अखबार पर कविता | अखबार पर शायरी | समाचार पत्र पर कविता | Akhbar Poem In Hindi | Akhbar Par Kavita


Akhbar Par Kavita

सुबह का अखबार क्या है?
भीड़ है बस ख़बरों की और
कुछ हुनरमंद इश्तेहार के छिपे हुए चेहरे हैं।

ख़बरों की शक़्लें रोज कहाँ बदलती है?
नए अखबार में खबर वही पुरानी रहती है,
बस कोई सलीके से दिन-तारीख बदल देता है
तब्दीली कर देता ज़रा सी खबरों के नाम-पते में,
जैसे रंगरेज रंगों पर दूसरे रंग चढ़ा देता है।

इश्तेहारों की शक़्ल हर रोज बदल जाती है।
हुनर दिखाने को वक़्त मुख़्तसर मिलता है यहाँ
हुनरमंदों की तादाद बहुत ज़्यादा है।
कुछ दुबके मिलते हैं तेरहवें पन्ने के किसी कोने में,
कहाँ हर किसी को हासिल होता है अखबार का पहला पन्ना।

खबरें कहीं भी हों, खबरें होती हैं
दबे हुए इश्तेहार को कौन देखता है?

सुबह का अखबार क्या है? शहर है
ख़बर और इश्तेहार का जहाँ
हर इश्तेहार एक खबर हो जाना चाहता है,
कभी न बदलने वाली एक भीड़ का हिस्सा।

मैं इश्तेहार या खबर नहीं
अखबार की तारीख हो जाना चाहता हूँ।
एक दिन को ही सही,
ज़माने भर की जुबां पर तो रहूँ।


Meaning (अर्थ)
इश्तेहार - विज्ञापन
मुख़तसर - बहुत कम, छोटी अवधि
रंगरेज - एक जो कपड़े रंगता है
तब्दीली - परिवर्तन

Akhbar Poem In Hindi

Subah Ka Akhabaar Kya Hai?
Bheed Hai Bas Khabaron Ki Aur
Kuchh Hunarmand Ishtehaar Ke Chhipe Hue Chehare Hain.

Khabaron Kee Shaqlen Roj Kaha Badalatee Hai?
Nae Akhbar Mein Khabar Vahee Purani Rahati Hai,
Bas Koi Saleeke Se Din-tareekh Badal Deta Hai
Tabdeeli Kar Deta Zara See Khabaron Ke Naam-pate Mein,
Jaise Rangarej Rangon Par Doosare Rang Chadha Deta Hai.

Ishtehaaron Kee Shaql Har Roj Badal Jaati Hai.
Hunar Dikhaane Ko Vaqt Mukhtasar Milata Hai Yahaan
Hunaramandon Ki Taadaad Bahut Zyada Hai.
Kuchh Dubake Milate Hain Terahaven Panne Ke Kisi Kone Mein,
Kahaan Har Kisi Ko Haasil Hota Hai Akbar Ka Pahla Panna.

Khabaren Kahi Bhi Hon, Khabare Hoti Hain
Dabe Hue Ishtehaar Ko Kaun Dekhata Hai?

Subah Ka Akhabaar Kya Hai? Shahar Hai
Khabar Aur Ishtehaar Ka Jahaan
Har Ishtehaar Ek Khabar Ho Jaana Chahta Hai,
Kabhi Na Badalne Wali Ek Bheed Ka Hissa.

Main Ishtehaar Ya Khabar Nahi
Akhbar Ki Tareekh Ho Jaana Chahta Hoon.
Ek Din Ko Hee Sahee,
Zamaane Bhar Ki Jubaan Par to Rahoon.

Meaning (अर्थ)
Ishtehaar - Vigyaapan
Mukhtasar - Bahut Kam, Chhotee Avadhi
Rangarej - Ek Jo Kapade Rangata Hai
Tabdeeli - Parivartan



TAG:
akhbar par kavita, akhbar par shayari, akhbar poem in hindi, akhbar status, samachar patra par kavita, , akbar poetry, akhbar poem in hindi, murge ne akhbar nikala poem, poem of akhbar in hindi, akhbar hindi poem, akhbar poem