar ki shayari, gulzar shayri, gulzar shayari in urdu, best shayri, sad shayri, best shayri by gulzar, best shayari of gulzar, shayari in hindi, shayri, gulzar best poetry, gulzar sher shayari, gulzar top 10 shayari, gulzar sher o shayari, love shayari, gulzar shayari in hind, gulzar shayari on love, gulzar shayari in hindi, gulzar shayari hindi me

Read More