Nashili Aankhen Shayari in Hindi - नजर शायरी - Nigah Shayari | अध्याय 4


nigah shayari hindi, nigah shayari urdu, nigah pe shayari, nigah shayari, nigah shayari 2 line, nigah shayari in hindi, nigah shayari in urdu, nigah shayari rekhta, qatil nigah shayari, shayari on nigah, shayari on nigahen in english, teri nigah shayari, zehra nigah shayari
हर बार तेरी मुस्कुराती आँखों को देखता हूँ,
चला आता हूँ तेरे पास ख़यालों में उड़ते हुए..

Har Bar Teri Muskurati Ankho ko Dekhta Hun,
Chala Aata Hun Tere Pas Khayalon Me Udte Hue..


"ऐ समन्दर"
मैं तुझसे वाकिफ नहीं हूँ मगर इतना बताता हूँ,
वो आँखें तुझसे ज़्यादा गहरी हैं जिनका मैं आशिक हूँ.


"Ai Samandar"
Main Tujhse Waqif Nahin Hoon Magar Itna Batata Hoon,
Vo Aankhen Tujhse Jyada Gehre Hain Jine Ka Main Aashiq Hoon.


अगर है गहराई तो चल डुबा दे मुझ को,
समंदर नाकाम रहा अब तेरी आँखो की बारी है ..


Agar Hai Gehrai to Chal Duba De Mujh Ko,
Samandar Naakaam Raha Ab Teri Aankho Kee Baaree Hai ..


होंठों पे उल्फत का नाम होता है,
आँखों में छलकता जाम होता है,


तलवारों की ज़रूरत वहां कैसे,
जहाँ नज़रों से कत्ल-ए-आम होता है..


Honton Pe Ulfat Ka Naam Hota Hai,
Aankhon Mein Chhalakata Jaam Hota Hai,

Talwaro Ki Zaroorat Vahan Kaise,
Jahaan Nazron Se Qatal-e-aam Hota Hai..


रात बड़ी मुश्किल से खुद को सुलाया है मैंने,
अपनी आँखों को तेरे ख्वाब का लालच देकर..

Raat Badi Mushkil Se Khud Ko Sulaya Hai Maine,
Apni Aankho Ko Tere Khwab Ka Lalach Dekar.


झील अच्छा, कँवल अच्छा के जाम अच्छा है,
तेरी आँखों के लिए कौन सा नाम अच्छा है..

Jhil Accha Kanwal Accha Ke Jam Accha Hai..
Teri Ankho Ke Liye Kon Sa Nam Accha Hai..


तेरी आँखों के जादू से,
तू ख़ुद नहीं है वाकिफ़
ये उसे भी जीना सिखा देती हैं,
जिसे मरने का शौक़ हो..


Teri Aankho Ke Jadoo Se,
Tu Khud Nahi Hai Waqif,
Yeh Use Bhi Jeena Sikha Deti Hain
Jise Marne Ka Shauk Ho.


दूरियों की परवा ना कीजिये,
जब दिल चाहे बुला लीजिये,


हम ज्यादा दूर नहीं आपसे,
बस आँखों को पलकों से मिला लीजिये..


Dooriyon Ki Parwah Na Kijiye,
Jab Dil Chahe Bula Lijiye,

Ham Jyada Door Nahin Aap Se,
Bas Aankhon Ko Palko Se Mila Lijiye..


क्या कशिश थी तुम्हारी आँखों मे
तुझको देखा और तेरा हो गया..


Kya Kashish Thi Tumhari Ankhon Me,
Tujhko Dekha Aur Tera Ho Gaya..



तुम्हारी याद में आँखों का रतजगा है,
कोई ख़्वाब नया आए तो कैसे आए..

Tumhari Yad Me Ankhon Ka Ratjaga Hai,
Koi Khwab Naya Aaye To Kaise Aaye..


TAG:
nigah shayari hindi, nigah shayari urdu, nigah pe shayari, nigah shayari, nigah shayari 2 line, nigah shayari in hindi, nigah shayari in urdu, nigah shayari rekhta, qatil nigah shayari, shayari on nigah, shayari on nigahen in english, teri nigah shayari, zehra nigah shayari