Zindagi Hindi Shayari ज़िन्दगी हिंदी शायरी | अध्याय 2


जीवन की सुबह में कभी सांझ न हो
जो मिल न सके रब से वो मांग न हो


खूब चमकें सितारे खुशियों के
ज़िन्दगी कभी अमावस का चाँद न हो


Jeevan Ki Subah Mein Kabhi Saanjh Na Ho
Jo Mil Na Sake Rab Se Vo Maang Na Ho


Khoob Chamke Sitare Khushiyon Ke
Zindagi Kabhi Amavas Ka Chand Na Ho


“दहशत” सी होने लगी है इस सफ़र से अब तो…
ए-ज़िन्दगी___ कहीं तो पहुँचा दे„„„

ख़त्म होने से पहले…

“Dahashat” See Hone Lagee Hai Is Safar Se Ab To…
E-Zindagee___ Kaheen To Pahuncha De„„„

Khatm Hone Se Pahale…


हमने माना कि तगाफुल न करोगे लेकिन
खाक हो जाएंगे हम तुमको खबर होने तक

- ग़ालिब

Hamane Maana Ki Tagaaphul Na Karoge Lekin
Khaak Ho Jaenge Ham Tumako Khabar Hone Tak

Ghalib


कोई आज तक न समझा कि शबाब है तो क्या है
यही उम्र जागने की,
यही नींद का ज़माना

- नुसूर वाहिदी

Koee Aaj Tak Na Samajha Ki Shabaab Hai To Kya Hai
Yahi Umar Jagane Ki,
Yahi Neend Ka Zamaana
- Nusoor Vaahidee

सुबह तो खुशनुमा थी,
क्यों शाम मुझे फिर तनहा छोड़ गयी,


मंजिल दिखी ही थी,
कि ज़िन्दगी फिर रास्ता मोड़ गयी..!


Subah To Khushnuma Thee,
Kyon Shaam Mujhe Phir Tanaha Chhod Gayee,


Manjil Dikhee Hee Thee,
Ki Zindagi Phir Raasta Mod Gayee..!


ज़िदगी से तो क्या शिकायत हो
मौत ने भी भुला दिया है हमें

- अज्ञात

Zindagi Se To Kya Shikayat Ho
Maut Ne Bhee Bhula Diya Hai Hamen

- Agyaat

शिकायत तो बहुत है तुझसे ऐ ज़िन्दगी,
पर चुप इसलिए हूं कि जो दिया

तूने वो भी बहुतों को नसीब नहीं होता

Shikaayat To Bahut Hai Tujhase Ai Zindagee,
Par Chup Isalie Hoon Ki Jo Diya 

Toone Vo Bhi Bahuton Ko Naseeb Nahi Hota


हम तुम मिले न थे तो जुदाई का था मलाल
अब ये मलाल है कि तमन्ना निकल गई

- जलील मानकपुरी

Hum Tum Mile Na The To Judai Ka Tha Malal
Ab Ye Malaal Hai Ki Tamanna Nikal Gayi

- Jaleel Manikpuri

मुख़ालफ़त से मेरी शख़्सियत संवरती है
मैं दुश्मनों का बड़ा एहतेराम करता हूं

- बशीर बद्र

Mukhalfat Se Meri Shakhsiyat Sanvaratee Hai
Main Dushmano Ka Bada Ehtram Karta Hoon

- Bashir Badr

दो रोज़ तुम मेरे पास रहो..
दो रोज़ मैं तुम्हारे पास रहुं..


चार दिन की ज़िन्दगी है..

ना तुम उदास रहो..
ना मैं उदास रहुं….


Do Roz Tum Mere Paas Raho..
Do Roz Main Tumhaare Paas Rahun..


Chaar Din Ki Zindagi Hai..

Na Tum Udaas Raho..
Na Main Udaas Rahun….


मुझे रात दिन ये ख्याल है
वो नज़र से मुझको गिरा ना दें

मेरी ज़िन्दगी का दिया कहीं
ये ग़मो की आंधी बुझा ना दें

Mujhe Raat Din Ye Khayal Hai

Vo Nazar Se Mujhe Gira Na Den

Meri Zindagi Ka Diya Kahin
Ye Gamo Kee Aandhee Bujha Na Den


होशो हवास,
ताबो-तबां 'दाग' जा चुके
अब हम भी जाने वाले हैं सामान तो गया

- 'दाग'
Hosho Hawaas,
Taabo-Tabaan Daag Ja Chuke
Ab Hum Bhi Jaane Wale Hain Saamaan To Gaya

- Daag

कुछ ऐसे सिलसिले भी चले ज़िंदगी के साथ
कड़ियां मिलीं जो उनकी तो ज़ंजीर बन गए

- यूसुफ़ बहजाद

Kuchh Aise Silsile Bhi Chale Zindagee Ke Saath
Kadiya Mileen Jo Unakee To Zanjeer Ban Gaye

- Yoosuf Bahajaad

जिस दिन से चला हूं मेरी मंजिल पे नज़र है
आंखों ने कभी मील का पत्थर नहीं देखा

- अज्ञात

Jis Din Se Chala Hoon Meri Manjil Pe Nazar Hai
Aankhon Ne Kabhee Meel Ka Patthar Nahin Dekha

- Agyaat

“ज़िन्दगी का फलसफा भी कितना अजीब है,
शामें कटती नहीं,
और साल गुज़रते चले जा रहे है… ”


“Zindagi Ka Falsafa Bhi Kitna Ajeeb Hai,
Shaamen Katati Nahi,
Aur Saal Guzarte Chale Ja Rahe Hai… ”


तेरी मुहब्बत की तलब थी तो हाथ फैला दिए वरना,
हम तो अपनी ज़िन्दगी के लिए भी दुआ नहीं करते…

Teree Mohabbat Ki Talab Thee To Hath Phaila Die Varana,
Ham To Apanee Zindagee Ke Lie Bhi Dua Nahin Karate…



चाहा है तुझ को तेरी तग़ाफ़ुल के बावजूद;
ए ज़िन्दगी तू याद करेगी कभी हमें


Chaaha Hai Tujh Ko Teree Tagaaful Ke Baavajood;
E Zindagee Too Yaad Karegee Kabhee Hamen


फटी जेब सी ज़िन्दगी,
सिक्को से दिन… लो आज फिर ..
इक गिर कर गुम हो गया..!


Phati Jeb See Zindagi,
Sikko Se Din… Lo Aaj Phir ..
Ik Gir Kar Gum Ho Gaya..!


कुछ इस तरह फ़कीर ने ज़िन्दगी की मिसाल दी,
मुट्ठी में धूल ली और हवा में उछाल दी !

Kuchh Is Tarah Fakeer Ne Zindagee Kee Misaal Dee,
Mutthee Mein Dhool Lee Aur Hava Mein Uchhaal Dee !