Mahadev Status in Hindi | Jai Mahakal Attitude Status in Hindi | महादेव स्टेटस, महाकाल स्टेटस शायरी

Maaya Ko Chahne Wala Bikhar Jaata Hai 
Aur Mahadev Ko Chahne Vaala Nikhar Jaata Hai !!
Har-har Mahakal.

माया को चाहने वाला बिखर जाता है
और महादेव को चाहने वाला निखर जाता है !!
हर-हर महाकाल।

समस्त संसार माया है, सब कुछ नश्वर है जिन वस्तुओं को हम सुख का स्त्रोत समझ कर एकत्रित करते रेहते है वो सदैव नही रहेंगी। जो व्यक्ति इस सत्य को जानते हुए भी लोभ का परित्याग नहीं करते वो सदैव इन्हे खोने के भय मे जीते हैं। और जो व्यक्ति इस सत्य को जानते ही नहीं वो अहंकार मे जीते हैं और जहा अहंकार और भय उपस्थित हो वह सुख कैसे रह सकता है ।

Samast Sansaar Maaya Hai, Sab Kuchh Nashvar Hai Jin Vastuon Ko Ham Sukh Ka Strot Samajh Kar Ekatrit Karate Rehate Hai Vo Sadaiv Nahee Rahengee. Jo Vyakti is Saty Ko Jaanate Hue Bhi Lobh Ka Parityag Nahin Karate Vo Sadaiv Inhe Khone Ke Bhay Me Jeete Hain. Aur Jo Vyakti is Saty Ko Jaanate Hi Nahin Vo Ahankaar Me Jeete Hain Aur Jaha Ahankaar Aur Bhay Upasthit Ho Vah Sukh Kaise Rah Sakata Hai .


Naam Itana Japo Ki
Shree Mahaakaal Dhadakan Mein Utar Jaaye,
Saans Bhi Lo to Khushboo
Mahakaal Darabaar Kee Aaye
Mahakaal Ka Nasha Dil Par Aisa Chhae,
Baat Koi Bhee Ho Par Naam
Jai Shree Mahaakaal Hee Jivha Par Aaye.
Jai Jai Shri Mahakal!

नाम इतना जपो कि
श्री महाकाल धड़कन में उतर जाये,
साँस भी लो तो खुशबू
महाकाल दरबार की आये
महाकाल का नशा दिल पर ऐसा छाए,
बात कोई भी हो पर नाम
जय श्री महाकाल ही जिव्हा पर आये।
जय जय श्री महाकाल !


Yakeen Hai Ki Mahadev Mere Saath Hai
Fark Nahi Padta Ki Kaun Mere Khilaf Hai
Jai Mahakaal!

यकीन है कि महादेव मेरे साथ हैं
फर्क नहीं पड़ता कि कौन मेरे खिलाफ हैं
जय महाकाल!


व्यक्ति की पीड़ा का जिम्मेदार वो स्वयं होता है। उसके कर्म होते हैं। अपने दोष किसी और पर आरोपित करके आप सुखी नहीं रह सकते।

Vyakti Ki Peeda Ka Jimmedar Vo Swayan Hota Hai. Usake Karm Hote Hain. Apane Dosh Kisee Aur Par Aaropit Karake Aap Sukhee Nahi Rah Sakte.


Jo Samay Ki Chaal Hai,
Apne Bhakto Ki Dhaal Hai,
Pal Mein Badal De Srishti Ko,
Wo Mahakal Hain.

जो समय की चाल हैं,
अपने भक्तों की ढाल हैं,
पल में बदल दे सृष्टि को,
वो महाकाल हैं।


Sara Brahmand Jhukta Hai Jiske Sharan Mein,
Mera Pranam Hai Un Mahakal Ke Charan Mein.
Jayashree Mahakal

सारा ब्रहमांड झुकता है जिसके शरण में,
मेरा प्रणाम है उन महाकाल के चरण में।
जयश्री महाकाल


अपने आप को बदलिए दुनिया बदल जाएगी। जो पुरुष नारी का सम्मान नहीं करता उसे हमेशा अपमानित होना पड़ता है।

Apne Aap Ko Badalie Duniya Badal Jayegi. Jo Purush Naaree Ka Sammaan Nahin Karata Use Hamesha Apmanit Hona Padta Hai.


Jindagi Ka Safar Jab Ham Khatm Kar Jaaoge,
Hamen Yamraaj Nahin, Mahadev Lene Aayenge .
Har Har Mahadev

जिंदगी का सफर जब हम खत्म कर जायेंगे,
हमें यमराज नहीं, महादेव लेने आयेंगे ।
हर हर महादेव


Kaise Kah Doon Ki Meri Har Dua Be-asar Ho Gayi,
Main Jab Jab Bhee Roya Mere Mahaadev Ko Khabar Ho Gayi !!

कैसे कह दूँ कि मेरी हर दुआ बेअसर हो गई,
मैं जब जब भी रोया मेरे महादेव को खबर हो गई !!


संतोष को जितना बाहर ढूंढोगे, उतना ही असंतोष बढ़ेगा, असुरक्षा बढ़ेगी! क्योंकि तुम्हारे बाहर जो कुछ भी है, सब नश्वर है! संतोष के लिये अनिवार्य तत्त्व केवल अपने भीतर ही प्राप्त होते हैं! और अपने अंतर्मन तक पहुँचने का मार्ग केवल योग से ही प्रशस्त हो सकता है।

Santosh Ko Jitana Baahar Dhoondhoge, Utana Hee Asantosh Badhega, Asuraksha Badhegee! Kyonki Tumhaare Baahar Jo Kuchh Bhee Hai, Sab Nashvar Hai! Santosh Ke Liye Anivaary Tattv Keval Apane Bheetar Hee Praapt Hote Hain! Aur Apane Antarman Tak Pahunchane Ka Maarg Keval Yog Se Hee Prashast Ho Sakata Hai.


Jinake Rom-rom Mein Shiv Hai 
Wahi Vish Piya Karate Hain ,
Jamaana Unhen Kya Jalaega , 
Jo Shringaar Hee Angaar Se Kiya Karte Hain….
Jay Bholenaath

जिनके रोम-रोम में शिव हैं 
वही विष पिया करते हैं ,
जमाना उन्हें क्या जलाएगा , 
जो श्रृंगार ही अंगार से किया करते हैं….
जय भोलेनाथ


Na Pucho Mujhse Meri Pehchan …
Main to Bhasmdhari Hun …
Bhasm Se Hota Jinaka Shringaar Main Us
Mahakaal Ka Pujari Hoon …
Har Har Mahadev

ना पूछो मुझसे मेरी पहचान …
मैं तो भस्मधारी हूँ …
भस्म से होता जिनका श्रृंगार मैं उस
महाकाल का पुजारी हूँ …
हर हर महादेव