Love Poem In Hindi | Love Poem For Her, Him In Hindi | Love Poem Hindi | Pyar Par Kavita | Sad Love Poem Short




बात बस इतनी सी है और कोई बात नही,
जो दिल कल तक मेरा था अब वो मेरे साथ नही,
हा है मुझे भी एक चेहरे का एतबार,
कल तक जो राज़ था, अब कोई राज़ नही।

एक धुन आती है कहीं दूर से,
और तस्सवुर मे बस वो है,
चाहे कोई भी बात, कोई भी आदत हो उसकी,
कुछ बहकते से लब्ज मेरे हैं,
निकलता हूँ हर रोज उसी राह उसी मंज़िल को,
जैसी बारिश उस दिन थी, अब ऐसी बरसात नही।

बात बस इतनी सी है और कोई बात नही,
जो दिल कल तक मेरा था, अब वो मेरे साथ नही।

वो बैठी है नज़रें फेरे मुझसे थोड़ी दूर,
वाकिफ मेरी उल्फ़त से और थोड़ी सी मगरूर,
थोड़ी सहमी वो भी है, डर तो मुझे भी है,
जाके उससे कह दूँ कैसे, अब ऐसे हालात नहीं।

बात बस इतनी सी है और कोई बात नही,
जो दिल कल तक मारे था, अब वो मेरे साथ नही।।



Baat Bas Itni Si Hai Aur Koi Baat Nahi,
Jo Dil Kal Tak Mera Tha Ab Vo Mere Saath Nahi,
Ha Hai Mujhe Bhi Ek Chehare Ka Aitbaar,
Kal Tak Jo Raaz Tha, Ab Koi Raaz Nahi.

Ek Dhun Aati Hai Kahin Door Se,
Aur Tassavur Me Bas Vo Hai,
Chaahe Koi Bhi Baat, Koi Bhi Aadat Ho Usakee,
Kuchh Bahakate Se Labj Mere Hain,
Nikalta Hoon Har Roj Usee Raah Usee Manzil Ko,
Jaisi Baarish Us Din Thee, Ab Aisee Barsaat Nahi.

Baat Bas Itni Si Hai Aur Koi Baat Nahi,
Jo Dil Kal Tak Mera Tha, Ab Vo Mere Saath Nahi.

Vo Baithee Hai Nazaren Phere Mujhase Thodi Door,
Vaakiph Meree Ulfat Se Aur Thodee See Magaroor,
Thodi Sahamee Vo Bhee Hai, Dar to Mujhe Bhee Hai,
Jaake Usase Kah Doon Kaise, Ab Aise Haalaat Nahin.

Baat Bas Itni See Hai Aur Koi Baat Nahi,
Jo Dil Kal Tak Maare Tha, Ab Vo Mere Saath Nahi..