प्रेम कविता SMS Hindi

प्रेम कविता

प्रेम पीर है
प्रेम फकीर है
प्रेम माया है
प्रेम मे ये जगत समय है
प्रेम दृष्टि है
प्रेम ही सृष्टि है
प्रेम छल है
प्रेम ही निर्बल का बल है
प्रेम मै हू,
प्रेम तुम हो
प्रेम हम है
प्रेम विधि है
या प्रेम विधान है
या शायद प्रेम ही
हम सबका रचनाकार है..