Latest Two Line Shayari In Hindi | अध्याय 6



देखी जो नब्ज मेरी,
हँस कर बोला वो हकीम,
जा जमा ले महफिल पुराने दोस्तों के साथ 

तेरे हर मर्ज की दवा वही है।

Dekhee Jo Nabj Meree,
Hans Kar Bola Vo Hakeem,
Ja Jama Le Mahaphil Puraane Doston Ke Saath 

Tere Har Marj Kee Dava Vahee Hai.


वो मेरी हर दुआ में शामिल था
जो किसी और को बिन मांगे मिल गया

Vo Meree Har Dua Mein Shaamil Tha

jo Kisee Aur Ko Bin Maange Mil Gaya


Aaj Koi ‪#‎Shayari‬ Nhi Bas Itna Sun Lo,
Main ‪‎Tanha‬ Hun Aur ‪Wajah‬ Tum Ho


रोती है आँख जलता है ये दिल जब..
अपने घर के फेंके दिये से आँगन पराया जगमगाता है.


Rotee Hai Aankhe Jalata Hai Ye Dil Jab..
Apane Ghar Ke Phenke Diye Se Aangan Paraaya Jagamagaata Hai.


क्या क्या रंग दिखाती है जिंदगी क्या खूब इक्तेफ़ाक होता है,
प्यार में ऊम्र नहीँ होती पर हर ऊम्र में प्यार होता है..

Kya Kya Rang Dikhaatee Hai Jindagee Kya Khoob Iktefaak Hota Hai,
Pyaar Mein Oomr Naheen Hotee Par Har Oomr Mein Pyaar Hota Hai..


मेरे अन्दर कुछ टूटा है
बस दुआ करो वो दिल ना हो

Mere Andar Kuchh Toota Hai

bas Dua Karo Vo Dil Na Ho

मोहब्बत न सही मुकदमा कर दे मुज पर …
कम से कम तारीख दर तारीख मुलाकात तो होगी ।

Mohabbat Na Sahee Mukadama Kar De Muj Par …

Kam Se Kam Taareekh Dar Taareekh Mulaakaat To Hogee .


तूने मेरा आज देख के मुझे ठुकराया है…
हमने तो तेरा गुजरा कल देख के भी मोहब्बत की थी|

Toone Mera Aaj Dekh Ke Mujhe Thukaraaya Hai…

Hamane To Tera Gujara Kal Dekh Ke Bhee Mohabbat Kee Thee|


मुझसे कहती है तेरे साथ रहूंगी!
बहुत प्यार करती है मुझसे मेरी उदासी|

Mujhase Kahatee Hai Tere Saath Rahoongee!
Bahut Pyaar Karatee Hai Mujhase Meree Udaasee !


कुछ इस तरह बुनेंगे हम अपनी तकदीर के धागे
कि अच्छे अच्छो को झुकना पड़ेगा हमारे आगे!

Kuchh Is Tarah Bunenge Ham Apanee Takadeer Ke Dhaageki Achchhe Achchho Ko Jhukana Padega Hamaare Aage!


मुझे क़बूल है..
हर दर्द..
हर तकलीफ़ तेरी चाहत में..
सिर्फ़ इतना बता दो..
क्या तुम्हें मेरी मोहब्बत क़बूल है..?

Mujhe Qabool Hai..
Har Dard..
Har Takaleef Teree Chaahat Mein..
Sirf Itana Bata Do..
Kya Tumhen Meree Mohabbat Qabool Hai..?


मुस्कुरा देता हूँ अक्सर देखकर पुराने खत तेरे,,,
तू झूठ भी कितनी सच्चाई से लिखती थी.


Muskura Deta Hoon Aksar Dekhakar Puraane Khat Tere,,,
Too Jhooth Bhee Kitanee Sachchaee Se Likhatee Thee..




एक उमर बीत चली है तुझे चाहते हुए,
तू आज भी बेखबर है कल की तरह।

Ek Umar Beet Chalee Hai Tujhe Chaahate Hue,
Too Aaj Bhee Bekhabar Hai Kal Kee Tarah.


गुमनामी का अँधेरा कुछ इस तरह छा गया है..
की दास्ताँ बन के जीना भी हमे रास आ गया है।

Gumanaamee Ka Andhera Kuchh Is Tarah Chha Gaya Hai..
Kee Daastaan Ban Ke Jeena Bhee Hame Raas Aa Gaya Hai.


किसी को क्या बताये की कितने मजबूर है हम..
चाहा था सिर्फ एक तुमको और अब तुम से ही दूर है हम।

Kisee Ko Kya Bataaye Kee Kitane Majaboor Hai Ham..
Chaaha Tha Sirph Ek Tumako Aur Ab Tum Se Hee Door Hai Ham.


इन ग़म की गलियों में कब तक ये दर्द हमें तड़पाएगा..
इन रस्तों पे चलते-चलते हमदर्द कोई मिल जाएगा.


In Gam Kee Galiyon Mein Kab Tak Ye Dard Hamen Tadapaega..
In Raston Pe Chalate-Chalate Hamadard Koee Mil Jaega.


जरूरत है मुझे नये नफरत करने वालाे की,
पुराने ताे अब मुझे चाहने लगे है।

Jaroorat Hai Mujhe Naye Napharat Karane Vaalaae Kee,
Puraane Taae Ab Mujhe Chaahane Lage Hai.


कौन कहता है संवरने से बढ़ती है खूबसूरती…
दिलों में चाहत हो तो चेहरे यूँ ही निखर आते है..

Kaun Kahata Hai Sanvarane Se Badhatee Hai Khoobasooratee…

Dilon Mein Chaahat Ho To Chehare Yoon Hee Nikhar Aate Hai..


तेरे बाद हमने इस दिलका दरवाज़ा खोला ही नही,
“वरना” बहुत से चाँद आये इस घर को सजाने के लिए.


Tere Baad Hamane Is Dilaka Daravaaza Khola Hee Nahee,
“Varana” Bahut Se Chaand Aaye Is Ghar Ko Sajaane Ke Lie..


Mujhe Khud Par Itna To Yaqeen Hai,
Koi Mujhe Chor To Sakta Hai Magar Bhula Nahi Sakta.


ज़िन्दगी ने मर्ज़ का क्या खूब इलाज सुझाया,
वक्त को दवा बतायाख्वाहिशों से परहेज़ बताया

Zindagee Ne Marz Ka Kya Khoob Ilaaj Sujhaaya,
Vakt Ko Dava Bataaya
Khvaahishon Se Parahez Bataaya|


हँसी यूँ ही नहीं आई है इस ख़ामोश चेहरे पर,
कई ज़ख्मों को सीने में दबाकर रख दिया हमने

Hansee Yoon Hee Nahin Aaee Hai Is Khaamosh Chehare Par,
Kaee Zakhmon Ko Seene Mein Dabaakar Rakh Diya Hamane|


एक तु मिल जाती तो किसी का कया चला जाता..
तुझे उमर भर के लिए खुशीयाँ ही खुशीयाँ और मुझको मेरा खुदा मिल जाता।

Ek Tu Mil Jaatee To Kisee Ka Kaya Chala Jaata..
Tujhe Umar Bhar Ke Lie Khusheeyaan Hee Khusheeyaan Aur Mujhako Mera Khuda Mil Jaata.


सुनो ये बादल जब भी बरसता है,
मन तुझसे ही मिलने को तरसता है..

Suno Ye Baadal Jab Bhee Barasata Hai,
Man Tujhase Hee Milane Ko Tarasata Hai..


अपने वजूद पर इतना न इतरा ए ज़िन्दगी..
वो तो मौत है जो तुझे मोहलत देती जा रही है!

Apane Vajood Par Itana Na Itara E Zindagee..
Vo To Maut Hai Jo Tujhe Mohalat Detee Ja Rahee Hai!


जब कभी टूट कर बिखरो तो बताना हमको,
हम तुम्हें रेत के जर्रों से भी चुन सकते हैं|

Jab Kabhee Toot Kar Bikharo To Bataana Hamako,
Ham Tumhen Ret Ke Jarron Se Bhee Chun Sakate Hain|


कौन कहता है मुसाफिर जख्मी नही होते
रास्ते गवाह हैं कम्बख्त गवाही नही देते।

Kaun Kahata Hai Musaaphir Jakhmee Nahee Hote

raaste Gavaah Hain Kambakht Gavaahee Nahee Dete.


जो दिल को अच्छा लगता है उसी को दोस्त कहता हूँ,
मुनाफ़ा देखकर रिश्तों की सियासत नहीं करता ।

Jo Dil Ko Achchha Lagata Hai Usee Ko Dost Kahata Hoon,
Munaafa Dekhakar Rishton Kee Siyaasat Nahin Karata ..


तुम्हारा क्या बिगाड़,
था जो तुमने तोड़ डाला है,
ये टुकडे मैं नही लूँगा मुझे तुम दिल बना कर दो।

Tumhaara Kya Bigaad,
Tha Jo Tumane Tod Daala Hai,
Ye Tukade Main Nahee Loonga Mujhe Tum Dil Bana Kar Do.


Mujhe Zindig Ka Itna Tazurba To Nahi !
Par Suna Hai Saadgi Me Log Jeene Nahi Dete!


Na Jane Kyu Yeh Raat Udaas Kar Deti Hai Har Roz,
Mehsos Yu Hota Hai Jaise Bichad Raha Ho Koi Dheere Dheere.


एहसान जताना जाने कैसे सीख लिया..
मोहब्बत जताते तो कुछ और बात थी।

Ehasaan Jataana Jaane Kaise Seekh Liya..
Mohabbat Jataate To Kuchh Aur Baat Thee.


अब जुदाई के सफ़र को मिरे आसान करो
तुम मुझे ख़्वाब में आ कर न परेशान करो ।

Ab Judaee Ke Safar Ko Mire Aasaan Karo

Tum Mujhe Khvaab Mein Aa Kar Na Pareshaan Karo .


बहुत देता है तू उसकी गवाहियाँ और उसकी सफाईयाँ,
समझ नहीं आता तू मेरा दिल है या उसका वकील|

Bahut Deta Hai Too Usakee Gavaahiyaan Aur Usakee Saphaeeyaan,
Samajh Nahin Aata Too Mera Dil Hai Ya Usaka Vakeel.


ताकत की जरूरत तब होतीं हैं जब कुछ बुरा करना हों ..
वरना दुनियाँ में सब कुछ पाने के लिए प्यार ही काफ़ी हैं …!

Taakat Kee Jaroorat Tab Hoteen Hain Jab Kuchh Bura Karana Hon ..
Varana Duniyaan Mein Sab Kuchh Paane Ke Lie Pyaar Hee Kaafee Hain …!


अजीब किस्सा है जिन्दगी का,
अजनबी हाल पूछ रहे हैं और अपनो को खबर तक नहीं.


Ajeeb Kissa Hai Jindagee Ka,
Ajanabee Haal Poochh Rahe Hain Aur Apano Ko Khabar Tak Nahin..


अधूरी मोहब्बत मिली तो नींदें भी रूठ गयी…!
गुमनाम ज़िन्दगी थी तो कितने सकून से सोया करते थे…!

Adhooree Mohabbat Milee To Neenden Bhee Rooth Gayee…!
Gumanaam Zindagee Thee To Kitane Sakoon Se Soya Karate The…!


मरहम लगा सको तो गरीब के जख्मो पर लगा देना
हकीम बहुत है बाजार में अमीरो के इलाज खातिर !

Maraham Laga Sako To Gareeb Ke Jakhmo Par Laga Dena

hakeem Bahut Hai Baajaar Mein Ameero Ke Ilaaj Khaatir !


कल क्या खूब इश्क़ से मैने बदला लिया,
कागज़ पर लिखा इश्क़ और उसे ज़ला दिया।

Kal Kya Khoob Ishq Se Maine Badala Liya,
Kaagaz Par Likha Ishq Aur Use Zala Diya.


बस रिश्ता ही तो टूटा है,
मोहब्बत तो आज भी हमे उनसे है.


Bas Rishta Hee To Toota Hai,
Mohabbat To Aaj Bhee Hame Unase Hai.


जो लम्हा साथ हैं,
उसे जी भर के जी लेना.कम्बख्त ये जिंदगी..
भरोसे के काबिल नहीं है.!

Jo Lamha Saath Hain,
Use Jee Bhar Ke Jee Lena.
Kambakht Ye Jindagee..
Bharose Ke Kaabil Nahin Hai.!


एक सफ़र ऐसा भी होता है दोस्तों,
जिसमें पैर नहीं दिल थक जाता है…!

Ek Safar Aisa Bhee Hota Hai Doston,
Jisamen Pair Nahin Dil Thak Jaata Hai…!


हर मर्ज़ का इलाज़ मिलता था उस बाज़ार में,
मोहब्बत का नाम लिया दवाख़ाने बन्द हो गये|

Har Marz Ka Ilaaz Milata Tha Us Baazaar Mein,
Mohabbat Ka Naam Liya Davaakhaane Band Ho Gaye|


जींदगी गुझर गई सारी कांटो की कगार पर,
और फुलो ने मचाई है भीड़ हमारी मझार पर!

Jeendagee Gujhar Gaee Saaree Kaanto Kee Kagaar Par,
Aur Phulo Ne Machaee Hai Bheed Hamaaree Majhaar Par!


बात मुक्कदर पे आ के रुकी है वर्ना,
कोई कसर तो न छोड़ी थी तुझे चाहने में !

Baat Mukkadar Pe Aa Ke Rukee Hai Varna,
Koee Kasar To Na Chhodee Thee Tujhe Chaahane Mein !


रूठा अगर तुझसे तो इस अंदाज से रूठूंगा ,
तेरे शहर की मिट्टी भी मेरे बजूद को तरसेगी


Rootha Agar Tujhase To Is Andaaj Se Roothoonga ,
Tere Shahar Kee Mittee Bhee Mere Bajood Ko Tarasegee


मैने कहा बडी तीखी‬ मिर्च होयार तुम..
वो..
मेरे होठचुम करबोलीऔर अब!

Maine Kaha Badee Teekhee‬ Mirch Hoyaar Tum..
Vo..
Mere Hothachum Karaboleeaur Ab!


मुझसे नफरत ही करनी है तो इरादे मजबूत रखना,
जरा से भी चुके तो महोब्बत हो जायेगी


Mujhase Napharat Hee Karanee Hai To Iraade Majaboot Rakhana,
Jara Se Bhee Chuke To Mahobbat Ho Jaayegee


सुख भोर के टिमटिमाते हुए तारे की तरह है
देखते ही देखते ये ख़त्म हो जाता है …!

Sukh Bhor Ke Timatimaate Hue Taare Kee Tarah Hai

dekhate Hee Dekhate Ye Khatm Ho Jaata Hai …!


रुकी-रुकी सी लग रही है नब्ज-ए-हयात,
ये कौन उठ के गया है मेरे सिरहाने से।

Rukee-Rukee See Lag Rahee Hai Nabj-E-Hayaat,
Ye Kaun Uth Ke Gaya Hai Mere Sirahaane Se.


मोहब्बत का कोई रंग नही फिर भी वो रंगीन है,
प्यार का कोई चेहरा नही फिर भी वो हसीन हैं।

Mohabbat Ka Koee Rang Nahee Phir Bhee Vo Rangeen Hai,
Pyaar Ka Koee Chehara Nahee Phir Bhee Vo Haseen Hain.


तुम्हें चाहने की वजह कुछ भी नहीं,
बस इश्क की फितरत है,
बे-वजह होना।

Tumhen Chaahane Kee Vajah Kuchh Bhee Nahin,
Bas Ishk Kee Phitarat Hai,
Be-Vajah Hona.


TAG:
two line shayari, two line hindi shayari, two line shayari hindi, two line shayari in hindi, two line love shayari, two line shayari for love, two line shayari love, two line shayari on love, two line sad shayari, two line shayari sad, two line shayari romantic, two line shayari urdu, two line urdu shayari, two line shayari in urdu, two line shayari collections hindi, two line shayari in hindi font, two line shayari on zindagi, two line shayari on life, two line shayari of ghalib, two line shayari in punjabi, two line shayari attitude, two line shayari dp, two line shayari on nature, two line shayari in hindi on love, two line shayari on muskan