2 Line Shayari on Eyes in Hindi - निगाह शायरी - Aankhein Shayari | अध्याय 2


shayari on eyes, hindi shayari, 2 line shayari on eyes, tareef shayari on eyes, shayari, sad shayari, love shayari, shayari on eyes in punjabi, poetry on eyes, shayari hindi, eyes shayari in hindi, urdu shayari, shayari urdu, shayari on eyes in urdu, romantic shayari, urdu poetry on eyes, 2 line shayari on eyes in hindi, funny shayari on eyes in hindi, attitude status on eyes in hindi, zehra nigah, zehra nigah shayari, nigah e faqar mein, famous shayari, rekhta shayari, best shayari, romantic shayari,  हिंदी शायरी, नज़र शायरी, नजर आएंगे, निगाहें शायरी

सुकून की तलाश में तुम्हारी आँखों में झाँका था,
किसे पता था कम्बखत दिल का दर्द और मिल जाएगा..

Sukun Ki Talash Me Tumhari Ankhon Me Jhanka Tha,
Kise Pata Tha Kambakht Dil Ka Dard Aur Mil jayega..


जो सुरूर है तेरी आँखों में वो बात कहां मैखाने में,
बस तू मिल जाए तो फिर क्या रखा है ज़माने में..

Jo Surur Hai Teri Ankho Me Vo Bat Khan Maikhane Me,
Bas Tu Mil Jaye To Fir Kya Rakha Hai Zamane ME..


वो कहने लगी,
नकाब में भी पहचान लेते हो हजारों के बीच ?
मैंने मुस्करा के कहा,
तेरी आँखों से ही शुरू हुआ था इश्क हज़ारों के बीच..

Wo Khane Lagi ,
Nakab Me Bhi Pahchan Lete Ho Hajaron Ke Bich?
Mene Muskura Ke Kha,
Teri Ankho Se Hi Suru Huwa Tha Ishk Hazaron Ke Bich..


ज़ीना मुहाल कर रखा है मेरी इन आँखों ने,
खुली हो तो तलाश तेरी बंद हो तो ख्वाब तेरे..


Jeena Muhal Kar Rakha Hai Meri Inn Aankho Ne,
Khuli Ho To Talaash Teri Band Ho To Khwab Tere.


सामने ना हो तो तरसती हैं आँखें,
याद में तेरी बरसती हैं आँखें,
मेरे लिए ना सही,


इनके लिए ही आ जाया करो,
तुमसे बेपनाह मोहब्बत करती हैं ये आँखें..


Samne Na Ho to Tarasti Hain Aankhen,
Yaad Mein Teri Baraste Hain Aankhen,
Mere Liye Na Sahi,

Inke Lie Hee Aa Jaaya Karo,
Tumse Bepanah Mohabbat Karte Hain Ye Aankhen..


कोई आँखों से बातें करता हैं
कोई आँखों से मुलाकाते करता हैं 


बड़ा मुश्किल होता हैं जवाब देना
जब कोई चुप रह के सवाल करता हैं.


Koi Aankhon Se Baaten Karta Hai
Koi Aankhon Se Mulakate Karta Hain

Bada Mushkil Hota Hai Jawab Dena
Jab Koi Chup Rah Ke Savaal Karata Hain .


क़ैद ख़ानें हैं,
बिन सलाख़ों के,
कुछ यूँ चर्चें हैं ,
तुम्हारी आँखों के.


Qaid Khane Hai,
Bin Salakhon Ke,
Kuch Yun Charche Hai 

Tumhari Ankho Ke..


मुझे मालूम है तुमने बहुत बरसातें देखी है,
मगर मेरी इन्हीं आँखों से सावन हार जाता है


Mujhe Maaloom Hai Tumane Bahut Barasaaten Dekhee Hai,
Magar Meri Inheen Aankhon Se Saavn Haar Jata Hai


जब बिखरेगा तेरी गालों पे तेरी आँखों का पानी,
तब तुझे एहसास होगा की मोहब्बत किसे कहते है..

Jab Bikhrega Teri Galon Pe Teri Ankho Ka Pani,
Tab Tujhe Aehsas Hoga Ki Mohbbat Kise Kahte Hai..


पानी में तैरना सीख ले मेरे दोस्त,
आँखों में डूबने वालों का अंजाम बुरा होता है


Pani Me Tairna Seekh Le Mere Dost,
Ankhon Me Dubne Walo Ka Anjam Bura Hota Hai.


TAG:
shayari on eyes, hindi shayari, 2 line shayari on eyes, tareef shayari on eyes, shayari, sad shayari, love shayari, shayari on eyes in punjabi, poetry on eyes, shayari hindi, eyes shayari in hindi, urdu shayari, shayari urdu, shayari on eyes in urdu, romantic shayari, urdu poetry on eyes, 2 line shayari on eyes in hindi, funny shayari on eyes in hindi, attitude status on eyes in hindi, zehra nigah, zehra nigah shayari, nigah e faqar mein, famous shayari, rekhta shayari, best shayari, romantic shayari,  हिंदी शायरी, नज़र शायरी, नजर आएंगे, निगाहें शायरी