Latest Two Line Shayari In Hindi | अध्याय 5


two line shayari, two line hindi shayari, two line shayari hindi, two line shayari in hindi, two line love shayari, two line shayari for love, two line shayari love, two line shayari on love, two line sad shayari, two line shayari sad, two line shayari romantic, two line shayari urdu, two line urdu shayari, two line shayari in urdu, two line shayari collections hindi, two line shayari in hindi font, two line shayari on zindagi, two line shayari on life, two line shayari of ghalib, two line shayari in punjabi, two line shayari attitude, two line shayari dp, two line shayari on nature, two line shayari in hindi on love, two line shayari on muskan
ना मैं शायर हूँ ना मेरा शायरी से कोई वास्ता,
बस शौक बन गया है,
तेरी यादो को बयान करना


Na Main Shaayar Hoon Na Mera Shaayaree Se Koee Vaasta,
Bas Shauk Ban Gaya Hai,
Teree Yaado Ko Bayaan Karana



लगता है खुदा मुझे बुलाने वाला है,
रोज़ मेरी झूटी कसमे खा रही है वो

Lagata Hai Khuda Mujhe Bulaane Vaala Hai,
Roz Meree Jhootee Kasame Kha Rahee Hai Vo|




Kisi Aashiq Ne Kya Khub Kaha Hai,
Khamoshi Ko Ikhtiyaar Kar Lena,
Apne Dil Ko Bekarar Kar Lena,
Zindagi Ka Asli Dard Lena Ho To ..
Kisi..


Humse Koi Khata Ho Jaye Toh Maaf Karna,
Hum Yaad Na Kar Payein Toh Maaf Karna,
Dil Se Toh Hum Aapko Kabhi Bhulte Nahi,
Par Yeh Dil Hi Ru..




पहले रिम-झिम फिर बरसात और अचानक कडी धूप,
मोहब्बत ओर अगस्त की फितरत एक सी है..!


Pahale Rim-jhim Phir Barsaat Aur Achanak Kadi Dhoop,
Mohabbat or Agast Kee Phitarat Ek See Hai..!


ज़िन्दगी में कई ऐसे लोग भी मिलते हैं
जिन्हें हम पा नहीं सकते सिर्फ चाह सकते हैं..

Zindagee Mein Kaee Aise Log Bhee Milate Hain

jinhen Ham Pa Nahin Sakate Sirph Chaah Sakate Hain..


यकीन नहीं होता फिर भी कर ही लेता हूँ…
जहाँ इतने हुए एक और फरेब हो जाने दो…

Yakeen Nahin Hota Phir Bhee Kar Hee Leta Hoon…
Jahaan Itane Hue Ek Aur Phareb Ho Jaane Do…



सज़ा मिली है इसे,
इसकी वफाओं के लिये!
दिल वो मुज़रिम है के,
जिस पर कोई इल्ज़ाम नहीं!

Saza Milee Hai Ise,
Isakee Vaphaon Ke Liye!
Dil Vo Muzarim Hai Ke,
Jis Par Koee Ilzaam Nahin!



हीरों की बस्ती में हमने कांच ही कांच बटोरे हैं
कितने लिखे फ़साने फिर भी सारे कागज़ कोरे है।

Heeron Kee Bastee Mein Hamane Kaanch Hee Kaanch Batore Hain

Kitane Likhe Fasaane Phir Bhee Saare Kaagaz Kore Hai.


तुझे पाना..
तुझे खोना..
तेरी ही याद मेँ रोनाये अगर इश्क है..
तो हम तनहा ही अच्छेँ हैँ.!

Tujhe Paana..
Tujhe Khona..
Teree Hee Yaad Men Ronaye Agar Ishk Hai..
To Ham Tanaha Hee Achchhen Hain.!



चुपचाप गुज़ार देगें तेरे बिना भी ये ज़िन्दगी,
लोगो को सिखा देगें मोहब्बत ऐसे भी होती है।

Chupachaap Guzaar Degen Tere Bina Bhee Ye Zindagee,
Logo Ko Sikha Degen Mohabbat Aise Bhee Hotee Hai.



तुम रख न सकोगे,
मेरा तोहफा संभालकर,
वरना मैं अभी दे दूँ,
जिस्म से रूह निकालकर…!

Tum Rakh Na Sakoge,
Mera Tohapha Sambhaalakar,
Varana Main Abhee De Doon,
Jism Se Rooh Nikaalakar…!



Raat Shama Bujha Ke Bahut Der Tak Mehfil Sajai Humne,
Main Apne Dil Ke Liye Rota Raha Aur Yeh Dil Tere Liye..



मुजे ऊंचाइयों पर देखकर हैरान है बहुत लोग..
‪‎पर‬ किसी ने मेरे पैरो के छाले नहीं देखे..

Muje Oonchaiyon Par Dekhakar Hairaan Hai Bahut Log..
‪‎Par‬ Kisee Ne Mere Pairo Ke Chhaale Nahin Dekhe..



हजारों चेहरों में एक तुम ही पर मर मिटे थे..
वरना..
ना चाहतों की कमी थी और ना चाहने वालों की..!

Hajaaron Cheharon Mein Ek Tum Hee Par Mar Mite The..
Varana..
Na Chaahaton Kee Kamee Thee Aur Na Chaahane Vaalon Kee..!



दीवानगी मे कुछ एसा कर जाएंगे..
महोब्बत की सारी हदे पार कर जाएंगे।

Deevaanagee Me Kuchh Esa Kar Jaenge..
Mahobbat Kee Saaree Hade Paar Kar Jaenge.



हुस्न वालों को क्या जरूरत है संवरने की,
वो तो सादगी में भी क़यामत की अदा रखते हैं।

Husn Vaalon Ko Kya Jaroorat Hai Sanvarane Kee,
Vo To Saadagee Mein Bhee Qayaamat Kee Ada Rakhate Hain.



करम ही करना है तुझको तो ये करम कर दे,
मेरे खुदा तू मेरी ख्वाहिशों को कम कर दे।

Karam Hee Karana Hai Tujhako To Ye Karam Kar De,
Mere Khuda Too Meree Khvaahishon Ko Kam Kar De.


गरीब का दर्दसुला दिया माँ ने…ये कहकर..!
परियां आएंगी सपनों में रोटियां लेकर..!

Gareeb Ka Dardsula Diya Maan Ne…Ye Kahakar..!
Pariyaan Aaengee Sapanon Mein Rotiyaan Lekar..

फिर पलट रही हे सदिॅयो सी सुहानी रातें,
फिर तेरी याद मे जलने के जमाने आ गए|

Phir Palat Rahee He Sadiaiyo See Suhaanee Raaten,
Phir Teree Yaad Me Jalane Ke Jamaane Aa Gae|


तेरी यादें हर रोज़ आ जाती है मेरे पास,
लगता है तुमने बेवफ़ाई नही सिखाई इनको..

Teree Yaaden Har Roz Aa Jaatee Hai Mere Paas,
Lagata Hai Tumane Bevafaee Nahee Sikhaee Inako..


हमे हारने का शोख नहीँ,
बस हम खेलते हे उस अंदाज से की लोग मैदान छोड देते हैं..

Hame Haarane Ka Shokh Naheen,
Bas Ham Khelate He Us Andaaj Se Kee Log Maidaan Chhod Dete Hain..


कुछ इस तरह खूबसूरत रिश्ते टूट जाया करते हैं,
जब दिल भर जाता है..
तो लोग अक्सर रूठ जाया करते हैं..

Kuchh Is Tarah Khoobasoorat Rishte Toot Jaaya Karate Hain,
Jab Dil Bhar Jaata Hai..
To Log Aksar Rooth Jaaya Karate Hain..


क्या ऎसा नहीं हो सकता के हम तुमसे तुमको माँगे,
और तुम मुस्कुरा के कहो के अपनी चीजें माँगा नहीं करते..

Kya Aisa Nahin Ho Sakata Ke Ham Tumase Tumako Maange,
Aur Tum Muskura Ke Kaho Ke Apanee Cheejen Maanga Nahin Karate..


जो आज तेरे पास है वो हमेशा नहीं रहेगा,
कुछ दिन बाद तू आज जैसा नहीं रहेगा..

Jo Aaj Tere Paas Hai Vo Hamesha Nahin Rahega,
Kuchh Din Baad Too Aaj Jaisa Nahin Rahega..


जब कागज़ पर लिखा मैंने माँ का नाम,
कलम अदब से बोल उठी हो गए चारों धाम..

Jab Kaagaz Par Likha Mainne Maan Ka Naam,
Kalam Adab Se Bol Uthee Ho Gae Chaaron Dhaam..


सुनो,
एकदम से जुदाई मुश्किल है,
मेरी मानों कुछ किश्तें तय कर लो..

Suno,
Ekadam Se Judaee Mushkil Hai,
Meree Maanon Kuchh Kishten Tay Kar Lo..


ये जो तुम मेरा हालचाल पूछते हो,
बड़ा ही मुश्किल सवाल पूछते हो..

Ye Jo Tum Mera Haalachaal Poochhate Ho,
Bada Hee Mushkil Savaal Poochhate Ho..


फिर तेरी याद,
फिर तेरी तलव,
फिर तेरी बातें,
ऐसे लगता है ऐ दिल तुझे मेरा सकून नही आता..

Phir Teree Yaad,
Phir Teree Talav,
Phir Teree Baaten,
Aise Lagata Hai Ai Dil Tujhe Mera Sakoon Nahee Aata..


तोड़ दो ना वो कसम जो खाई है,
कभी कभी याद कर लेने में क्या बुराई है..

Tod Do Na Vo Kasam Jo Khaee Hai,
Kabhee Kabhee Yaad Kar Lene Mein Kya Buraee Hai..


 Kuchh Ajab Haal Hai Inn Diino Tabiyat Ka Shahab,
Khushi Khushi Naa Lage Aur Gam Bura Na Lage…


Use Bewafa Bhi Kehna Mere Liye Gunha Ki Baat Hai,
Bewafa To Usko Kehte Hai Jo Wafa Kar Ke Chor Jate Hai…


Zindagi Ki Haqikat Se Do Char Ho,
Aksar Dil Apna Hi Hum Jala Lete Hai…


Khwab Ko Khwab Rehne Do,
Isi Bahane Hum Muskura Lete Hai…


Kitna Bebas Hain Insaan Kismat Ke Aage,
Har Sapna Tut Jata Hain Hakikat Ke Aage.




सुकून की बातमत कर ऐ दोस्त..
बचपन वाला ‘इतवार’ जाने क्यूँ अब नहीं आता।


Sukoon Kee Baatamat Kar Ai Dost..
Bachapan Vaala ‘Itavaar’ Jaane Kyoon Ab Nahin Aata.



वो जब पास मेरे होगी तो शायद कयामत होगी,
अभी तो उसकी तस्वीर ने ही तवाही मचा रखी है|

Vo Jab Paas Mere Hogee To Shaayad Kayaamat Hogee,
Abhee To Usakee Tasveer Ne Hee Tavaahee Macha Rakhee Hai



जिस घाव से खून नहीं निकलता,
समझ लेना वो ज़ख्म किसी अपने ने ही दिया है.


Jis Ghaav Se Khoon Nahin Nikalata,
Samajh Lena Vo Zakhm Kisee Apane Ne Hee Diya Hai.



बेवक्त बेवजह बेसबब सी बेरुखी तेरी,
फिर भी बेइंतहा तुझे चाहने की बेबसी मेरी !

Bevakt Bevajah Besabab See Berukhee Teree,
Phir Bhee Beintaha Tujhe Chaahane Kee Bebasee Meree !



बहुत ज़ालिम हो तुम भी मुहब्बत ऐसे करते हो
जैसे घर के पिंजरे में परिंदा पाल रखा हो|

Bahut Zaalim Ho Tum Bhee Muhabbat Aise Karate Ho

Jaise Ghar Ke Pinjare Mein Parinda Paal Rakha Ho


खुशबु आ रही है कहीं से ताज़े गुलाब की
शायद खिड़की खुली रेह गई होगी उनके मकान की।

Khushabu Aa Rahee Hai Kaheen Se Taaze Gulaab Kee

Shaayad Khidakee Khulee Reh Gaee Hogee Unake Makaan Kee.


जब जिन्दा थे तो बेबुनियाद आरोप लगाती रही,
जब कब्र में सोये तो ‘शख्स बडा लाजबाब था’


Jab Jinda The To Bebuniyaad Aarop Lagaatee Rahee,
Jab Kabr Mein Soye To ‘Shakhs Bada Laajabaab Tha’



Aye Zindgi Tu Sach Me Bhot Khubsurat Hai
Phir Bhi Uske Bina Tu Achhi Nahi Lagti..


औक़ात नही थी जमाने में जो मेरी कीमत लगा सके,
कबख़्त इश्क में क्या गिरे,
मुफ़्त में नीलाम हो गए..

Auqaat Nahee Thee Jamaane Mein Jo Meree Keemat Laga Sake,
Kabakht Ishk Mein Kya Gire,
Muft Mein Neelaam Ho Gae..



तेरी मोहब्बत की तलब थी इस लिए हाथ फैला दिए
वरना हमने तो कभी अपनी ज़िंदगी की दुआ भी नही माँगी।

Teree Mohabbat Kee Talab Thee Is Lie Haath Phaila Diye

varana Hamane To Kabhee Apanee Zindagee Kee Dua Bhee Nahee Maangee.


पतझड आती है तो पते टूट जाते है,
नया साथ मिल जाए तो पुराने छूट ही जाते है|

Patajhad Aatee Hai To Pate Toot Jaate Hai,
Naya Saath Mil Jae To Puraane Chhoot Hee Jaate Hai|

ना शौक दीदार का,
ना फिक्र जुदाई की,
बड़े खुश नसीब हैँ वो लोग … जो,
मोहब्बत नहीँ करतेँ!

Na Shauk Deedaar Ka,
Na Phikr Judaee Kee,
Bade Khush Naseeb Hain Vo Log … Jo,
Mohabbat Naheen Karaten!



झूठ बोलने का रियाज़ करता हूँ सुबह और शाम मैं
सच बोलने की अदा ने हमसे कई अजीज़ यार छीन लिये|

Jhooth Bolane Ka Riyaaz Karata Hoon Subah Aur Shaam Main
Sach Bolane Kee Ada Ne Hamase Kaee Ajeez Yaar Chheen Liye




निकली थी बिना नकाब आज वो घर से
मौसम का दिल मचला लोगोँ ने भूकम्प कह दिया

Nikalee Thee Bina Nakaab Aaj Vo Ghar Se
Mausam Ka Dil Machala Logon Ne Bhookamp Kah Diya



नहीं मांगता ऐ खुदा कि,
जिंदगी सौ साल की दे..
दे भले चंद लम्हों की,
लेकिन कमाल की दे..

Nahin Maangata Ai Khuda Ki,
Jindagee Sau Saal Kee De..
De Bhale Chand Lamhon Kee,
Lekin Kamaal Kee De..

तुम्हारा साथ तसल्ली से चाहिए मुझे..
जन्मों की थकान लम्हों में कहाँ उतरती है !

Tumhaara Saath Tasallee Se Chaahie Mujhe..
Janmon Kee Thakaan Lamhon Mein Kahaan Utaratee Hai !



पहली बारिश का नशा ही कुछ अलग होता हैं,
पलको को छूते ही सीधा दिल पे असर होता हैं।

Pahalee Baarish Ka Nasha Hee Kuchh Alag Hota Hain,
Palako Ko Chhoote Hee Seedha Dil Pe Asar Hota Hain.



खामोशियाँ बहुत कुछ कहती हैं,
कान नही दिल लगा कर सुनना पड़ता है।

Khaamoshiyaan Bahut Kuchh Kahatee Hain,
Kaan Nahee Dil Laga Kar Sunana Padata Hai.



तेरी यादो को पसन्द आ गई है मेरी आँखों की नमी,
हँसना भी चाहूँ तो रूला देती है तेरी कमी…!

Teree Yaado Ko Pasand Aa Gaee Hai Meree Aankhon Kee Namee,
Hansana Bhee Chaahoon To Roola Detee Hai Teree Kamee…!




दोस्तो से अच्छे तो मेरे दुश्मन निकले,
कमबख्त हर बात पर कहते हैं कि तुझे छोडेंगे नहीं.

Dosto Se Achchhe To Mere Dushman Nikale,
Kamabakht Har Baat Par Kahate Hain Ki Tujhe Chhodenge Nahin.



अपने वजूद पर इतना न इतरा ए ज़िन्दगी..
वो तो मौत है जो तुझे मोहलत देती जा रही है!

Apane Vajood Par Itana Na Itara E Zindagee..
Vo To Maut Hai Jo Tujhe Mohalat Detee Ja Rahee Hai!



नज़र चाहती है दीदार करना,
दिल चाहता है प्यार करना,
क्या बताएं इस दिलका आलम,
नसीब मैं लिखा है इंतज़ार करना.


Nazar Chaahatee Hai Deedaar Karana,
Dil Chaahata Hai Pyaar Karana,
Kya Bataen Is Dilaka Aalam,
Naseeb Main Likha Hai Intazaar Karana..



शायद कुछ दिन और लगेंगे,
ज़ख़्मे-दिल के भरने में,
जो अक्सर याद आते थे वो कभी-कभी याद आते हैं।

Shaayad Kuchh Din Aur Lagenge,
Zakhme-Dil Ke Bharane Mein,
Jo Aksar Yaad Aate The Vo Kabhee-Kabhee Yaad Aate Hain.



Bouht Mushqil Se Seekha Ha Khush Rehna..
Tumhare Bin,
Ab Suna Ha Ye Bat Bhi Tumhy Pareshan Karti Hai..



बहके बहके ही,
अँदाज-ए-बयां होते है..
आप होते है तो,
होश कहाँ होते है|

Bahake Bahake Hee,
Andaaj-E-Bayaan Hote Hai..
Aap Hote Hai To,
Hosh Kahaan Hote Hai



जाते जाते उसने पलटकर सिर्फ इतना कहा मुझसे,
मेरी बेवफायी से ही मर जाओगे या मार के जाऊ!

Jaate Jaate Usane Palatakar Sirph Itana Kaha Mujhase,
Meree Bevaphaayee Se Hee Mar Jaoge Ya Maar Ke Jaun



काश तुझे सर्दी के मौसम मे लगे मुहब्बत की ठंड,
और तू तड़प कर माँगे मुझे कम्बल की तरह..

Kaash Tujhe Sardee Ke Mausam Me Lage Muhabbat Kee Thand,
Aur Too Tadap Kar Maange Mujhe Kambal Kee Tarah..

किसकी खातिर अब तु धड़कता है ऐ दिल..
अब तो कर आराम,
कहानी खत्म हुई !

Kisakee Khaatir Ab Tu Dhadakata Hai Ai Dil..
Ab To Kar Aaraam,
Kahaanee Khatm Huee !




सुना था..
मोहब्बत मिलती है,
मोहब्बत के बदले |
हमारी बारी आई तो,
रिवाज हि बदल गया |


Suna Tha..
Mohabbat Milatee Hai,
Mohabbat Ke Badale |
Hamaaree Baaree Aaee To,
Rivaaj Hi Badal Gaya |



सिखा दी बेरुखी भी ज़ालिम ज़माने ने तुम्हें,
कि तुम जो सीख लेते हो हम पर आज़माते हो।

Sikha Dee Berukhee Bhee Zaalim Zamaane Ne Tumhen,
Ki Tum Jo Seekh Lete Ho Ham Par Aazamaate Ho.



जब भी अंधेरा गहराता है…
उजाला उसका समाधान बनकर आ जाता है…

Jab Bhee Andhera Gaharaata Hai…

Ujaala Usaka Samaadhaan Banakar Aa Jaata Hai…!


होता अगर मुमकिन,
तुझे साँस बना कर रखते सीने में,
तू रुक जाये तो मैं नही,
मैं मर जाऊँ तो तू नही.


Hota Agar Mumakin,
Tujhe Saans Bana Kar Rakhate Seene Mein,
Too Ruk Jaaye To Main Nahee,
Main Mar Jaoon To Too Nahee.



जब मिलो किसी से तो जरा दूर का रिश्ता रखना,
बहुत तङपाते हैँ अक्सर सीने से लगाने वाले


Jab Milo Kisee Se To Jara Door Ka Rishta Rakhana,
Bahut Tanapaate Hain Aksar Seene Se Lagaane Vaale



Baad Marne Ke Bhi Usne Chhora Na Dil Jalana..
Roz Phaink Jata Hai Phool Sath Wali Qabar Par,



अकसर भुल जाती हूँ मैं तुम्हें शाम की चाय में चीनी की तरह,
फिर जिंदगी का फीकापन तुम्हारी कमी का एहसास दिला देता है !

Akasar Bhul Jaatee Hoon Main Tumhen Shaam Kee Chaay Mein Cheenee Kee Tarah,
Phir Jindagee Ka Pheekaapan Tumhaaree Kamee Ka Ehasaas Dila Deta Hai !



मैं ख़ामोशी तेरे मन की,
तू अनकहा अलफ़ाज़ मेरा..
मैं एक उलझा लम्हा,
तू रूठा हुआ हालात मेरा |

Main Khaamoshee Tere Man Kee,
Too Anakaha Alafaaz Mera..
Main Ek Ulajha Lamha,
Too Rootha Hua Haalaat Mera



बहुत थे मेरे भी इस दुनिया मेँ अपने,
फिर हुआ इश्क और हम लावारिस हो गए..

Bahut The Mere Bhee Is Duniya Men Apane,
Phir Hua Ishk Aur Ham Laavaaris Ho Gae..

न तो देर है,
न अंधेर है ..
रे मानव!
तेरे कर्मों का सब फेर है ..
शुभ रात्रि।

Na To Der Hai,
Na Andher Hai ..
Re Maanav!
Tere Karmon Ka Sab Pher Hai ..
Shubh Ratri.

TAG:
two line shayari, two line hindi shayari, two line shayari hindi, two line shayari in hindi, two line love shayari, two line shayari for love, two line shayari love, two line shayari on love, two line sad shayari, two line shayari sad, two line shayari romantic, two line shayari urdu, two line urdu shayari, two line shayari in urdu, two line shayari collections hindi, two line shayari in hindi font, two line shayari on zindagi, two line shayari on life, two line shayari of ghalib, two line shayari in punjabi, two line shayari attitude, two line shayari dp, two line shayari on nature, two line shayari in hindi on love, two line shayari on muskan