पुलवामा अटैक पर कविता | Pulwama Attack Par Kavita In Hindi | Pulwama Attack Ke Upar Kavita



आज लहू केसर बन जाए,
दुश्मन को ललकार कर।
आज उठा बंदूक है भारत,
वीरों की जयकार कर।

नमकहरामों की बस्ती में,
सांप-सपोले रहते हैं।
केसर की सुंदर क्यारी में,
बम के गोले बोते हैं।

राजनीति के गलियारों में,
गद्दारों की फौज खड़ी।
जब भी आतंकी को मारो,
इनको होती पीर बड़ी।

जिन हाथों में पुस्तक होती,
उनमें पत्थर आज थमाए हैं।
फूलों की क्यारी में किसने,
बम-बारूद लगाए हैं।

संविधान की सीमाओं को,
किसने आज चुनौती दी?
भारत के टुकड़े करने की,
किसने आज मनौती की?

आतंकों के मंसूबों को,
किसने आज फ़िज़ा दे दी।
गुलशन के गलियारों को,
किसने आज खिज़ा दे दी।

पैंसठ और इकहत्तर में,
जिसने मुंह की खाई थी।
हाथ उठाकर दोनों जिसने,
मुंह कालिख पुतवाई थी।

कश्मीरी कांधे पर रख,
वह बंदूक चलाता है।
उन्मादी जेहाद चलाकर,
युवकों को फुसलाता है।

भारत के अंदर भी जो,
गद्दारों की टोली है।
खा करके भारत की रोटी,
पाक की वो हमजोली है।

दिल्ली की गद्दी पर बैठे,
सब ये सत्ताधीश सुनें
या तो पाक को सबक सिखाएं
या फिर वन संन्यास चुनें।

नहीं खून गर अब खौला तो,
खून नहीं वह पानी है।
अगर देश के काम न आए,
वह बदजात जवानी है।

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता,
आज कहां मुंह धोती है।
भारतमाता की हर सिसकी,
जन-जन में अब रोती है।

आग उगलती हैं अब आंखें,
मन में अब प्रतिशोध बहे।
खून का बदला खून से लेना,
भारत ये समवेत कहे।

वीर शहीदों की कुर्बानी,
यूं न खाली जाएगी।
रावल से लाहौर तलक,
अब मौत निराली जाएगी।

गिन-गिनकर हम बदला लेंगे,
भारत में स्वर एक कहे।
आज शपथ है इस भारत को,
अब न ये आतंक सहे।

पूरा भारत देश दे रहा,
नम आंखों से आज विदाई।
वीर शहीदों को प्रणाम,
रोक न सकोगे आज रुलाई।

पुलवामा की धरती में,
जिन वीरों का खून जला।
उनकी मां को नमन करें हम,
जिनको ये बलिदान मिला।


Aaj Lahoo Kesar Ban Jae,
Dushman Ko Lalakaar Kar.
Aaj Utha Bandook Hai Bhaarat,
Veeron Kee Jayakaar Kar.

Namakaharaamon Kee Bastee Mein,
Saamp-sapole Rahate Hain.
Kesar Kee Sundar Kyaaree Mein,
Bam Ke Gole Bote Hain.

Raajaneeti Ke Galiyaaron Mein,
Gaddaaron Kee Phauj Khadee.
Jab Bhee Aatankee Ko Maaro,
Inako Hotee Peer Badee.

Jin Haathon Mein Pustak Hotee,
Unamen Patthar Aaj Thamae Hain.
Phoolon Kee Kyaaree Mein Kisane,
Bam-baarood Lagae Hain.

Sanvidhaan Kee Seemaon Ko,
Kisane Aaj Chunautee Dee?
Bhaarat Ke Tukade Karane Kee,
Kisane Aaj Manautee Kee?

Aatankon Ke Mansoobon Ko,
Kisane Aaj Fiza De Dee.
Gulashan Ke Galiyaaron Ko,
Kisane Aaj Khiza De Dee.

Painsath Aur Ikahattar Mein,
Jisane Munh Kee Khaee Thee.
Haath Uthaakar Donon Jisane,
Munh Kaalikh Putavaee Thee.

Kashmeeree Kaandhe Par Rakh,
Vah Bandook Chalaata Hai.
Unmaadee Jehaad Chalaakar,
Yuvakon Ko Phusalaata Hai.

Bhaarat Ke Andar Bhee Jo,
Gaddaaron Kee Tolee Hai.
Kha Karake Bhaarat Kee Rotee,
Paak Kee Vo Hamajolee Hai.

Dillee Kee Gaddee Par Baithe,
Sab Ye Sattaadheesh Sunen
Ya to Paak Ko Sabak Sikhaen
Ya Phir Van Sannyaas Chunen.

Nahin Khoon Gar Ab Khaula to,
Khoon Nahin Vah Paanee Hai.
Agar Desh Ke Kaam Na Aae,
Vah Badajaat Javaanee Hai.

Abhivyakti Kee Svatantrata,
Aaj Kahaan Munh Dhotee Hai.
Bhaaratamaata Kee Har Sisakee,
Jan-jan Mein Ab Rotee Hai.

Aag Ugalatee Hain Ab Aankhen,
Man Mein Ab Pratishodh Bahe.
Khoon Ka Badala Khoon Se Lena,
Bhaarat Ye Samavet Kahe.

Veer Shaheedon Kee Kurbaanee,
Yoon Na Khaalee Jaegee.
Raaval Se Laahaur Talak,
Ab Maut Niraalee Jaegee.

Gin-ginakar Ham Badala Lenge,
Bhaarat Mein Svar Ek Kahe.
Aaj Shapath Hai is Bhaarat Ko,
Ab Na Ye Aatank Sahe.

Poora Bhaarat Desh De Raha,
Nam Aankhon Se Aaj Vidaee.
Veer Shaheedon Ko Pranaam,
Rok Na Sakoge Aaj Rulaee.

Pulavaama Kee Dharatee Mein,
Jin Veeron Ka Khoon Jala.
Unakee Maan Ko Naman Karen Ham,
Jinako Ye Balidaan Mila.