भूख पर कविता | bhukh poem in hindi | hungry status in hindi |

भूख है तो सब्र कर रोटी नहीं तो क्या हुआ
आजकल दिल्ली में है ज़ेर-ए-बहस ये मुदद्आ ।

मौत ने तो धर दबोचा एक चीते कि तरह
ज़िंदगी ने जब छुआ तो फ़ासला रखकर छुआ ।

गिड़गिड़ाने का यहां कोई असर होता नही
पेट भरकर गालियां दो, आह भरकर बददुआ ।

क्या वज़ह है प्यास ज्यादा तेज़ लगती है यहाँ
लोग कहते हैं कि पहले इस जगह पर था कुँआ ।

आप दस्ताने पहनकर छू रहे हैं आग को
आप के भी ख़ून का रंग हो गया है साँवला ।

इस अंगीठी तक गली से कुछ हवा आने तो दो
जब तलक खिलते नहीं ये कोयले देंगे धुँआ ।

दोस्त, अपने मुल्क कि किस्मत पे रंजीदा न हो
उनके हाथों में है पिंजरा, उनके पिंजरे में सुआ ।

इस शहर मे वो कोई बारात हो या वारदात
अब किसी भी बात पर खुलती नहीं हैं खिड़कियाँ ।
दुष्यंत कुमार

TAG:
bhukh poem in hindi, bhukh status in hindi, bhukh quotes, bhukh lagi hai shayari, pyar ki bhookh shayari, bhukh pe shayari, 2 line shayari on bhuk,

Gav Par Kavita In Hindi Lyrics | Gaon Par Kavita Hindi Mein | गांव पर कविता ~ मेरा गांव

कुम्हार के उस घड़े में भले बर्फ नहीं जमता,
पर पानी ठंडी रहती है।
पीपल के छांव तले AC का शोर नहीं पलता,
वहां तो मदमस्तत हवाएं प्रकृति के गीत गाती रहती है।
गाँवों में आज भी वाटर पार्क और स्विमिंग पूल नहीं मिलता,
वहां बचपन नदी-नहर-तालाबों में तैरती रहती है।
आज जब सुविधाओं से लैश है फिर भी बेचैन है हर शहर,
गाँव अपने कष्टों से लड़ता अपनों में मस्त रहता है।

दंगों पर कविता ~ हिन्दी कविता | Hindi Poem on Riots

दंगों में दंगाई कहाँ मरते है
मरता है सब्जीवाला,रेड़ीवाला इंसान
मरता है बेघर वाला इंसान

दंगाई भाग जाते है
मासूम के घरों में लगाकर आग
धीरे-धीरे वो आग तो बुझ जाती है
पर दिल में सुलगती रहती है
वहीं आग फिर दंगा कराती है
ऐसे ही दंगों की फसल लहलहाती है

दंगों में दंगाई नहीं लुटे जाते है
लुटे जाते है गरीब मजदूर किसान
दंगाई लुट ले जाते है
इनके घरों की आबरू व सारा सामान
और छोड़ जाते है भुखमरी व विलाप
धीरे-धीरे भुखमरी तो ख़त्म हो जाती है
पर कभी नहीं जाती है विलाप
वहीं विलाप फिर दंगा कराती है
ऐसे ही दंगों की फसल लहलहाती है

Fascinating story of the connexion between Hydroxychloroquine, British India, Srirangapatna and Gin & Tonic.

As most of us are already aware, Hydroxychloroquine has taken the world by storm. Every newspaper is talking about it, and all countries are requesting India to supply it. 

Now, a curious person might wonder why and how this chemical composition is so deeply entrenched in India, and is there any history behind it.

Well, there is an interesting history behind it which goes all the way to Tipu Sultan's defeat. In 1799, when Tipu was defeated by the British, the whole of Mysore Kingdom with Srirangapatnam as Tipu's capital, came under British control. For the next few days, the British soldiers had a great time celebrating their victory,  but within weeks, many started feeling sick due to Malaria, because Srirangapatnam was a highly marshy area with severe mosquito trouble. 

The local Indian population had over the centuries, developed self immunity, and also all the spicy food habits helped to an extent. Whereas the British soldiers and officers who were suddenly exposed to harsh Indian conditions, started bearing the brunt. 

To quickly overcome the mosquito menace, the British Army immediately shifted their station from Srirangapatnam to Bangalore (by establishing the Bangalore Cantonment region), which was a welcome change, especially due to cool weather, which the Brits were gavely missing ever since they had left their shores. But the malaria problem still persisted because Bangalore was also no exception to mosquitoes. 

Around the same time, European scientists had discovered a chemical composition called "Quinine" which could be used to treat malaria, and was slowly gaining prominence, but it was yet to be extensively tested at large scale. This malaria crisis among British Army came at an opportune time, and thus Quinine was imported in bulk by the Army and distributed to all their soldiers, who were instructed to take regular dosages (even to healthy soldiers) so that they could build immunity. This was followed up in all other British stations throughout India, because every region in India had malaria problem to some extent. 

But there was a small problem. Although sick soldiers quickly recovered, many more soldiers who were exposed to harsh conditions of tropical India continued to become sick, because it was later found that they were not taking dosages of Quinine. Why? Because it was very bitter!! So, by avoiding the bitter Quinine, British soldiers stationed in India were lagging behind on their immunity, thereby making themselves vulnerable to Malaria in the tropical regions of India. 

That's when all the top British officers and scientists started experimenting ways to persuade their soldiers to strictly take these dosages, and during their experiments,  they found that the bitter Quinine mixed with Juniper based liquor, actually turned somewhat into a sweet flavor. That's because the molecular structure of the final solution was such that it would almost completely curtail the bitterness of Quinine. 

That juniper based liquor was Gin. And the Gin mixed with Quinine was called "Gin & Tonic", which immediately became an instant hit among British soldiers. 

The same British soldiers who were ready to even risk their lives but couldn't stand the bitterness of Quinine,  started swearing by it daily when they mixed it with Gin. In fact, the Army even started issuing few bottles of Gin along with "tonic water" (Quinine) as part of their monthly ration, so that soldiers could themselves prepare Gin & Tonic and consume them everyday to build immunity. 

To cater to the growing demand of gin & other forms of liquor among British soldiers, the British East India company built several local breweries in and around Bengaluru, which could then be transported to all other parts of India. And that's how, due to innumerable breweries and liquor distillation factories, Bengaluru had already become the pub capital of India way back during British times itself.  Eventually, most of these breweries were purchased from British organizations after Indian independence, by none other than Vittal Mallya (Vijay Mallya's father), who then led the consortium under the group named United Breweries headquartered in Bengaluru. 

Coming back to the topic, that's how Gin & Tonic became a popular cocktail and is still a popular drink even today. The Quinine, which was called Tonic (without gin), was widely prescribed by Doctors as well, for patients who needed cure for fever or any infection. Whenever someone in a typical Indian village fell sick, the most common advice given by his neighbors was "Visit the doctor and get some tonic". Over time, the tonic word was so overused that  became a reference to any medicine in general. So, that's how the word "Tonic", became a colloquial word  for "Western medicine" in India. 

Over the years, Quinine was developed further into many of its variants and derivatives and widely prescribed by Indian doctors. One such descendent of Quinine, called Hydroxychloroquine, eventually became the standardized cure for malaria because it has relatively lesser side effects compared to its predecessors, and is now suddenly the most sought after drug in the world today. 

And that's how, a simple peek into the history of Hydroxychloroquine takes us all the way back to Tipu's defeat, mosquito menace, liquor rationing, colorful cocktails, tonics and medicinal cures.

Hanuman Chalisa

Jai Hanuman gyan gun sagar
Jai Kapis tihun lok ujagar

Ram doot atulit bal dhama
Anjaani-putra Pavan sut nama

Mahabir Bikram Bajrangi
Kumati nivar sumati Ke sangi

Kanchan varan viraj subesa
Kanan Kundal Kunchit Kesha

Hath Vajra Aur Dhuvaje Viraje
Kaandhe moonj janehu sajai

Sankar suvan kesri Nandan
Tej prataap maha jag vandan

Vidyavaan guni ati chatur
Ram kaj karibe ko aatur

Prabu charitra sunibe-ko rasiya
Ram Lakhan Sita man Basiya

Sukshma roop dhari Siyahi dikhava
Vikat roop dhari lank jarava

Bhima roop dhari asur sanghare
Ramachandra ke kaj sanvare

Laye Sanjivan Lakhan Jiyaye
Shri Raghuvir Harashi ur laye

Raghupati Kinhi bahut badai
Tum mam priye Bharat-hi-sam bhai

Sahas badan tumharo yash gaave
Asa-kahi Shripati kanth lagaave

Sankadhik Brahmaadi Muneesa
Narad-Sarad sahit Aheesa

Yam Kuber Digpaal Jahan te
Kavi kovid kahi sake kahan te

Tum upkar Sugreevahin keenha
Ram milaye rajpad deenha

Tumharo mantra Vibheeshan maana
Lankeshwar Bhaye Sub jag jana

Yug sahastra jojan par Bhanu
Leelyo tahi madhur phal janu

Prabhu mudrika meli mukh mahee
Jaladhi langhi gaye achraj nahee

Durgaam kaj jagath ke jete
Sugam anugraha tumhre tete

Ram dwaare tum rakhvare
Hoat na agya binu paisare

Sub sukh lahae tumhari sar na
Tum rakshak kahu ko dar naa

Aapan tej samharo aapai
Teenhon lok hank te kanpai

Bhoot pisaach Nikat nahin aavai
Mahavir jab naam sunavae

Nase rog harae sab peera
Japat nirantar Hanumant beera

Sankat se Hanuman chudavae
Man Karam Vachan dyan jo lavai

Sab par Ram tapasvee raja
Tin ke kaj sakal Tum saja

Aur manorath jo koi lavai
Sohi amit jeevan phal pavai

Charon Yug partap tumhara
Hai persidh jagat ujiyara

Sadhu Sant ke tum Rakhware
Asur nikandan Ram dulhare

Ashta-sidhi nav nidhi ke dhata
As-var deen Janki mata

Ram rasayan tumhare pasa
Sada raho Raghupati ke dasa

Tumhare bhajan Ram ko pavai
Janam-janam ke dukh bisraavai

Anth-kaal Raghuvir pur jayee
Jahan janam Hari-Bakht Kahayee

Aur Devta Chit na dharehi
Hanumanth se hi sarve sukh karehi

Sankat kate-mite sab peera
Jo sumirai Hanumat Balbeera

Jai Jai Jai Hanuman Gosahin
Kripa Karahu Gurudev ki nyahin

Jo sat bar path kare kohi
Chutehi bandhi maha sukh hohi

Jo yah padhe Hanuman Chalisa
Hoye siddhi sakhi Gaureesa

Tulsidas sada hari chera
Keejai Nath Hridaye mein dera

Doha

Pavan Tanay Sankat Harana
Mangala Murati Roop
Ram Lakhana Sita Sahita
Hriday Basahu Soor Bhoop

Sad poem in Hindi | Dard Bhari Shayari in Hindi

 दर्द का शायर हूँ, मैं दर्द लिखता हूँ
कभी बेवफ़ाई, कभी गम तो कभी जुदाई लिखता हूँ
मिला जो मेरे महबूब से मुझे
वो रुसवाई लिखता हूँ
मैं दर्द का शायर हूँ, मैं दर्द लिखता हूँ

उसकी याद मे बिताई तन्हा राते लिखता हूँ
अपनी जिंदगी का खालीपन लिखता हूँ
दिल पर उसने दिये मेरे जो
वो हर एक जख्म लिखता हूँ
मैं दर्द का शायर हूँ, मैं दर्द लिखता हूँ

टूटे हुए अपने ख्वाब लिखता हूँ
उससे किया एक तरफा प्यार लिखता हूँ
जब वो मुझको छोड़कर गया
वो आखरी मुलाक़ात लिखता हूँ
मैं दर्द का शायर हूँ, मैं दर्द लिखता हूँ

कच्ची उम्र मे की गयी नादानी लिखता हूँ
उसके पीछे बर्बाद की अपनी जवानी लिखता हूँ
अंजाम तक जो ना पहुच सकी कभी
वो अपनी अधूरी प्रेम कहानी लिखता हूँ
मैं दर्द का शायर हूँ, मैं दर्द लिखता हूँ

उसका इंतज़ार कर रही इन आंखो की प्यास लिखता हूँ
उसे दोबारा पाने की आस लिखता हूँ
पढकर मेरी कविताओ को,वो वापस आ जाए
इसलिए मैं बार बार लिखता हूँ
मैं दर्द का शायर हूँ, मैं दर्द लिखता हूँ

Motivational Story in Hindi | Real Life Inspirational Stories in Hindi


एक बार एक राजा के राज्य में महामारी फैल गयी। चारो ओर लोग मरने लगे। राजा ने इसे रोकने के लिये बहुत सारे उपाय करवाये मगर कुछ असर न हुआ और लोग मरते रहे। दुखी राजा ईश्वर से प्रार्थना करने लगा। तभी अचानक आकाशवाणी हुई। आसमान से आवाज़ आयी कि हे राजा तुम्हारी राजधानी के बीचो-बीच जो पुराना सूखा कुंआ है अगर अमावस्या की रात को राज्य के प्रत्येक घर से एक – एक बाल्टी दूध उस कुएं में डाला जाये तो अगली ही सुबह ये महामारी समाप्त हो जायेगी और लोगों का मरना बन्द हो जायेगा।

राजा ने तुरन्त ही पूरे राज्य में यह घोषणा करवा दी कि महामारी से बचने के लिए अमावस्या की रात को हर घर से कुएं में एक-एक बाल्टी दूध डाला जाना अनिवार्य है!
अमावस्या की रात जब लोगों को कुएं में दूध डालना था उसी रात राज्य में रहने वाली एक चालाक एवं कंजूस बुढ़िया ने सोंचा कि सारे लोग तो कुंए में दूध डालेंगे अगर मै अकेली एक बाल्टी "पानी" डाल दूं तो किसी को क्या पता चलेगा। इसी विचार से उस कंजूस बुढ़िया ने रात में चुपचाप एक बाल्टी पानी कुंए में डाल दिया। अगले दिन जब सुबह हुई तो लोग वैसे ही मर रहे थे।
कुछ भी नहीं बदला था क्योंकि महामारी समाप्त नहीं हुयी थी।
राजा ने जब कुंए के पास जाकर इसका कारण जानना चाहा तो उसने देखा कि सारा कुंआ पानी से भरा हुआ है।
दूध की एक बूंद भी वहां नहीं थी।
राजा समझ गया कि इसी कारण से महामारी दूर नहीं हुई और लोग अभी भी मर रहे हैं।
दरअसल ऐसा इसलिये हुआ कि जो विचार उस बुढ़िया के मन में आया था वही विचार पूरे राज्य के लोगों के मन में आ गया और किसी ने भी कुंए में दूध नहीं डाला।
मित्रों , जैसा इस कहानी में हुआ वैसा ही हमारे जीवन में भी होता है।
जब भी कोई ऐसा काम आता है जिसे बहुत सारे लोगों को मिल कर करना होता है तो अक्सर हम अपनी जिम्मेदारियों से यह सोच कर पीछे हट जाते हैं कि कोई न कोई तो कर ही देगा और हमारी इसी सोच की वजह से स्थितियां वैसी की वैसी बनी रहती हैं।
अगर हम दूसरों की परवाह किये बिना अपने हिस्से की जिम्मेदारी निभाने लग जायें तो पूरे देश में भी ऐसा बदलाव ला सकते हैं जिसकी आज ज़रूरत है।.........✍️

Poem on Love in Hindi


इश्क़ इबादत है यारो करके तो दखो
मिल जाएगा खुदा इस जहां मे जीते जी
किसी पे सच्चे दिल से मर के तो देखो
होता है आगाज दिल की दहलीज़ पर जब किसी का
जिंदा होने का एहसास होता है तब यहां
उस जिंदगी के हाथो मे हाथ डालकर चलके तो देखो
इश्क़ इबादत है यारो करके तो देखो

फूटने लगते है चश्मे रेगिस्तानों मे
खिलने लगते है गुल तब बियाबानों मे
किसी खास को अपने ख्यालो मे जगह देकर तो देखो
करेगा कोई दिन रात दुआ तेरी खुशी के लिए
बस जाएगी उसकी दुनिया तेरे दिल मे
किसी के दिल मे धड़कन बनकर धड़क कर तो देखो
इश्क़ इबादत है यारो करके तो दखो

किसी पे मर जाने का दिल करेगा
किसी पे अपना सब कुछ लुटाने का दिल करेगा
किसी की आंखो मे एकबार बस कर तो देखो
फलक से आ जाएगे तारे ज़मीन पर
लगने लगेगी जन्नत फिर यही पर
किसी की जिंदगी मे जुगनू बनकर चमक कर तो देखो
इश्क़ इबादत है यारो करके तो देखो

Zindagi Shayari in Hindi


जाते जाते मेरी जिंदगी से, एक एहसान करते जाना
तुम मुझे याद आते रहना
भूले से अगर भूलने लगू मैं तुम्हे
तो मेरे ख्यालो मे आकर तुम दस्तक दे जाना
जाते जाते मेरी जिंदगी से, एक एहसान करते जाना

मैं वो नदी हूँ, जिसमे अब कोई नाव ना चलेगी
मैं वो सहरा हूँ, जिसमे कोई बहार ना खिलेगी
हाँ ये सच है, तेरे हिज़्र ने मुझे बंजर कर जाना
मिले अगर रास्ते मे कोई मंदिर,मस्जिद तो मेरे लिए दुआ करते जाना
जाते जाते मेरी जिंदगी से, एक एहसान करते जाना

तू वो आईना है, जिसमे मैंने खुद को बड़े गरूर से देखा
तू वो झरना है, जिसमे मैं कभी पानी बन बहा
हाँ तेरे जाने के बाद, इस कश्ती का किनारा कहीं खो जाना
पर तू झरना बन मुझमे यूं ही बहते जाना
जाते जाते मेरी जिंदगी से, एक एहसान करते जाना

अब तेरे गाव शायद मेरा कभी आना ना होगा
तुझसे अब मेरा कभी टकराना ना होगा
तू जाते जाते अपने पैरो की धूल को मेरे माथे का टीका कर जाना
पहली बारिश के बाद वाला जो मौसम होता है
वो मौसम बन मुझमे ठहर जाना
जाते जाते मेरी जिंदगी से, एक एहसान करते जाना