साइकिल कविता | कविता मेरी साइकिल | साइकिल के ऊपर शायरी | Cycle ki Savari Kavita | Cycle par Kavita



जिंदगी की साईकल
दो पहिये और दो पैडल
बीच में बजती
वो घंटी टन-टन-टन
सबको आगह करती बढ़ रही है
और चल रही है
वो साईकल
अकसर रुक जाती है
वो हप्ते में दो बार
कभी कभी महीने में एक बार
जहाँ बनती है साईकल की पञ्चर
फिर पहले जैसी हो जाती
बिल्कुल टना-टन
और फिर चल पड़ती है,
वो धीरे-धीरे
हवा से बात करते हुए
बनकर फन-फन
जिंदगी की साईकल
रुकती है सबसे मिलती है
सबको देखती हुई
दो पल मुस्कुरा कर
और फिर आगे बढ़ती है
चल पड़ती है फिर से
अपनी राह पर
बन ठन कर
जिंदगी की साईकल

Jindagee Kee Cycle
Do Pahiye Aur Do Paidal
Beech Mein Bajatee
Vo Ghantee Tan-tan-tan
Sabako Aagah Karatee Badh Rahee Hai
Aur Chal Rahee Hai
Vo Cycle
Akasar Ruk Jaatee Hai
Vo Hapte Mein Do Baar
Kabhee Kabhee Maheene Mein Ek Baar
Jahaan Banatee Hai Cycle Kee Panchar
Phir Pahale Jaisee Ho Jaatee
Bilkul Tana-tan
Aur Phir Chal Padatee Hai,
Vo Dheere-dheere
Hava Se Baat Karate Hue
Banakar Phan-phan
Jindagee Kee Cycle
Rukatee Hai Sabase Milatee Hai
Sabako Dekhatee Huee
Do Pal Muskura Kar
Aur Phir Aage Badhatee Hai
Chal Padatee Hai Phir Se
Apanee Raah Par
Ban Than Kar
Jindagee Kee Cycle