Ilzaam Shayari | इल्जाम शायरी | Famous Ilzaam Shayari | अध्याय 1


shayari, ilzaam shayari, sad shayari, ilzaam, love shayari, ilzam shayari, bewafai ka ilzaam shayari, hindi shayari, #shayari, ilzaam shayri, ilzaam shayari images, ilzaam shayari in urdu, jhoote ilzaam shayari, ilzaam shayari rekhta, ilzaam shayari in hindi, new shayari, ilzam shayari in urdu, urdu shayari, ilzam shayari in hindi, shayari hindi, bewafa ka ilzam shayari, ilzam shayari in english, shayari in hindi, jhute ilzaam
मेरी तबाही का इल्ज़ाम अब शराब पर हैं
मैं और करता भी क्या तुम पे आ रही थी बात


Meri Tabahi Ka Ilzaam Ab Sharab Par Hain
Main Aur Karta Bhi Kya Tum Pe Aa Rahi Thi Baat

Bas Yehi Soch Kar Koi Safai Nahi Di Humne,
Ki Ilzaam Jhuthe Hi Sahi Par Lagaye To Tumne Hain.


बस यही सोच कर कोई सफाई नहीं दी हमने,
कि इल्ज़ाम झूठे ही सही पर लगाये तो तुमने हैं ।



Dil Ki Khwahish Ko Naam Kya Dun,
Pyar Ka Use Paigaam Kya Dun,


Is Dil Me Dard Nahin,
Uski Yaadein Hain,
Ab Yaadein Hi Dard De,
To Use Ilzaam Kya Dun.


दिल की ख्वाहिश को नाम क्या दूँ,
प्यार का उसे पैगाम क्या दूँ,


दिल में दर्द नहीं,
उसकी यादें हैं,
अब यादें ही दर्द दे,
तो उसे इल्ज़ाम क्या दूँ।



तू कहीं भी रहे,
सिर तुम्हारे इल्ज़ाम तो हैं
तुम्हारे हाथों के लकीरों में मेरा नाम तो हैं


Tu Kahin Bhi Rahe,
Sir Tumhare Ilzaam To Hain
Tumhare Hathon Ki Lakeeron Mein Mera Naam To 
Hai



Meri Nazron Ki Taraf Dekh Zamane Par Na Ja,
Ishq Masoom Hai Ilzam Lagane Par Na Ja.


मेरी नजरों की तरफ देख जमानें पर न जा,
इश्क मासूम है इल्जाम लगाने पर न जा।



Adhuri Hasraton Ka Aaj Bhi Ilzaam Hai Tum Par,
Agar Tum Chahte To Yeh Mohabbat Khatm Na Hoti.


अधूरी हसरतो का आज भी इल्ज़ाम है तुम पर,
अगर तुम चाहते तो यह मोहब्बत खत्म न होती।



Khud Na Chhupa Sake Wo Apna Chehra Nakaab Mein,
Bewajah Humari Aankhon Pe Ilzaam Lag Gaya.


खुद न छुपा सके वो अपना चेहरा नकाब में,
बेवजह हमारी आँखों पे इल्ज़ाम लग गया।



इल्ज़ाम लगा देने से बात सच्ची नही हो जाती
दिल पे क्या बीतती हैं किसी से कही नही जाती


Ilzaam Laga Dene Se Baat Sachhi Nahi Ho Jati
Dil Pe Kya Bitti Hain Kisi Se Kahi Nahi Jati



Jis Ke Liye Sab Kuchh Luta Diya Humne,
Wo Kehte Hai Unko Bhula Diya Humne,


Gaye The Hum Unke Aansu Pochne,
Ilzaam De Diya Ki Unko Rula Diya Humne.


जिस के लिए सब कुछ लुटा दिया हमने,
वो कहते हैं उनको भुला दिया हमने,


गए थे हम उनके आँसू पोछने,
इल्ज़ाम दे दिया की उनको रुला दिया हमने।



Udas Zindagi,
Udas Waqt,
Udas Mousam,
Kitni Cheejon Pe Ilzaam Laga Hai 

Tere Na Hone Se.

उदास जिन्दगी,
उदास वक्त,
उदास मौसम,
कितनी चीजो पे इल्जाम लगा है 

तेरे ना होने से।



दिल की ख्वाहिश को नाम क्या दूँ
प्यार का उसे पैगाम क्या दूँ


दिल में दर्द नहीं,
उसकी यादें हैं
अब यादें ही दर्द दे तो उसे इल्ज़ाम क्या दूँ


Dil Ki Khwahish Ko Naam Kya Doon
Pyaar Ka Use Paigam Kya Doon


Dil Mein Dard Nahin,
Uski Yaadein Hain
Ab Yaadein Hi Dard De To Use Ilzaam Kya Doon



Jaan Kar Bhi Wo Mujhe Jaan Na Paye,
Aaj Tak Wo Mujhe Pahchan Na Paye,


Khud Hi Kar Li Bewafai Humne,
Taake Unpar Koi Ilzaam Na Aaye


जान कर भी वो मुझे जान न पाए,
आज तक वो मुझे पहचान न पाए,


खुद ही कर ली वेबफाई हमने,
ताके उन पर कोई इल्ज़ाम न आये ।



हर बार इल्जाम हम पर ही लगाना ठीक नहीं
वफ़ा खुद से नहीं होती खफा हम पर होते हो


Har Baar Ilzaam Ham Par Hi Lagana Theek Nahin
Wafa Khud Se Nahin Hoti Khafa Ham Par Hote Ho



हर इल्ज़ाम का हकदार वो हमें बना जाते हैं
हर खता की सजा वो हमें सुना जाते हैं


और हम हर बार खामोश रह जाते हैं
क्यों कि वो अपने होने का हक जता जाते हैं


Har Ilzaam Ka Haqdar Wo Hamein Bana Jate Hain
Har Khata Ki Saza Wo Hamein Suna Jate Hain


Auur Ham Har Baar Khamosh Rah Jate Hain
Kyonki Wo Apne Hone Ka Haq Jata Jate Hain



दिल पे आये हुए इल्ज़ाम से पहचानते हैं
लोग अब मुझको तेरे नाम से पहचानते हैं


Dil Pe Aaye Hue Ilzaam Se Pehchante Hain
Log Ab Mujhko Tere Naam Se Pehchante Hain



कोई इल्जाम रह गया हो तो वो भी दे दो
पहले भी हम बुरे थे,
अब थोड़े और सही


Koi Ilzaam Rah Gaya Ho To Wo Bhi De Do
Pahle Bhi Ham Bure The,
Ab Thode Aur Sahi



Chirag Jalane Ka Saleeqa Seekho Sahab,
Hawaon Pe Ilzaam Lagane Se Kya Hoga.


चिराग जलाने का सलीका सीखो साहब
हवाओं पे इल्ज़ाम लगाने से क्या होगा।



Be-Bajah Deewar Par Ilzaam Hai Batware Ka,
Kai Log Ek Kamre Me Bhi Alag Rahte Hain.


बेवजह दीवार पर इल्जाम है बंटवारे का,
कई लोग एक कमरे में भी अलग रहते हैं।



तू ने ही लगा दिया इल्ज़ाम-ए-बेवफ़ाई
अदालत भी तेरी थी गवाह भी तू ही थी


Tu Ne Hi Laga Diya Ilzam-E-Bewafai
Adalat Bhi Teri Thi Gawah Bhi Tu Hi Thi



TAG:
shayari, ilzaam shayari, sad shayari, ilzaam, love shayari, ilzam shayari, bewafai ka ilzaam shayari, hindi shayari, #shayari, ilzaam shayri, ilzaam shayari images, ilzaam shayari in urdu, jhoote ilzaam shayari, ilzaam shayari rekhta, ilzaam shayari in hindi, new shayari, ilzam shayari in urdu, urdu shayari, ilzam shayari in hindi, shayari hindi, bewafa ka ilzam shayari, ilzam shayari in english, shayari in hindi, jhute ilzaam