Waseem Barelvi Shayari अध्याय लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

Wasim Barelvi Ki Shayari in Hindi - Waseem Barelvi Ghazal | Wasim Barelvi Poem | अध्याय 3

दिसंबर 07, 2019


waseem barelvi, waseem barelvi shayari, waseem barelvi best shayari, waseem barelvi mushaira, shayari, wasim barelvi, urdu shayari, waseem barelvi ghazal, waseem barelvi best ghazal, waseem barelvi poetry, waseem barelvi 2020, waseem barelvi geet, wasim barelvi dil chhu jane vali shayari, waseem barelvi mushayara, waseem barelvi new mushaira, waseem barelvi tarannum, waseem barelvi video, waseem barelvi best mushaira
हद से बड़ी उड़ान की ख्वाहिश तो यूँ लगा
जैसे कोई परों को कतरता चला गया.

मंज़िल समझ के बैठ गये जिनको चंद लोग

मैं एैसे रास्तों से गुज़रता चला गया.
— वसीम बरेलवी
Had Se Badi Udaan Ki Khwahish Toh Yun Laga
Jaise Koee Paron Ko Katarata Chala Gaya.
Manzil Samajh Ke Baith Gaye Jinko Chand Log
Mein Kaise Raaston Se Guzarta Chala Gaya.
Wasim Barelvi

मैं बोलता गया हूं वो सुनता रहा खामोश,
ऐसे भी मेरी हार हुयी है कभी-कभी

— वसीम बरेलवी
Main Bolta Gaya Hoon Woh Sunta Raha Khamosh,
Aise Bhee Meree Haar Huyee Hai Kabhee-Kabhee
Wasim Barelvi

दुनिया की हर जंग वही लड़ जाता है
जिसको अपने आप से लड़ना आता है


पर्दा जब गिरने के करीब आ जाता है
तब जाकर कुछ खेल समझ में आता है


तुम क्या सोच रहे हो मेरे बारे में
चेहरे से ही अंदाजा हो जाता है

— वसीम बरेलवी

Duniya Kee Har Jang Vahee Lad Jaata Hai
Jisko Apne Aap Se Ladana Aata Hai


parda Jab Girane Ke Kareeb Aa Jaata Hai
Tab Jaakar Kuchh Khel Samajh Mein Aata Hai


tum Kya Soch Rahe Ho Mere Baare Mein
Chehre Se Hee Andaza Ho Jata Hai

Wasim Barelvi

अपने चेहरे से जो ज़ाहिर है छुपायें कैसे
तेरी मर्ज़ी के मुताबिक नज़र आयें कैसे

कोई अपनी ही नज़र से तो हमें देखेगा
एक क़तरे को समन्दर नज़र आयें कैसे

— वसीम बरेलवी

Apne Chehre Se Jo Zahir Hai Chupaye Kaise
Teri Marzi Ke Mutabiq Nazar Aaye Kaise


koee Apanee Hee Nazar Se To Hamen Dekhega
Ek Qatre Ko Samandar Nazar Aaye Kaise

Wasim Barelvi

उड़ान वालों उड़ानों पे वक़्त भारी है
परों की अब के नहीं हौसलों की बारी है


मैं क़तरा हो के तूफानों से जंग लड़ता हूँ
मुझे बचाना समंदर की ज़िम्मेदारी है


कोई बताए ये उसके ग़ुरूर-ए-बेजा को
वो जंग हमने लड़ी ही नहीं जो हारी है


दुआ करो कि सलामत रहे मेरी हिम्मत
ये एक चराग़ कई आँधियों पे भारी है

— वसीम बरेलवी

Udaan Vaalon Udaanon Pe Vaqt Bhaaree Hai
Paron Kee Ab Ke Nahin Hausalon Ki Bari Hai


main Qatra Ho Ke Toofano Se Jang Ladta Hoon
Mujhe Bachaana Samandar Ki Zimmedari Hai


Koi Bataye Ye Usake Guroor-E-Beja Ko
Vo Jang Hamane Ladi Hi Nahin Jo Hari Hai


Dua Karo Ki Salamat Rahe Meri Himmat
Ye Ek Charaag Kaee Aandhiyon Pe Bhari Hai

Wasim Barelvi

बिछड़ जाऊ तो फिर,
रिश्ता तेरी यादों से जोड़ूँगा


मुझे ज़िद है,
मैं जीने का कोई मौका न छोड़ूँगा


मोहब्बत में तलब कैसी,
वफ़ादारी की शर्ते क्या


वो मेरा हो न हो,

मैं तो उसी का हो के छोड़ूँगा

ताल्लुक़ टूट जाने पर,
जो मुश्किल में तुझे डाले

मैं अपनी आँख में,
ऐसा कोई आंसू ना छोड़ूँगा

— वसीम बरेलवी

Bichhad Jau To Phir,
Rishta Teree Yaadon Se Jodoonga


Mujhe Zid Hai ,

Main Jeene Ka Koi Mauka Na 
Chhodunga

mohabbat Mein Talab Kaisee ,
Wafadaari Ki Sharte Kya


Vo Mera Ho Na Ho ,

Main To Usee Ka Ho Ke Chhodoonga


talluq Toot Jaane Par ,
Jo Mushkil Mein Tujhe Daale


Main Apanee Aankh Mein ,

Aisa Koi Aansu Na Chhodunga

Wasim Barelvi

सभी को छोड़ के खुद पर भरोसा कर लिया मैंने,
वह जो मुझमें मरने को था जिंदा कर लिया मैंने


मुझे उस पार उतर जाने की जल्दी ही कुछ ऐसी थी की
जो कश्ती मिली उस पर भरोसा कर लिया मैंने

— वसीम बरेलवी

Sabhi Ko Chhod Ke Khud Par Bharosa Kar Liya Maine,
Vah Jo Mujh Mein Marne Ko Tha Zinda Kar Liya Maine


mujhe Us Paar Utar Jaane Ki Jaldi Hai Kuchh Aisi Thee Ki
Jo Kashti Mili Us Par Bharosa Kar Liya Maine

Wasim Barelvi

ये कैसा ख्वाब है आँखों का हिस्सा क्यों नहीं होता
दिये हम भी जलाते है उजाला क्यूं नहीं होता


मुझे सबसे अलग रखना ही उसका शौक था वरना
वो दुनिया भर का हो सकता था मेरा क्यूं नहीं होता


हम ही सोचे ज़माने की हम ही माने ज़माने की
हमारे साथ कुछ देर जमाना क्यूँ नहीं होता

— वसीम बरेलवी

Ye Kaisa Khwab Hai Aankhon Ka Hissa Kyon Nahin Hota
Diye Ham Bhee Jalaate Hai Ujaala Kyoon Nahin Hota


mujhe Sabse Alag Rakhna Hee Usaka Shauk Tha Varana
Vo Duniya Bhar Ka Ho Sakta Tha Mera Kyun Nahi Hota


ham Hee Soche Zamaane Kee Ham Hee Maane Zamaane Kee
Hamaare Saath Kuchh Der Jamaana Kyoon Nahi Hota

Wasim Barelvi

PAGE: 1 | 2 | 3 

TAG:
waseem barelvi, waseem barelvi shayari, waseem barelvi best shayari, waseem barelvi mushaira, shayari, wasim barelvi, urdu shayari, waseem barelvi ghazal, waseem barelvi best ghazal, waseem barelvi poetry, waseem barelvi 2020, waseem barelvi geet, wasim barelvi dil chhu jane vali shayari, waseem barelvi mushayara, waseem barelvi new mushaira, waseem barelvi tarannum, waseem barelvi video, waseem barelvi best mushaira

Read More

Waseem Barelvi Ghazal in Hindi - वसीम बरेलवी शायरी | अध्याय 2

दिसंबर 03, 2019


waseem barelvi, waseem barelvi shayari, waseem barelvi best shayari, waseem barelvi mushaira, shayari, wasim barelvi, urdu shayari, waseem barelvi ghazal, waseem barelvi best ghazal, waseem barelvi poetry, waseem barelvi 2020, waseem barelvi geet, wasim barelvi dil chhu jane vali shayari, waseem barelvi mushayara, waseem barelvi new mushaira, waseem barelvi tarannum, waseem barelvi video, waseem barelvi best mushaira
उसूलों पे जहाँ आँच आये टकराना ज़रूरी है
जो ज़िन्दा हों तो फिर ज़िन्दा नज़र आना ज़रूरी है
— वसीम बरेलवी

Usoolon Pe Jahaan Aanch Aaye Takaraana Zarooree Hai
Jo Zinda Ho To Phir Zinda Nazar Aana Zaroori Hai

- Waseem Barelvi

ज़रा सा क़तरा कहीं आज गर उभरता है
समन्दरों ही के लहजे में बात करता है


ख़ुली छतों के दिये कब के बुझ गये होते
कोई तो है जो हवाओं के पर कतरता है


शराफ़तों की यहाँ कोई अहमियत ही नहीं
किसी का कुछ न बिगाड़ो तो कौन डरता है

— वसीम बरेलवी

Zara Sa Qatra Kahin Aaj Gar Ubharta Hai
Samandaron Hee Ke Lehje Mein Baat Karta Hai


Khulee Chahaton Ke Diye Kab Ke Bujh Gaye Hote
Koi To Hai Jo Hawaon Ke Par Katarata Hai


Sharaafaton Kee Yahan Koee Ahamiyat Hee Nahin
Kisi Ka Kuchh Na Bigaado To Kaun Darata Hai

- Waseem Barelvi

बड़ी तो है गली कूचों की रौनक
मगर इंसान तन्हा हो गया है


जरा अपनायत से उसने देखा
तो क्या खुद पर भरोसा हो गया है

— वसीम बरेलवी

Badee To Hai Gali Kochon Ki Raunak
Magar Insaan Tanha Ho Gaya Hai


Jara Apanaayat Se Usne Dekha
To Kya Khud Par Bharosa Ho Gaya Hai

- Waseem Barelvi

इस जमाने का बड़ा कैसे बनू की 
इतना छोटापन मेरे बस का नही
— वसीम बरेलवी

Is Zamane Ka Bada Kaise Banu 
Itna Chotapan Mere Bas Ka Nahi
- Waseem Barelvi

तराशना ही था हीरा तो मेरा तेरा क्या
किसी भी राह का पथ्थर उठा लिया मैंने
— वसीम बरेलवी

Taraashna Hee Tha Heera To Mera Tera Kya
Kisi Bhi Raah Ka Pathar Utha Liya 
Maine
- Waseem Barelvi

मैं क़तरा हो के तूफानों से जंग लड़ता हूँ
मुझे बचाना समंदर की ज़िम्मेदारी है


दुआ करो कि सलामत रहे मेरी हिम्मत
ये एक चराग़ कई आँधियों पे भारी है

— वसीम बरेलवी

Main Qatra Ho Ke Toofano Se Jang Ladta Hoon
Mujhe Bachana Samandar Ki Zimmedari Hai


dua Karo Ki Salamat Rahe Meri Himmat
Ye Ek Charaag Kaee Aandhiyon Pe Bhaaree Hai

- Waseem Barelvi

मुझे ये खौफ दे ऐ माली की मुझी पर नज़र तेरी
बस इतना नहीं काफी की सजदा कर लिया मैंने

— वसीम बरेलवी

Mujhe Ye Khauf De Ai Maali Ki Mujhe Par Nazar Teri
Bas Itna Nahi Kabhi Kee Sajda Kar Liya Maine

- Waseem Barelvi

फ़ैसला लिखा हुआ रखा है पहले से खिलाफ़।
आप क्या खाक अदालत में सफाई देंगे।।

— वसीम बरेलवी

Faisla Likha Hua Rakha Hai Pahle Se Khilaaf,
Aap Kya Khaak Adalat Me Safaai Denge.

— Waseem Barelvi 

PAGE: 2 | 3 

TAG:
waseem barelvi, waseem barelvi shayari, waseem barelvi best shayari, waseem barelvi mushaira, shayari, wasim barelvi, urdu shayari, waseem barelvi ghazal, waseem barelvi best ghazal, waseem barelvi poetry, waseem barelvi 2020, waseem barelvi geet, wasim barelvi dil chhu jane vali shayari, waseem barelvi mushayara, waseem barelvi new mushaira, waseem barelvi tarannum, waseem barelvi video, waseem barelvi best mushaira

Read More

Waseem Barelvi Shayari in Hindi - वसीम बरेलवी शायरी - Waseem Barelvi Ghazal | अध्याय 1

नवंबर 30, 2019


waseem barelvi, waseem barelvi shayari, waseem barelvi best shayari, waseem barelvi mushaira, shayari, wasim barelvi, urdu shayari, waseem barelvi ghazal, waseem barelvi best ghazal, waseem barelvi poetry, waseem barelvi 2020, waseem barelvi geet, wasim barelvi dil chhu jane vali shayari, waseem barelvi mushayara, waseem barelvi new mushaira, waseem barelvi tarannum, waseem barelvi video, waseem barelvi best mushaira
जहाँ भी जाऊ नज़र में हूँ ज़माने की
ये कैसा खुद को तमाशा बना लिया मैंने
— वसीम बरेलवी

Jahan Bhi Jao Nazar Mein Hoon Zamane Ki
Ye Kaisa Khud Ko Tamasha Bana Liya Maine

Waseem Barelvi


ये मैं ही था जो बचा कर ले आया खुद को साहिल पर
समंदर ने बहुत मौका दिया था डूब जाने का

निगाहों में कोई भी दूसरा चेहरा नहीं आया
भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने का

— वसीम बरेलवी

Ye Main Hee Tha Jo Bacha Kar Le Aaya Khud Ko Sahil Par
Samandar Ne Bahut Mauka Diya Tha Doob Jaane Ka

Nigaahon Mein Koi Bhi Doosra Chehra Nahi Aaya
Bharosa Hee Kuchh Aisa Tha Tumhaare Laut Aane Ka

Waseem Barelvi


लगता तो बेख़बर सा हूँ लेकिन ख़बर में हूँ
अगर तेरी नज़र में हूँ तो सबकी नज़र में हूँ
— वसीम बरेलवी

Lagata To Bekhabar Sa Hoon Lekin Khabar Mein Hoon
Agar Teri Nazar Mein Hoon To Sabakee Nazar Mein Hoon

Waseem Barelvi


बुलंदी से उतर आना तो कुछ मुश्किल नहीं लेकिन
ज़मीन वाले फ़िर मुझे जमीन पर चलने नहीं देंगे

— वसीम बरेलवी

Bulandee Se Utar Aana To Kuchh Mushkil Nahin Lekin
Zameen Vaale Fir Mujhe Jameen Par Chalane Nahin Denge

Waseem Barelvi


आप नाराज हों,
झुंझलाएं,
खफा हो जाएं,

बात इतनी भी ना बिगड़े कि जुदा हो जाएं।
लेकिन अब तो दुनिया का ये आलम है कि

बंदा बनने को यहां कोई भी तैयार नहीं
सब इसी धुन में लगे हैं कि खुदा हो जाएं।
— वसीम बरेलवी

Aap Naaraaj Hon,
Jhunjhalaen,
Khafa Ho Jaen,

Baat Itni Bhi Na Bigade Ki Juda Ho Jaen.

Lekin Ab To Duniya Ka Ye Aalam Hai Ki
banda Banane Ko Yahan Koi Bhi Taiyaar Nahi
Sab Isee Dhun Mein Lage Hain Ki Khuda Ho Jaen.

Waseem Barelvi


मुझे गम है तो बस इतना सा गम है
तेरी दुनिया मेरे ख्वाबो से कम है

— वसीम बरेलवी

Mujhe Gam Hai To Bas Itna Sa Gam Hai
Teri Duniya Mere Khwabo Se Kam Hai

Waseem Barelvi



पतंग जैसे ये उड़ना भी कोई उड़ना है,
कि उड़ रहे हैं मगर दूसरों के हाथ में हैं

— वसीम बरेलवी

Patang Jaise Ye Udana Bhi Koi Udana Hai,
Ki Ud Rahe Hain Magar Doosron Ke Haath Mein Hain

Waseem Barelvi


झूठ वाले कहीं से कहीं बढ़ गए
और मैं था कि सच बोलता रह गया

आँधियों के इरादे तो अच्छे ना थे
ये दिया कैसे जलता हुआ रह गया

— वसीम बरेलवी

Jhooth Vaale Kahin Se Kaheen Badh Gae
Aur Main Tha Ki Sach Bolta Reh Gaya

Aandhiyon Ke Iraade To Achchhe Na The
Ye Diya Kaise Jalta Hua Reh Gaya

Waseem Barelvi


PAGE: 2 | 3 

TAG:
waseem barelvi, waseem barelvi shayari, waseem barelvi best shayari, waseem barelvi mushaira, shayari, wasim barelvi, urdu shayari, waseem barelvi ghazal, waseem barelvi best ghazal, waseem barelvi poetry, waseem barelvi 2020, waseem barelvi geet, wasim barelvi dil chhu jane vali shayari, waseem barelvi mushayara, waseem barelvi new mushaira, waseem barelvi tarannum, waseem barelvi video, waseem barelvi best mushaira

Read More