Best Sharab Shayari - शराब पर शायरी | अध्याय 4


Related imageख़ुद अपनी मस्ती है जिस ने मचाई है हलचल
नशा शराब में होता तो नाचती बोतल.

Khud Apani Masti Hai Jis Ne Machayi Hai Halachal
Nasha Sharab Me Hota To Nachati Botal..


मदहोश हम हरदम रहा करते हैं,और इल्ज़ाम शराब को दिया करते हैं,
कसूर शराब का नहीं उनका है यारों,
जिनका चेहरा हम हर जाम में
तलाश किया करते हैं..

Madahosh Ham Hardam Raha Karate Hai,
Aur Ilzaam Sharab Ko Diya Karate Hai.
Kasur Sharab Ka Nahi Unaka Hai Yaaro,
Jinaka Chehara Ham Har Jaam Me
Talash Kiya Karate Hai..


Naajar Se Najar Milee To
Poora Mayakhaana Mil Gaya Hamako,
Ab To Teree Yaadon Ka Ek Jaam
Ham Har Shaam Piya Karate Hain.

नाजर से नजर मिली तो
पूरा मयखाना मिल गया हमको,
अब तो तेरी यादों का एक जाम
हम हर शाम पिया करते हैं।


Pyaas Jajbaaton Kee
Mayakhaane Mein Kahaan Bujhatee Hai
E Saakee
Ham To Is Bharee Mahafil Mein
Tanhaeeyaan Baantane Chale Aate Hain.

प्यास जज्बातों की
मयखाने में कहाँ बुझती है
ए साकी
हम तो इस भरी महफ़िल में
तन्हाईयाँ बाँटने चले आते हैं।


इश्क़-ऐ-बेवफ़ाई ने डाल दी है आदत बुरी,
मैं भी शरीफ हुआ करता था इस ज़माने में,
पहले दिन शुरू करता था मस्जिद में नमाज़ से,
अब ढलती है शाम शराब के साथ मैखाने में..

Ishk-E-Bewafayi Ne Daal Di Hai Aadat Buri,
Main Bhi Sharif Hua Karata Tha,
Is Zamane Me.
Pahale Din Shuru Karata Tha Masjid Me Namaz Se,
Ab Dhalati Hai Sham Sharab Ke Sath Maikhane Me..


Toote Hue Paimaane Bekaar Sahee Lekin,
May-Khaane Se Ai Saaqee Baahar To Na Phenka Kar !

टूटे हुए पैमाने बेकार सही लेकिन,
मय-ख़ाने से ऐ साक़ी बाहर तो न फेंका कर !


Pahale Saagar Se To Chhalake May-E-Gulaphaam Ka Rang,
Subah Ke Rang Mein Dhal Jaega Khud Shaam Ka Rang !

पहले सागर से तो छलके मय-ए-गुलफाम का रंग,
सुबह के रंग में ढल जाएगा खुद शाम का रंग !


एसी शराब पी है कि इक दिन मेरा निशां
मस्जिद में खानकाह में ढूँढा करेंगे लोग.

Esi Sharab Pee Hai Ki Ek Din Mera Nishan,
Masjid Me Khankaah Me Dhundha Karenge Log.


Peete The Sharab Hum
Usne Chhudayi Apni Kasam Dekar,
Mehfil Me Aaye To Yaaron Ne
Pila Di Usi Ki Kasam Dekar.

पीते थे शराब हम
उसने छुड़ाई अपनी कसम देकर,
महफ़िल में आये तो यारों ने
पिला दी उसकी कसम देकर।


यूँ तौहीन न किजिये शराब को कड़वा कह कर,
जनाब ये ज़िन्दगी के तजुर्बे
शराब से भी कड़वे होते हैं.

Yun Tauhin Naa Kijiye
Sharab Ko Kadawa Kah Kar,
Janaab Ye Zindagi Ke Tajurbe,
Sharab Se Bhi Kaduye Hote Hai..


तुम्हें जो सोचें तो होता है कैफ़-सा तारी,
तुम्हारा ज़िक्र भी जामे-शराब जैसा है.

Tumhe Jo Soche To Hota Hai Kaif-Sa Taari,
Tumhaara Zikr Bhi Jaame-Sharab Jaisa Hai.


Ek Ghoont Jo Sharaab Kee
Mainne Labon Se Lagaayee,
To Samajh Aaya Ki
Isase Kadavee Hai Teree Sachchaee.

एक घूँट जो शराब की
मैंने लबों से लगायी,
तो समझ आया कि
इससे कडवी है तेरी सच्चाई।


तेरी निगाह थी साक़ी कि मैकदा था कोई
मैं किस फ़िराक में शर्मिंदा-ए-शराब हुआ.

Teri Nigah Thi Saki Ki Maikada Tha Koi,
Mai Kisi Firaaq Me Sharminda-E-Sharab Hua.


Ik Nau-Bahar-E-Naaz Ko Taake Hai Phir Nigaah,
Chehara Phurog-E-May Se Gulistaan Kiye Hue !

इक नौ-बहार-ए-नाज़ को ताके है फिर निगाह,
चेहरा फुरोग-ए-मय से गुलिस्तां किये हुए !


हम तो समझे थे के बरसात में बरसेगी शराब
आई बरसात तो बरसात ने दिल तोड़ दिया.

Ham To Samjhate The Ke Barasaat Me Baresegi Sharab,
Ayi Barsaat To Barsat Ne Dil Tod Diya.


Sharaab Peene Se Kaafir Hua Main Kyoon,
Kya Dedh Chulloo Paanee Mein Eemaan Bah Gaya !

शराब पीने से काफ़िर हुआ मैं क्यूं,
क्या डेढ़ चुल्लू पानी में ईमान बह गया !


शराब के भी अनेक रंग हैं साक़ी,
कोई पीता है आबाद होकर,
तो कोई पीता है बर्बाद होकर

Sharab Ke Bhi Anek Rang Hai Saki
Koi Peeta Hai Aabad Hokar
To Koi Peeta Hai Barbaad Hokar.


गिरी मिली एक बोतल शराब की,
तो ऐसा लगा मुझे,
जैसे बिखरा पड़ा हो सुकून,
किसी के एक रात का.

Giri Mili Ek Botal Sharab Ki,
To Esa Laga Mujhe
Jaise Bikhara Pada Ho Sukun,
Kisi Ke Ek Raat Ka.


May Mein Vah Baat Kahaan Jo Tere Deedaar Mein Hai,
Jo Gira Phir Na Use Kabhee Sambhalate Dekha .

~Meer_Takee_Meer

मय में वह बात कहां जो तेरे दीदार में है,
जो गिरा फिर न उसे कभी संभलते देखा ।

~मीर_तकी_मीर


Aaye Kuchh Abr Kuchh Sharaab Aaye,
Usake Baad Aaye To Azaab Aaye,
Baam-I-Minha Se Mahataab Utare,
Dast-E-Saaqee Mein Aafataab Aaye.

आये कुछ अब्र कुछ शराब आये,
उसके बाद आये तो अज़ाब आये,
बाम-इ-मिन्हा से महताब उतरे,
दस्त-ए-साक़ी में आफ़ताब आये।


तबसरा कर रहे हैं दुनिया पर
चदं बच्चे शराब खाने में

Tabsara Kar Rahe Duniya Par,
Chand Bachche Sharab Khane Me
.


Peena Kaam Aa Gaya...
Ladakhadaaye Kadam To Gire Unakee Baanhon Me,
Aaj Hamaara Peena Hee Hamaare Kaam Aa Gaya.

पीना काम आ गया...
लड़खड़ाये कदम तो गिरे उनकी बाँहों मे,
आज हमारा पीना ही हमारे काम आ गया।


बस एक इतनी वजह है मेरे न पीने की
शराब है वही साक़ी मगर गिलास नहीं.

Bas Ek Itani Wazah Hai Mere Na Peene Ki,
Sharab Hai Wahi Saki Magar Gilas Nahi.


Tum Saaqee Bane To...
Tum Aaj Saaqee Bane Ho To Shahar Pyaasa Hai
Hamaare Daur Mein Khaalee Koee Gilaas Na Tha.

तुम साक़ी बने तो...
तुम आज साक़ी बने हो तो शहर प्यासा है
हमारे दौर में ख़ाली कोई गिलास न था।


Teree Qismat Hee Mein Zaahid May Nahin
Shukr To Majabooriyon Ka Naam Hai !

तेरी क़िस्मत ही में ज़ाहिद मय नहीं
शुक्र तो मजबूरियों का नाम है !


Teree Nigaah Thee Saaqee Ki Maikada Tha Koee
Main Kis Firaak Mein Sharminda-E-Sharaab Hua!

तेरी निगाह थी साक़ी कि मैकदा था कोई
मैं किस फ़िराक में शर्मिंदा-ए-शराब हुआ!


Aamaal Mujhe Apane Us Vaqt Nazar Aae
Jis Vaqt Mera Beta Ghar Pee Ke Sharaab Aaya.!

आमाल मुझे अपने उस वक़्त नज़र आए
जिस वक़्त मेरा बेटा घर पी के शराब आया.!


Mere Ittaqa Ka Bais, 
Tu Hai Meree Naatavaanee
Jo Mein Tauba Tod Sakata,
To Sharaab Khaar Hota

~Ameer Meenaee
मेरे इत्तक़ा का बाइस,
तु है मेरी नातवानी
जो में तौबा तोड़ सकता,
तो शराब ख़ार होता

~अमीर मीनाई


Kaun Hai Jisane May Nahee Chakkhee
Kaun Jhoothee Qasam Uthaata Hai,

Mayakade Se Jo Bach Nikalata Hai
Teree Aankhon Mein Doob Jaata Hai !

कौन है जिसने मय नही चक्खी
कौन झूठी क़सम उठाता है,

मयकदे से जो बच निकलता है
तेरी आँखों में डूब जाता है !


Kaun Aata Hai Mayakhaane Mein
Peene Ko Ye Sharaab Saakee,

Ham To Tere Husn Ka
Deedaar Kiya Karate Hain.

कौन आता है मयखाने में
पीने को ये शराब साकी,

हम तो तेरे हुस्न का
दीदार किया करते हैं।


गम इस कदर मिला की घबरा के पी गये,
खुशी थोड़ी सी मिली तो मिला के पी गये,

यूँ तो ना थी जनम से पीने की आदत,
शराब को तन्हा देखा तो तरस खा के पी गये..

Gam Is Kadar Mila Ki Ghabara Ke Pee Gaye,
Khushi Thodi Si Mili To Mila Ke Pee Gaye,

Yun To Na Thi Janam Se Peene Ki Aadat
Sharab Ko Tanha Dekha To Taras Kha Ke Pee Gaye..


Ilzaam Sharaab Ko
Nasha Ham Kiya Karte Hain
Ilzaam Sharab Ko Diya Karte Hain,

Kasoor Sharab Ka Nahin Unka Hai
Jiska Chehra Ham Jaam Mein Talash Kiya Karte Hain.

नशा हम किया करते हैं
इल्ज़ाम शराब को दिया करते हैं,

कसूर शराब का नहीं उनका है
जिसका चेहरा हम जाम में तलाश किया करते हैं।


Us Shakhs Par Sharaab Ka Peena Haraam Hai..
Jo Rahake Maiqade Mein Bhee Insaan Na Ho Saka..!

उस शख्स पर शराब का पीना हराम है।।
जो रहके मैक़दे में भी इन्सां न हो सका..!


Saabit Hua Hai Gardan-E-Meena Pe Khoon-E-Khalq,
Laraze Hai Mauj-E-May Teree Raftaar Dekh Kar !

साबित हुआ है गर्दन-ए-मीना पे ख़ून-ए-ख़ल्क़,
लरज़े है मौज-ए-मय तेरी रफ़्तार देख कर !


Achchhon Ko Bura Saabit Karana
Duniya Kee Puraanee Aadat Hai

Is May Ko Mubaarak Cheez Samajh
Maana Kee Bahut Badanaam Hai Ye
-Saaheer Ludheeyaanavee

अच्छों को बुरा साबित करना
दुनिया की पुरानी आदत है

इस मय को मुबारक चीज़ समझ
माना की बहुत बदनाम है ये
-साहीर लुधीयानवी


May Barasatee Hai Fazaon Pe Nasha Taaree Hai,
Mere Saaqee Ne Kaheen Jaam Uchhaale Honge !

मय बरसती है फ़ज़ाओं पे नशा तारी है,
मेरे साक़ी ने कहीं जाम उछाले होंगे !


गिर गया हूँ लोगों मगर शराब को दोष मत देना,
जो बेहोश हूँ मैं तो भूल कर भी मुझे होश मत देना,

नहीं सुननी हैं मुझे नसीहतें इन दुनियावालों की
जो मैं हो गया हूँ बहरा तो मुझे गोश मत देना।
( गोश – कान,
Ear )


Har Baar Sochata HoonChhod Doonga Main Peena Ab Se,
Magar Teree Aad Aatee Hai
Aur Ham Mayakhaane Ko Chal Padate Hain.

हर बार सोचता हूँ
छोड़ दूंगा मैं पीना अब से,

मगर तेरी आड़ आती है
और हम मयखाने को चल पड़ते हैं।


Ik Sirph Ham Hee May Kon Aankhon Se Pilaate Hai,
Kahane Ko To Duniya Mein Mayakhaane Hajaare Hai..!
(Umaraav-O-Jaan)
-Shaharayaar

इक सिर्फ हम ही मय कों आँखों से पिलाते है,
कहने को तो दुनिया में मयखाने हजारे है..!
(उमराव-ओ-जान)
-शहरयार


एक घूँट शराब की जो मैंने लबों से लगायी,
तो आया समझ कि इससे भी कड़वी है तेरी सच्चाई

Ek Ghut Sharab Ki Jo Maine Labo Se Lgayi,
To Aaya Samajh Ki Isase Bhi Kadvi Hai Teri Sachchyi.


Shikan Na Daal Maathe Par Sharab Dete Huye,
Ye Muskuraati Huyi Cheez Muskura Ke Pila.

शिकन न डाल माथे पर शराब देते हुए,
ये मुस्कुराती हुई चीज़ मुस्कुरा के पिला।