Showing posts with label Interesting Story. Show all posts

நரேந்திர மோடியைப் பற்றி உங்களுக்குத் தெரியாத 25+ சுவாரஸ்யமான உண்மைகள்

February 06, 2021

1. மோடி ஜி சுவாமி விவேகானந்தரை தனது இலட்சியமாக கருதுகிறார்.

2. நரேந்திர மோடி ஜி ஒரு சைவ உணவு உண்பவர், அவர் ஒருபோதும் இறைச்சி மற்றும் மதுவை உட்கொள்வதில்லை.

3. எந்தவொரு புதிய வேலையும் தொடங்குவதற்கு முன்பு மோடி ஜி தனது தாயின் ஆசீர்வாதங்களைப் பெறுகிறார்.

4. மோடி ஜி அமெரிக்காவில் மேலாண்மை மற்றும் மக்கள் தொடர்புகளைப் படித்தார்.

5. மோடி ஜி 18 வயதில் திருமணம் செய்து கொண்டார், ஆனால் 2 ஆண்டுகளுக்குப் பிறகுதான் தனது வீட்டை விட்டு வெளியேறி ஓய்வு பெற்றார் மற்றும் அவரது மனைவி ஜசோதா பென்னிடமிருந்து விலகிவிட்டார்.

6. நரேந்திர மோடி ஜி புதிய தொழில்நுட்பங்களை விரும்புகிறார்.

7. மோடி ஜி 5 மணி நேரம் மட்டுமே தூங்குகிறார், இந்த 5 மணி நேரத்தில் அவருக்கு நல்ல தூக்கம் கிடைக்கும்.

8. மோடி ஜியின் கடிகாரத்தின் விலை 39,000 முதல் 190000 வரை இருக்கும், இந்த கடிகாரம் சுவிட்சர்லாந்தின் பிரபலமான பிராண்டான மெவாடியில் காணப்படுகிறது. ஒன்றாக அவர்கள் கடிகாரத்தை தலைகீழாக அணிந்துகொள்கிறார்கள்,

9. குஜராத்தின் 13 ஆண்டுகால ஆட்சியில் மோடி ஜி ஒரு நாள் மட்டுமே விடுமுறை எடுத்தார்.

10. மோடி ஜி சுமார் ரூ. 30,000 முதல் ரூ. 40000 கண்ணாடிகள், இத்தாலிய பிராண்ட் குலாரி, இந்த நிறுவனம் இப்போது இந்த பொருட்களை தயாரிக்கத் தொடங்கியது.

11. பிரதமர் நரேந்திர மோடி ஜி "மென்ட்-காஞ்சி-டெலி" சாதியைச் சேர்ந்தவர், இந்த சாதி இந்திய அரசின் பிற பிற்படுத்தப்பட்ட வகுப்பில் உள்ளது.

12. ஆர்.எஸ்.எஸ் பிரச்சாரகர்கள் தாடியை வைத்திருப்பதில்லை, பிரச்சாரகர்களாக இருந்தபோதிலும் தாடியை வைத்திருப்பார்கள்.

13. மோடி ஜி அதிகாலை 5:30 மணி வரை எழுந்திருக்கிறார்.

14. குஜராத்தில் வாட்நகர் என்ற ரயில் நிலையத்திலும் மோடி ஜி தேநீர் விற்றுள்ளார்.

15. மோடி ஜி ஒரு என்.சி.சி மாணவர்.

16. 2001 ல் மோடி குஜராத்தின் முதல்வரானபோது, ​​மகன் ஒருபோதும் லஞ்சம் வாங்கக்கூடாது என்று அவரது தாயார் கூறியிருந்தார்.

17. மோடி ஜி தனது பொறுப்பை நேர்மையுடனும் உண்மையான நேர்மையுடனும் நிறைவேற்றும் மனிதர்.

18. மோடி ஜி எழுதும் பேனா, இந்த பேனா ஒரு ஜெர்மன் பிராண்ட்.

19. அவர் அகமதாபாத்தின் தலைமையகத்தில் வாழ்ந்தபோது சிறு வேலைகள் அனைத்தையும் தானே செய்து வந்தார். தேநீர் தயாரிப்பது, துணி துவைப்பது போன்றவை.

20. ஜோதிடத்தின் படி, அவரது ஜாதகம் பால் கங்கா தார் திலக்கை ஒத்திருக்கிறது.

21. 1975 ஆம் ஆண்டில் இந்தியாவில் அவசரநிலை விதிக்கப்பட்டபோது, ​​ஆர்.எஸ்.எஸ் மற்றும் இதுபோன்ற பல அமைப்புகளுக்கு தடை விதிக்கப்பட்டபோது, ​​சர்தார் என்ற போர்வையில் மோடி பிரச்சாரம் செய்தார்.

22-மோடி ஜி முதுகலை பட்டம் பெற்ற பிறகு அரசியல் அறிவியலில் எம்.ஏ (மாஸ்டர் ஆஃப் ஆர்ட்ஸ்) படித்தார்.

23. மோடி ஜியின் உடைகள் விபின் மற்றும் ஜிதேந்திர சவுகானின் கடையில் மட்டுமே தைக்கப்பட்டுள்ளன, இது ஒரு சிறிய கடை அல்ல என்பதை நான் உங்களுக்குச் சொல்கிறேன், இது சுமார் நூற்று ஐம்பது கோடி ரூபாய் கொண்ட நிறுவனம் மற்றும் மோடி ஜி 1989 முதல் இங்கு வந்துள்ளார். .

24. மோடி ஜியின் சம்பளம் 19 லட்சம், இது இந்தியப் பிரதமரின் சம்பளம்.

25. பலரின் எதிர்ப்பால், 2004 முதல் 2013 வரை மோடி அமெரிக்காவிற்கு விசா வழங்கவில்லை, ஆனால் அவர் பிரதமராக இருந்தபோது, ​​தன்னை அழைக்க வந்தார்.

26. நரேந்திர மோடியின் தந்தையின் பெயர் தாமோதர்தாஸ் மூல் சந்த் மோடி மற்றும் தாயின் பெயர் திருமதி. ஹிராபென்.

Read More

Fascinating story of the connexion between Hydroxychloroquine, British India, Srirangapatna and Gin & Tonic.

April 11, 2020

As most of us are already aware, Hydroxychloroquine has taken the world by storm. Every newspaper is talking about it, and all countries are requesting India to supply it. 

Now, a curious person might wonder why and how this chemical composition is so deeply entrenched in India, and is there any history behind it.

Well, there is an interesting history behind it which goes all the way to Tipu Sultan's defeat. In 1799, when Tipu was defeated by the British, the whole of Mysore Kingdom with Srirangapatnam as Tipu's capital, came under British control. For the next few days, the British soldiers had a great time celebrating their victory,  but within weeks, many started feeling sick due to Malaria, because Srirangapatnam was a highly marshy area with severe mosquito trouble. 

The local Indian population had over the centuries, developed self immunity, and also all the spicy food habits helped to an extent. Whereas the British soldiers and officers who were suddenly exposed to harsh Indian conditions, started bearing the brunt. 

To quickly overcome the mosquito menace, the British Army immediately shifted their station from Srirangapatnam to Bangalore (by establishing the Bangalore Cantonment region), which was a welcome change, especially due to cool weather, which the Brits were gavely missing ever since they had left their shores. But the malaria problem still persisted because Bangalore was also no exception to mosquitoes. 

Around the same time, European scientists had discovered a chemical composition called "Quinine" which could be used to treat malaria, and was slowly gaining prominence, but it was yet to be extensively tested at large scale. This malaria crisis among British Army came at an opportune time, and thus Quinine was imported in bulk by the Army and distributed to all their soldiers, who were instructed to take regular dosages (even to healthy soldiers) so that they could build immunity. This was followed up in all other British stations throughout India, because every region in India had malaria problem to some extent. 

But there was a small problem. Although sick soldiers quickly recovered, many more soldiers who were exposed to harsh conditions of tropical India continued to become sick, because it was later found that they were not taking dosages of Quinine. Why? Because it was very bitter!! So, by avoiding the bitter Quinine, British soldiers stationed in India were lagging behind on their immunity, thereby making themselves vulnerable to Malaria in the tropical regions of India. 

That's when all the top British officers and scientists started experimenting ways to persuade their soldiers to strictly take these dosages, and during their experiments,  they found that the bitter Quinine mixed with Juniper based liquor, actually turned somewhat into a sweet flavor. That's because the molecular structure of the final solution was such that it would almost completely curtail the bitterness of Quinine. 

That juniper based liquor was Gin. And the Gin mixed with Quinine was called "Gin & Tonic", which immediately became an instant hit among British soldiers. 

The same British soldiers who were ready to even risk their lives but couldn't stand the bitterness of Quinine,  started swearing by it daily when they mixed it with Gin. In fact, the Army even started issuing few bottles of Gin along with "tonic water" (Quinine) as part of their monthly ration, so that soldiers could themselves prepare Gin & Tonic and consume them everyday to build immunity. 

To cater to the growing demand of gin & other forms of liquor among British soldiers, the British East India company built several local breweries in and around Bengaluru, which could then be transported to all other parts of India. And that's how, due to innumerable breweries and liquor distillation factories, Bengaluru had already become the pub capital of India way back during British times itself.  Eventually, most of these breweries were purchased from British organizations after Indian independence, by none other than Vittal Mallya (Vijay Mallya's father), who then led the consortium under the group named United Breweries headquartered in Bengaluru. 

Coming back to the topic, that's how Gin & Tonic became a popular cocktail and is still a popular drink even today. The Quinine, which was called Tonic (without gin), was widely prescribed by Doctors as well, for patients who needed cure for fever or any infection. Whenever someone in a typical Indian village fell sick, the most common advice given by his neighbors was "Visit the doctor and get some tonic". Over time, the tonic word was so overused that  became a reference to any medicine in general. So, that's how the word "Tonic", became a colloquial word  for "Western medicine" in India. 

Over the years, Quinine was developed further into many of its variants and derivatives and widely prescribed by Indian doctors. One such descendent of Quinine, called Hydroxychloroquine, eventually became the standardized cure for malaria because it has relatively lesser side effects compared to its predecessors, and is now suddenly the most sought after drug in the world today. 

And that's how, a simple peek into the history of Hydroxychloroquine takes us all the way back to Tipu's defeat, mosquito menace, liquor rationing, colorful cocktails, tonics and medicinal cures.

Read More

हल्दीघाटी के युद्ध से जुड़े रोचक तथ्य | Interesting Facts related to the War of Haldighati | अकबर vs महाराणा प्रताप

February 01, 2020



हल्दीघाटी के युद्ध से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियां 
1. भारत के इतिहास में महाराणा प्रताप हल्दी घाटी के युद्ध के लिए भी प्रसिद्ध है। -1576 के हल्दीघाटी युद्ध में 20 हजार राजपूतों को साथ लेकर प्रताप ने अकबर की विशाल सेना का सामना किया और महज चंद मुट्ठीभर राजपूतों ने मुगलों के छक्‍के छुड़ा दिए।

2. इतिहासकार मानते हैं कि इस सेना में कोई विजय नहीं हुआ, लेकिन महाराणा प्रताप और राजपूतों का युद्ध कौशल देखकर अकबर घबरा गया था।

3. इसके बाद भी महाराणा प्रताप और मुगलों के बीच लंबे समय तक युद्ध चलते रहे।

4. बाद में महाराणा की सेना ने मुगल चौकियों पर आक्रमण शुरू कर उदयपुर समेत 36 बेहद अहम ठिकानों को अपने अधिकार में ले लिया।

5. 12 सालों के लंबे संघर्ष के बाद भी महाराणा प्रताप अकबर के अधीन नहीं आए। सपने में भी पसीना-पसीना हो जाता था अकबर -अकबर इतना डर गया था, खासकर राणा केयुद्ध कौशल देखकर कि वह सपने में भी राणा के नाम से चौंक जाता था और पसीना-पसीना हो जाता था।

6. यही नहीं लंबे समय तक राणा की तलवार अकबर के मन में डर के रूप में बैठ गई थी।

7. अकबर इतना सहमा हुआ था कि उसने अपनी राजधानी पहले लाहौर और बाद में राणा की मृत्‍यु के बाद आगरा ले जाने का फैसला किया


Read More

Age Does Not Affect the Women of This Country, Does Not Go Out in the Sun

January 25, 2020



We are talking about Taiwan. It is an island, which is part of the Republic of China, combining many of its surrounding islands. As a country from Taiwan, relations with 17 countries of the world remain. The island itself boasts many social cultures. Taiwan has a population of about 2.36 million. 70 per cent of the people here follow Buddhism.



The women of this country are also beautiful and look young for a long time. There is no reason for their catering or makeup, but their beauty has a different secret. Girls living in this country are more vigilant about their appearance. For this reason, they do not get out much in the sun, because they believe that the face becomes dark and bad due to getting out in the sun.



The people of Taiwan believe that getting out in the sun reduces age and so no matter how important the work is, people do not get out in the sun at all. People here also show great interest in sports and hence they remain very fit.



Many of us like to get wet in rain, but Taiwanese people do not like getting wet in rain, unlike us from the country. Especially the women here have a particular allergy from getting wet in the rain. A study has revealed that the people here are very hard working. People work 10 hours a day by working hard. People here become rich at an early age.



There is a strong emphasis on mathematics and science in schools and colleges here. There are also high-speed trains, metros and buses here, but a large number of people will be seen driving scooters. The people here are known for hospitality. Just as there is a tradition of Atithi Devo Bhava: in our country and the guests are like God to us, so also the people of Taiwan believe it.

Read More

उम्र इस देश की महिलाओं को प्रभावित नहीं करती है, धूप में बाहर नही निकलती

January 25, 2020




हम बात कर रहे हैं ताइवान की। यह एक द्वीप है, जो चीन गणराज्य का हिस्सा है, इसके आसपास के कई द्वीपों का संयोजन है। ताइवान से एक देश के रूप में, दुनिया के 17 देशों के साथ संबंध बने हुए हैं। द्वीप अपने आप में कई सामाजिक संस्कृतियों को समेटे हुए है। ताइवान की आबादी लगभग 2.36 मिलियन है। यहां के 70 प्रतिशत लोग बौद्ध धर्म का पालन करते हैं।



इस देश की महिलाएं भी खूबसूरत हैं और लंबे समय तक जवान दिखती हैं। उनके खानपान या मेकअप का कोई कारण नहीं है, लेकिन उनकी सुंदरता का एक अलग रहस्य है। इस देश में रहने वाली लड़कियां अपनी उपस्थिति के बारे में अधिक सतर्क हैं। इस कारण वे धूप में ज्यादा बाहर नहीं निकलते, क्योंकि उनका मानना ​​है कि धूप में निकलने से चेहरा काला और खराब हो जाता है।



ताइवान के लोगों का मानना ​​है कि धूप में बाहर निकलना उम्र को कम करता है और चाहे कितना भी महत्वपूर्ण काम हो, लोग धूप में बिल्कुल भी बाहर नहीं निकलते हैं। यहां के लोग खेल में भी काफी रुचि दिखाते हैं और इसलिए वे बहुत फिट रहते हैं।



हम में से कई लोग बारिश में भीगना पसंद करते हैं, लेकिन ताइवान के लोगों को देश के विपरीत बारिश में भीगना पसंद नहीं है। खासकर यहाँ की महिलाओं को बारिश में भीगने से एक विशेष एलर्जी होती है। एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि यहां के लोग बहुत मेहनती हैं। लोग दिन रात मेहनत करके 10 घंटे काम करते हैं। यहां के लोग कम उम्र में ही अमीर बन जाते हैं।



यहां स्कूलों और कॉलेजों में गणित और विज्ञान पर जोर दिया जाता है। यहां हाई-स्पीड ट्रेन, महानगर और बसें भी हैं, लेकिन बड़ी संख्या में लोग स्कूटर चलाते हुए दिखाई देंगे। यहां के लोग आतिथ्य के लिए जाने जाते हैं। जिस तरह हमारे देश में आतिथ्य देवो भव: की परंपरा है और मेहमान हमारे लिए भगवान के समान हैं, वैसे ही ताइवान के लोग भी इसे मानते हैं।


Read More

वो शहर जहां हर वक्त मंडराती रहती है मौत, लोग डर के साये में रहते हैं | City Where Death Hovers all the time, people live in the shadow of fear

January 24, 2020


मेट्समोर को कभी दुनिया के सबसे खतरनाक परमाणु ऊर्जा संयंत्र का नाम दिया गया था क्योंकि यह भूकंप के प्रति संवेदनशील क्षेत्र में बनाया गया है। यह आर्मेनिया की राजधानी येरेवन से सिर्फ 35 किलोमीटर (22 मील) की दूरी पर स्थित है। यहाँ से आप तुर्की की सीमा के पार बर्फ से ढके माउंट अरार्ट को देख सकते हैं।

यह परमाणु ऊर्जा संयंत्र 1970 के दशक में चेरनोबिल के साथ बनाया गया था। उन दिनों, मेट्समोर रिएक्टर विशाल सोवियत संघ की बढ़ती ऊर्जा जरूरतों को पूरा करता था। 2000 तक, सोवियत संघ ने अपनी 60 प्रतिशत बिजली को परमाणु ऊर्जा द्वारा बनाने का लक्ष्य रखा था, लेकिन 1988 में सब कुछ बदल गया। आर्मेनिया में 6.8 तीव्रता का भूकंप आया। भूकंप में लगभग 25,000 लोग मारे गए। परमाणु ऊर्जा संयंत्र को सुरक्षा कारणों से बंद करना पड़ा, क्योंकि बिजली की आपूर्ति संयंत्र की प्रणाली में बाधित हो रही थी। मेट्समोर रिएक्टर में काम करने वाले कई श्रमिक पोलैंड, यूक्रेन और रूस में अपने घरों को लौट गए।

30 साल बाद, मेट्समोर संयंत्र और इसका भविष्य अभी भी आर्मेनिया में चर्चा का विषय है। इस पर लोगों की राय बंटी हुई है। 1995 में यहां एक रिएक्टर को फिर से शुरू किया गया था, जिसमें से 40 प्रतिशत आर्मेनिया की आवश्यकता बिजली है। आलोचकों का कहना है कि यह परमाणु रिएक्टर अभी भी बहुत खतरनाक है क्योंकि यह जिस क्षेत्र में बनाया गया है, वहां भूगर्भीय हलचल होती है। दूसरी तरफ सरकारी अधिकारियों सहित इसके समर्थक हैं। उन्होंने कहा कि रिएक्टर मूल रूप से स्थायी बेसाल्ट ब्लॉक की चट्टानों पर बनाया गया था। बाद में कुछ बदलाव भी हुए हैं, जिससे यह पहले से अधिक सुरक्षित हो गया है। इस विवाद के बीच, मेट्समोर न्यूक्लियर प्लांट और शहर में रहने वाले लोगों की जान चली जा रही है।


मेट्समोर शहर का नाम परमाणु रिएक्टर के नाम पर रखा गया है। सोवियत संघ के इस शहर को एक मॉडल शहर के रूप में स्थापित किया गया था। इसे एटमोग्राड कहा जाता था। बाल्टिक से कजाकिस्तान तक पूरे सोवियत संघ के प्रशिक्षित श्रमिकों को यहां लाया गया था। यहां 36,000 निवासियों को बसाने की योजना थी। उनके लिए एक कृत्रिम झील, खेल सुविधाएं और एक सांस्कृतिक केंद्र बनाया गया था। शुरुआती दिनों में यहां की दुकानें सामानों से भरी थीं। उन दिनों में भी येरेवन में, इस बात की चर्चा थी कि मेट्समोर में सबसे अच्छी गुणवत्ता का मक्खन उपलब्ध है। भूकंप आने पर शहर में निर्माण कार्य रोक दिया गया। झील को खाली कराया गया।

दो महीने बाद, सोवियत संघ सरकार ने फैसला किया कि परमाणु ऊर्जा संयंत्र को बंद कर दिया जाना चाहिए। कॉकेशस क्षेत्र में तोड़फोड़ के कारण बिजली आपूर्ति में व्यवधान का मतलब था कि संयंत्र को सुरक्षित रूप से चलाना संभव नहीं था। आधे पके हुए मेट्समोर में रहने वाले लोगों ने पाया कि शहर में उनके लिए रोजगार के बहुत कम अवसर थे। तब भी शहर की जनसंख्या स्थिर नहीं रह सकी। जिस वर्ष भूकंप आया, उसी वर्ष, अज़रबैजान के विवादित नागोर्नो कोरबाघ क्षेत्र में संघर्ष के कारण शरणार्थी मेट्समोर आने लगे। संघर्ष के पहले वर्ष में, 450 से अधिक शरणार्थी मेट्समोर के बाहरी इलाके में बसे। अब उन्होंने अपने घर बना लिए हैं। वे एक ऐसी जगह पर रह रहे हैं, जहां आतमगढ़ में एक तीसरा आवास जिला बनाने की योजना थी।

परमाणु ऊर्जा संयंत्र बंद होने पर आर्मेनिया सरकार को भारी बिजली संकट का सामना करना पड़ा। बिजली आपूर्ति का राशनिंग पूरे देश में किया जाना था। लोगों को दिन में केवल एक घंटे बिजली उपलब्ध कराई गई। 1993 में, संयंत्र की दो इकाइयों में से एक को फिर से खोलने का निर्णय लिया गया। सुरक्षा मानकों को फिर से तैयार किया गया। रिएक्टर आज भी चल रहा है, लेकिन नवीकरण की आवश्यकता है। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) के एक ऊर्जा विशेषज्ञ आरा मरजियान कहते हैं, 'वीवीआर टाइप रिएक्टर का डिज़ाइन बहुत पुराना है। उदाहरण के लिए, इसमें एक ठोस संरचना नहीं होती है जो संभावित विस्फोट होने पर मलबे को फैलने से रोकती है। 'लेकिन वह यह भी बताते हैं कि इस रिएक्टर को 1988 में स्पिटक के विनाशकारी भूकंप का सामना करना पड़ा और यह दुनिया के उन कुछ रिएक्टरों में से एक है जिन्होंने फुकुशिमा दुर्घटना के बाद पहला दबाव परीक्षण पास किया था।

आज, मेट्समोर की आबादी लगभग 10,000 लोगों की है, जिसमें बड़ी संख्या में बच्चे भी शामिल हैं। रिएक्टर के कूलिंग टॉवर से लगभग पांच किलोमीटर दूर बने अपार्टमेंट में रहने वाले लोग बिजली की कमी और संयंत्र के संभावित खतरे को संतुलित करते हैं। फ़ोटोग्राफ़र कैथरिना रोटर्स का कहना है कि बिजली की समस्या के काले वर्षों की याद अभी भी लोगों के दिमाग में इतनी ताज़ा है कि वे इस पौधे के बिना जीवन के बारे में सोच भी नहीं सकते। 1991 से 1994 के बीच, आर्मेनिया को बिजली की गंभीर समस्या का सामना करना पड़ा। कई बार लोगों को बिना बिजली के रहना पड़ता था।

आज इस शहर को मरम्मत की जरूरत है। यहां की छतें टपक रही हैं। पुराने रेडिएटर को काट दिया जाता है और बेंच बनाया जाता है। फिर भी स्पोर्ट्स हॉल अक्सर बच्चों से भरा होता है। वे एक टपकती छत के नीचे फुटबॉल खेलते हैं। रोटर्स ने पाया कि परमाणु रिएक्टर के प्रति लोगों का दृष्टिकोण मिश्रित है। वे कहते हैं कि जो परिवार संयंत्र में काम नहीं करते हैं, वे आर्मेनिया की आर्थिक स्थिति के बारे में निराश हैं। लेकिन जो लोग अभी भी संयंत्र में काम करते हैं वे बहुत अधिक सकारात्मक हैं। कुछ लोगों को अब भी गर्व महसूस होता है कि उनका शहर आंमोग्राद एक विशेष स्थान था।

मिट्समोर में अध्ययन करने वाले मानवविज्ञानी हेमलेट मेलकमैन का कहना है कि पुरानी पीढ़ी के लोग जिन्होंने सोवियत संघ के शहर को भी देखा है, वे इसे एक सुरक्षित घर मानते हैं। यहां समुदाय और आपसी विश्वास की भावना है। जब लोग बाहर जाते हैं, तो वे घर की चाबी पड़ोसी को देते हैं। गौरव की यह भावना आर्किटेक्ट मार्टिन मिकलिन के दिमाग में भी थी जब वह इस महत्वाकांक्षी शहर की योजना बना रहे थे। इस नौकरी के लिए चुना जाना उनके लिए सम्मान की बात थी। मेट्समोर में अभी भी राष्ट्रीय गौरव की भावना है। मार्च में जब मैं वहां गया तो स्पोर्ट्स हॉल की छत टपक रही थी। लोगों ने अपने घरों की बालकनी को बढ़ा दिया था और इसे कवर किया था।

शहर का रखरखाव अच्छी तरह से नहीं किया गया है, लेकिन स्थानीय लोगों ने इसके अनुसार इसे अनुकूलित किया है। मोटरवे जो एक बार चलने के लिए बनाए गए थे, अब वहां पार्क किए गए हैं। मासिक किराया यहाँ कम है - $ 30 और $ 60 के बीच 95-वर्ग मीटर के फ्लैट के लिए, लेकिन लोग अपनी इच्छा के बिना यहां नहीं रहते हैं। यहां के समुदाय को एक-दूसरे के साथ मिलाया गया है। वान सेड्राकेन, जो परमाणु संयंत्र में काम करता है, मेट्समोर का फेसबुक पेज भी चलाता है। वह कहते हैं कि रोज़ लोग काम के बाद बाहर मिलते हैं और ख़बरों पर चर्चा करते हैं। हमारे बच्चों के पास खेलने के लिए बहुत जगह है, लेकिन हम चाहते हैं कि वे अपना समय पढ़ाई में बिताएं। मेरी दो बेटियां हैं, मैं चाहता हूं कि वे मेट्समोर में रहें और काम करें क्योंकि यह हमारी मातृभूमि है।

Read More

The City Where Death Hovers All the Time, People Live in the Shadow of Fear

January 24, 2020


Metsmore was once named the world's most dangerous nuclear power plant because it is built in an earthquake-sensitive area. It is located just 35 kilometers (22 mi) from Yerevan, the capital of Armenia. From here one can see the snow-covered Mount Ararat across the border of Turkey.

This nuclear power plant was built in the 1970s along with Chernobyl. In those days, the Metsmore reactor met the growing energy needs of the huge Soviet Union. By 2000, the Soviet Union had targeted to make 60 per cent of its electricity needed by nuclear power, but in 1988 everything changed. A 6.8 magnitude earthquake caused havoc in Armenia. About 25,000 people died in the earthquake. The nuclear power plant had to be shut down for safety reasons, as the power supply was being interrupted in the plant's system. Many workers working at the Metsmore reactor returned to their homes in Poland, Ukraine and Russia.

30 years later, the Metsmore plant and its future are still a subject of discussion in Armenia. People's opinion is divided on this. A reactor here was restarted in 1995, from which 40 percent of Armenia's requirement is electricity. Critics say that this nuclear reactor is still very dangerous because in the area where it is built, there is a geological stir. On the other side are its supporters, including government officials. He says the reactor was originally built on the rocks of the permanent basalt block. There have also been some changes later, making it more secure than before. Amidst this controversy, the lives of the Metsmore Nuclear Plant and the people living in the city are going away.


The city of Metsmore is named after the nuclear reactor itself. This city of the Soviet Union was established as a model city. It was called Atomograd. Trained workers from the entire Soviet Union from the Baltic to Kazakhstan were brought here. There were plans to settle 36,000 residents here. An artificial lake, sports facilities and a cultural center were built for them. In the early days the shops here were full of goods. In those days even in Yerevan, there was a discussion that the best quality butter is available in Metsmore. Construction work was stopped in the city when an earthquake occurred. The lake was emptied.

Two months later, the Soviet Union government decided that the nuclear power plant should be shut down. Disruption in power supply due to sabotage in the Caucasus region meant that it was no longer possible to run the plant safely. People living in half-baked Metsmore found that the city had little employment opportunities for them. Even then the population of the city could not remain stable. The year the earthquake struck, the same year, refugees started coming to Metsmore due to conflict in the disputed Nagorno Korabagh area of ​​Azerbaijan. In the first year of the conflict, more than 450 refugees settled in the outskirts of Metsmore. Now they have built their homes. They are living in a place where there was a plan to build a third housing district in Atmograd.

The Armenia government faced a massive power crisis when the nuclear power plant was shut down. Rationing of power supply had to be done in the entire country. People were provided electricity for only one hour a day. In 1993, it was decided to reopen one of the two units of the plant. Safety standards were remodeled. The reactor is still operating today, but is in need of renovation. Ara Marjanian, an energy expert at the United Nations Development Program (UNDP), says, 'The design of the VVR type reactor is very old. For example, it does not have a concrete structure preventing debris from spreading when a possible explosion occurs. ' But he also points out that this reactor suffered the devastating earthquake of Spitak in 1988 and is one of the few reactors in the world that passed the first pressure test since the Fukushima accident.

Today, Metsmore has a population of about 10,000 people, including a large number of children. People living in apartments built about five kilometres from the reactor's cooling tower balance the lack of electricity and the potential danger of the plant. Photographer Catharina Roters says that the memory of the dark years of the power problem is still so fresh in people's minds that they cannot even think of life without this plant. Between 1991 and 1994, Armenia faced a severe power problem. Many times people had to live without electricity.

Today this city needs repair. The roofs here are dripping. The old radiator is cut and bench is made. Yet the sports hall is often full of children. They play football under a dripping roof. The rotors found that people's attitudes towards the nuclear reactor are mixed. They say that families who no longer work in the plant are disappointed about Armenia's economic condition. But those who still work in the plant are much more positive. Some people still feel proud that their city of Atmograd was once a special place.

Anthropologist Hamlet Melkmyan, who studies in Metsmore, says that the older generation of people who have also seen the city of the Soviet Union, consider it a safe house. There is a sense of community and mutual trust here. When people go out, they give the keys of the house to the neighbor. This sense of pride was also on the mind of architect Martin Miquelin when he was planning this ambitious city. It was an honor for him to be selected for this job. Metsmore still has that sense of national pride. The roof of the sports hall was dripping when I visited there in March. People had extended the balcony of their houses and covered it.

The city is not well maintained, but the local people have adapted it accordingly. Motorways that once were built for walking are now parked there. Monthly rent is low here - between $ 30 and $ 60 for a 95-square-meter flat, but people do not live here without their will. The community here is mixed with each other. Van Sedraken, who works at the nuclear plant, also runs Metsmore's Facebook page. He says that everyday people meet outside after work and discuss the news. Our children have a lot of room to play, but we want them to spend their time in studies. I have two daughters I want them to live and work in Metsmore as this is our motherland.

Read More

दुनिया का सबसे डरावना जंगल, जहां लोग रहस्यमय तरीके से गायब हो जाते हैं

January 23, 2020



दुनिया में कई डरावनी जगहें हैं, जहां लोग जाने से कतराते हैं। ऐसी ही एक जगह रोमानिया के ट्रांसिल्वेनिया प्रांत में भी है, जहां ऐसी रहस्यमयी घटनाएं होती हैं कि लोग वहां जाने से भी डरते हैं। आइए जानते हैं उन रहस्यमयी घटनाओं के बारे में जो इस जगह पर हुईं ...


ये है होया बस्यू, जिसे दुनिया के सबसे डरावने जंगलों में से एक माना जाता है। यहां घटने वाली रहस्यमय घटनाओं के कारण ही इस जगह को 'रोमानिया या ट्रांसल्वेनिया का बरमूडा ट्राएंगल' कहते हैं।


इस जंगल में पेड़ मुड़े हुए और टेढ़े-मेढ़े दिखाई देते हैं, जो दिन के उजाले में भी बेहद ही डरावने लगते हैं। इस जगह को लोग यूएफओ (उड़नतस्तरी) और भूत-प्रेतों से भी जोड़कर देखते हैं। इसके अलावा कहा जाता है कि यहां कई लोग रहस्यमय तरीके से गायब भी हो चुके हैं।

यह कुख्यात जंगल क्लुज काउंटी में स्थित है, जो क्लुज-नेपोका शहर के पश्चिम में है। यह लगभग 700 एकड़ में फैला हुआ है और माना जाता है कि यहां सैकड़ों लोग लापता हो गए हैं।


होया बस्यू जंगल को लेकर पहली बार लोगों की दिलचस्पी तब जगी थी, जब इस क्षेत्र में एक चरवाहा लापता हो गया था। सदियों पुरानी किवदंती के अनुसार, वह आदमी जंगल में जाते ही रहस्यमय तरीके से गायब हो गया था। हैरानी की बात तो ये थी कि उस समय उसके साथ 200 भेड़ें भी थीं।


कुछ साल पहले एक सैन्य तकनीशियन ने इस जंगल में एक उड़नतस्तरी को देखने का दावा किया था। इसके अलावा साल 1968 में भी एमिल बरनिया नाम के एक शख्स ने यहां आसमान में एक अलौकिक शरीर को देखने का दावा किया था। यहां घूमने आने वाले कुछ पर्यटकों ने भी कुछ इसी तरह की घटनाओं का जिक्र किया है।


कहते हैं कि कुछ लोग यहां घूमने के उद्देश्य से आये थे, लेकिन वह कुछ देर के लिए गायब हो गए और फिर बाद में फिर से आ गये। लोगों का कहना है कि इस जंगल में रहस्यमय शक्तियों का वास है। यहां पर लोगों को अजीब सी आवाजें भी सुनाई देती हैं। यही कारण है कि लोग इस जंगल में पांव तक रखना नहीं चाहते।


किवंदती के अनुसार, साल 1870 में यहां पास के ही गांव में रहने वाले एक किसान की बेटी गलती से इस जंगल में घुस गई और उसके बाद गायब हो गई। लोगों को हैरानी तो तब हुई, जब वह लड़की ठीक पांच साल बाद जंगल से वापस आ गई, लेकिन वह अपनी याददाश्त पूरी तरह से खो चुकी थी। हालांकि कुछ समय के बाद ही उसकी मौत भी हो गई।

Read More

The World's Most Fearsome Forest, Where People Mysteriously Disappear

January 23, 2020




There are many scary places in the world, where people shy away from going. One such place is also in Transylvania province of Romania, where such mysterious incidents happen that people are afraid to go there too. Let's know about those mysterious incidents that happened at this place ...


This is Hoya Basyu, which is considered one of the most feared forests in the world. This place is called 'Bermuda Triangle of Romania or Transylvania' due to the mysterious events happening here.


Trees appear twisted and crooked in this forest, which looks extremely scary even in daylight. People also see this place by connecting with UFOs (Udaanastastri) and ghosts. Apart from this, it is said that many people have mysteriously disappeared here.


This infamous forest is located in Cluj County, west of the city of Cluj-Napoca. It is spread over 700 acres and is believed to have gone missing hundreds of people.


The first interest of the people about the Hoya Basyu forest was aroused when a shepherd went missing in the area. According to centuries-old legend, the man mysteriously disappeared as he went into the forest. Surprisingly, it was accompanied by 200 sheep at that time.


A few years ago a military technician claimed to have seen a flying rock in this forest. Apart from this, in the year 1968 also, a person named Emil Barnia claimed to have seen a supernatural body in the sky here. Some tourists visiting here have also mentioned some similar incidents.


It is said that some people came here for the purpose of wandering, but he disappeared for some time and then came back later. People say that this forest is inhabited by mysterious powers. People here also hear strange sounds. This is the reason why people do not want to be kept in this forest.


According to Kivandati, in the year 1870, the daughter of a farmer living in a nearby village accidentally entered this forest and disappeared thereafter. The people were surprised when the girl returned from the forest after exactly five years, but she had lost her memory completely. However, he also died after some time.


Read More

[Amazing Secret]: Top 5 Best Intelligence Agencies in the World

January 22, 2020



These intelligence agencies of the country work for the security of the country. For your information, tell these people, they keep news of the moment of their country apart from their country. These people thwart the false intentions of their spying enemies. So let's know the world's top 5 most dangerous intelligence agencies:


RAW of India
India is the country's intelligence RAW (RAW). Its full name is Research and Analysis Wing. RA was founded in 1968. RAW is considered as the world's most powerful intelligence agency. Only the Prime Minister of the country can ask for answers from this agency, no one else. If we talk about its headquarters, then its headquarters are located in Delhi. This agency maintains complete information about foreign affairs, criminals and terrorists.


Pakistan's ISI
Pakistan's Intelligence Agency ISI (Inter-Services Intelligence)
Was established in the year 1948. It is headquartered in Shahrah A Sohrawardy, Islamabad. Its foundation was British Army Officer of Australian descent, Major General R. Cathom, who was then chief of the Pakistani Army Staff. ISI is accused of promoting terrorism in the name of protecting the country, it is believed to be the hand in many terrorist attacks.


CIA of America
The US intelligence agency is the Central Intelligence Agency (CIA). It was founded in 1947 by Harry A. Truman. It is headquartered in Virginia, near Washington. Apart from the CIA, the US has three more agencies named agencies NSA, DIA and FBI. It works for all cybercrime, preventing terrorism and protecting the country.


Israel's MOSSAD
Israel's intelligence agency Mossad is considered the godfather of all the world's agencies. This agency also reports directly to the Prime Minister like India. This agency was established in 1949. It is believed that whoever comes to Mossad's sight and hides in any corner of the world, this agency finds him. The agency has been involved in some of the world's most daring underworld operations.


MSS of China
China's intelligence agency MSS, the Ministry of State Security, is the largest intelligence agency. The Ministry of State Safety (MSS) was created in 1983. It is headquartered in Beijing. This agency is responsible for conducting counterintelligence operations and foreign intelligence operations.


Read More

[दिलचस्प बातें]: 10 दुनिया के सबसे छोटे देश | Top 10 Smallest Countries In The World In Hindi

January 21, 2020



दुनिया में कई देश हैं। जिसमें कुछ देश बहुत बड़े हैं, और कुछ देश आपके इलाके से बहुत छोटे हैं। यह विश्वास करना मुश्किल है, लेकिन यह सच है। तो आइए जानते हैं दुनिया के सबसे छोटे देश के बारे में-


वेटिकन सिटी

सिर्फ 0.44 वर्ग किलोमीटर में फैला यह देश दुनिया का सबसे छोटा देश है। इस देश में केवल 840 लोग रहते हैं। देश यूरोप के महाद्वीप पर इतालवी शहर रोम के अंदर स्थित है। जब यह एक देश होता है, तो इस देश की अपनी आधिकारिक भाषा (लातिनी), इसके सिक्के, इसके डाक विभाग और इसके रेडियो आदि भी होते हैं। यहां का सबसे आकर्षक केंद्र चर्च, मकबरा और संग्रहालय है।


मोनाको

केवल 2.02 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैले इस देश की जनसंख्या 2016 की जनगणना के अनुसार लगभग 38,499 है। इस देश के क्षेत्रफल में कमी का सबसे बड़ा कारण समुद्री शेर हैं। क्योंकि यह देश इटली और फ्रांस के बीच तट पर स्थित है। मोनाको को दुनिया का दूसरा सबसे छोटा देश माना जाता है। भले ही यह दुनिया का दूसरा सबसे छोटा देश है। लेकिन दुनिया के किसी भी देश की तुलना में इसकी प्रति व्यक्ति करोड़पति अधिक है।


नाउरू

21.3 वर्ग किलोमीटर में फैले इस देश की आबादी लगभग 13 हजार है। यह देश प्रशांत महासागर में स्थित एक द्वीप देश है। इस देश के बारे में अच्छी बात यह है कि इस देश की अपनी कोई सेना नहीं है। यह देश दुनिया का तीसरा सबसे छोटा देश है। यहां के लगभग 10% लोगों के पास काम है, शेष 90% बेरोजगार हैं।


तुवालु

26 वर्ग किलोमीटर में फैला यह देश दुनिया का चौथा सबसे छोटा देश है। इस देश की जनसंख्या लगभग 11,097 है। यह भी नाउरू की तरह प्रशांत महासागर में स्थित है। यह देश पहले ब्रिटेन के अधीन था।


सैन मैरीनो

61 वर्ग किलोमीटर में फैला यह देश दुनिया का पांचवा सबसे छोटा देश है। इस देश की जनसंख्या लगभग 33,203 है। यूरोप का सबसे पुराना देश माना जाता है।


लिचेंस्टीन

160 वर्ग किलोमीटर में फैला यह देश दुनिया का छठा सबसे छोटा देश है। अगर हम इस देश की सीमा के बारे में बात करते हैं, तो यह स्विट्जरलैंड और ऑस्ट्रिया से मिलती है। इस देश की आबादी लगभग 37,666 है।


मार्शल द्वीप

181 वर्ग किलोमीटर में फैला यह देश दुनिया का सातवां सबसे छोटा देश है। अटलांटिक महासागर में स्थित यह देश दुनिया के सबसे छोटे देशों में सातवें नंबर पर आता है। इस देश की जनसंख्या लगभग 53,066 है।


मालदीव

298 वर्ग किलोमीटर में फैला यह देश दुनिया का आठवां सबसे छोटा देश है। क्योंकि यह देश हिंद महासागर में स्थित है, इस देश को हिंद महासागर का मोती भी कहा जाता है। इस देश की कुल आबादी 4 लाख 17 हजार है।


माल्टा

316 वर्ग किलोमीटर में फैला यह देश दुनिया का नौवां सबसे छोटा देश है। इस देश की आबादी लगभग 4 लाख 37 हजार है।


ग्रेनेडा

348 वर्ग किलोमीटर में फैला यह देश दुनिया का दसवां सबसे छोटा देश है। यह अन्य छोटे 6 द्वीपों से बना है। इस देश की आबादी लगभग 1 लाख हजार है।


Read More

Smallest Countries In The World in English

January 21, 2020

Smallest Countries In The World in English


There are many countries in the world. In which some countries are very big, and some countries are much smaller than your locality. It is difficult to believe, but this is true. So let's know about the smallest country in the world:

Vatican City

Spread over just 0.44 square kilometres, this country is the smallest country in the world. Only 840 people live in this country. The country is located inside the Italian city of Rome on the continent of Europe. When it is a country, this country also has its own official language (Latini), its coins, its postal department and its radio etc. The most attractive centre here is the church, mausoleum and museum.

Monaco 

Spread over an area of ​​only 2.02 square kilometres, this country has a population of about 38,499 as per the 2016 census. The biggest reason for the decrease in the area of ​​this country is sea lions. Because this country is situated on the coast between Italy and France. Monaco is considered the second smallest country in the world. Even though it is the second smallest country in the world. But it has more per capita millionaires than any country in the world.

Nauru

This country, spread over 21.3 square kilometres, has a population of about 13 thousand. This country is an island country located in the Pacific Ocean. The good thing about this country is that this country has no military of its own. This country is the third smallest country in the world. About 10% of the people here have work, the remaining 90% are unemployed.

Tuvalu

Spread over 26 square kilometres, this country is the fourth-smallest country in the world. The population of this country is about 11,097. It is also located in the Pacific Ocean like Nauru. This country was previously under Britain.

San Marino

Spread over 61 square kilometres, this country is the fifth smallest country in the world. The population of this country is about 33,203. Considered to be the oldest country in Europe.

Lichtenstein

Spread over 160 square kilometres, this country is the sixth smallest country in the world. If we talk about the border of this country, then it meets Switzerland and Austria. The population of this country is around 37,666.

Marshall Island

Spread over 181 square kilometres, this country is the seventh smallest country in the world. Located in the Atlantic Ocean, this country comes at number seven among the smallest countries in the world. The population of this country is about 53,066.

Maldives

Spread over 298 square kilometres, this country is the eighth smallest country in the world. Because this country is located in the Indian Ocean, this country is also called the pearl of the Indian Ocean. The total population of this country is 4 lakh 17 thousand.

Malta

This country, spread over 316 square kilometres, is the ninth smallest country in the world. The population of this country is about 4 lakh 37 thousand.

Grenada

Spread over 348 square kilometres, this country is the tenth smallest country in the world. It is made up of other smaller 6 islands. The population of this country is about 1 lakh thousand.


Read More

कभी आलीशान थी जिंदगी, आज भीख मांगकर पेट भरने को मजबूर | Once Life Was Luxurious, Today Begging to Be Fed

January 18, 2020



बेहतर जीवन जीने के लिए लोग कितनी मेहनत करते हैं। कुछ शून्य से शुरू होते हैं और सफलता की ऊंचाई को छूते हैं। आपको एक डायलॉग तो याद ही होगा - किस्मत बड़ी कुत्ते की चीज है, यह कभी भी बदल सकती है। लखनऊ के गोमती नगर से एक परिवार है, जिसकी कहानी लोगों को बता रही है कि जीवन में कभी भी बुरे दिन आ सकते हैं। यह परिवार एक बार के सीएमओ का है, जिसे अब भीख मांगकर गुजारा करना पड़ रहा है।



आलीशान मकानों के बीच है इनका घर 
इस परिवार का मुखिया कभी मुख्य चिकित्सा अधिकारी होता था, लेकिन लंबे समय से परिवार के सभी सदस्य भोजन के लिए भीख मांग रहे हैं। गोमती नगर के विनय खंड में कई शानदार घर हैं, जिनमें एक खंडहरनुमा घर भी है जहाँ शायद ही कोई सुख से रहना चाहता हो। लेकिन राधा और मांडवी इसी घर में रहती हैं। दोनों के बड़े भाई बीएन माथुर का पिछले साल निधन हो गया था।




बचपन में नहीं थी किसी चीज की कमी 
इन दोनों के पिता (राधा और मांडवी) एमएम माथुर मुख्य चिकित्सा अधिकारी थे। इसलिए बचपन में किसी चीज की कमी नहीं थी। दोनों ग्रेजुएट ग्रेजुएट हैं। लेकिन एक दुर्घटना ने उनकी पूरी जिंदगी पलट दी। दरअसल, एक दुर्घटना में उन्होंने अपने माता-पिता को खो दिया था। इसके बाद, बहनों का मानसिक संतुलन बिगड़ गया।




‘रोटी बैंक’ भर रहा है पेट 
भाई बीएन माथुर ने सभी जिम्मेदारियों को पूरा करने का बीड़ा उठाया। उसने नौकरी की तलाश की। लेकिन कहीं कोई काम नहीं मिला। ऐसे में उन्हें भीख मांगने के लिए मजबूर होना पड़ा। 30 सालों में उनका खूबसूरत घर खंडहर में तब्दील हो गया था। घर की ये तस्वीरें बताती हैं कि यहां रहना कितना मुश्किल है। वर्तमान में, दोनों बहनों की आयु 60 से 65 वर्ष के बीच है। रिश्तेदार भी उनसे दूर हो गए हैं। उसकी शादी भी नहीं हुई थी। खैर, अब "रोटी बैंक ’इन बहनों का पेट भरने के लिए काम कर रहा है।




क्या है ‘रोटी बैंक’? 

देश के कई राज्यों में रोटी बैंक खोले गए हैं। जहां रोटी जमा होता है, वहां पैसा नहीं। उनका उद्देश्य जरूरतमंद लोगों की भूख को संतुष्ट करना है। रोटी बैंक की टैगलाइन है कि किसी को भी भूखा नहीं जाना चाहिए। रिपोर्टों के अनुसार, भारतीय रोटी बैंक परिवार हजारों जरूरतमंद लोगों को भोजन प्रदान करता है।


Read More

कन्हैया कुमार को किस बात की आजादी चाहिए? | What freedom does Kanhaiya Kumar want?

January 15, 2020

1:- खुले में किस या शारीरिक संबंध बनाने की आजादी। एक जगह पढ़ा हूं कि इसके लिए ये जंतर मंतर पर धरना भी दिए हैं। इनको जानवरों जैसे संबंध बनाने की आजादी चाहिए।
2:- गरीब माता पिता के पैसों का ड्रग्स या अन्य नशा करने की आजादी।
3:- जिस तरह वामपंथियों ने रूस के कई टुकड़े कर दिए वैसे ही भारत को कई भागों में तोड़ने की आजादी।
4:- जिस संस्कृति और सभ्यता से विश्व हमें जानता और पहचानता है।
( यूनाँ मिस्र रोमा, सब मिट गए जहां से,
बाकी मगर है अब तक, नामो निशां हमारा
कुछ बात है कि हस्ती, मिटती नहीं हमारी
सदियों रहा है दुश्मन, दौर ए जहां हमारा)
उसको मिटाने की आजादी।
( इनकी इतनी मजाल नहीं है कि अपने उन्हीं मुस्लिम दोस्तो के साथ मिलकर कुरान की बुराइयों के खिलाफ विरोध करके उसको समय, माहौल और स्थान के हिसाब अपडेट करने की कोशिश करें, जिसको मदरसों में छोटे बच्चे पढ़ते हैं। जबकि चीन ये अपडेट कर रहा है)
5:- देश के खिलाफ कुछ भी बोलने की आजादी
6:- हिन्दुओं के खिलाफ कुछ भी बोलने की आजादी
7:- आतंकवादियो के मरने पे शोक सभा के आयोजन की आजादी
8:- देश के वीर जवानों के शहीद होने पर जश्न मनाने की आजादी
9:- हजारों साल पहले की व्यवस्था को बेस बनाकर आज के युवाओं में नफरत भरने की आजादी।
जबकि 70 साल से देश संविधान से चल रहा है, और हमेशा इसी से चलेगा। संविधान के नजर में अब सभी भारतीय नागरिक बराबर है। फिर अब एकता विरोधी भाषण क्यों ?
10:- हजारों गरीब छात्रों की पढ़ाई बर्बाद करके खुद नेता बनने की आजादी। खुद तो पीएचडी करके राजनीति करने लगे। लेकिन बाकी हजारों लोग जो पढ़ने के समय इसके लिए नारे लगा रहे थे, ढपली बजा रहे थे। उनके बेरोजगार होने के लिए कौन जिम्मेदार है?
11:- पश्चिमी सभ्यता को पूरी तरह से कॉपी करने की आजादी
12:- हजारों की भीड़ लेकर आर्मी और पुलिकर्मियों को पत्थर से मारने की आजादी।
13:-अबतक के अधिकतर भ्रष्ट नेताओं की तरह गरीबी मिटाने के नाम पर सिर्फ झूठ बोलने और बर्गलाने की आजादी।
अगर गरीब के लिए काम होने पर खुशी होती, तो गरीबों को घर, टाॅयलेट, गैस, बीपीएल परिवारों को मुफ्त बिजली, किसानों को किसान सम्मान निधि , हजारों दिव्यांगो को किट्स बाटे गए, बनारस में हजारों मजदूर रिक्शा चालक को, इलेक्ट्रिक रिक्शा दिया। 33 करोड़ लोगो का जीरो बैलेंस पर खाता खुला। और सारे बिचौलियों को हटाकर सरकार सब पैसे सीधे उस मनरेगा मजदूर और गरीब परिवार के खाते में डालती है। गरीबों के लिए 5 लाख तक के इलाज के लिए आयुष्मान योजना । इन सब कामों के कारण कभी उसको खुश होते हुए देखे? जबकि ये सभी काम गरीब, मजदूर और दलित के लिए ही है।
कुछ लोग सिर्फ झूठ, नफरत और भड़काऊ बोलके भोले ,गवार और स्वार्थी लोगों को अपने तरफ लाने का तरीका अपनाते हैं और देश की एकता के खिलाफ बोलते हैं लेकिन कोई भलाई का एक भी काम नहीं करते हैं। सिर्फ बोलते हैं सिर्फ भोकते हैं।
एकता और शांति पसंद लोग कभी इनके चंगुल में नहीं फंसते। क्योंकि वे जानते हैं, एक बार इसी आदत( फुट डालो राज करो) के वजह से आपस में लड़कर हम गुलाम बन चुके हैं। अब इनकी साजिश को कामयाब नही होने देना चाहिए। नहीं तो हमारी आने वाली पीढ़ी हमसे सवाल करेगी कि आप अपने इतिहास की गलतियों से क्या सीखे। वो पूछेंगे कि जब जब वो देश को तोड़ने की साजिश कर रहे थे, आपस में लड़ा रहे थे, एक दूसरे के खिलाफ भड़का रहे थे, दिमाग में नफरत घोल रहे थे, तो आप क्या कर रहे थे।
याद रखिए भारत में सही वहीं लोग है जो सभी भारतीय नागरिकों के लिए बात करे, सबके लिए काम करें। योजनाओं और नीतियों को देश के सभी नागरिकों के विकास के लिए करे । जो देश को एकसूत्र में बांधने का कार्य करें। जो समाज में एकता के लिए काम करें। जो सिर्फ एक जाति या एक मजहब के भले के बारे में ही बात करे , उसका उनसे जरुर कोई स्वार्थ या मतलब है। ये स्वार्थ वोट बैंक का भी हो सकता है या आपस में लड़ाकर देश तोड़ने का साजिश भी हो सकता है।

Read More

मोदी की तुलना हिटलर से करना कितना उचित है? | How Fair is It to Compare Modi to Hitler?

January 14, 2020



नहीं, मोदी की हिटलर से तुलना करना पूरी तरह उचित नहीं है।

How Fair is It to Compare Modi to Hitler?
यह निम्न कारण से है।
  • मोदी विरोधियों की हत्या नहीं की जा रही है जैसा कि हिटलर के समय हुआ था।
  • मोदी सरकार में एकमात्र और पूर्ण शक्ति धारक नहीं हैं
  • भारत में अभी भी मोदी सरकार की जाँच करने के लिए प्रभावी अदालतों की व्यवस्था है।
  • मोदी सरकार की जाँच करने के लिए भारत में विपक्षी दल हैं
  • भारत में अभी भी इसकी सरकार की सीमाएँ हैं लेकिन चीन में, जहाँ XI जिनपिंग एक सम्राट की तरह अपने जीवनकाल के लिए शासन करेंगे
  • आप अभी भी भारत में सार्वजनिक रूप से मोदी का विरोध करने वाली बातें कह सकते हैं, लेकिन आप XI जिनपिंग के लिए चीन में ऐसा नहीं कह सकते
  • मोदी तानाशाह नहीं हैं। उसने कभी कुछ नहीं लगाया। जबकि हिटलर ने तानाशाही का पालन किया।
  • मोदी अल्पसंख्यकों के साथ समान व्यवहार कर रहे हैं। केवल भारत में आप बड़े नस्लीय हमले नहीं देख सकते हैं।
  • हमें भारत में बोलने की पूरी आजादी है। हम हर चीज पर सवाल उठा रहे हैं


Read More

If All Politicians Were Student, What Would a Class Be Like?

January 10, 2020

If All Politicians Were Student


Nusrat Jahan — Officially declared as the crush of the school.


Manmohan Singh — Talks to no-one.


Lalu Prasad Yadav — Eats. Sleep. Repeats.


Piyush Goyal — Topper from the Commerce Section.


Yogi Adityanath — Gives names to teachers.


Mamata Banerjee —Lets students from the other class enter and steal chalk and duster.


Jyotiraditya Scindia — Raees kid of the class; handsome boy.


Sushma Swaraj —The topper girl who helps everyone in the class with studies.


Narendra Modi — Class monitor who sometimes attends the class.


Shashi Tharoor — Grammar Nazi; ICSE Board student.


Chirag Paswan — Official boy crush of the class.


Shatrughan Sinha — Had more friends in the other section so changed his class.


Akhilesh Yadav —Teacher ka beta.

Related image
Rahul Gandhi — Class clown who entertains everyone by making funny faces at the teacher.

Image result for Gautam Gambhir
Gautam Gambhir — Cricket team captain of the class. 

Image result for Arvind Kejriwal
Arvind Kejriwal — Always ends up getting slapped by teachers for his baseless arguments.

Image result for Manohar Parrikara
Manohar Parrikar — Best student the school ever produced. Passed out just this year. Will always be remembered by the teachers. 

Thanks for reading.

Read More

यदि संसद क्लास होती तो सभी नेता कैसे स्टूडेंट होते |

January 10, 2020




नुसरत जहान - आधिकारिक तौर पर स्कूल के क्रश के रूप में घोषित।

मनमोहन सिंह - किसी से बात नहीं करने वाला बन्दा।

लालू प्रसाद यादव - खाना, पीना और सोना 

पीयूष गोयल - कॉमर्स सेक्शन से टॉपर।

योगी आदित्यनाथ - शिक्षकों को नाम देने वाला बन्दा

ममता बनर्जी — दूसरे क्लास के छात्रों को प्रवेश दिलाती हैं और जो चाक और डस्टर चुराते हैं।

ज्योतिरादित्य सिंधिया - अमीर बाप की औलाद | कॉलेज का स्टड 

सुषमा स्वराज- टॉपर लड़की जो पढ़ाई के साथ कक्षा में सभी की मदद करती है।

नरेंद्र मोदी - क्लास मॉनिटर जो कभी-कभी क्लास आता हैं।

शशि थरूर - व्याकरण नाजी; ICSE बोर्ड के छात्र।

चिराग पासवान - क्लास का आधिकारिक क्रश।

शत्रुघ्न सिन्हा - दूसरे सेक्शन में ज्यादा दोस्त थे इसलिए उसने क्लास बदल ली।


अखिलेश यादव —टीचर का बेटा। 

Related image
राहुल गांधी - क्लास का जोकर जो शिक्षक पर मजाकिया चेहरे बनाकर सभी का मनोरंजन करता हैं।

Image result for Gautam Gambhir
गौतम गंभीर - कॉलेज की क्रिकेट टीम का कप्तान। 

Image result for Arvind Kejriwal
अरविंद केजरीवाल - हमेशा अपने बेबुनियाद तर्कों के लिए शिक्षकों द्वारा थप्पड़ मारा जाता है।

Image result for Manohar Parrikar
मनोहर पर्रिकर - स्कूल के इतिहास का सर्वश्रेष्ठ छात्र जो इस साल सिर्फ पास आउट हुआ। हमेशा शिक्षकों द्वारा याद किया जाएगा

पढ़ने के लिए धन्यवाद।

Read More