मैं ऐसी नहीं हूँ | Nidhi Narwal Poetry Main Aisi Nahi Thi | Nidhi Narwal Poetry Lyrics | Main Aisi Nahi Thi Poetry by Nidhi Narwal


Nidhi Narwal Poetry Main Aisi Nahi Thi | मैं ऐसी नहीं हूँ | Nidhi Narwal Poetry Lyrics | Main Aisi Nahi Thi Poetry by Nidhi Narwal

जिस रास्ते पे मैं चल रही थी
मुझे मालूम तक नहीं की जाना कहा है
फिर भी चल रही हूँ
और जिस रस्ते से होकर मैंने यहाँ
तक का सफर तय किया है
उस रास्ते पर यूही 
यू मेरे कदमो के निशान मुझे दिखाई देते है
मगर फिर भी मैं मुड़कर 
उस ओर वापस नहीं जा सकती

मन करता है काश कोई एक तो नामुमकिन
ख्वाइश मांगने का हक़ तो दिया होता खुदा ने
तो वापस वहां तक जाती जहा से सब शुरू हुआ था
मोहब्बत के लिए नहीं,  सपनो के लिए नहीं
 हसरतो के लिए आगाज़ तक जाती
क्योंकि मुझे मिलना है खुद से, और मिलना है उन लोगो से
जो कि तब मेरे साथ थे
जबकि दिन और हम कुछ और ही थे
आज वो हूँ और अनजान हूँ उन लोगो से 
जो मेरे बगल में ,
मेरे सामने फ़क़त बैठे है या खड़े है

हां मगर इन चेहरों से तो वाक़िफ़ हूँ
मेहबूब से बिछड़ जाना बहुत दर्दनाक होता है
मेहबूब से बिछड़ जाना दिल में खलल कर देता है
       
पर यकीन मानो खुद से बिछड़ जाना बदतर है,
 क्योकि
तुम फोटो हाथ में लेकर लोग दर लोग 
पूछ नहीं सकते कि  इसे देखा क्या? 

तुम अखबार में इश्तिहार नहीं छपवा सकते
कि लापता?
तुम छुप छुप कर देख नहीं सकते 
मालूम नहीं करवा सकते
की वो इंसान जो खो गया है अब वो खैरियत से है भी या नहीं?

तुम अपनी इस हालत का जिम्मेदार भी 
भला किसको ठहराओगे कि 
कौन छोड़ गया तुम्हें?
क्योंकि वो इंसान तो तुम खुद हो!!

तुम अगर रूककर एक जगह खड़े होकर, 
शांति से
याद करने की भी कोशिश करोगे ना 
कि तुम कैसे हुआ करते थे?
तो यकीन मानो यादों की जगह बस हार मिलेगी।
ये जीती जागती मौत के जैसा है तुम जिंदा हो..
तुम जिंदा हो!!

मगर तुम्हारा जनाजा बिना चार कंधों के ही उठ चुका 
ऐसे में तुम बस बैठ कर अफ़सोस कर सकते हो 
और वो करके भी तुम्हे बस अफ़सोस ही मिलेगा 

मगर मुझे एक बार रूबरू होना है खुद से
मुझे देखना है, 
मुझे जानना है कि 
आज के दिन आखिर मैं कितनी बर्बाद हूं या 
कितनी और मोहलत बची है मेरे पास 
जिन्दगी तक वापस आने की।

मैं महज़ हाल का लिबास जिसमें 
ख्वाब, 
मोहब्बत, 
दर्द, 
जुस्तजू कुछ भी नहीं है.. 
मैं ये नहीं हूँ

मैं मेरी रूह को कहीं पीछे छोड़ आई हूँ
मुझे वापस जाना है 
मैं अंजाम बन कर बहुत दूर तक आ चुकी 
मुझे एक बार आगाज तक ले चलो
यकीन मानो 
मैं ऐसी नहीं हूँ।


Jis Raaste Pe Main Chal Rahee Thee
Mujhe Maaloom Tak Nahin Kee Jaana Kaha Hai
Phir Bhee Chal Rahee Hoon
Aur Jis Raste Se Hokar Mainne Yahaan
Tak Ka Saphar Tay Kiya Hai
Us Raaste Par Yoohee 
Yoo Mere Kadamo Ke Nishaan Mujhe Dikhaee Dete Hai
Magar Phir Bhee Main Mudakar 
Us or Vaapas Nahin Ja Sakatee

Man Karata Hai Kaash Koee Ek to Naamumakin
Khvaish Maangane Ka Haq to Diya Hota Khuda Ne
To Vaapas Vahaan Tak Jaatee Jaha Se Sab Shuroo Hua Tha
Mohabbat Ke Lie Nahin,  Sapano Ke Lie Nahin
 Hasarato Ke Lie Aagaaz Tak Jaatee
Kyonki Mujhe Milana Hai Khud Se, Aur Milana Hai Un Logo Se
Jo Ki Tab Mere Saath the
Jabaki Din Aur Ham Kuchh Aur Hee the
Aaj Vo Hoon Aur Anajaan Hoon Un Logo Se 
Jo Mere Bagal Mein ,
Mere Saamane Faqat Baithe Hai Ya Khade Hai

Haan Magar in Cheharon Se to Vaaqif Hoon
Mehaboob Se Bichhad Jaana Bahut Dardanaak Hota Hai
Mehaboob Se Bichhad Jaana Dil Mein Khalal Kar Deta Hai
       
Par Yakeen Maano Khud Se Bichhad Jaana Badatar Hai,
 Kyoki
Tum Photo Haath Mein Lekar Log Dar Log 
Poochh Nahin Sakate Ki  Ise Dekha Kya? 

Tum Akhabaar Mein Ishtihaar Nahin Chhapava Sakate
Ki Laapata?
Tum Chhup Chhup Kar Dekh Nahin Sakate 
Maaloom Nahin Karava Sakate
Kee Vo Insaan Jo Kho Gaya Hai Ab Vo Khairiyat Se Hai Bhee Ya Nahin?

Tum Apanee is Haalat Ka Jimmedaar Bhee 
Bhala Kisako Thaharaoge Ki 
Kaun Chhod Gaya Tumhen?
Kyonki Vo Insaan to Tum Khud Ho!!

Tum Agar Rookakar Ek Jagah Khade Hokar, 
Shaanti Se
Yaad Karane Kee Bhee Koshish Karoge Na 
Ki Tum Kaise Hua Karate the?
To Yakeen Maano Yaadon Kee Jagah Bas Haar Milegee.
Ye Jeetee Jaagatee Maut Ke Jaisa Hai Tum Jinda Ho..
Tum Jinda Ho!!

Magar Tumhaara Janaaja Bina Chaar Kandhon Ke Hee Uth Chuka 
Aise Mein Tum Bas Baith Kar Afasos Kar Sakate Ho 
Aur Vo Karake Bhee Tumhe Bas Afasos Hee Milega 

Magar Mujhe Ek Baar Roobaroo Hona Hai Khud Se
Mujhe Dekhana Hai, 
Mujhe Jaanana Hai Ki 
Aaj Ke Din Aakhir Main Kitanee Barbaad Hoon Ya 
Kitanee Aur Mohalat Bachee Hai Mere Paas 
Jindagee Tak Vaapas Aane Kee.

Main Mahaz Haal Ka Libaas Jisamen 
Khvaab, 
Mohabbat, 
Dard, 
Justajoo Kuchh Bhee Nahin Hai.. 
Main Ye Nahin Hoon

Main Meree Rooh Ko Kaheen Peechhe Chhod Aaee Hoon
Mujhe Vaapas Jaana Hai 
Main Anjaam Ban Kar Bahut Door Tak Aa Chukee 
Mujhe Ek Baar Aagaaj Tak Le Chalo
Yakeen Maano 
Main Aisee Nahin Hoon.


TAG:
nidhi narwal, nidhi narwal shayari lyrics in hindi, nidhi narwal poetry lyrics, nidhi narwal poetry in hindi, nidhi narwal quotes, nidhi narwal status, nidhi narwal poetry lyrics in english, nidhi narwal poetry status