गरीबी पर शायरी - Garibi Shayari in Hindi - हिंदी शायरी | अध्याय 2


shayari, garibi shayari, garibi par shayari, hindi shayari, garibi, garib shayari, garibi shayri, garibi shayari in hindi, garib bache shayari, garib ka pyar shayari, garibi ki shayari, garib ki shayari, garibo ki shayari, sad shayari, garibi shayari urdu, amiri garibi shayari, garibi shayari in urdu, garibi shayari punjabi, heart touching shayari, garibi per shayri, garibo par shayari, garib sayari, main gareeb hoon shayari
ये गंदगी तो महल वालों ने फैलाई है साहब,
वरना गरीब तो सड़कों से थैलीयाँ तक उठा लेते हैं


Ye Gandagi To Mahal Walon Ne Phailaee Hai Sahab,
Varana Gareeb To Sadakon Se Thaileeyaan Tak Utha Lete Hain


इसे नसीहत कहूँ या जुबानी चोट साहब
एक शख्स कह गया गरीब मोहब्बत नहीं करते


Ise Naseehat Khun Ya Jubani Chot Sahab
Ek Shakhs Keh Gaya Garib Mohabbat Nahi Karte


शाम को थक कर टूटे झोपड़े में सो जाता है
वो मजदूर,
जो शहर में ऊंची इमारतें बनाता है


Sham Ko Thak Kar Tute Jhopde Mein So Jata Hai
Wo Majdoor,
Jo Shahr Mein Unchi Imarat Banata Hai


बहुत जल्दी सीख लेता हूँ जिंदगी का सबक
गरीब बच्चा हूँ बात-बात पर जिद नहीं करता


Bahut Jaldi Seekh Leta Hoon Zindagi Ka Sabak
Gareeb Baccha Hoon Baat Baat Par Zid Nahi Karta


भटकती है हवस दिन-रात सोने की दुकानों पर
गरीबी कान छिदवाती है तिनके डाल देती है


Bhatakti Hai Hawas Din-Raat Sone Ki Dukanon Mein
Garibi Kaan Chhidwati Hai Tinke Daal Deti Hai


अमीरी का हिसाब तो दिल देख के कीजिये साहब
वरना गरीबी तो कपड़ो से ही झलक जाती है


Ameeri Ka Hisaab To Dil Dekh Ke Kijiye Sahab
Varna Gareebi To Kapdo Se Hi Jhalak Jati Hai


तहजीब की मिसाल गरीबों के घर पे है
दुपट्टा फटा हुआ है मगर उनके सर पे है


Tahzeeb Ki Misaal Gareebon Ke Ghar Pe Hain
Dupatta Fata Hua Hai Magar Unke Sar Pe Hai


अमीर की बेटी पार्लर में जितना दे आती है
उतने में गरीब की बेटी अपने ससुराल चली जाती है


Ameer Ki Beti Parlar Mein Jitna De Aati Hai
Utne Mein Gareeb Ki Beti Apne Sasural Chali Jati Hai


वो जिनके हाथ में हर वक्त छाले रहते हैं,
आबाद उन्हीं के दम पर महल वाले रहते हैं


Vo Jinake Haath Mein Har Vakt Chhaale Rahate Hain,
Aabaad Unheen Ke Dam Par Mahal Vaale Rahate Hain


कभी आँसू तो कभी खुशी बेचीं
हम गरीबों ने बेकसी बेची


चंद सांसे खरीदने के लिए
रोज़ थोड़ी सी जिंदगी बेचीं


Kabhi Aansoo To Kabhi Khusi Bechi
Ham Gareebon Ne Bekasi Bechi

Chand Saanse Khareedne Ke Liye
Roz Thodi Si Zindagi Bechi


ऐ सियासत… 
तूने भी इस दौर में कमाल कर दिया
गरीबों को गरीब अमीरों को माला-माल कर दिया


Ae Siyasat..
Tune Bhi Is Daur Mein Kamaal Kar Diya
Gareebon Ko Gareeb Ameeron Ko Mala-Maal Kar Diya


वो रोज रोज नहीं जलता साहब
मंदिर का दिया थोड़े ही है गरीब का चूल्हा है


Wo Roz Roz Nahi Jalta Sahab
Mandir Ka Diya Thode Hi Hai Gareeb Ka Chulha Hai


घटाएं आ चुकी हैं आसमां पे… 
और दिन सुहाने हैं
मेरी मजबूरी तो देखो मुझे बारिश में भी काग़ज़ कमाने हैं


Ghatayen Aa Chuki Hai Aasman Pe….Aur Din Suhane Hai
Meri Majboori To Dekho Mujhe Barish Mein Bhi Kagaz Kamaane Hai


ड़ोली चाहे अमीर के घर से उठे चाहे गरीब के
चौखट एक बाप की ही सूनी होती है


Doli Chahae Ameer Ke Ghar Se Uthe Chahae Gareeb Ke
Chaukhat Ek Baap Ki Hi Suni Hoti Hai


घर में चूल्हा जल सके इसलिए कड़ी धूप में जलते देखा है
हाँ मैंने गरीब की सांस को गुब्बारों में बिकते देखा है


Ghar Mein Chulha Jal Sake Isliye Kadi Dhoop Mein Jalte Dekha Hai
Haan Maine Gareeb Ki Saans Ko Gubbaron Mein Bikte Dekha Hai


मरहम लगा सको तो किसी गरीब के जख्मों पर लगा देना
हकीम बहुत हैं बाजार में अमीरों के इलाज खातिर


Maraham Laga Sako To Kisee Gareeb Ke Jakhmon Par Laga Dena
Hakeem Bahut Hai Baajaar Mein Ameeron Ke Ilaaj Khaatir


वो राम की खिचड़ी भी खाता है,
रहीम की खीर भी खाता है
वो भूखा है जनाब उसे कहाँ मजहब समझ आता है


Wo Raam Ki Kihadi Bhi Khata Hai,
Raheem Ki Kheer Bhi Khata Hai
Wi Bhukha Hai Janaab Us Ekahan Majhab Samjh Aata Hai


गरीब नहीं जानता क्या है मज़हब उसका
जो बुझाए पेट की आग वही है रब उसका


Gareeb Nahi Janta Kya Hai Mazhab Uska
Jo Bujhaye Pet Ki Aag Wahi Hai Rab Uska


अजीब मिठास है मुझ गरीब के खून में भी,
जिसे भी मौका मिलता है वो पीता जरुर है


Ajeeb Mithaas Hai Mujh Gareeb Ke Khoon Mein Bhee,
Jise Bhi Mauka Milta Hai Vo Peeta Jarur Hai


मैं क्या महोब्बत करूं किसी से,
मैं तो गरीब हूँ
लोग अक्सर बिकते हैं,
और खरीदना मेरे बस में नहीं


Main Kya Mohabbat Karu Kisi Se,
Main To Gareeb Hoon
Log Aksar Bikte Hai Aur Kharidna Mere Bas Mein Nahi


Tag:
shayari, garibi shayari, garibi par shayari, hindi shayari, garibi, garib shayari, garibi shayri, garibi shayari in hindi, garib bache shayari, garib ka pyar shayari, garibi ki shayari, garib ki shayari, garibo ki shayari, sad shayari, garibi shayari urdu, amiri garibi shayari, garibi shayari in urdu, garibi shayari punjabi, heart touching shayari, garibi per shayri, garibo par shayari, garib sayari, main gareeb hoon shayari