Ab to Shahar Ka Har Shaks Waqif ...



अब तो शहर का हर शक्स
वाकिफ़ हो गया मेरे ठिकाने से,
होश में रहता हूँ तो मयखाने में छोङ देते हैं और 
मदहोश हो जाता हूँ तो उसकी गली में.



Ab to Shahar Ka Har Shaks 
Waqif Ho Gaya Mere Thikaane Se, 
Hosh Mein Rahata Hoon to Mayakhaane Mein Chhon Dete Hain Aur Madhosh Ho Jaata Hoon to Usaki Gali Mein.