Tere Bagair Hi Ache The Kya Musibat Hai Lyrics | Tere Bagair Hi Ache The Lyrics | Mahshar Afridi Tere Bagair Hi Ache The Shayari



दबी कुचली हुई, सब ख्वाहिशों के सर निकल आए
जरा पैसा हुआ तो, चींटी के पर निकल आए
अभी उड़ते नहीं तो, फाख्ता के साथ हैं बच्चे
अकेला छोड़ देंगे मां को, जिस दिन पर निकल आए

जगह की कैद नहीं थी कोई कहीं बैठें
जहां मकाम हमारा था हम वहीं बैठें
अमीरी शहर के आने पे उठना पड़ता है
लिहाजा अगली सफ़ों में कभी नहीं बैठें

सबसे बेजार हो गया हूँ मैं
जेहनी बीमार हो गया हूँ मैं
कोई अच्छी ख़बर नहीं मुझमें
यानी अख़बार हो गया हूँ मैं

मैं न कहता था हिज्र कुछ भी नहीं
खुद को हलकान कर रहीं थी तुम
कितने आराम से हैं हम दोनों
देखा बेकार डर रहीं थी तुम

ऐसे हालात से मजबूर बशर देखे हैं
असल क्या सूद में बिकते हुए घर देखे है
हमने देखा है वज़ादार घरानों का जवाल
हमने सड़कों पे कहीं शाह जफर देखे.

गम की दौलत मुफ्त लुटा दूं.... बिल्कुल नहीं!
अश्कों में ये दर्द बहा दूं.....बिल्कुल नहीं!
तूने तो औकात दिखा दी है अपनी
मैं अपना मयार गिरा दूं... बिल्कुल नहीं!


एक नजूमी सबको ख्वाब दिखाता है.
मैं भी अपना हाथ दिखा दूं.... बिल्कुल नही!
मेरे अंदर एक ख़ामोशी चीखती है
तो क्या मैं भी शोर मचा दूं...बिल्कुल नही!

तेरी खता नहीं जो तू गुस्से में आ गया
पैसे का जोन था तेरे लहज़े में आ गया
सिक्का उछालकर के तेरे पास क्या बचा?
तेरा गुरूर तो मेरे कांसे में आ गया

हर अन्धेरा रौशनी में लग गया
जिसको देखो शायरी में लग गया
हमको मर जाने की फुर्सत कब मिली?
वक्त सारा जिन्दगी में लग गया

अपना मयखाना बना सकते थे हम
इतना पैसा मयकशी में लग गया
खुद से इतनी दूर जा निकले थे हम
एक ज़माना वापसी में लग गया

शराब दौड़ रही है रगों में खून नहीं
मेरी निगाह में अब कोई अफलातून नहीं
कसम ख़ुदा की, बड़े तजुर्बे से कहता हूँ
गुनाह करने में लज़्ज़त तो है, सुकून नहीं

इतना मजबूर न कर बात बनाने लग जाए.
हम तेरे सर की कसम झूठी खाने लग जाए
सन्नाटे पिये मेरी समाअते ने की अब
सिर्फ आवाज पे चाहूँ तो निशाने लग‌ जाए

मैं अगर अपनी जवानी की सुना दूँ क़िस्से
ये जो लौंडे हैं मेरे पांव दबाने लग जाए।

इश्क में दान करना पड़ता है.
जान को हलकान करना पड़ता है.
तजुर्बा मुफ्त में नहीं मिलता.
पहले नुकसान करना पड़ता है.

उसकी बे लफ्ज गुफ्तगू के लिए
आँख को कान करना पड़ता है
फिर उदासी के भी तकाजे है
घर को वीरान करना पड़ता है।

बगैर उसको बताये निभाना पड़ता है.
ये इश्क राज है, इसको छुपाना पड़ता है
मैं अपने ज़हन की ज़िद से बहुत परेशान हूँ
तेरे ख्याल़ की चौखट पे आना पड़ता है.

तेरे बगैर ही अच्छे थे क्या मुसीबत है?
ये कैसा प्यार है? हर दिन जताना पड़ता है।


Dabee Kuchalee Huee, Sab Khwahishon Ke Sar Nikal Aae
Jara Paisa Hua to, Cheentee Ke Par Nikal Aaye
Abhee Udate Nahin to, Phaakhta Ke Saath Hain Bachche
Akela Chhod Denge Maan Ko, Jis Din Par Nikal Aae

Jagah Kee Kaid Nahin Thee Koee Kaheen Baithen
Jahaan Makaam Hamaara Tha Ham Vaheen Baithen
Ameeree Shahar Ke Aane Pe Uthana Padata Hai
Lihaaja Agalee Safon Mein Kabhee Nahin Baithen

Sabase Bejaar Ho Gaya Hoon Main
Jehanee Beemaar Ho Gaya Hoon Main
Koee Achchhee Khabar Nahin Mujhamen
Yaanee Akhabaar Ho Gaya Hoon Main

Main Na Kahata Tha Hijr Kuchh Bhee Nahin
Khud Ko Halakaan Kar Raheen Thee Tum
Kitane Aaraam Se Hain Ham Donon
Dekha Bekaar Dar Raheen Thee Tum

Aise Haalaat Se Majaboor Bashar Dekhe Hain
Asal Kya Sood Mein Bikate Hue Ghar Dekhe Hai
Hamane Dekha Hai Vazaadaar Gharaanon Ka Javaal
Hamane Sadakon Pe Kaheen Shaah Japhar Dekhe.

Gam Kee Daulat Mupht Luta Doon.... Bilkul Nahin!
Ashkon Mein Ye Dard Baha Doon.....bilkul Nahin!
Toone to Aukaat Dikha Dee Hai Apanee
Main Apana Mayaar Gira Doon... Bilkul Nahin!


Ek Najoomee Sabako Khvaab Dikhaata Hai.
Main Bhee Apana Haath Dikha Doon.... Bilkul Nahee!
Mere Andar Ek Khaamoshee Cheekhatee Hai
To Kya Main Bhee Shor Macha Doon...bilkul Nahee!

Teree Khata Nahin Jo Too Gusse Mein Aa Gaya
Paise Ka Jon Tha Tere Lahaze Mein Aa Gaya
Sikka Uchhaalakar Ke Tere Paas Kya Bacha?
Tera Guroor to Mere Kaanse Mein Aa Gaya

Har Andhera Raushanee Mein Lag Gaya
Jisako Dekho Shaayaree Mein Lag Gaya
Hamako Mar Jaane Kee Phursat Kab Milee?
Vakt Saara Jindagee Mein Lag Gaya

Apana Mayakhaana Bana Sakate the Ham
Itana Paisa Mayakashee Mein Lag Gaya
Khud Se Itanee Door Ja Nikale the Ham
Ek Zamaana Vaapasee Mein Lag Gaya

Sharaab Daud Rahee Hai Ragon Mein Khoon Nahin
Meree Nigaah Mein Ab Koee Aphalaatoon Nahin
Kasam Khuda Kee Bade Tajurbe Se Kahata Hoon
Gunaah Karane Mein Lazzat to Hai Sukoon Nahin

Itana Majaboor Na Kar Baat Banaane Lag Jae.
Ham Tere Sar Kee Kasam Jhoothee Khaane Lag Jae
Sannaate Piye Meree Samaate Ne Kee Ab
Sirph Aavaaj Pe Chaahoon to Nishaane Lag‌ Jae

Main Agar Apanee Javaanee Kee Suna Doon Qisse
Ye Jo Launde Hain Mere Paanv Dabaane Lag Jae.

Ishk Mein Daan Karana Padata Hai.
Jaan Ko Halakaan Karana Padata Hai.
Tajurba Mupht Mein Nahin Milata.
Pahale Nukasaan Karana Padata Hai.

Usakee Be Laphj Guphtagoo Ke Lie
Aankh Ko Kaan Karana Padata Hai
Phir Udaasee Ke Bhee Takaaje Hai
Ghar Ko Veeraan Karana Padata Hai.

Bagair Usako Bataaye Nibhaana Padata Hai.
Ye Ishk Raaj Hai Isako Chhupaana Padata Hai
Main Apane Zahan Kee Zid Se Bahut Pareshaan Hoon
Tere Khyaal Kee Chaukhat Pe Aana Padata Hai.

Tere Bagair Hee Achchhe the Kya Museebat Hai?
Ye Kaisa Pyaar Hai? Har Din Jataana Padata Hai.