Best Roposo Shayari in Hindi - Roposo Sad Shayari - Roposo Status in Hindi - Roposo Love Shayari | अध्याय 1

1. Roposo Shayari:

जिस दिन लड़की के बाप बन जाओगे
 ना साहब...😊
लड़की माल नही घर का
मान नज़र आएगी... 😊

Jis Din Ladki Ke Baap Ban Jaoge
Na Saahab...😊
Ladki Maal Nahi Ghar Ka
Maan Nazar Aayegi... 😊

2. Roposo Sad Shayari:

बहुत बड़ी तकलीफ से गुजर रहा हू मैं,
अब किस किस से मोहब्बत करूँ?? 
Tik Tok देख बस यही दिल बहला रहा हु मैं !😃😃

Bahut Badee Takaleeph Se Gujar Raha Hoo Main,
Ab Kis Kis Se Mohabbat Karoon?? 
Tiktok Dekh Bas Yahee Dil Bahala Raha Hu Main !😃😃

3. Roposo Sad Shayari

Sar Se Lekar Paon Tak 
Poora Badan Kaanp Raha Tha 
Jab Khabar Mili Tere Saath 
Raate Koi Doosra Kaat Raha Tha

पूरा बदन काँप रहा था 
जब खबर मिली तेरे साथ 
राते कोई दूसरा काट रहा था

मेरी सोच ने उसे अभी तक पकड़ा हुआ है

मैं भगवान को पूजता हूँ और
अल्लाह को भी मानता हूँ

फिर भी लोग कहते है
लड़का बिगड़ा हुआ है

Mera Meri Soch Se Jhagda Hua Hai
Meree Soch Ne Use Abhi Tak Pakda Hua Hai

Main Bhagavaan Ko Poojta Hoon
Aur Allah Ko Bhi Manta Hoon

Phir Bhi Log Kahte Hai
Ladka Bigda Hua Hai

4. Roposo Love Shayari:

तुम निकलो तो मेरी खोज में
मैं यही कही मिल जाऊंगा।
लेकिन एक शर्त पर मिलूंगा मैं
तुम खोजने मुझे ही निकालना।

Tum Nikalo to Meree Khoj Mein
Main Yahee Kahee Mil Jaoonga.
Lekin Ek Shart Par Miloonga Main
Tum Khojane Mujhe Hee Nikaalana.

5. Roposo Status in Hindi

आधी लिखूँगा, मगर हर बात लिख दूंगा
तुम गालिया मत देना मेरी पीठ के पीछे
उठा ली कलम तो तुम्हारी औकात लिख दूंगा

Aadhi Likhunga, Magar Har Baat Likh Dunga
Tum Gaaliya Mat Dena Meri Peeth Ke Piche
Utha Li Kalam to Tumhari Aukat Likh Dunga

6. Roposo Famous Shayari

कोन कहता है कि 
मोहब्ब्त करने वाले आंसू बहाते हैं,
कभी Tik Tok चलाया है?
वहा तो लोग ग़म में आंसू तो क्या 
पूरा नाला बहा देते हैं 🤔

Kon Kahata Hai Ki 
Mohabbt Karane Vaale Aansoo Bahaate Hain,
Kabhi Tik Tok Chalaya Hai?
Vaha to Log Gam Mein Aansoo to Kya 
Poora Naala Baha Dete Hain 

7. Boy Roposo Sad Shayari

आज बुरा है 
कल अच्छा आएगा 
वक़्त ही तो है 
गुजर जायेगा

Aaj Bura Hai 
Kal Achchha Aaega 
Waqt Hee to Hai 
Gujar Jaayega

'Rafale' की कहानी ...

'Rafale' की कहानी ...

Atal Govt : हमें वायुसेना के लिए 126 लड़ाकू विमानों की आवश्यकता है।

Air Force : RFI निकालते हैं।

Air Force : हमारे अनुसार Rafale बेस्ट लड़ाकू जहाज़ रहेगा।

UPA : ये Rafale कितने का है ?

France : ₹936 करोड़ का है Rafale.

UPA : हमें ₹526 करोड़ में दे दो।

France: नही संभव है।

UPA : हमें, बिना Weapons के, बिना Maintenance के, बिना Spares के, बिना Guarantee के दे दो।

France : वो सब वैसे भी Additional है।

UPA : कम Availability Rate हो Rafale का 35%-40% तो भी चलेगा।

France : वहीं बनवा लो Rafale

UPA : अच्छा Offset कितना है ?

France : 30% Offset रहेगा।

UPA : दे दो न प्लीज ₹526 करोड़ में।

France : नहीं दे सकते बोला न।

UPA : अच्छा 18 ही दे दो बाकी हम India में बनवा लेंगे।

France : पर कौन बनाएगा ?

UPA : HAL से बनवा लेंगे India में।

France : पर HAL तो स्टैण्डर्ड के लिए उतनी Manpower देने को तैयार ही नहीं है।

UPA : ओह, खैर हमारे पास तो Rafale खरीदने के पैसे ही नहीं हैं।

NDA : हमें Rafale खरीदने हैं।

France : जी, बताइये।

NDA : कितने का पड़ेगा Rafale ?

France : वही ₹936 करोड़ का, लेकिन escalation कॉस्ट बढ़ जाएगी अब।

NDA : हमें India Specific Changes भी चाहिए।

France : और ...

NDA : हमें, Weapons पैकेज, Maintenance सपोर्ट, Spare पार्ट्स, Guarantee भी चाहिए।

France : और ...

NDA : हमें, 75% से ज्यादा Availability Rate चाहिए।

France : और ...

NDA : हमें Offset भी 50% चाहिए।

France : फिर तो Cost बहोत ही ज्यादा बढ़ जाएगी।

NDA : आप कॉस्ट बताइये तो।

France : फिर तो कॉस्ट करीब ₹1,988 करोड़ पड़ेगी।

NDA : Offset देंगे 50% ?

France : हाँ, ₹30,000 करोड़ इन्वेस्टमेंट कर देंगे India में Offset के अंतर्गत।

NDA : ठीक है लेकिन Cost कुछ कम कीजिये।

France : आप कितने Rafale लेंगे ?

NDA : कॉस्ट कम कर देंगे तो अभी 36 Fly-Away में लेंगे और फिर बाकी India में बनवाएंगे।

France : India में किससे बनवाएंगे ?

NDA : India में PPP मॉडल पर बनवाएंगे, नया टेंडर निकालेंगे और 110 विमानों का निकलेंगे।

France : मतलब आप अब 126 की जगह 36 + 110 = 146 लड़ाकू जहाज़ खरीदेंगे।

NDA : हाँ

France : ठीक है, ₹1,638 करोड़ से कम में नही दे पाएंगे Rafale, डील कब साइन करेंगे ?

NDA : तुरंत।

Congress : हाय हाय, हम तो ₹526 करोड़ में खरीद रहे थे Rafale.

Congress : हम Court जाएंगे।

SC : Modi सरकार की Rafale Deal एकदम क्लीन है।

Congress : वो Anil Ambani को ₹30,000 करोड़ का Offset दे दिया।

NDA : ₹30,000 के Offset में 100 कंपनियां है, Reliance और Dassault का Offset सिर्फ ₹850 करोड़ का है।

Congress : पर Rate ज्यादा है, उसका क्या ?

CAG : बेसिक Aircraft 2.86% सस्ता है। बाकी जो एक्स्ट्रा फीचर लिए है उसके कारण ओवरआल कॉस्ट ज्यादा है।

Congress : But But But ... "चौकीदार चोर है"

SC : आपको माफ़ी मांगनी पड़ेगी।

RG : Ok. मुझे माफ़ कर दो, मैं हाँथ जोड़कर माफ़ी मांगता हूँ।

NDA : निश्चित हुआ कि हमारी Rafale डील बेहतर और ज्यादा रोबस्ट है।

Congress : हम SC और CAG को नही मानते, हम तो ₹526 करोड़ में खरीद रहे थे Rafale. "हाय हाय"।

8 देश जो दुनिया में सबसे सख्त कानून हैं | 8 Countries Which Have The Most Strict Laws In The World

ऐसे मूल्य और सिद्धांत हैं जिनके द्वारा प्रत्येक राष्ट्र शपथ लेता है। उनका संविधान अपने नागरिकों के अधिकारों और कर्तव्यों को रखता है।

लेकिन ऐसा नहीं है कि हमेशा सादा और सरल। कुछ चीजें हैं जो एक देश है जो एक देश के बारे में बात करने या कार्य करने के लिए संवेदनशील है।

कई देशों द्वारा ऐसे विषयों को प्रोत्साहित नहीं किया जा सकता है। हर राष्ट्र का अपना हो सकता है। कुछ गंभीर प्रतिक्षेप लगा सकते हैं जबकि कुछ आपको चेतावनी के साथ बाहर निकाल सकते हैं।

आज, हम विशोरा में, ऐसे 10 देशों के बारे में बात करेंगे जहाँ कानून और मानदंड सामान्य से थोड़ा सख्त हैं।

ईरान

ईरान सरकार शरिया कानून का पालन करती है। सरकार के खिलाफ कोई भी प्रचार या कार्रवाई निषिद्ध है। 

यहां तक ​​कि देश के खराब शासन के बारे में थोड़ी सी नकारात्मक टिप्पणी आपको परेशानी में डाल देगी।

पुरुषों से अपेक्षा की जाती है कि वे केवल एक निश्चित प्रकार के केश विन्यास को इस्लाम द्वारा निर्धारित करें। वे इससे बहुत प्रभावित नहीं कर सकते।

जबकि, महिलाओं को एक विशिष्ट ड्रेस कोड का पालन करना चाहिए, जैसे कि हिजाब नामक हेड-कवर का उपयोग करना। इसके अलावा उन्हें टहलते समय स्किनी जींस जैसी पैंट पहनने से बचना होगा। 

लोगों को पश्चिमी संगीत सुनने की अनुमति नहीं है, जैसे कि रैप, जैज़ और रॉक की अनुमति नहीं है। 

इरिट्रिया

इरिट्रिया में, सरकार और राष्ट्रपति का समाचार और उसके लेखकों पर पूरा नियंत्रण है। 

यदि कोई ऐसी चीज है जिसे प्रकाशित करने की आवश्यकता है, तो उसे पहले प्रसारण या लाइव होने से पहले राष्ट्रपति कार्यालय द्वारा अनुमोदित किया जाना चाहिए। 

धर्म पर भी उनका कहना है। किसी को सार्वजनिक रूप से धर्म का पालन करने की अनुमति नहीं है।

क्यूबा

क्यूबा, ​​राष्ट्र जो फिदेल कास्त्रो और क्यूबा सिगार का घर है। यह निस्संदेह दुनिया भर में छुट्टी के लिए एक शीर्ष गंतव्य है। 

हालाँकि, यह मुख्य रूप से एक साम्यवादी राष्ट्र है, और सरकार के खिलाफ बोलना मुसीबत को आमंत्रित करेगा।

चूंकि यहां इंटरनेट पर सख्त निगरानी रखी जाती है, इसलिए सरकार के खिलाफ विचारों का विरोध करने वाले लेखकों को पकड़कर जेल भेजा जाएगा। क्यूबन, हालांकि, जानते हैं कि कैसे पार्टी करनी है और अपने बालों को नीचे करना है

जापान

यह व्यापक रूप से माना जाता है कि आधुनिक जापानी सरकार के व्यापार ने कैसे कार्य किया, इस पर सामंती व्यवस्था का बहुत प्रभाव था। 

जापान की कंपनियों की काम पर सख्त नीतियां हैं और सभी कर्मचारियों के लिए यह एक दायित्व है कि वे बहिष्कार करें। कंपनी में सीईओ से लेकर जूनियर सबसे रैंक तक, उन्हें शानदार परिणाम दिखाने होंगे और मजबूत काम नैतिकता प्रदर्शित करनी होगी।

नागासाकी और हिरोशिमा की घटनाओं के बारे में और साथ ही WWII के बारे में बात करना न तो सराहना है और न ही अनुमति।

सिंगापुर

भले ही यह देश अन्य बड़े देशों की तुलना में आकार में छोटा है, कानून का पालन यहां सख्ती से किया जाता है। यहां तक ​​कि एक छोटी सी शरारत भी आपको बड़ी मुसीबत में डाल सकती है।

थूकना और धूम्रपान करना स्थगित है। आपको सार्वजनिक रूप से ऐसा करने की अनुमति नहीं है। लगता है कि, यदि आप अनुचित पोशाक पहनते हैं तो आप सलाखों के नीचे उतर सकते हैं। 

इस तरह के कठिन उपायों के कारण, देश में उच्च उड़ान अर्थव्यवस्था है। इसलिए, यह दुनिया के सबसे कुशल देशों में से एक होने के लिए अपनी रैंकिंग को बनाए रखने में सक्षम है।

चीन

चीन, भले ही सुपर विकसित हो, अपने मूल में एक कम्युनिस्ट देश बना हुआ है। इसलिए, यह उम्मीद की जाती है कि कोई भी सरकार को पार न करे। 

सरकार की किसी भी नकारात्मक कॉलिंग का पता लगाया जाता है, और उसे चुप करा दिया जाता है। यह किसी अपराध से कम नहीं है, अगर पश्चिमी संस्कृति के पेशेवरों को देश के युवाओं पर प्रभावित किया जाता है। 

उनके मीडिया पर काफी सख्ती से नजर रखी जाती है, यहां तक ​​कि इंटरनेट का उपयोग भी। 

विद्रोह, सुधार, परिवर्तन, विशेष रूप से 1989 तियानमेन विरोध प्रदर्शनों पर चर्चा करने की अनुमति नहीं है।

उत्तर कोरिया

उत्तर कोरिया एकमात्र ऐसा देश है जो तानाशाही शासन का पालन करता है। पर्यटकों को व्यक्तिगत एस्कॉर्ट्स सौंपे जाते हैं। ये एस्कॉर्ट्स उनके आगमन से लेकर प्रस्थान तक उनकी सहायता करेंगे। उन्हें मुख्य रूप से यह सुनिश्चित करने के लिए सौंपा गया है कि आगंतुक किसी भी नियम को न तोड़ें।

खासकर सरकार के खिलाफ बोलने वाले।

सरकार रेडियो, प्रिंट और टीवी से ही सब कुछ नियंत्रित करती है। प्रसारण और समाचार सामग्री सेंसर की जाती है। 

केवल वही जो इंटरनेट का उपयोग करने में सक्षम हैं, सत्तारूढ़ अभिजात वर्ग और यहां तक ​​कि ऑनलाइन उनकी गतिविधियों को भी बारीकी से देखा जाता है।

सऊदी अरब

सऊदी अरब परंपरा और धर्म से संबंधित कानूनों में उलझा हुआ है। यह इसे समझने और सहानुभूति देने के लिए एक कठिन स्थान बनाता है। खासतौर पर उनके सामाजिक कानून, जो महिलाओं पर कठोर और कड़े होते हैं। 

बाहर जाते समय, यहां की महिलाओं को आकस्मिक कपड़े पहनने की अनुमति नहीं है। उनसे केवल एक रिश्तेदार के साथ यात्रा करने की उम्मीद की जाती है और वह भी अगर वह एक आदमी है। 

यहां मीडिया की कड़ी निगरानी की जाती है, और इंटरनेट तक उनकी सीमित पहुंच है। 

यदि वरिष्ठ संपादक अपने प्रशासन के बारे में नकारात्मक कहने वाली सामग्री को प्रसारित या प्रकाशित करते हैं, तो उन्हें कार्यालय से बाहर कर दिया जाएगा।

Husband and Wife Jokes in English

Husband borrowed 
Rs.250 from the wife.
After a few days, He again borrowed Rs.250
After a few days, she asked the husband to return the money 

When asked how much
The wife said that he owes her Rs.4100.

On request, below Calculations given his wife.

1) Rs. 2   5   0
2) Rs. 2   5   0
          ————
    Rs. 4  10  0

Husband is still finding the school where she learned Maths.

Later  Husband gave her Rs.400 back and asked how much balance he has to payback

She wrote

Rs. 4100
Rs. 400
————-
       0100

He gave back Rs.100.
Both lived happily ever after....
Only maths died.

Bharat Varshonnati Kaise Ho Sakti Hai | भारतवर्षोन्नति कैसे हो सकती है

आज बड़े आनंद का दिन है कि छोटे से नगर बलिया में हम इतने मनुष्यों को एक बड़े उत्साह से एक स्थान पर देखते हैं। इस अभागे आलसी देश में जो कुछ हो जाए वही बहुत है। बनारस ऐसे-ऐसे बड़े नगरों में जब कुछ नहीं होता तो हम यह न कहेंगे कि बलिया में जो कुछ हमने देखा वह बहुत ही प्रशंसा के योग्य है। इस उत्साह का मूल कारण जो हमने खोजा तो प्रगट हो गया कि इस देश के भाग्य से आजकल यहाँ सारा समाज ही एकत्र है। राबर्ट साहब बहादुर ऐसे कलेक्टर जहाँ हो वहाँ क्यों न ऐसा समाज हो। जिस देश और काल में ईश्वर ने अकबर को उत्पन्न किया था उसी में अबुलफजल, बीरबल,टोडरमल को भी उत्पन्न किया। यहाँ राबर्ट साहब अकबर हैं जो मुंशी चतुर्भुज सहाय, मुंशी बिहारीलाल साहब आदि अबुलफजल और टोडरमल हैं। हमारे हिंदुस्तानी लोग तो रेल की गाड़ी है। यद्यपि फर्स्ट क्लास, सैकेंड क्लास आदि गाड़ी बहुत अच्छी-अच्छी और बड़े-बड़े महसूल की इस ट्रेन में लगी है पर बिना इंजिन सब नहीं चल सकती वैसी ही हिंदुस्तानी लोगों को कोई चलाने वाला हो तो ये क्या नहीं कर सकते। इनसे इतना कह दीजिए 'का चुप साधि रहा बलवाना' फिर देखिए हनुमानजी को अपना बल कैसा याद आता है। सो बल कौन याद दिलावे। हिंदुस्तानी राजे-महाराजे, नवाब, रईस या हाकिम। राजे-महाराजों को अपनी पूजा, भोजन, झूठी गप से छुट्टी नहीं। हाकिमों को कुछ तो सरकारी काम घेरे रहता है कुछ बाल-घुड़दौड़, थियेटर में समय लगा। कुछ समय बचा भी तो उनको क्या गरह है कि हम गरीब, गंदे, काले आदमियों से मिल कर अपना अनमोल समय खोवें। बस यही मसल रही -

"तुम्हें गैरों से कब फुरसत, हम अपने गम से कब खाली।
चलो बस हो चुका मिलना न हम खाली न तुम खाली॥"

तीन मेंढ़क एक के ऊपर एक बैठे थे। ऊपर वाले ने कहा, 'जौक शौक', बीच वाल बोला, 'गम सम',सब के नीचे वाला पुकारा, 'गए हम'। सो हिंदुस्तान की प्रजा की दशा यही है 'गए हम'। पहले भी जब आर्य लोग हिंदुस्तान में आकर बसे थे राजा और ब्राह्मणों के जिम्मे यह काम था कि देश में नाना प्रकार की विद्या और नीति फैलावें और अब भी ये लोग चाहें तो हिंदुस्तान प्रतिदिन क्या प्रतिछिन बढ़े। पर इन्हीं लोगों को निकम्मेपन ने घेर रखा है। 'बोद्धारो मत्सरग्रस्ताः प्रभवः समर दूषिताः' हम नहीं समझते कि इनको लाज भी क्यों नहीं आती कि उस समय में जबकि इनके पुरुखों के पास कोई भी सामान नहीं था तब उन लोगों ने जंगल में पत्ते और मिट्टी की कुटियों में बैठ कर बाँस की नालियों से जो तारा, ग्रह आदि बेध कर के उनकी गति लिखी है वह ऐसी ठीक है कि सोलह लाख रुपए की लागत से विलायत में जो दूरबीन बनी है उनसे उन ग्रहों को वेध करने में भी ठीक वही गति आती है और अब आज इस काल में हम लोगों की अंग्रेजी विद्या के और जनता की उन्नति से लाखों पुस्तकें और हजारों यंत्र तैयार हैं जब हम लोग निरी चुंगी की कतवार फेंकने की गाड़ी बन रहे हैं। यह समय ऐसा है कि उन्नति की मानो घुड़दौड़ हो रही है। अमेरिकन, ‍‍अंग्रेज, फरांसीस आदि तुरकी-ताजी सब सरपट्ट दौड़े जाते हैं। सब के जी में यही है कि पाला हमी पहले छू लें। उस समय हिंदू का टियावाड़ी खाली खड़े-खड़े टाप से मिट्टी खोदते हैं। इनको औरों को जाने दीजिए जापानी टट्टुओं को हाँफते हुए दौड़ते देख कर के भी लाज नहीं आती। यह समय ऐसा है कि जो पीछे रह जाएगा फिर कोटि उपाय किए भी आगे न बढ़ सकेगा। लूट की इस बरसात में भी जिस के सिर पर कम्बख्ती का छाता और आँखों में मूर्खता की पट्टी बँधी रहे उन पर ईश्वर का कोप ही कहना चाहिए।

मुझको मेरे मित्रों ने कहा था कि तुम इस विषय पर आज कुछ कहो कि हिंदुस्तान की कैसे उन्नति हो सकती है। भला इस विषय पर मैं और क्या कहूँ भागवत में एक श्लोक है - "नृदेहमाद्यं सुलभं सुदुर्लभं प्लवं सुकल्पं गुरुकर्णधारं मयाsनुकूलेन तपः स्वतेरितं पुमान भवाब्धि न तरेत स आत्महा।" भगवान कहते हैं कि पहले तो मनुष्य जन्म ही दुर्लभ है सो मिला और उस पर गुरु की कृपा और उस पर मेरी अनुकूलता। इतना सामान पाकर भी मनुष्य इस संसार सागर के पार न जाए उसको आत्महत्यारा कहना चाहिए, वही दशा इस समय हिंदुस्तान की है। अंग्रेजों के राज्य में सब प्रकार का सामान पाकर, अवसर पा कर भी हम लोग जो इस समय उन्नति न करें तो हमारे केवल अभाग्य और परमेश्वर का कोप ही है। सास और अनुमोदन से एकांत रात में सूने रंग महल में जाकर भी बहुत दिनों से प्राण से प्यारे परदेसी पति से मिल कर छाती ठंडी करने की इच्छा भी उसका लाज से मुँह भी न देखे और बोले भी न तो उसका अभाग्य ही है। वह तो कल परदेस चला जाएगा। वैसे ही अंग्रेजों के राज्य में भी जो हम मेंढ़क, काठ के उल्लू, पिंजड़े के गंगाराम ही रहें तो फिर हमारी कमबख्त कमबख्ती फिर कमबख्ती ही है। बहुत लोग यह कहेंगे कि हमको पेट के धंधे के मारे छुट्टी ही नहीं रहती, बाबा, हम क्या उन्नति करें। तुम्हारा पेट भरा है तुम को दून की सूझती है। उसने एक हाथ से अपना पेट भरा दूसरे हाथ से उन्नति के काँटों को साफ किया। क्या इंग्लैंड में किसान, खेत वाले, गाड़ीवान, मजदूर, कोचवान आदि नहीं हैं? किसी देश में भी सभी पेट भरे हुए नहीं होते, किंतु वे लोग जहाँ खेत जोतते-बाते हैं वहीं उसके साथ यह भी सोचते हैं कि ऐसी कौन नई कल व मसाला बनावें जिससे इस खेत में आगे से दून अनाज उपजे। विलायत में गाड़ी के कोचवान भी अखबार पढ़ते हैं। जब मालिक उतरकर किसी दोस्त के यहाँ गया उसी समय कोचवान ने गद्दी के नीचे से अखबार निकाला। यहाँ उतनी देर कोचवान हुक्का पिएगा या गप्प करेगा। सो गप्प भी निकम्मी। वहाँ के लोग गप्प ही में देश के प्रबंध छाँटते हैं। सिद्धांत यह कि वहाँ के लोगों का यह सिद्धांत है कि एक छिन भी व्यर्थ न जाए। उसके बदले यहाँ के लोगों को जितना निकम्मापन हो उतना ही बड़ा अमीर समझा जाता है। आलस्य यहाँ इतनी बढ़ गई कि मलूकदास ने दोहा ही बना डाला -

"अजगर करे न चाकरी पंछी करे न काम।
दास मलूका कहि गए सबके दाता राम॥"

चारों ओर आँख उठाकर देखिए तो बिना काम करने वालों की ही चारों ओर बढ़ती है। रोजगार कहीं कुछ भी नहीं है अमीरों, मुसाहिबी, दल्लालों या अमीरों के नौजवान लड़कों को खराब करना या किसी की जमा मार लेना इनके सिवा बतलाइए और कौन रोजगार है जिससे कुछ रुपया मिले। चारों ओर दरिद्रता की आग लगी हुई है किसी ने बहुत ठीक कहा है कि दरिद्र कुटुंबी इस तरह अपनी इज्जत को बचाता फिरता है जैसे लाजवंती बहू फटें कपड़ों में अपने अंग को छिपाए जाती है। वही दशा हिंदुस्तान की है। मुर्दम-शुमारी का रिपोर्ट देखने से स्पष्ट होता है कि मनुष्य दिन-दिन यहाँ बढ़ते जाते हैं और रुपया दिन-दिन कमती होता जाता है। सो अब बिना ऐसा उपाय किए काम नहीं चलेगा कि रुपया भी बढ़े और वह रुपया बिना बुद्धि के न बढ़ेगा। भाइयों, राजा-महाराजों का मुँह मत देखो। मत यह आशा रखो कि पंडित जी कथा में ऐसा उपाय बतलाएँगे कि देश का रुपया और बुद्धि बढ़े। तुम आप ही कमर कसो, आलस छोड़ो, कब तक अपने को जंगली, हूस, मूर्ख, बोदे, डरपोक पुकरवाओगे। दौड़ो इस घुड़दौड़ में, जो पीछे पड़े तो फिर कहीं ठिकाना नहीं है। 'फिर कब-कब राम जनकपुर एहै' अब की जो पीछे पड़े तो फिर रसातल ही पहुँचोगे। जब पृथ्वीराज को कैद कर के गोर ले गए तो शहाबुद्दीन के भाई गयासुद्दीन से किसी ने कहा कि वह शब्दबेधी बाण बहुत अच्छा मारता है। एक दिन सभी नियत हुई और सात लोहे के तावे बाण से फोड़ने को रखे गए। पृथ्वीराज को लोगों ने पहिले से ही अंधा कर दिया था। संकेत यह हुआ कि जब गयासुद्दीन 'हूँ' करे तब वह तावे पर बाण मारे। चंद कवि भी उसके साथ कैदी था। यह सामान देख कर उसने यह दोहा पढ़ा -

"अब की चढ़ी कमान को जाने फिर कब चढ़े।
जिन चूके चहुआज इक्के मारय इक्क सर।"

उसका संकेत समझ कर जब गयासुद्दीन ने 'हूँ' किया तो पृथ्वीराज ने उसी को बाण मार दिया। वही बात अब है। 'अब की चढ़ी' इस समय में सरकार का राज्य पाकर और उन्नति का इतना सामान पाकर भी तुम लोग अपने को न सुधारों तो तुम्हीं रहो और वह सुधारना भी ऐसा होना चाहिए कि सब बात में उन्नति हो। धर्म में, घर के काम में, बाहर के काम में, रोजगार में, शिष्टाचार में, चाल चलन में, शरीर में,बल में, समाज में, युवा में, वृद्ध में, स्त्री में, पुरुष में, अमीर में, गरीब में, भारतवर्ष की सब आस्था, सब जाति,सब देश में उन्नति करो। सब ऐसी बातों को छोड़ो जो तुम्हारे इस पथ के कंटक हों। चाहे तुम्हें लोग निकम्मा कहें या नंगा कहें, कृस्तान कहें या भ्रष्ट कहें तुम केवल अपने देश की दीन दशा को देखो और उनकी बात मत सुनो। अपमान पुरस्कृत्य मानं कृत्वा तु पृष्ठतः स्वकार्य साधयेत धीमान कार्यध्वंसो हि मूर्खता। जो लोग अपने को देश-हितैषी मानते हों वह अपने सुख को होम करके, अपने धन और मान का बलिदान करके कमर कस के उठो। देखा-देखी थोड़े दिन में सब हो जाएगा। अपनी खराबियों के मूल कारणों को खोजो। कोई धर्म की आड़ में, कोई सुख की आड़ में छिपे हैं। उन चोरों को वहाँ-वहाँ से पकड़ कर लाओ। उनको बाँध-बाँध कर कैद करो। हम इससे बढ़कर क्या कहें कि जैसे तुम्हारे घर में कोई पुरुष व्याभिचार करने आवे तो जिस क्रोध से उसको पकड़कर मारोगे और जहाँ तक तुम्हारे में शक्ति होगी उसका सत्यानाश करोगे उसी तरह इस समय जो-जो बातें तुम्हारे उन्नति पथ की काँटा हों उनकी जड़ खोद कर फेंक दो। कुछ मत डरो। जब तक सौ, दो सौ मनुष्य बदनाम न होंगे, जात से बाहर न निकाले जाएँगे , दरिद्र न हो जाएँगे , कैद न होंगे वरंच जान से न मारे जाएँगे तब तक कोई देश न सुधरेगा।

अब यह प्रश्न होगा कि भई हम तो जानते ही नहीं कि उन्नति और सुधारना किस चिड़िया का नाम है। किस को अच्छा समझे। क्या लें क्या छोड़ें तो कुछ बातें जो इस शीघ्रता से मेरे ध्यान में आती हैं उनको मैं कहता हूँ सुनो -

सब सुन्नियों का मूल धर्म है। इससे सबसे पहले धर्म की ही उन्नति करनी उचित है। देखो अंग्रेजों की धर्मनीति राजनीति परस्पर मिली है इससे उनकी दिन-दिन कैसी उन्नति हुई है। उनको जाने दो अपने ही यहाँ देखो। तुम्हारे धर्म की आड़ में नाना प्रकार की नीति समाजगठन वैद्यक आदि भरे हुए हैं। दो-एक मिसाल सुनो तुम्हारा बलिया के मेला का यहीं स्थान क्यों चुना गया है जिसमें जो लोग कभी आपस में नहीं मिलते। दस-दस, पाँच-पाँच कोस से ले लोग एक जगह एकत्र होकर आपस में मिलें। एक दूसरे का दुःख-सुख जानें। गृहस्थी के काम की वह चीजें जो गाँव में नहीं मिलतीं यहाँ से ले जाएँ। एकादशी का व्रत क्यों रखा है? जिसमें महिने में दो-एक उपवास से शरीर शुद्ध हो जाए। गंगाजी नहाने जाते हैं तो पहले पानी सिर पर चढ़ा कर तब पैर पर डालने का विधान क्यों है? जिससे तलुए से गरमी सिर पर चढ़कर विकार न उत्पन्न करे। दीवाली इसी हेतु है कि इसी बहाने सालभर में एक बार तो सफाई हो जाए। होली इसी हेतु है कि बसंत की बिगड़ी हवा स्थान-स्थान पर अग्नि जलने से स्वच्छ हो जाए। यही तिहवार ही तुम्हारी म्युनिसिपालिटी है। ऐसे ही सब पर्व, सब तीर्थ, व्रत आदि में कोई हीकमत है। उन लोगों ने धर्मनीति और समाजनीति को दूध पानी की भाँति मिला दिया है। खराबी जो बीच में हुई वह यह है कि उन लोगों ने ये धर्म क्यों मानने लिखे थे। इसका लोगों ने मतलब नहीं समझा और इन बातों को वास्तविक धर्म मान लिया। भाइयों, वास्तविक धर्म तो केवल परमेश्वर के चरणकमल का भजन है। ये सब तो समाज धर्म है। जो देश काल के अनुसार शोधे और बदले जा सकते हैं। दूसरी खराबी यह हुई कि उन्हीं महात्मा बुद्धिमान ऋषियों के वंश के लोगों ने अपने बाप-दादों का मतलब न समझकर बहुत से नए-नए धर्म बना कर शास्त्रों में धर दिए बस सभी तिथि व्रत और सभी स्थान तीर्थ हो गए। सो इन बातों को अब एक बार आँख खोल कर देख और समझ लीजिए कि फलानी बात उन बुद्धिमान ऋषियों ने क्यों बनाई और उनमें देश और काल के अनुकूल और उपकारी हों उनका ग्रहण कीजिए। बहुत-सी बातें जो समाज विरुद्ध मानी जाती हैं किंतु धर्मशास्त्रों में जिनका विधान है उनको मत चलाइए। जैसा जहाज का सफर, विधवा-विवाह आदि। लड़कों की छोटेपन ही में शादी करके उनका बल,बीरज, आयुष्य सब मत घटाइए। आप उनके माँ-बाप हैं या शत्रु हैं। वीर्य उनके शरीर में पुष्ट होने दीजिए। नोन, तेल लकड़ी की फिक्र करने की बुद्धि सीख लेने दीजिए तब उनका पैर काठ में डालिए। कुलीन प्रथा,बहु विवाह आदि को दूर कीजिए। लड़कियों को भी पढ़ाइए किंतु इस चाल में नहीं जैसे आजकल पढ़ाई जाती है जिससे उपकार के बदले बुराई होती है ऐसी चाल से उनको शिक्षा दीजिए कि वह अपना देश और कुल-धर्म सीखें, पति की भक्ति करें और लड़कों को सहज में शिक्षा दें। वैष्णव, शास्त्र इत्यादि नाना प्रकार के लोग आपस में बैर छोड़ दें यह समय इन झगड़ों का नहीं। हिंदू, जैन, मुसलमान सब आपस में मिलिए जाति में कोई चाहे ऊँचा हो, चाहे नीचा हो सबका आदर कीजिए। जो जिस योग्य हो उसे वैसा मानिए,छोटी जाति के लोगों का तिरस्कार करके उनका जी मत तोड़िए। सब लोग आपस में मिलिए। मुसलमान भाइयों को भी उचित है कि इस हिंदुस्तान में बस कर वे लोग हिंदुओं को नीचा समझना छोड़ दें। ठीक भाइयों की भाँति हिंदुओं से बरताव करें। ऐसी बात जो हिंदुओं का जी दुखाने वाली हो न करें। घर में आग लगे सब जिठानी, द्यौरानी को आपस का डाह छोड़ कर एकसाथ वह आग बुझानी चाहिए। जो बात हिंदुओं का नहीं मयस्सर है वह धर्म के प्रभाव से मुसलमानों को सहज प्राप्त है। उनके जाति नहीं, खाने-पीने में चौका-चूल्हा नहीं, विलायत जाने में रोक-टोक नहीं, फिर भी बड़े ही सोच की बात है कि मुसलमानों ने अभी तक अपनी दशा कुछ नहीं सुधारी। अभी तक बहुतों को यही ज्ञात है कि दिल्ली,लखनऊ की बादशाहत कायम है। यारो, वे दिन गए। अब आलस, हठधरमी यह सब छोड़ो। चलो हिंदुओं के साथ तुम भी दौड़ो एक-एक-दो होंगे। पुरानी बातें दूर करो। मीर हसन और इंदरसभा पढ़ा कर छोटेपन ही से लड़कों का सत्यानाश मत करो। होश संभाला नहीं कि पढ़ी पारसी, चुस्त कपड़ा पहनना और गजल गुनगुनाए -

"शौक तिल्फी से मुझे गुल की जो दीदार का था।
न किया हमने गुलिस्ताँ का सबक याद कभी॥"

भला सोचो कि इस हालत में बड़े होने पर वे लड़के क्यों न बिगड़ेंगे। अपने लड़कों को ऐसी किताबें छूने भी मत दो। अच्छी से अच्छी उनको तालीम दो। पैंशन और वजीफे या नौकरी का भरोसा छोड़ो। लड़कों को रोजगार सिखलाओ। विलायत भेजो। छोटेपन से मेहनत करने की आदत दिलाओ। सौ-सौ महलों के लाड़-प्यार, दुनिया से बेखबर रहने की राह मत दिखलाओ।

भाई हिंदुओं, तुम भी मतमतांतरों का आग्रह छोड़ो। आपस में प्रेम बढ़ाओ। इस महामंत्र का जप करो। जो हिंदुस्तान में रहे चाहे किसी जाति, किसी रंग का क्यों न हो वह हिंदू है। हिंदू की सहायता करो। बंगाली, मरट्ठा, पंजाबी, मदरासी, वैदिक, जैन, ब्राह्मणों, मुसलमानों सब एक का हाथ एक पकड़ो। कारीगरी जिससे तुम्हारे यहाँ बढ़े तुम्हारा रुपया तुम्हारे ही देश में रहे वह करो। देखा जैसे हजार धारा होकर गंगा समुद्र में मिली है वैसे ही तुम्हारी लक्ष्मी हजार तरह से इंग्लैंड, फरांसीस, जर्मनी, अमेरिका को जाती है। दीआसलाई ऐसी तुच्छ वस्तु भी वहीं से आती है। जरा अपने ही को देखो। तुम जिस मारकीन की धोती पहने हो वह अमेरिका की बनी है। जिस लकलाट का तुम्हारा अंगा है वह इंग्लैंड का है। फरांसीस की बनी कंघी से तुम सिर झारते हो और जर्मनी की बनी चरबी की बत्ती तुम्हारे सामने जल रही है। यह तो वही मसल हुई एक बेफिकरे मंगती का कपड़ा पहिन कर किसी महफिल में गए। कपड़े को पहिचान कर एक ने कहा - अजी अंगा तो फलाने का हे, दूसरा बोला अजी टोपी भी फलाने की है तो उन्होंने हँस कर जवाब दिया कि घर की तो मूछें ही मूछें हैं। हाय अफसोस तुम ऐसे हो गए कि अपने निज की काम के वस्तु भी नहीं बना सकते। भइयों अब तो नींद से जागो। अपने देश की सब प्रकार से उन्नति करो। जिसमें तुम्हारी भलाई हो वैसी ही किताब पढ़ो। वैसे ही खेल खेलो। वैसा बातचीत करो। परदेसी वस्तु और परदेसी भाषा का भरोसा मत रखो अपने में अपनी भाषा में उन्नति करो।

- भारतेंदु हरिश्चंद्र

[बलिया में ददरी के मेले के समय अर्य देशोपकारिणी सभा में दिया गया भाषण]


Aaj Bade Aanand Ka Din Hai Ki Chhote Se Nagar Baliya Mein Ham Itane Manushyon Ko Ek Bade Utsaah Se Ek Sthaan Par Dekhate Hain. Is Abhaage Aalasee Desh Mein Jo Kuchh Ho Jae Vahee Bahut Hai. Banaaras Aise-aise Bade Nagaron Mein Jab Kuchh Nahin Hota to Ham Yah Na Kahenge Ki Baliya Mein Jo Kuchh Hamane Dekha Vah Bahut Hee Prashansa Ke Yogy Hai. Is Utsaah Ka Mool Kaaran Jo Hamane Khoja to Pragat Ho Gaya Ki is Desh Ke Bhaagy Se Aajakal Yahaan Saara Samaaj Hee Ekatr Hai. Raabart Saahab Bahaadur Aise Kalektar Jahaan Ho Vahaan Kyon Na Aisa Samaaj Ho. Jis Desh Aur Kaal Mein Eeshvar Ne Akabar Ko Utpann Kiya Tha Usee Mein Abulaphajal, Beerabal,todaramal Ko Bhee Utpann Kiya. Yahaan Raabart Saahab Akabar Hain Jo Munshee Chaturbhuj Sahaay, Munshee Bihaareelaal Saahab Aadi Abulaphajal Aur Todaramal Hain. Hamaare Hindustaanee Log to Rel Kee Gaadee Hai. Yadyapi Pharst Klaas, Saikend Klaas Aadi Gaadee Bahut Achchhee-achchhee Aur Bade-bade Mahasool Kee is Tren Mein Lagee Hai Par Bina Injin Sab Nahin Chal Sakatee Vaisee Hee Hindustaanee Logon Ko Koee Chalaane Vaala Ho to Ye Kya Nahin Kar Sakate. Inase Itana Kah Deejie Ka Chup Saadhi Raha Balavaana Phir Dekhie Hanumaanajee Ko Apana Bal Kaisa Yaad Aata Hai. So Bal Kaun Yaad Dilaave. Hindustaanee Raaje-mahaaraaje, Navaab, Raees Ya Haakim. Raaje-mahaaraajon Ko Apanee Pooja, Bhojan, Jhoothee Gap Se Chhuttee Nahin. Haakimon Ko Kuchh to Sarakaaree Kaam Ghere Rahata Hai Kuchh Baal-ghudadaud, Thiyetar Mein Samay Laga. Kuchh Samay Bacha Bhee to Unako Kya Garah Hai Ki Ham Gareeb, Gande, Kaale Aadamiyon Se Mil Kar Apana Anamol Samay Khoven. Bas Yahee Masal Rahee -

"Tumhen Gairon Se Kab Phurasat, Ham Apane Gam Se Kab Khaalee.

Chalo Bas Ho Chuka Milana Na Ham Khaalee Na Tum Khaalee."

Teen Mendhak Ek Ke Oopar Ek Baithe the. Oopar Vaale Ne Kaha, Jauk Shauk, Beech Vaal Bola, Gam Sam,sab Ke Neeche Vaala Pukaara, Gae Ham. So Hindustaan Kee Praja Kee Dasha Yahee Hai Gae Ham. Pahale Bhee Jab Aary Log Hindustaan Mein Aakar Base the Raaja Aur Braahmanon Ke Jimme Yah Kaam Tha Ki Desh Mein Naana Prakaar Kee Vidya Aur Neeti Phailaaven Aur Ab Bhee Ye Log Chaahen to Hindustaan Pratidin Kya Pratichhin Badhe. Par Inheen Logon Ko Nikammepan Ne Gher Rakha Hai. Boddhaaro Matsaragrastaah Prabhavah Samar Dooshitaah Ham Nahin Samajhate Ki Inako Laaj Bhee Kyon Nahin Aatee Ki Us Samay Mein Jabaki Inake Purukhon Ke Paas Koee Bhee Saamaan Nahin Tha Tab Un Logon Ne Jangal Mein Patte Aur Mittee Kee Kutiyon Mein Baith Kar Baans Kee Naaliyon Se Jo Taara, Grah Aadi Bedh Kar Ke Unakee Gati Likhee Hai Vah Aisee Theek Hai Ki Solah Laakh Rupe Kee Laagat Se Vilaayat Mein Jo Doorabeen Banee Hai Unase Un Grahon Ko Vedh Karane Mein Bhee Theek Vahee Gati Aatee Hai Aur Ab Aaj is Kaal Mein Ham Logon Kee Angrejee Vidya Ke Aur Janata Kee Unnati Se Laakhon Pustaken Aur Hajaaron Yantr Taiyaar Hain Jab Ham Log Niree Chungee Kee Katavaar Phenkane Kee Gaadee Ban Rahe Hain. Yah Samay Aisa Hai Ki Unnati Kee Maano Ghudadaud Ho Rahee Hai. Amerikan, ‍‍angrej, Pharaansees Aadi Turakee-taajee Sab Sarapatt Daude Jaate Hain. Sab Ke Jee Mein Yahee Hai Ki Paala Hamee Pahale Chhoo Len. Us Samay Hindoo Ka Tiyaavaadee Khaalee Khade-khade Taap Se Mittee Khodate Hain. Inako Auron Ko Jaane Deejie Jaapaanee Tattuon Ko Haanphate Hue Daudate Dekh Kar Ke Bhee Laaj Nahin Aatee. Yah Samay Aisa Hai Ki Jo Peechhe Rah Jaega Phir Koti Upaay Kie Bhee Aage Na Badh Sakega. Loot Kee is Barasaat Mein Bhee Jis Ke Sir Par Kambakhtee Ka Chhaata Aur Aankhon Mein Moorkhata Kee Pattee Bandhee Rahe Un Par Eeshvar Ka Kop Hee Kahana Chaahie.

Mujhako Mere Mitron Ne Kaha Tha Ki Tum is Vishay Par Aaj Kuchh Kaho Ki Hindustaan Kee Kaise Unnati Ho Sakatee Hai. Bhala is Vishay Par Main Aur Kya Kahoon Bhaagavat Mein Ek Shlok Hai - "Nrdehamaadyan Sulabhan Sudurlabhan Plavan Sukalpan Gurukarnadhaaran Mayaasnukoolen Tapah Svateritan Pumaan Bhavaabdhi Na Taret Sa Aatmaha." Bhagavaan Kahate Hain Ki Pahale to Manushy Janm Hee Durlabh Hai So Mila Aur Us Par Guru Kee Krpa Aur Us Par Meree Anukoolata. Itana Saamaan Paakar Bhee Manushy is Sansaar Saagar Ke Paar Na Jae Usako Aatmahatyaara Kahana Chaahie, Vahee Dasha is Samay Hindustaan Kee Hai. Angrejon Ke Raajy Mein Sab Prakaar Ka Saamaan Paakar, Avasar Pa Kar Bhee Ham Log Jo is Samay Unnati Na Karen to Hamaare Keval Abhaagy Aur Parameshvar Ka Kop Hee Hai. Saas Aur Anumodan Se Ekaant Raat Mein Soone Rang Mahal Mein Jaakar Bhee Bahut Dinon Se Praan Se Pyaare Paradesee Pati Se Mil Kar Chhaatee Thandee Karane Kee Ichchha Bhee Usaka Laaj Se Munh Bhee Na Dekhe Aur Bole Bhee Na to Usaka Abhaagy Hee Hai. Vah to Kal Parades Chala Jaega. Vaise Hee Angrejon Ke Raajy Mein Bhee Jo Ham Mendhak, Kaath Ke Ulloo, Pinjade Ke Gangaaraam Hee Rahen to Phir Hamaaree Kamabakht Kamabakhtee Phir Kamabakhtee Hee Hai. Bahut Log Yah Kahenge Ki Hamako Pet Ke Dhandhe Ke Maare Chhuttee Hee Nahin Rahatee, Baaba, Ham Kya Unnati Karen. Tumhaara Pet Bhara Hai Tum Ko Doon Kee Soojhatee Hai. Usane Ek Haath Se Apana Pet Bhara Doosare Haath Se Unnati Ke Kaanton Ko Saaph Kiya. Kya Inglaind Mein Kisaan, Khet Vaale, Gaadeevaan, Majadoor, Kochavaan Aadi Nahin Hain? Kisee Desh Mein Bhee Sabhee Pet Bhare Hue Nahin Hote, Kintu Ve Log Jahaan Khet Jotate-baate Hain Vaheen Usake Saath Yah Bhee Sochate Hain Ki Aisee Kaun Naee Kal Va Masaala Banaaven Jisase is Khet Mein Aage Se Doon Anaaj Upaje. Vilaayat Mein Gaadee Ke Kochavaan Bhee Akhabaar Padhate Hain. Jab Maalik Utarakar Kisee Dost Ke Yahaan Gaya Usee Samay Kochavaan Ne Gaddee Ke Neeche Se Akhabaar Nikaala. Yahaan Utanee Der Kochavaan Hukka Piega Ya Gapp Karega. So Gapp Bhee Nikammee. Vahaan Ke Log Gapp Hee Mein Desh Ke Prabandh Chhaantate Hain. Siddhaant Yah Ki Vahaan Ke Logon Ka Yah Siddhaant Hai Ki Ek Chhin Bhee Vyarth Na Jae. Usake Badale Yahaan Ke Logon Ko Jitana Nikammaapan Ho Utana Hee Bada Ameer Samajha Jaata Hai. Aalasy Yahaan Itanee Badh Gaee Ki Malookadaas Ne Doha Hee Bana Daala -

"Ajagar Kare Na Chaakaree Panchhee Kare Na Kaam.

Daas Malooka Kahi Gae Sabake Daata Raam."



लड़की को इम्प्रेस कैसे करे | How to impress a girl?

एक इंसान के रूप में, जरा सोचिए आपको क्या प्रभावित करेगा!

नहीं, मैं यहाँ मर्दाना इच्छाओं के बारे में बात नहीं कर रहा हूँ। वह भी एक इंसान है इसलिए उसके अनुसार व्यवहार करें।

  1. अपने इरादे साफ रखें। शरीर मन है यार। यदि आपके पास सिर्फ उसके पैंट के अंदर जाने का इरादा है, तो मुझ पर विश्वास करें, वह कुछ ही समय में यह नोटिस करेगी।
  2. उसे एक रानी की तरह महसूस करो। किसी अवसर की प्रतीक्षा न करें, बस जब भी संभव हो, उसे विशेष महसूस कराएं। लड़कियों का दिल बहुत कोमल होता है और उन्हें ऐसा महसूस होता है कि वह तुरंत पिघल जाती हैं।
  3. उसके "आरामदायक कोने" बनें। हां, हर लड़की को एक ऐसे लड़के की जरूरत होती है, जिसके साथ वह सहज महसूस करती हो।
  4. उसे सुने। हम लोगों के विपरीत, लड़कियां बहुत अधिक भावुक होती हैं। उन्हें हर हाल में किसी को सुनने की जरूरत है। इसलिए, उसे अपने दिल की बात कहने दीजिए।
  5. उसे सम्मान दें। रेंगना मत बेवकूफों की तरह घूरने से उसे तुरंत गुस्सा आ जाएगा।
  6. उसके पास मत जाओ! यह दुनिया यौन शिकारियों से भरी है इसलिए शुद्ध दिल वाला कोई हो। उसे पहला कदम रखने दें। यदि वह आप में रुचि रखती है, तो वह निश्चित रूप से एक कदम आगे बढ़ेगी।
  7. हास्यास्पद रहो। यह एक बिना दिमाग वाला है। लड़कियों को अच्छी समझ वाले लड़के पसंद आते हैं। लेकिन सुनिश्चित करें कि आप इसे अति नहीं करते हैं और # 5 नियम तोड़ते हैं।
  8. अपने शरीर की तुलना में अपने सिर में निवेश करें। इंटेलिजेंस दुनिया को चलता है। कुछ कौशल सीखें। खुद को हर संभव संभव जागरूक करें। अपने सीखने के चैनल खोलें।
  9. क्लास ओवर स्वैग। एक आदमी की तरह पोशाक। खुद को साफ-सुथरा और सही ढंग से तैयार रखें। अच्छा डियोड्रेंट या कोलोन पहनें।
  10. थोड़ा आत्मविश्वास रखें। आत्मविश्वास एक ऐसा गुण है जो धीरे-धीरे आता है, तुरन्त नहीं। आपको बहुत अभ्यास करना होगा और अपनी अवधारणाओं को स्पष्ट करना होगा। यह न केवल वहां की लड़कियों को प्रभावित कर सकता है, बल्कि अच्छा आत्मविश्वास आपको एक सफल कैरियर भी दिला सकता है।
  11. खुद को फिट रखें। कोई भी व्यक्ति ऐसे व्यक्ति से प्यार नहीं करता है, जिसके पास किसी क्लिनिक या अस्पताल की प्रीमियम सदस्यता हो (सिर्फ मजाक कर रहा हो)। मैं यहां फिटनेस की बात कर रहा हूं, बॉडीबिल्डिंग की नहीं। फिटनेस एक जरूरी है। अच्छा खाएं, कसरत करें और ध्यान लगाएं।
  12. डींग न मारें हर कोई प्राकृतिक बात और डींग मारने के बीच अंतर देख सकता है। कोई भी आपकी कहानियों में दिलचस्पी नहीं रखता है जहां आप हमेशा नायक होते हैं। इसलिए वास्तविक बनो।
  13. मानसिक शक्ति। छोटे सामान पर मानसिक विराम नहीं होता है। चीजों को स्वीकार करना सीखें। धरोहर के बदले चीजों को ठीक करने का काम। एक आदमी के रूप में, रोना ठीक है, लेकिन रोना नहीं है।
  14. अपनी आक्रामकता पर नियंत्रण रखें। मैं भी एक लड़का हूं। मैं समझता हूं कि हमारे पास सभी मुद्दे हैं, लेकिन सिर्फ इसलिए कि आप किसी पर अपनी सारी आक्रामकता नहीं निकाल सकते। इसके बजाय, अपनी आक्रामकता को जिमिंग जैसी किसी लाभदायक चीज़ में बदलना सीखें।
  15. भरोसेमंद बनो। किसी के लिए वह किसी भी चीज़ पर निर्भर हो सकता है। बहाने मत दो। अपने वादे हमेशा निभाए।
  16. बाते कम काम ज्यादा। केवल यह कहने के बजाय कि "मैं ऐसा करने वाला हूं और वह एक दिन", बस करो, यार। अभिनय शब्दों की तुलना में जोर से बोलते हैं, हमेशा इसे ध्यान में रखें।
  17. सकारात्मकता का स्रोत बनें। सोशल मीडिया पर दुखद पोस्ट न करें जो यह दर्शाता है कि आपका जीवन कितना दुखी है। इसके बजाय, इतना सकारात्मक और आशावादी बनें जो उसे अपनी ओर आकर्षित करे।
  18. करिश्माई बनें। तो करिश्मा कोई मिथक नहीं है। किसी के साथ ऐसा व्यवहार करें कि कमरे में प्रवेश करते ही हर कोई आपसे बात करना चाहे। आपकी बॉडी लैंग्वेज, आपकी बुद्धिमत्ता, आपकी समझदारी, आपका सर्द स्तर, सामान संभालने की आपकी क्षमता, आपकी निर्णय लेने की शक्ति आदि सब कुछ एक आकर्षक करिश्मे में गिना जाता है।
  19. सर्वश्रेष्ठ बनो! आप कुछ भी हासिल करने से महज एक मानसिकता हैं। लड़कियों को ऐसे लोग पसंद होते हैं जो हर उस चीज में अच्छे होते हैं जो वे इस पर काम करती हैं।
  20. एक लक्ष्य है! एक भेड़ मत बनो और भीड़ का पालन करें। एक लक्ष्य है। इस पर रोजाना काम करें। अपने करियर पर ध्यान दें। बड़ी तस्वीर के बारे में सोचो।
  21. धूम्रपान न करें! मैंने कभी भी किसी भी लड़की को नहीं देखा जो धूम्रपान की आदत के साथ अपने साथी के साथ ठीक है।
  22. सभी को एक साथ रखने के लिए जानें। उसे "मैं तुम्हारे बिना मर जाऊंगा" पाठ और इस तरह से अन्य cringey सामान नहीं। यह गंभीरता से आश्वस्त नहीं है। आप ऐसा करके उसे और भी अधिक दोहरा रहे हैं।

सचिन पायलट द्वारा बनाए गए हंगामे में भाजपा की क्या भूमिका है? | What is the role of the BJP in the ruckus created by Sachin Pilot?

"बीजेपी के पास राजस्थान में कांग्रेस के संकट से कोई लेना-देना नहीं है, अगर किसी को भी गड़बड़ी के लिए जिम्मेदार माना जा सकता है तो वह है कांग्रेस।"

मैं सबूत के विभिन्न टुकड़ों के साथ अपने बयान का समर्थन कर रहा हूँ।

कांग्रेस एक ऐसी पार्टी है जिसे पार्टी के मेहनती सदस्यों के बजाय वफादार ' का समर्थन करने के लिए जाना जाता है । इसने जमीनी स्तर के पार्टी कार्यकर्ताओं में असंतोष पैदा किया है और कांग्रेस पार्टी में गुटबाजी पैदा की है।

  • ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बदसलूकी की

सिंधिया 2001 में कांग्रेस में शामिल हुए और जीत हासिल की थी लगातार तीन 2004, 2009 और 2014 वह के रूप में सेवा में गुना से लोकसभा चुनाव राज्य मंत्री के तहत यूपीए सरकार में वाणिज्य और उद्योग पोर्टफोलियो और सत्ता के लिए राज्य के मंत्री के बाद 2012 मंत्रिमंडल फेरबदल।

शिवराज सिंह के भाजपा के खिलाफ 2018 के मध्य प्रदेश विधान सभा चुनाव के अभियान का नेतृत्व करने के लिए सिंधिया को एक कठिन काम दिया गया था । उन्होंने चुनौती ली और कड़ी मेहनत से कांग्रेस की ओर रुख बदलने में सफल रहे 

दुर्भाग्य से, उन्हें उनकी कड़ी मेहनत के लिए सम्मानित नहीं किया गया , बल्कि कमलनाथ और दिग्विजय सिंह द्वारा दरकिनार कर दिया गया 

उन्हें कभी कांग्रेस द्वारा सीएम उम्मीदवार के रूप में भी नहीं माना गया था और उन्हें पीसीसी की कुर्सी से भी मना कर दिया गया था । अगले वर्ष वह खो लोकसभा चुनाव में और भी था प्रदर्शन के साथ उखड़ राज्य में कांग्रेस के।

इससे कांग्रेस पार्टी में निराशा और उसका अविश्वास पैदा हो गया और वह आखिरकार 11 मार्च, 2020 को भाजपा में शामिल हो गया 

क्या इसमें भाजपा की कोई भूमिका थी? नहीं!

  • कांग्रेस सचिन पायलट के साथ एक ही सुइट का अनुसरण करती है।

कांग्रेस के दिसंबर 2018 के विधानसभा चुनाव जीतने के बाद गहलोत के साथ समस्या शुरू हो गई और पायलट के बजाय, जिन्होंने पार्टी को जीत की ओर अग्रसर किया , कांग्रेस ने गहलोत को सीएम पद के लिए चुना । बहुत अनुनय के बाद, पायलट डिप्टी सीएम पद और कुछ महत्वपूर्ण विभागों के लिए बस गए। तब से, दोनों ने एक दूसरे का नाम लिए बिना, सूक्ष्म तरीके से एक-दूसरे पर निशाना साधा है।

पायलट को कांग्रेस कमेटी द्वारा दरकिनार कर दिया गया है और हाल के नौकरशाही फेरबदल में, उन्हें अपनी पसंद के अधिकारियों को चुनने की भी अनुमति नहीं दी गई और उनके विभाग में नियुक्त अधिकारियों ने पायलट के साथ मतभेद साझा किए। पायलट और गहलोत अब लंबे समय से लॉगरहेड्स में हैं और बहुत बढ़ जाने के बाद, यहां तक ​​कि पायलट ने तंग आकर बदलाव की मांग की।

कपिल सिब्बल ने हाल के एक ट्वीट में अपनी चिंता व्यक्त की और कांग्रेस को अपने हाथों से बाहर जाने से पहले गंभीर बदलाव करने पर जोर दिया।

चित्र सौजन्य : कपिल सिब्बल ट्विटर अकाउंट

निष्कर्ष: यह कांग्रेस पार्टी है जो हंगामे के लिए खुद जिम्मेदार है जो पक्षपात और वंशवादी राजनीति की अपनी पुरानी प्रथाओं में निहित है । यह उच्च समय है कि यह गंभीर सुधार करता है और वफादार लोगों का पक्ष लेने के बजाय उनकी योग्यता के आधार पर लोगों को बढ़ावा देता है।

संपादित करें (14/07/2020): सचिन पायलट ने डिप्टी सीएम के साथ ही राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से बर्खास्त कर दिया। मुझे कांग्रेस से यही उम्मीद थी। उन्होंने एक और मणि को जाने दिया जो भविष्य में पार्टी के लिए चमत्कार कर सकता था। 2018 के विधान सभा चुनावों में कांग्रेस के जीतने के पीछे सचिन पायलट प्रमुख कारण थे। इसने बहुत बुरी मिसाल कायम की है और इससे कांग्रेस पार्टी में गुटबाजी बढ़ सकती है।

जय हिंद!

पढ़ने के लिए धन्यवाद।