Best Sharab Shayari - शराब पर शायरी | अध्याय 1


Related image
मेरे इत्तक़ा का बाइस,
तु है मेरी नातवानी
जो में तौबा तोड़ सकता,
तो शराब ख़ार होता

अमीर मीनाई
Mere Ittaka Ka Bayis,
Tu Hai Meri Natwani,
Jo Main Tauba Tod Sakata,
To Sharab Khar Hota


Aaya Tha Divaana...
Chhalak Jaane Do Paimaane
Maikhaane Bhee Kya Yaad Rakhenge,
Aaya Tha Koee Divaana
Apanee Mohabbat Ko Bhulaane.


आया था दिवाना...
छलक जाने दो पैमाने
मैखाने भी क्या याद रखेंगे,
आया था कोई दिवाना
अपनी मोहब्बत को भुलाने।



तुम्हारी नीम निगाही में न जाने क्या था
शराब सामने आयी तो फैंक दी मैंने.


Tumhari Neem Nigahi Me Na Jane Kya Tha,
Sharab Samane Aayi To Faik Di Maine.


आये कुछ अब्र कुछ शराब आये,
उसके बाद आये तो अज़ाब आये,
बाम-इ-मिन्हा से महताब उतरे,
दस्त-ए-साक़ी में आफ़ताब आये..


Aaye Kuchh Abr,
Kuchh Sharab Aaye,
Usake Baad Aaye To Azaab Aaye,
Baam-E-Minha Se Mahataab Utare,
Dast-E-Saki Me Aaftaab Aaye..


मीर इन नीम बाज आखों में
सारी मस्ती शराब की सी है.


Meer In Neem Baaj Ankhon Me,
Sari Masti Sharab Ki Si Hai.


निगाह-ए-साक़ी से पैहम छलक रही है शराब,
पिओ की पीने-पिलाने की रात आई है.


Nigah-E-Saki Se Paiham Chhalak Rahi Hai Sharab,
Peeo Ki Peene-Peelane Ki Raat Aayi Hai.


झूठ कहते हैं लोग कि,
शराब ग़मों को हल्का कर देती है,
मैंने अक्सर देखा है लोगों को
नशे में रोते हुए


Jhuth Kahate Hai Log Ki,
Sharab Gamo Ko Halka Kar Deti Hai
Maine Aksar Dekha Hain Logo Ko
Nashe Me Rote Huye.


तुम्हारी आँखों की तौहीन है,
ज़रा सोचो
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है.


Tumhari Ankhon Ki Tauhin Hai,
Jara Socho,
Tumhaara Chahane Wala Sharaab Peeta Ho.


बे पिए ही शराब से नफ़रत
ये जहालत नही तो और क्या है?
साहिर लुधियानवी


Be Peeye Hi Sharab Se Nafarat
Ye Jahaalat Nahi To Aur Kya Hai?


Unakee Aankhen Yah Kahatee Rahatee Hain
Log Naahak Sharaab Peete Hain!


उनकी आंखें यह कहती रहती हैं
लोग नाहक शराब पीते हैं!


Rindane-Jahan Se Nafrat
Rindane-Jahan Se Ye Nafrat
Ai Hazrat-E-Vaiz Kya Kehna,
Allah Ke Aage Bas Na Chala
Bando Se Bagawat Kar Baithe.


रिन्दाने-जहाँ से ये नफरत
ऐ हज़रत-ए-विज क्या कहना,
अल्लाह के आगे बस न चला,
बन्दों से बगावत कर बैठे।



पीने से कर चुका था मैं तौबा मगर 'जलील'
बादल का रंग देख के नीयत बदल गई


Peene Se Kar Chuka Tha Main Tauba Magar "Zalil"
Baadal Ka Rang Dekh Ke Niyat Badal Gayi.


Tauheen Na Karna Kabhi Kah Kar Kadawa Sharab Ko,
Kisi Gamjada Se Poochhiyega Ismen Kitni Mithas Hai.


तौहीन न करना कभी कह कर कड़वा शराब को
किसी ग़मजदा से पूछियेगा इसमें कितनी मिठास है।


Pila De Ok Se Saaqi Jo Ham Se Nafarat Hai,
Piyaala Gar Nahin Deta Na De Sharab To De.


पिला दे ओक से साक़ी जो हम से नफ़रत है,
पियाला गर नहीं देता न दे शराब तो दे।


May Bhee Hai Meena Bhee Hai Saagar Bhee Hai Saakee Nahee
Jee Me Aata Hai Laga Den Aag Mayakhaane Ko Ha


मय भी है मीना भी है सागर भी है साकी नही
जी मे आता है लगा दें आग मयखाने को ह


Na Gul Khile Hain,
Na Un Se Mile,
Na May Pee Hai,
Ajeeb Rang Mein Abake Bahaar Guzaree Hai.

~Faiz

ना गुल खिले हैं,
ना उन से मिले,
ना मय पी है,
अजीब रंग में अबके बहार गुज़री है।

~Faiz

लोग जिंदगी में आये और चले गए
लेकिन शराब ने कभी धोखा नहीं दिया.


Log Zindagi Me Aaye Aur Chale Gaye,
Lekin Sharab Ne Kabhi Dhokha Nahi Diya.


पहले तुझ से प्यार करते थे
अब शराब से प्यार करते हैं.


Pahale Tujhe Se Pyaar Karate The,
Ab Sharab Se Pyar Karate Hai.


Mayakhane Se Poochha Aaj Itna Sannata Kyu Hai,
Bola,
Saahab Lahoo Ka Daur Hai Sharab Kaun Peeta Hai.


मयखाने से पूछा आज इतना सन्नाटा क्यों है,
बोला,
साहब लहू का दौर है शराब कौन पीता है।


Tumhen Jo Sochen To Hota Hai Kaif Sa Taaree,
Tumhaara Zikr Bhee Jaam-E-Sharaab Jaisa Hai !


तुम्हें जो सोचें तो होता है कैफ़ सा तारी,
तुम्हारा ज़िक्र भी जाम-ए-शराब जैसा है !


ग़ालिब छुटी शराब पर अब भी कभी-कभी
पीता हूँ रोज़ अब्र शबे-महताब में


Galib Chhuti Sharab Par Ab Bhi Kabhi-Kabhi
Peeta Hun Roz Abr-Mahataab Me.


Mile Gam Se Apane Fursat To Sunaoon Vo Fasaana
Ki Tapak Pade Nazar Se May-E-Ishrat-E-Shabaana

~Muin Hasan

मिले ग़म से अपने फ़ुर्सत तो सुनाऊँ वो फ़साना
कि टपक पड़े नज़र से मय-ए-इश्रत-ए-शबाना

~मुइन अहसन

मैं तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती,
मैं जवाब बनता अगर तू सवाल होती,
सब जानते है मैं नशा नही करता,
मगर मैं भी पी लेता अगर तू शराब होती.


Main Tod Leta Agar Tu Gulab Hoti,
Main Jawaab Banata Tu Sawaal Hoti.
Sab Jaanate Hain Main Nasha Nahi Karata,
Magar Main Bhi Pee Leta Agar Tu Sharaab Hoti..


Saagare-Chashm Se Ham Baadaaparast
May-E-Deedaar Piya Karate Hain!


सागरे-चश्म से हम बादापरस्त
मय-ए-दीदार पिया करते हैं!



शायरी वो नही लिखते हैं,
जो शराब से नशा करते हैं
शायरी तो वो लिखते हैं,
जो यादों से नशा करते हैं..


Shayari Wo Nahi Likhate Hai,
Jo Sharab Se Nasha Karate Hai.
Shayari To Wo Likhate Hai,
Jo Yaado Se Nasha Karate Hain..


Kaun Kahata Hai Ki
Gamon Ko Bhula Detee Hai Sharaab,
Ye To Vo Saathee Hai
Jo Dard Ko Baant Letee Hai.


कौन कहता है कि
ग़मों को भुला देती है शराब,
ये तो वो साथी है
जो दर्द को बाँट लेती है।


Kya Bataen Tere Jaane Ke Baad
Is Dil Par Kya-Kya Beetee Hai,
Ab To Ham Sharaab Ko
Aur Sharaab Hamen Peetee Hai.


क्या बताएं तेरे जाने के बाद
इस दिल पर क्या-क्या बीती है,
अब तो हम शराब को
और शराब हमें पीती है।



ज़ाहिद शराब पीने से ,
क़ाफ़िर हुआ मैं क्यों,
क्या डेढ़ चुल्लू पानी में ,
ईमान बह गया?


Zahid Sharab Peene Se,
Kafir Hua Main Kyu?
Kya Dedh Chullu Pani Me,
Imaan Bah Gaya?


Na Zakhm Bhare,
Na Sharab Sahara Huyi,
Na Wo Bapas Laute,
Na Mohabbat Dobara Huyi.


ना ज़ख्म भरे,
ना शराब सहारा हुई,
ना वो वापस लौटे,
ना मोहब्बत दोबारा हुई।


Tumhaaree Aankh Kee Tauheen Hai Jara Socho
Tumhaara Chaahane Vaala Sharaab Peeta Hai!


तुम्हारी आँख की तौहीन है जरा सोचो
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है!



आज इतनी पिला साकी के मैकदा डुब जाए
तैरती फिरे शराब में कश्ती फकीर की.


Aaj Itani Pila Saki Ke Maikada Dub Jaye,
Tairati Fire Sharab Me Kashti Fakir Ki.

Sabake Sur Bigad Gae Hain
Har Laphz Beemaar Hai,
Kisee Par ‘May’ Ka Nasha Chhaaya Hai
To Koee ‘Main’ Ke Nashe Mein Giraphtaar Hai.


सबके सुर बिगड़ गए हैं
हर लफ्ज़ बीमार है,
किसी पर ‘मय’ का नशा छाया है
तो कोई ‘मैं’ के नशे में गिरफ्तार है।



कभी मौक़ा लगे,
कड़वे दो घूँट चख लेना
ज़रा तेरे लिये शराब छोड़ आए हैं.


Kabhi Mauka Lage,
Ladawe Do Ghunt Chakh Lena,
Jara Tere Liye Sharab Chhod Aaye Hai.


Tabasara Kar Rahe Hain Duniya Par
Chadan Bachche Sharaab Khaane Mein।


तबसरा कर रहे हैं दुनिया पर
चदं बच्चे शराब खाने में।


Hum Bhi Piya Karte The
Wo Bhi Din The Jab Hum Bhi Piya Karte The,
Yun Na Karo Humse Peene Pilane Ki Baat,
Jitni Tumhare Jaam Mein Hai Sharab,
Utni Hum Paimane Mein Chod Diya Karte The.


वो भी दिन थे जब हम भी पिया करते थे,
यूँ न करो हमसे पीने पिलाने की बात,
जितनी तुम्हारे जाम में है शराब,
उतनी हम पैमाने में छोड़ दिया करते थे।


Aaj Itanee Pila Saakee Ke Maikada Dub Jae
Tairatee Phire Sharaab Mein Kashtee Phakeer Kee


आज इतनी पिला साकी के मैकदा डुब जाए
तैरती फिरे शराब में कश्ती फकीर की


Giri Mili Ek Botal Sharab Ki To Aisa Laga Mujhe
Jaise Bikhra Pada Tha Ek Raat Ka Sukoon Kisi Ka.


गिरी मिली एक बोतल शराब की तो ऐसा लगा मुझे
जैसे बिखरा पड़ा था एक रात का सुकून किसी का।


Tumhaaree Neem Nigaahee Mein Na Jaane Kya Tha
Sharaab Saamane Aayee To Phaink Dee Mainne


तुम्हारी नीम निगाही में न जाने क्या था
शराब सामने आयी तो फैंक दी मैंने


Hamane Hosh Sambhaala To Sambhaala Tumako
Tumane Hosh Sambhaala To Sambhalane Na Diya


हमने होश संभाला तो संभाला तुमको
तुमने होश संभाला तो संभलने न दिया


Mujhe Aisi Sharab Bata Ai Dost,
Nasha-E-Ishq Utaar Paun Main.


मुझे ऐसी शराब बता ऐ दोस्त,
नशा-ए-इश्क उतार पाऊ मै।


Thodi Si Pee Sharab Thodi Si Uchhal Di,
Kuchh Iss Tarah Se Humne Jawaani Nikaal Di.


थोड़ी सी पी शराब थोड़ी सी उछाल दी,
कुछ इस तरह से हमने जवानी निकाल दी।


Mai Sharaabee Qyoon Hua...
Ye Na Poochh Mai Sharaabee Qyoon Hua,
Bas Yoon Samajh Le..
Gamon Ke Bojh Se,
Nashe Kee Botal Sastee Lagee .


मै शराबी क़्यूं हुआ...
ये ना पूछ मै शराबी क़्यूं हुआ,
बस यूं समझ ले..
गमों के बोझ से,
नशे की बोतल सस्ती लगी ।


Zaahid Sharab Peene De Masjid Me Baith Kar,
Ya Wo Jagah Bata De Jahaan Par Khuda Na Ho.


ज़ाहिद शराब पीने दे मस्जिद में बैठ कर,
या वो जगह बता दे जहाँ पर ख़ुदा न हो।


Mast Karna Hai To Khum Munh Se Laga De Saqi,
Tu Pilayega Kahan Tak Mujhe Paimane Se.


मस्त करना है तो खुम मुँह से लगा दे साकी,
तू पिलाएगा कहाँ तक मुझे पैमाने से।


Log Achchhi Hi Cheejon Ko Yahan Kharab Kahte Hain,
Dava Hai Hazaar Gamo Ki Use Sharab Kahte Hain.


लोग अच्छी ही चीजों को यहाँ ख़राब कहते हैं,
दवा है हज़ार ग़मों की उसे शराब कहते हैं।


टूटे तेरी निगाह से अगर दिल हबाब का
पानी भी फिर पिएं तो मज़ा दे शराब का.


Tute Teri Nigaho Se Agar Dil Habaab Ka
Pani Bhi Fir Peeye To Maza De Sharab Ka.


सोच था कुछ और,
लेकिन हुआ कुछ और
इसीलिए ये भुलाने के लिए चले गए शराब की ओर


Soch Tha Kuchh Aur Lekin Hua Kuchh Aur
Isliye Ye Bhulane Ke Liye Chale Gaye
Sharab Ki Aor.


Zaahid Sharaab Peene Se ,
Qaafir Hua Main Kyon..
Kya Dedh Chulloo Paanee Mein ,
Eemaan Bah Gaya….!


ज़ाहिद शराब पीने से ,
क़ाफ़िर हुआ मैं क्यों।।
क्या डेढ़ चुल्लू पानी में ,
ईमान बह गया….!


Mile To Bichhade Hue May-Kade Ke Dar Pe Mile,
Na Aaj Chaand Hee Doobe Na Aaj Raat Dhale !


मिले तो बिछड़े हुए मय-कदे के दर पे मिले,
न आज चाँद ही डूबे न आज रात ढले !


May Mein Vah Baat Kahaan Jo Tere Deedaar Mein Hai,
Jo Gira Phir Na Use Kabhee Sambhalate Dekha .

-Meer Takee Meer
मय में वह बात कहां जो तेरे दीदार में है,
जो गिरा फिर न उसे कभी संभलते देखा ।

-मीर तकी मीर

Unheen Ke Hisse Mein Aatee Hai Ye Pyaas Aksar,
Jo Doosaron Ko Pilaakar Sharaab Peete Hain !


उन्हीं के हिस्से में आती है ये प्यास अक्सर,
जो दूसरों को पिलाकर शराब पीते हैं !